बहू नगीना और ससुर कमीना
06-10-2017, 10:17 AM,
#81
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
सरला और रंजू आगे आगे चल रहीं थीं और पीछे शिवा की हालत उनके मटकती गाँड़ देखकर ख़राब हो रही थी। दोनों ने छोटे छोटे टाइट कुर्ते पहने थे जो उनके बदन की उठान और कटाव को खुल कर प्रदर्शित कर रहे थे। वो एक ऐसे काउंटर पर ले गया जहाँ ज़मीन पर मोटे गद्दे बिछे थे और एक आदमी साड़ियों को लपेट रहा था। शिवा उस आदमी के साथ बैठा और दोनों औरतें उसके सामने गद्दे पर बैठ गयीं। 

अब शिवा ने साड़ियाँ दिखानी शुरू कीं। रंजू खड़ी हो गयी और एक एक साड़ी को अपने बदन में लपेट कर देखने लगी। उसने अपनी चुन्नी नीचे रख दी थी। अब वो जब साड़ी लपेटने को झुकती तो उसकी आधी चूचियाँ उसके बड़े गले के कुर्ते से साफ़ दिख जातीं। वो घूमकर शीशे में ख़ुद को देखती तो उसके मस्त चूतर अपने उभार दिखा कर शिवा को मस्त कर देते। शिवा का लौड़ा अब बग़ावत पर उतर आया था और रंजू के शरीर से आती हुई मादक सेंट की गंध भी उसे उत्तेजित करने लगी। 

मालिनी चुपचाप शिवा को रंजू का बदन घूरते हुए देख रही थी। उसके द्वारा अपनी पैंट को ऐडजस्ट करना भी उसकी आँखों से छिपा नहीं रहा। वो सोची कि उसका काम इतना भी मुश्किल नहीं है शायद । 

तभी रंजू बोली: अरे यार मैंने तो ये साड़ी फ़ाइनल की है। तू भी कुछ देख ना। अब सरला भी उठी और ऐसे उठी कि उसका पिछवाड़ा शिवा की तरफ़ था। उफफफफ मम्मी की गाँड़ तो और भी ज़्यादा मस्त है आंटी की गाँड़ से - शिवा सोचा। 
अब सरला ने भी वही सब किया और उसकी चूचियाँ भी शिवा को वैसे ही दिखाई दे रही थीं जैसे आंटी की दीखीं थीं। फ़र्क़ इतना था कि मम्मी की ज़्यादा बड़ीं थीं। और शिवा को शुरू से बड़ी चूचियों का एक छिपा सा आकर्षण था ही। उसे याद आया कि उसकी अपनी माँ की भी चूचियाँ ऐसी ही बड़ी बड़ी थीं।सरला कनख़ियों से देख रही थी कि उसका पूरा ध्यान उसकी चूचियों और कूल्हों पर ही है। अब वो और ऐसे ऐसे पोज बनाई कि जिनमे उसके उभार और ज़्यादा सेक्सी नज़र आएँ। अब तक शिवा पूरी तरह से उत्तेजित हो चुका था। तब सरला ने बोंब फोड़ा: मुझे तो कोई पसंद नहीं आयी । चल अब तू अंडर्गार्मेंट्स ले ले। 

रंजू: हाँ बेटा चलो अब कुछ मस्त ब्रा और पैंटी दिखा दो। 

शिवा: जी आंटी जी चलिए । ये कहकर वो उनको एक दूसरे काउंटर में ले गया। वहाँ वह काउंटर के पीछे से कुछ नए डिज़ाइन के ब्रा निकाला और दिखाने लगा। और पूछा: आंटी साइज़ क्या होगा? 

रंजू: चल तू गेस कर। ये कहकर वो चुन्नी हटाकर अपना सीना तान कर मुस्कुराने लगी। 

शिवा भी अब उत्तेजित था सो बोला: आंटी जो ३६/३८ बी कप होगी। 

वो मुस्कुरायी : सही है ३८बी । अच्छा अपनी सास का बताना तो? 

शिवा एक बार सिर उठाकर सरला की छातियों को देखा और बोला: मम्मी जी का ४० सी होगा। 

सरला: वाह बेटा इतना सही? सच में काम में पक्का है हमारा दामाद। वह भी मुस्करायी। 

शिवा: मम्मी आपको भी दिखाऊँ क्या? 

सरला: नहीं बेटा मेरे पास अभी हैं । 

रंजू: अरे थोड़ी सेक्सी दिखाओ ना। वह सरला को आँख मारते हुए बोली। शिवा ने नीचे से कुछ डिब्बे निकाले और उनको खोला और उसमें से लेस वाली और नेट वाली ब्रा निकाला और उनको दिखाने लगा। 

रंजू: यार सरला ये तो मस्त हैं ना? उसने एक ब्रा दिखाई जिसमें नेट यानी जाली लगी थी और जिसमें निपल के लिए छेद था। यानी निपल बाहर निकल जाएगी ब्रा से बाहर। शिवा कल्पना किया कि रंजू की चूचियाँ उनमें से कैसी दिखेंगी और वो गरम होने लगा। 

सरला: छी ऐसी ब्रा पहनेगी? इससे अच्छा है कि पहन ही मत। 

रंजू: शिवा तुमने ऐसी ब्रा मालिनी को दिलायी है कि नहीं? 

शिवा लाल होकर: अरे आंटी आप भी ना, वो ऐसी पहनेगी ही नहीं। 

रंजू: अरे तुम दो तो सही उसको। अकेले में पहनकर दिखाएगी। 

सरला: मुझे नहीं लगता कि वो पहनेगी। 

रंजू: तो तुम ले लो ना। 

सरला: धत्त मैं क्या करूँगी। तू ले ले। 

रंजू: मैं तो लूँगी ही। और बेटा, ऐसी हो कोई पैंटी भी दिखा ना। 

शिवा ने उसे ऐसी ही पैंटी दिखाई जिसमें बुर ज़्यादा दिखाई देगी छिपेगी कम । 

रंजू सरला को पैंटी दिखाई और बोली: बताओ कैसी है? 

सरला उसकी गाँड़ पर एक चपत लगाकर बोली: देखो इसकी पीछे तो बस एक रस्सी है। ये पूरा पिछवाड़ा नंगा ही दिखेगा।

रंजू हँसने लगी और बोली: अरे इसी में तो मज़ा है। ये दे दो बेटा। 

फिर वो स्कर्ट और टॉप्स भी देखी और वहाँ से भी कपड़े ली। 

फिर रंजू बोली: बेटा, टोयलेट है क्या यहाँ? 

शिवा: जी मेरे कैबिन में है, आइए मैं आपको ले जाता हूँ। 

सरला: मैं ज़रा मालिनी से बात कर लेती हूँ फ़ोन पर। वो मालिनी को फ़ोन लगायी: हेलो, बेटी हम तो तुम्हारी शॉप में हैं। तुम आकर मिल लो ना। 

मालिनी: मम्मी मेरा पिरीयड आया है , थोड़ी तबियत ढीली है। आज रहने दो । वैसे भी कल इतवार को हम दोनों आ ही रहे हैं तो मिल लेंगे। 

सरला: ठीक है बेटी। फिर वो दोनों माँ बेटी इधर उधर की बातें करने लगे।

उधर शिवा रंजू को लेकर अपने कैबिन में पहुँचा और उसको दिखाया कि टोयलेट वहाँ है। 

अचानक फिर जो हुआ शिवा उसके लिए तय्यार नहीं था। शिवा वापस जाने को मुड़ा और रंजू ने पीछे से उसको अपनी बाहों में लपेट लिया और उसके कंधे को चूमने लगी। शिवा हड़बड़ाकर मुड़ा और अब रंजू उसके होंठ को चूमने लगी। शिवा की छाती से उसके बड़े मम्मे सट गए थे। शिवा का लौड़ा उसके पेट पर कील की तरह चुभ रहा था। अब रंजू ने शिवा के दोनों हाथों को अपने हाथों से पकड़ा और अपनी दोनों चूचियों पर रख दिया और उनको दबाने लगी। शिवा भी मस्ती में आकर उसकी चूचियाँ दबाने लगा। फिर वह अपने हाथ को नीचे ले गयी और पैंट के ऊपर से उसके लौड़े को दबा कर बोली: बाबा रे कितना बड़ा है तेरा? मालिनी की तो फट जाती होगी ? 

शिवा: नहीं आंटी वो तो अब आराम से ले लेती है। अब रंजू उसकी पैंट खोलने लगी। और पैंट को नीचे गिरा दी और फिर नीचे बैठ गयी। अब वो उसकी चड्डी पर अपना हाथ फिरायी। फिर वह बोली: आऽऽह सच में बहुत मस्त हथियार है। 

शिवा: आऽऽह आंटी छोड़िए। मम्मी इंतज़ार कर रही होगी। 

रंजू ने जैसे उसकी बात सुनी ना हो वो अब चड्डी को नीचे की और उसके मस्त लौड़े को देखकर सिसकी ली और बोली: उउउउउफफफ क्या लौड़ा है। अब वो लौड़े को सहलाने लगी।फिर उसका मुँह खुला और उसकी जीभ लौड़े और बॉल्ज़ पर घूमने लगी। शिवा आऽऽऽह कर उठा। फिर वह उसके लौड़े को चूसने लगी। अचानक शिवा को लगा कि कोई आ रहा है तो वो जल्दी से उसे हटाकर अपनी पैंट बंद किया और टोयलेट से बाहर आया और कैबिन में कुर्सी पर बैठा ताकि उसका खड़ा लौड़ा मम्मी को ना दिख सके। 

तभी सरला अंदर आइ और बोली: बड़ी देर लगा दी रंजू ने टोयलेट में। फिर वो शिवा का लाल चेहरा देखी और बोली: क्या हुआ? इतना टेन्शन में क्यों हो? सब ठीक है? 

शिवा: हाँ मम्मी सब ठीक है। आपकी मालिनी से बात हुई क्या? 

सरला: हाँ हुई है। उसकी तबियत ठीक नहीं है। सो वह यहाँ नहीं आ रही है। फिर हम कल तो मिलेंगे ही ना। बस रंजू आ जाए तो उससे पैसे ले लो फिर हम वापस जाएँगे। 

शिवा: ऐसे कैसे वापस जाएँगी? बिना भोजन किए। यहाँ पास में एक रेस्तराँ है, वहाँ खाना खा लीजिए फिर चले जायियेगा। 

तभी रंजू बाहर आयी और वो सब रेस्तराँ में पहुँचे। वहाँ सबने खाना खाया। शिवा बार बार रंजू से आँख चुरा रहा था क्योंकि उसे याद आता था कि वो कैसे उसका लौड़ा चूसी थी। रंजू को कोई शर्म नहीं थी। वो सरला की आँख बचा कर शिवा को आँख भी मार देती थी। वह टेबल के नीचे से हाथ बढ़ाकर उसकी जाँघ सहला रही थी। बाद में वो उसके पैंट के ऊपर से उसका लौड़ा दबाकर मस्त होने लगी। शिवा भी मस्ती में आकर मज़े ले रहा था। 

सरला शिवा के चेहरे की उत्तेजना से थोड़ा सा शक करके उनकी साइड में लगे शीशे में देखी और वहाँ उसने देखा कि रंजू उसके पैंट के ऊपर से उसके लौड़े को दबा रही है। वह सन्न रह गयी। तभी शिवा की निगाह शीशे पर पड़ी और उसने देखा कि सरला उन दोनों को देख रही थी। वो सकपका गया और रंजू का हाथ वहाँ से हटाया। रंजू ने भी देखा कि सरला देख रही है तो वो आँख मार दी। 

खाना खा कर रंजू और सरला वापस जाने के किए कार से निकल गए ।शिवा ने कहा कि मम्मी पहुँच कर फ़ोन कर देना। 
रास्ते में सरला: रंजू मैं बहुत शोक्ड हूँ तुम्हारे व्यवहार से। 

रंजू: अरे वो जो मैं शिवा को मज़े दे रही थी। अरे इसमें क्या है। थोड़ा सा फ़्लर्ट कर लिया तो क्या हुआ। 

सरला: मैं तो शिवा को शरीफ़ समझती थी पर वो तो जैसे तुमसे मज़ा ले रहा था, मुझे तो वो भी ठरकी ही लगा। बेचारी मेरी बेटी। 

रंजू: अरे पर एक बात बताऊँ मालिनी बहुत क़िस्मत वाली है। 

सरला: वो कैसे ? 

रंजू: शिवा का हथियार बहुत मस्त है। म्म्म्म्म्म्म ।

सरला: अच्छा पैंट के ऊपर से सब समझ गयी? 

रंजू: अरे मैंने तो टोयलेट में उसका लौड़ा चूसा और बहुत मज़ा लिया। बस तू आ गयी इसलिए काम पूरा नहीं हो सका। 

सरला: ओह ये सब भी कर लिया? हे भगवान। तुम भी ना कुछ भी करती हो। पर एक बात बता ना कि तूने उसे आसानी से सिडयूस कर लिया या तुझसे थोड़ी दिक़्क़त हुई? 

रंजू: अरे आसानी से पटा लिया और वो तो जैसे मज़ा लेने को तय्यार ही था। पर सच में बहुत मस्त हथियार है उसका। 

सरला: क्या उस तेरे लौंडे से भी बड़ा? 

रंजू: हाँ उससे भी बड़ा और मोटा? क्या तेरे पति का भी इतना ही बड़ा और मोटा था? 

सरला: हाँ उनका भी बड़ा ही था। 

रंजू: आऽऽह कितनी क़िस्मत वाली हो तुम और मालिनी। मेरा वाला तो पेन्सल लेकर घूमता है। अगर वो लौंडा ना होता तो मेरा क्या होता। वो अपनी बुर खुजाते हुए बोली: आज तो उसको बुलाना ही पड़ेगा। तेरे आने से काम अधूरा रह गया था। आज उससे दो बार चुदवाऊँगी तभी चैन मिलेगा। 

सरला: ओह ठीक है अब ध्यान से गाड़ी चला। 
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:17 AM,
#82
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
थोड़ी देर दोनों चुप बैठे थे और सरला सोच रही थी कि शिवा को सिडयूस करना कोई मुश्किल नहीं होगा ऐसा लगता है। रंजू की बातें उसकी कान में गूँज रहे थे कि उसका हथियार बहुत मस्त है। अब सरला अपनी बुर खुजा बैठी। 

कार में स्टेरीओ म्यूज़िक बज रहा था। तभी उसमें फ़ोन की घंटी बजी। रंजू ने अपना फ़ोन ब्लूटुथ मोड में रखा था। वो अपना फ़ोन में कॉल रिसीव की और बोली: हाय मेरी जान। क्या हाल है। वह सरला को आँख मारी और धीरे से बोली: मेरा वाला है। 

लड़का: हाय मेरी आंटी जी आप कैसी है और कहाँ हैं ?

रंजू: बस आधे घंटे में घर पहुँच जाऊँगी। तुम कहा हो? 

लड़का: मैं कोल्लेज में हूँ और थोड़ी देर में घर आऊँगा आंटी एक मदद चाहिए। 

रंजू: हाँ हाँ बोल ना। 

लड़का: आंटी जी, मुझे दो हज़ार चाहिए। थोड़ा ज़रूरी काम है।

रंजू: ठीक है ले लेना। वैसे कब मिल सकता है? आज बहुत याद आ रही है? वो अपनी बुर खुजा दी। 

लड़का: आंटी एक घंटे में आऊँ क्या? अंकल टूर से वापस आ गए क्या? 

रंजू: अरे अभी दो दिन बाद आएँगे। तू आजा ख़ूब मज़े करेंगे। ठीक है ना? 

लड़का: जी आंटी आता हूँ। मेरा तो आपकी आवाज़ सुनकर ही खड़ा हो गया है। आज तीन बार करेंगे। ठीक है ना? अलग अलग पोज में। आऽऽहहह। 

रंजू: जान लेगा क्या ? तीन बार? मेरी तो दो बार ही में फट जाती है। बस दो बार बहुत है समझा बदमाश लड़के? 

लड़का: ठीक है आंटी जैसा आप कहें। पर आंटी जी पैसे मिल जाएँगे ना? 

रंजू: अरे मेरा बुढहू कमाता ही किसके लिए है? मज़े कर तू भी उसके पैसे पर और उसकी बीवी से भी । वह ये बोलकर फिर से अपनी बुर खुजाने लगी। 

लड़का: अच्छा आंटी फिर आता हूँ एक घंटे में। बाई। 

रंजू: बाई मेरी जान। फिर फ़ोन कट गया। 

सरला: तो ये है तेरा काल बॉय ? आवाज़ तो काफ़ी भारी है। बिलकुल मर्द जैसे। 

रंजू: अरे बदन भी साले का मस्त कड़ा है और हथियार भी मस्त है। चोदता भी बहुत बढ़िया है। तू चाहे तो तेरी भी एक चुदाई करवा दूँ? 

सरला: ना बाबा मुझे नहीं करना ये सब । 

तभी वो घर पहुँच गए और वो सरला को उतार कर चली गयी। 

सरला घर पहुँचकर बिस्तर पर लेटी और सोचने लगी कि क्या अजीब दिन था आज का। रंजू तो बहुत ही घटिया औरत साबित हुई। और ये शिवा भी देखो ना मज़े से अपना लौड़ा भी चुसवा लिया। मैं उसे सीधा समझती थी। वो कल्पना करने लगी और सोची कि टोयलेट जैसी छोटी सी जगह में वो दोनों क्या कुछ कर पाए होंगे। वह अपनी बुर खुजा बैठी। 

तभी शिवा का फ़ोन आया। उसे याद आया कि वो बोला था मम्मी घर पहुँच कर फ़ोन कर देना। वो भूल गयी थी। 

सरला: हेलो। 

शिवा: मम्मी घर पहुँच गयीं ? 

सरला: हाँ पहुँच गयी। सॉरी फ़ोन करना भूल गयी। 

शिवा: कोई बात नहीं मम्मी। वैसे एक बात और थी। 

सरला: हाँ बोलो ना। 

शिवा : मम्मी मुझे माफ़ कर दीजिए । वो आपकी सहेली ज़्यादा ही गरम औरत है। वो मेरे यहाँ वहाँ हाथ डाल रही थी। 

सरला: वो जैसी भी थी पर तुमने भी तो उसका साथ दिया? 

शिवा: मम्मी क्या बताऊँ आपको? पहली बार मेरे साथ ऐसा हुआ है। सच में किसी को बताइएगा नहीं। प्लीज़ । मालिनी को तो बिलकुल नहीं। 

सरला: ठीक है नहीं बताऊँगी उसे। 

शिवा: मैं आपको पूरी बात बताऊँगा जब कल मिलूँगा । आंटी बहुत शरारती हैं । सच में मम्मी जी। 

सरला: ठीक है बताना जब कल आओगे तो। 

शिवा: मम्मी जी आप बहुत अच्छी हैं । थैंक्स। बाई। 

सरला: बाई बेटा। 

सरला अब कल के बारे में सोचने लगी।
मालिनी मम्मी के फ़ोन के बाद सो गयी। राजीव दोपहर को आया और मालिनी के कमरे में आया और सोती हुई मालिनी को बहुत देर तक प्यार से देखा और फिर बाहर आ गया। किचन में जाकर वो खाना गरम किया और खाना लगाया। फिर वो मालिनी के कमरे में आकर उसके पास बैठ गया। वह उसके सिर और गाल में हाथ फेरने लगा। मालिनी उठी और राजीव को पास देखकर मुस्करायी और उठी। उसने सलवार क़ुर्ती पहनी थी। चुन्नी पता नहीं कहाँ थी। उसकी बड़ी मस्त चूचियाँ राजीव के सामने थी । वह झुक कर उसके गाल चूमा और बोला: बेटा, चलो खाना खा लो। अब तबियत कैसी है । वो उसके चूतरों को सहलाया जहाँ उसको पैंटी और सैनिटेरी पैड का अहसास हुआ। वह बोला: बेटी ये ठीक है ना? 

मालिनी: हाँ पापा आज तो पहला दिन ही है। आपको और शिवा को अभी सबर करना पड़ेगा। वो शरारत से मुस्करायी।

राजीव झुककर उसको चूमा और हल्के से उसकी चूचियाँ दबाया और बोला: कोई बात नहीं बेटी। चलो अब खाना खा लो। 

मालिनी उठी और फ़्रेश होकर बाहर आयी तो टेबल पर खाना लगा हुआ था। वो बोली: पापा आपने क्यों तकलीफ़ की? मैं लगा देती ना? 

राजीव उसे खींचकर अपनी गोद में बिठा लिया और बोला: बेटा, आज तुम थोड़ी ढीली हो तो एक दिन मैं लगा दिया तो क्या हुआ? चलो आज मैं ही खिलाऊँगा तुमको अपने हाथ से। 

मालिनी मुस्कुराकर: पापा आज बहुत रोमांटिक हो रहे हो? सब ठीक है ना? 

राजीव उसके गाल चूमकर : बेटी हम तो हमेशा रोमैन्स के मूड में रहते हैं पर तुमको दिखाई नहीं देता। अब वो उसे अपने हाथ से खिलाने लगा। वो उसके गोद में बैठकर उसकी छाती से चिपकी हुई थी। फिर मालिनी ने अपनी गाँड़ हिलाई और कोशिश की कि पापा के लौड़े का कड़ापन महसूस कर सके। पर उसे कुछ महसूस नहीं हुआ। 

राजीव मुस्कुराकर : बेटी लौड़ा टटोल रही हो ? वो आराम से मेरे जाँघों के बीच सो रहा है। आज उसे पता है ना कि तुम ढीली हो और वो इस बात को मान चुका है। 

मालिनी: पापा आप सच में बहुत अच्छे हैं। आप मम्मी को भी पिरीयड्ज़ के दिनों में तंग नहीं करते थे? 

राजीव: बेटी उसको पहले दो दिन तकलीफ़ होती थी। बाद में बस थोड़ा सा ही होता था। तो दो दिन बाद वो लौड़ा चूस देती थी। और गाँड़ भी मरवा लेती थी। 

मालिनी: आप मम्मी की गाँड़ भी मारते थे? 

राजीव: हाँ मारता था और उसे भी बहुत मज़ा आता था। वो कई बार कहती थी कि जी आपकी साली खुजा रही है। वो बुर को बीवी और गाँड़ को साली कहती थी। 

मालिनी: ओह ऐसा? 

राजीव: मैंने तुम्हारी मम्मी की भी गाँड़ मारी है। वो भी मज़े से मरवाती है। 

मालिनी: ओह , पर शिवा या आप तो जब मेरे पीछे ऊँगली डालते हैं तो मुझे जलन होती है। 

राजीव: बेटी, गाँड़ को खोलने की एक कला होती है। जब तुम चाहोगी मैं तुम्हारी गाँड़ खोल दूँगा, पर कम से कम दर्द होगा ये मेरी गारण्टी है। 

मालिनी हँसकर: इसका मतलब है कि मेरे एक छेद का उद्घाटन शिवा ने किया और दूसरे का उद्घाटन आप करोगे? 

राजीव: बेटा तुम हाँ तो करो। मैं काम में लग जाऊँगा। वो उसे चूमने लगा। 

मालिनी मुस्कुराकर: जब देनी होगी तो बता दूँगी। फिर वो बोली: पापा मेरा हो गया। उठ जाऊँ? 

राजीव उसे छोड़कर बोला: ठीक है बेटा उठो, मेरा भी हो गया। 

मालिनी जब उठी तो राजीव ने उसके चूतरों को सहलाया और बोला: तुम्हारी कुँवारी गाँड़ मारने में मज़ा आएगा।

मालिनी हँसकर सामान उठाकर किचन में जाते हुए बोली: पापा आपके मज़े होंगे और मेरी सज़ा होगी। हा हा । 

फिर वह किचन में चली गयी। 

उधर शिवा रात को घर पहुँचा तो वह बहुत गरम था। आज सरला और रंजू की हरकतों ने उसे बहुत उत्तेजित कर दिया था। वह घर आया और मालिनी को कमरे में आते ही पकड़ लिया और बोला: बड़ी हॉट लग रही हो आज। 

मालिनी: हॉट? आज तो मेरा मीटर ही डाउन है। जनाब मेरा पिरीयड आ गया है। वैसे आज मैं आपको हॉट क्यों लग रही हूँ? 

शिवा हताश होकर बोला: अरे बस लग रही हो तो लग रही हो। चलो कोई बात नहीं। 

फिर वह कपड़े उतारा और चड्डी में उसका आधा खड़ा लौड़ा देखकर मालिनी: क्या हुआ बताओ ना? आज बहुत गरम लग रहे हो। 

शिवा: अरे कुछ नहीं बस कार में आते हुए तुम्हारे बारे में सोचा और यह खड़ा हो गया। अब इस ग़रीब को क्या पता था कि तुम्हारी रेड लाइट जल रही है। हा हा । 
वह उसे थोड़ी ना कह सकता था की तुम्हारी माँ और उसकी सहेली ने उसका यह हाल किया है। वह फ़्रेश होने बाथरूम में गया और जब बाहर आया तो मालिनी वहाँ बिस्तर पर बैठी थी। वह चड्डी के ऊपर से उसके लौड़े को दबाते हुए बोली: पहले खाना खाएँगे कि यह चूसवाएँगे ? 

शिवा हतप्रभ उसे देखा और बोला: आऽऽह जान सच में झड़ने की बहुत इच्छा हो रही है। पहले चूस दो ना। फिर खाना खा लेंगे। 

मालिनी मुस्करायी : ठीक है चलिए लेट जाइए। 

शिवा लेटा और मालिनी ने उसकी चड्डी उतार दी। अब वो उसके खड़े लौड़े को ऊपर से लेकर नीचे तक सहलाई। फिर उसके बॉल्ज़ को भी अपनी हथेली में लेकर सहलाई। फिर वह झुकी और उसके जाँघ को चुमी और चाटने लगी। फिर वह उसकी जाँघों के जोड़ को चाटी और फिर वो उसकी नाभि को चाटने लगी। अब वो उसके लौड़े के आसपास के हिस्से को चुमी और जीभ से चाटी । शिवा उसको चूसते देखा और मस्ती से उसके गाल सहलाते हुए बोला: उफफफ रानी क्या मज़ा आ रहा है। हाय्यय ।
अब मालिनी उसके लौड़े के सुपाडे को चाटने लगी और उस पर आए हुए प्रीकम को चाट कर मस्ती से सुपाड़ा चूसने लगी। फिर वो बॉल्ज़ भी चूसी और जल्दी ही उसका मुँह लौड़े के ऊपर नीचे होने लगा और उसका हाथ उसके बॉल्ज़ पर घूमने लगा। अब शिवा भी नीचे से आऽऽहहह करके अपनी कमर उठाके उसके मुँह को मानो चोदने लगा। क़रीब दस मिनट चूसते हुए मालिनी अब अपने गालों को अंदर की ओर चिपका कर उसके लौड़े जो ज़बरदस्त घर्षण का आनंद देने लगी। अब शिवा भी ह्म्म्म्म्म्म करके मुँह की चुदाई में लग गया। तभी मालिनी ने अपनी उँगलियाँ नीचे को खिसकाया और उसने शिवा की गाँड़ के छेद में अपनी ऊँगली चलाई और फिर उसे अंदर करने लगी। अभी आधी ऊँगली ही अंदर गयी थी कि शिवा आऽऽऽह करके झड़ने लगा। मालिनी ने उसकी वीर्य की एक एक बूँद गटक ली। वह कमर उछालकर आऽऽऽऽहहह कहकर मालिनी के मुँह में अपना रस गिराए जा रहा था । 

जब मालिनी ने अपना सिर उसकी जाँघ से हटाया तो शिवा उसके मुँह में लगे हुए सफ़ेद गाढ़े रस देखकर मस्ती से भर गया । मालिनी अपना मुँह पोंछकर बोली: अब ठीक है? अच्छा लगा? 

शिवा उसको अपनी ओर खींचा और बोला: सच जान तुम लाखों में एक हो। क्या चूसती हो जान? उफफफफ मस्ती छा गयी पूरे बदन में। थैंक यू जान। 

मालिनी हँसकर: चलिए अब खाना लगाती हूँ। पापा भी रास्ता देख रहे होंगे। 

फिर वो तीनों खाना खाए और सोने चले गए। सोने के पहले शिवा मालिनी को याद दिलाया कि कल वो उसकी मम्मी के घर जाएँगे। 
मालिनी बोली : हाँ याद है । 

फिर वो सो गए। 

सरला भी करवट बदल रही थी। अभी अभी वो बिस्तर पर आयी थी सोने के लिए। दिन भर की घटनाए उसकी आँखों के सामने किसी फ़िल्म की भाँति घूम रही थीं। वो सोची कि आज जो उसने शिवा का रूप देखा है वो काफ़ी हैरान करने वाला है, वो रंजू के चक्कर में इतनी आसानी से फँस गया। उसे याद आया कि रंजू बोली थी कि वो उसका लौड़ा चूसी थी। और उसने ख़ुद देखा था कि वो कैसे मज़े से रंजू से अपना लौड़ा दबवा रहा था । उफ़्फ़ वह क्या करे? क्या वो अपनी बेटी के पति को फुसला कर ख़ुश हो पाएगी? पर वो सोची कि कोई और चारा भी तो नहीं है उसके पास। उसका कमीना ससुर दूसरी शादी की धमकी दे रहा है। तभी उसे रंजू की बात याद आइ। वो बोली थी कि उफफफ क्या मस्त हथियार है शिवा का ! और भी बहुत कुछ बोली थी वो । शिवा भी तो उन दोनों की चूचियों को देखे जा रहा था। काफ़ी हॉट लड़का है। अचानक उसका हाथ अपनी बुर में चला गया। अब वो एक हाथ से अपनी चूचि दबा रही थी और अपनी नायटी उठाकर अपनी बुर में ऊँगली करने लगी। उसकी आँखें बंद थी और वो सोच रही थी कि शिवा उसे चोद रहा है । वो आऽऽऽहहह करके अपनी उँगलियाँ ज़ोर ज़ोर से चलाने लगी। फिर वो अपनी कमर हिलाकर झड़ने लगी और फिर वो शांत होकर सो गयी। सोने के पहले वो सोची कि पता नहीं कल क्या होने वाला है।
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:17 AM,
#83
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
अगले दिन राजीव वॉक से आकर किचन में गया और चाय बनाया। चाय लेकर वह बाहर हॉल में आया। तभी नायटी में मालिनी भी वहाँ आयी और बोली: पापा आप क्यों चाय बनाए? 

राजीव मुस्कुराके: बेटी, आज भी तुम ढीली रहोगी ना तो मैंने सोचा कि चाय ही बना दूँ। 

मालिनी:पापा आप मेरा कितना ख़याल रखते हो! 

राजीव: अरे मेरा इस दुनिया में और कौन अपना है तुम्हारे ,शिवा और महक के अलावा। इन सबमे भी तुम मेरा सबसे ज़्यादा ध्यान रखती हो। तो मेरा भी फ़र्ज़ बनता है ना बेटा।
मालिनी मुस्कुराकर बोली: थैंक यू मेरे प्यारे प्यारे पापा।

मालिनी ने देखा वह जॉगिंग सूट में बहुत फ़िट लग रहे थे। वो बोली: पापा आप इस सूट में मस्त दिखते हो। 

राजीव उसको अपनी बाहों में भर कर बोला: और बेटी तुम इस गुलाबी नायटी में गुलाब का फूल लगती हो। अब वह उसके गाल चूमा और फिर अपने होंठ उसके होंठ से चिपका कर बोला: गुड मॉर्निंग बेटा। 

मालिनी भी उसकी छाती से अपनी छातियाँ चिपका कर बोली: गुड मोर्निंग पापा। अब वो थोड़ी देर एक दूसरे के बदन का अहसास करते रहे, राजीव सोच रहा था कि ये सेक्स नहीं है शायद रोमैन्स है। वो सोचा कि आजकल मालिनी थोड़ा ज़्यादा ही उसकी ओर आकर्षित हो रही है।

मालिनी बोली: पापा चाय ठंडी हो रही है। दोनों अलग हुए और राजीव उसकी बग़ल में बैठा और चाय पीते हुए उसकी बाँह सहलाने लगा और बोला: तो आज हमको छोड़ कर अपनी मम्मी के पास जाओगी? 

मालिनी: वहाँ तो तभी जाऊँगी ना जब ये उठेंगे। 

राजीव: क्या मतलब ? क्या शिवा आज देर से उठने वाला है? 

मालिनी: हाँ बोले हैं मैं जबतक ख़ुद ना उठूँ मुझे मत उठाना। 

राजीव: मतलब तुम लोग १० बजे के पहले नहीं निकल सकते? 

मालिनी: जी लगता तो ऐसा ही है। 

राजीव: आज तुम्हारी तबियत ठीक नहीं है वरना हम शिवा के देर से उठने का फ़ायदा उठा सकते थे। 

मालिनी शरारत से आँखें मटका कर बोली: कैसे फ़ायदा उठाते? 

राजीव: अरे ओरल सेक्स कर लेते और क्या? पर तुम तो रेड सिग्नल चालू करके रखी हो। 

मालिनी आँख मारते हुए बोली: आपका भी रेड सिग्नल है क्या वहाँ? वह उसके लौड़े की ओर इशारा करके बोली। 

राजीव अपने लौड़े को पैंट के ऊपर से उसको दबाया और बोला: बिचारा सबर कर रहा है। और क्या करे? 

मालिनी: अगर बहुत बेचैन है तो मैं इलाज कर देती हूँ। वैसे भी शिवा ने भी रात को चूसवाया था । वो भी बहुत उत्तेजित हो रहा था। आप बोलो तो आपको भी आराम दे देती हूँ। 

राजीव की आँखें वासना से लाल हो उठीं। वो सोचा कि बहु अब रँडी बनने की दिशा में क़दम रख चुकी है। वो भी अब लौड़ा चूसने में आनंद लेने लगी है। ये तो बहुत हो बढ़िया मोड़ है हमारे रिश्ते का। वो मुस्कुराया और बोला: बेटा, सच अगर तुमको कोई तकलीफ़ ना हो तो चूस दो ना। बहुत मन कर रहा है। वैसे भी अब तुम पता नहीं रात को वापस आओगी या कल ही आओगी? 

मालिनी: पापा आप अपने कमरे में चलो। मैं एक बार शिवा को देख कर आती हूँ। 

वह चाय के ख़ाली कप लेकर खड़ी हुई तो राजीव ने उसकी कमर में हाथ डालकर उसके पेट में अपना मुँह घुसाया और उसके चूतरों को दबाने लगा।वहाँ पैंटी को छूकर उसने पैड का अहसास किया और बोला: बेटा पिरीयड्ज़ में ज़्यादा तकलीफ़ तो नहीं है ना?

मालिनी उसके गाल चूमकर बोली: नहीं पापा ठीक ही है।

फिर वह उसकी चूचियों को हल्के से दबाया और बोला: ठीक है बेटा मैं कपड़े उतार कर तुम्हारा इंतज़ार करता हूँ। जल्दी आओ। 

मालिनी मुस्कुराती हुई हाँ करके चली गयी। 

थोड़ी देर बाद वो पूरा नंगा होकर बाथरूम में गया और फ़्रेश होकर आकर बिस्तर पर नंगा ही लेट गया। वह अपने खड़े लौड़े को सहला रहा था जब मालिनी अंदर आइ और बोली: वो तो घोड़े बेचकर सो रहे हैं। आप आराम से मज़ा ले लो। 

राजीव: बेटा नायटी उतार दो ना। तब मज़ा दुगुना हो जाएगा। 

मालिनी: पापा आप मुझे ज़्यादा उत्तेजित मत करो। पिरीयड्ज़ में बहुत अच्छा नहीं लगता ।

राजीव: ओके बेटा, तुम ही चूसो और मैं बस आराम से मज़े लेता हूँ। 

अब मालिनी ने जैसे रात को शिवा को मज़ा दिया था वैसे ही राजीव को भी देना शुरू किया। जल्दी ही राजीव भी मस्त होकर अपने लौड़े को उसके मुँह में अंदर बाहर करने लगा। मालिनी आज भी अपने गालों को पिचकाकर अपनी जीभ हिलाकर उसको चुसाई का मस्त मज़ा दे रही थी। फिर वो जैसे शिवा के साथ की थी वैसे ही राजीव के साथ भी की और उसके बॉल्ज़ को सहलाकर अपने हाथ को नीचे ले गयी। अब उसने राजीव की जाँघों को पकड़कर उठाने का इशारा किया । राजीव ने अपनी दोनों टाँगें उठा ली जैसे औरत चुदवाने के लिए उठा लेती है । पता नहीं मालिनी को क्या सूझा कि वो उसकी गाँड़ को देखकर मस्त हो उठी और वहाँ जीभ से उसके गाँड़ के छेद के आसपास के एरिया को चाटने लगी। फिर वो छेद को भी चाटी और वहाँ ढेर सारा थूक लगा दी। ये करते हुए वह उसके लौड़े को मूठिया भी रही थी। फिर उसने २ उँगलियो को उसकी गाँड़ में डाला और अंदर बाहर करने लगी। साथ ही अब फिर से लौड़ा भी चूसने लगी। उफ़्क्फ़्फ़्फ़ राजीव चिल्लाया और आऽऽहहह करके उसने अपना वीर्य मालिनी के मुँह में छोड़ना शुरू किया।वो उसे पीती और गटकती चली गयी। मालिनी उठके बाथरूम में गयी और साफ़ करके बाहर आयी। राजीव उसको अपने पास बुलाया और उसको अपने ऊपर गिराकर चूमने लगा। मालिनी भी उसे चूमने लगी। अब राजीव उसकी पीठ सहलाते हुए बोला: बेटा, आज तो तुमने चूसने में अपनी मम्मी को भी मात दे दी। ये मेरी गाँड़ में ऊँगली डालने का विचार कैसे आया? 

मालिनी हँसकर बोली: पापा कल मैंने शिवा के साथ भी यही ट्राई किया था और उनको बहुत मज़ा आया था। इसलिए आज आपके साथ भी कर लिया । वैसे सीखीं तो मैं आपसे ही हूँ। आप मेरी गाँड़ में ऊँगली डालते है तो मैंने सोचा कि मैं भी आपकी गाँड़ में डालूँ। 

राजीव हँसकर: वाह हमारा हथियार हम पर ही आज़मा लिया। शाबाश बेटा। फिर उसकी पीठ पर हाथ फेरकर बोला: बेटा अब इतने आगे बढ़ गयी हो तो चुदवा भी लो ना? इसमे क्या जाएगा? 

मालिनी: पापा आपको लगता है कि मैं अब आपसे चुदें बिना रह पाऊँगी? मैं बस अपने आप को तय्यार कर रही हूँ कि मैं शिवा से बेवफ़ाई कर सकूँ। वैसे पापा मुझे आपसे एक और बात करनी थी । 

राजीव : हाँ हाँ करो ना, पर अपनी नायटी उठा दो ताकि मैं तुम्हारे मस्त चूतरों को सहला सकूँ। 

मालिनी हँसती हुई उठी और अपनी नायटी उठा दी और फिर से उसके नंगे बदन पर लेट गयी और बोली: पापा इस बार मुझे बहुत उम्मीद थी कि मेरा पिरीयड नहीं आएगा और मैं प्रेगनेंट हो जाऊँगी पर ऐसा नहीं हुआ। मैं थोड़ा सा दुखी हूँ। क्या मुझे अपना चेक अप करना चाहिए ?

राजीव के हाथ अब उसके नंगे चूतरों को सहला रहे थे और पैंटी उसके हाथ में छू रही थी। वो मस्त होकर बोला: बेटा, मुझे नहीं लगता कि तुम दोनों में कोई कमी है। मगर चाहो तो चेक अप करा लो। मैं एक डॉक्टर को जानता हूँ यहीं पास में ही रहती है। कल या परसों जब चाहो करवा लेना। 

मालिनी: शिवा को बताऊँ या नहीं? पता नहीं वो क्या सोचेंगे? 
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:17 AM,
#84
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
राजीव अब उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया और उसके गाँड़ के छेद को सहला कर मज़े से बोला: उफफफ बेटी क्या मस्त गाँड़ है । अब इस कुँवारी गाँड़ का उद्घाटन करना ही पड़ेगा। वह उसमें एक ऊँगली डालते हुए बोला। 

मालिनी: उफफफ पापा जलन हो रही है ना। निकालिए बाहर, सूखे ही डाल रहे हो आप तो। 

राजीव हँसकर अपनी एक ऊँगली में थूक लगाया और फिर उसने उसकी गाँड़ में डाला और वो उफफफ कर उठी। 

राजीव ऊँगली अंदर बाहर करते हुए बोला: अभी मत बताओ शिवा को। रिपोर्ट आ जाएगी तब देखेंगे। 

मालिनी: आऽऽऽऽऽह पापा ठीक है अभी नहीं बताऊँगी। परसों का प्लान कर लो आप डॉक्टर का। आऽऽऽहव अब बस करो अब फिर से जलन हो रही है। निकाऽऽऽऽऽऽऽलो प्लीज़। 

राजीव ने अपनी ऊँगली निकाली और फिर उसको दिखाकर सूँघने लगा और बोला: आऽऽह बेटा क्या मस्त गंध है। 

मालिनी हँसती हुई उसकी छाती में एक मुक्का मारकर बोली: छी गंदे पापा। फिर वह उठकर अपनी नायटी नीचे की और बोली: चलिए अब नाश्ता बनाती हूँ। देखती हूँ कि शिवा का क्या प्रोग्राम है। फिर वह झुक कर उनसे होंठ चुमी और बाहर चली गयी।
वह जब अपने कमरे में जा रही थी तो उसकी गाँड़ में थोड़ी सी जलन हुई। वो सोची कि पापा की ऊँगली से जलन हो रही है तो जब उनका मोटा मूसल अंदर जाएगा तो मेरा क्या हाल होगा। फिर कमरे में पहुँची तो देखा कि शिवा बाथरूम में था और पानी गिरने की आवाज़ आ रही थी। तभी शिवा पूरा नंगा बाहर आया और तौलिए से मुँह पोंछ रहा था। मालिनी को देखकर वह बोला: वाह जान कहाँ थी? 

मालिनी थोड़ी सी हड़बड़ा कर बोली: वो वो किचन में थी। आपके लिए चाय लाती हूँ। तभी शिवा ने उसको जकड़ लिया और बोला: अरे चाय के पहले शहद तो पिला दो । वो अब उसके होंठ चूसने लगा। मालिनी भी उससे लिपट कर होंठ चूसने लगी । मालिनी ने महसूस किया कि उसका लौड़ा खड़ा होने लगा है। अब वह हाथ बढ़ा के उसके लौड़े को सहला दी। शिवा उसकी क़मर सहला कर बोला: उफफफ क्या माल हो जान। क्या रेड सिग्नल करके बैठी हो बहुत मन कर रहा है चोदने को।

मालिनी: बस करिए ना । अब चाय पीजिए फिर तय्यार होकर मम्मी के घर भी जाना है ना। 

शिवा: हाँ वो तो जाना है पर थोड़ा इसको शांत कर दो ना। 

मालिनी: रात को चूसा था ना। अब फिर रात को चुसवा लेना। 
मालिनी सोची कि अभी तो पापा का चूसीं हूँ। अब इनका भी चूसूँ क्या। उसके हाथ में अभी भी उसका लौड़ा था जो कि तना हुआ था। 

शिवा: जान एक बार और चूस दो ना, जैसे रात को चूसा था। 

मालिनी: आप ज़िद करोगे तो चूस लूँगी। पर ज़्यादा मज़ा आएगा जब रात को आराम से चूसूँगी। 

शिवा: ऐसा? चलो ठीक है रात को ही चूस लेना। जाओ अब चाय लाओ। तब तक मैं लूँगी पहनकर बाहर आता हूँ। 

मालिनी झुकी और उसके लौड़े का एक चुम्बन ली। फिर वह बाहर चली गयी। 

चाय और नाश्ता करके शिवा और मालिनी एक छोटा सा बैग लेकर बाहर जाने को तय्यार हुए। 

शिवा: मैं पापा को बोल देता हूँ कि हम निकल रहे हैं। यह कहकर वो आवाज़ लगाया: पापा हम जा रहे हैं। 

राजीव बाहर आया और बोला: अच्छा बेटा ध्यान से जाना। फिर मालिनी से बोला: वाह बेटा आज साड़ी में बहुत प्यारी लग रही हो। शिवा इसका ख़याल रखना । 

शिवा: ज़रूर पापा जी। अब चलो देर हो रही है। 

दोनों बाहर आए और कार में बैग रखा और अचानक मालिनी बोली: मैं अभी आइ। मैं अपना धूप का चश्मा लेकर आती हूँ। आपको भी चाहिए क्या? 

शिवा: हाँ मेरा भी लेते आना। तब तक मैं कार पोंछ लेता हूँ। 

मालिनी अंदर आइ और अपने कमरे में जाकर अपना और शिवा का चश्मा ले लिया और जब बाहर आइ तो पापा खड़े थे और उसको बड़े प्यार से देख रहे थे। वो बोला: बेटा मुझसे प्यार करने और बाई करने आइ हो ना? चश्मा तो एक बहाना था ना? 

मालिनी आइ और उससे लिपट गई और बोली: हाँ पापा सच में आपको बाई करने ही आयी हूँ। फिर दोनों के होंठ चिपक गए। राजीव के हाथ उसकी नंगी कमर पर चलने लगे थे। फिर वह उसके चूतरों को दबाकर मस्त होकर बोला: बेटी सच में तुमसे दिन भर अलग रहने की कल्पना से ही ख़राब लग रहा है। 

मालिनी: पापा मैं भी आपसे अलग नहीं होना चाहती । कोशिश करूँगी कि शाम तक वापस आ जाऊँ। 

राजीव: ठीक है बेटा , जाओ पर पहुँच कर फ़ोन करना फिर वह उसको छोड़ा और वो जब दरवाज़े तक पहुँची तो राजीव बोला: बेटी एक बार दिखा दो ना? 

मालिनी दरवाज़े तक पहुँच चुकी थी। वो मुड़ी और बोली: पापा क्या दिखाऊँ? 

राजीव: बेटा अपनी साड़ी उठा कर एक बार दिखा दो ना? प्लीज़। तुम्हारी छवि मेरी आँखों में बस जाएगी। 

मालिनी हँसकर: पापा आपने कई बार तो देखी है। और वैसे भी आज पैंटी और उसमें पैड भी लगा है। क्या दिखेगा?

राजीव: अरे बेटा, तुमको पैंटी में भी देखकर बड़ा सुख मिलेगा।

मालिनी हँसी और बोली: ठीक है पापा जैसी आपकी मर्ज़ी। यह कहकर वो झुकी और अपनी साड़ी को पेटिकोट के साथ ऊपर उठा दी। राजीव की आँखें उसकी मस्त जाँघें और बीच में सुंदर सी गुलाबी पैंटी देख कर मस्त हो गया।

वह बोला: आऽऽऽऽऽह बेटा बहुत मादक है तुम्हारा बदन। अब घूम जाओ और पिछवाड़ा भी दिखा दो। 

मालिनी पीछे को घूम गयी और अब उसके मस्त गोल गोल चूतर उसकी आँखों को मदमस्त कर रहे थे। पैंटी उसकी गाँड़ की दरार में फँसी हुई थी। फिर वो बोली: पापा बस अब जाऊँ? 

राजीव: आऽऽह क्या माल हो बेटा तुम? कब चुदवाओगी ? ठीक है जाओ। बाई। 

उसने साड़ी नीचे की और उसे ठीक किया और मुड़कर बोली: पापा बाई। और हँसते हुए भाग गयी। वो बाहर आकर कार में बैठी और दोनों शिवा की ससुराल के लिए निकल पड़े ।

उधर सरला को भी रात भर ठीक से नींद नहीं आइ। वो अच्छे और बुरे के संशय में परेशान थी। क्या वो शिवा के साथ ये सब करके अन्याय नहीं कर रही थी। वो सुबह के काम से निपट कर नहाने गयी। उसने अपने कपड़े उतारे और ख़ुद को पूरी नंगी शीशे में देखकर सोची कि अभी भी मुझसे दम है किसी भी मर्द को अपने बस में करने का। उसने नीचे देखा और वहाँ अपनी बुर के आसपास की झाटों को देखकर सोची कि पता नहीं शिवा को ये बाल पसंद आएँगे या नहीं। उसने वीट लगाया और अपनी बुर के आसपास के बालों को रुई से साफ़ किया। सफ़ाई करते हुए उसे याद आया कि कैसे उसके पति कभी उसको ये काम ख़ुद नहीं करने देते थे । वह ख़ुद ही उसे बिस्तर पर लिटाकर उसकी झाँटें साफ़ करते थे । सच वो बहुत मिस कर रही थी आज अपने पति को। तभी उसका फ़ोन बजा। वो बाहर आयी नंगी ही और फ़ोन सुनी: हेलो।

राजीव: हेलो जान। शिवा और मालिनी निकल गए हैं यहाँ से। देखो अच्छा मौक़ा है। कुछ काम को आगे बढ़ा लेना। 

सरला: हाँ पूरी कोशिश करूँगी। मेरी कोशिश होगी कि मालिनी अपने भाई और श्याम के बच्चों में उलझी रहे और मैं शिवा के साथ कुछ कर पाऊँ। 

राजीव: ऐसे कपड़े पहनना कि तुम्हारे दूध उसे दिखें। वो उस दिन भी तुम्हारे दूध ही देखे जा रहा था। क्या पहनोगी आज? 

सरला: अभी तय नहीं किया है। साड़ी का ही सोच रही हूँ और साथ में स्लीवलेस ब्लाउस पहनूँगी। ठीक है ना? 

राजीव: ठीक रहेगा जान। पैंटी नहीं पहनना। तुम्हारे मादक चूतरों को देखकर ही वो पागल हो जाएगा। 

सरला: ठीक है। अब तैयार होती हूँ। 

राजीव: अभी क्या नायटी में हो? 

सरला हँसकर: अभी तो नंगी हूँ, नहाने जा रही थी कि फ़ोन बज गया और मैंने बाहर आके उठा लिया। 

राजीव: वाह नंगी हो तो जान एक बार दिखा दो ना। मैं विडीओ कॉल करूँ? 

सरला: कर लो ,वैसे भी मैंने आपके बेटे के लिए अभी अपने नीचे के बाल की सफ़ाई की है। हा हा। 

अब राजीव ने फ़ोन काटा और विडीओ काल किया। अब राजीव ने सरला का चेहरा देखा और कहा: आह आज कितने दिनों के बाद तुमको देखा है। बहुत सेक्सी लग रही हो। अब कैम नीचे करो और अपनी मस्तानी चूचियाँ दिखाओ। 

सरला ने फ़ोन नीचे किया और राजीव उसकी चूचियाँ देखकर बोला: आऽऽऽह ये तो और भी मदमस्त करने वाली हो गयीं हैं। क्या ४० से भी बड़ीं हो गयीं हैं मेरी जान। 

सरला हँसकर: आप बहुत मज़ाक़िया हो। अभी भी ४० की है मेरी ब्रा। वह अपनी चूचियाँ दबाकर बोली। 

राजीव: उफफफफ क्या कर रही हो जाऽऽऽऽऽऽंन। वह अपना लौड़ा मसलकर बोला: अब अपनी बुर दिखाओ ना। 
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:17 AM,
#85
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
सरला अपने फ़ोन को नीचे अपनी बुर के सामने लायी । राजीव उसे देखकर बोला: आऽऽऽऽह जाऽऽऽऽऽन क्या चिकनी दिख रही है? लगता है अभी झाँटें साफ़ की है? 

सरला: अभी अभी साफ़ की है आपके बेटे के लिए। अगर मौक़ा मिला तो वो देखकर मस्त हो जाए। अब देखते हैं मौक़ा भी मिलता है या नहीं। 

राजीव: अरे जान मौक़ा भी मिलेगा और मस्ती भी। आज ही शिवा से चुदवा लेना बस फिर सब ठीक हो जाएगा। 

सरला: देखती हूँ क्या होता है? आप क्या अपना हिला रहे हो? आपका हाथ हिलते दिख रहा है। 

राजीव ने फ़ोन लौड़े के सामने रखा और अपने लौड़े को सरला को दिखाया। सरला की बुर खुजा उठी उसके मस्त लौड़े को देख कर। वह बोली: अगर आप आसपास होते तो इसको तो मैं खा ही जाती । उफफफफ क्या मस्त दिख रहा है शैतान। 

अचानक कोई आवाज़ दिया तो सरला बोली: अच्छा अब रखती हूँ। श्याम आवाज़ दे रहे हैं। बाई। 

राजीव ने भी फ़ोन काटा और सोचा कि आज बस एक बार शिवा इसके हाथ चढ़ा तो बस उसे इस कामुक स्त्री से कोई नहीं बचा सकता वो मन ही मन मुस्कुरा उठा। 

उधर सरला भी गरम हो गयी थी । वो शॉवर के नीचे खड़े हो कर पानी से अपना बदन ठंडा करने लगी। फिर वह तय्यार होने लगी।वो सोची कि शिवा और मालिनी शायद एक घंटे में आ जाएँगे।

शिवा को कार चलाते हुए क़रीब एक घंटे हो गए थे। वो दोनों रोमांटिक गाने सुन रहे थे और थोड़ी बहुत छेड़ छाड भी कर रहे थे।सुनसान जगह देख कर शिवा कभी उसके गाल सहला देता था तो कभी उसकी चूचि। उसकी जाँघ को तो वो सहलाए ही जा रहा था। मालिनी भी मज़े में आकर उसकी जाँघ को दबा देती थी और कभी उसके लौड़े को भी पैंट के ऊपर से सहला देती थी। 

शिवा: तुमने इस बिचारे को चूसा नहीं सुबह? देखो कैसे मुँह उठाकर तुम्हारी तरफ़ लाचार सा होकर देख रहा है। 

मालिनी हँसकर लौड़े को दबा कर: ये और बिचारा? ये तो मेरा प्यारा राजा है। जो मेरे ऊपर राज करता है। 

दोनों हँसने लगे। तभी एक नया सा रिज़ॉर्ट की तरह का एक सुंदर सा ढाबा दिखा नाम था” लवर्ज़ ढाबा एंड रिज़ॉर्ट”।

मालिनी: बहुत ही सुंदर दिख रहा है। लगता नया नया बना है। कितनी हरियाली है, बहुत रोमांटिक जगह लगती है। 

शिवा ने कार धीमी की और बोला: यार मैं थक गया हूँ। चलो ना थोड़ी देर रुकते हैं। कुछ खाते पीते हैं। 

मालिनी: चलिए सच में अच्छी जगह लग रही है। 

दोनों कार से उतर कर अंदर रेस्तराँ में गए। सिर्फ़ दो जोड़े बैठे थे। एक अधेड़ उम्र का जोड़ा था जो चाय पी रहे थे। दूसरी जोड़ी थोड़ी बेमेंल थी, आदमी थोड़ा मोटा सा ५०/५२ का था और लड़की थी क़रीब २०/२२ की। लड़की ज़्यादा सुन्दर नहीं थी पर जवानी तो छलक रही थी उसके टॉप और स्कर्ट से ।

शिवा: चलो यहाँ बैठते हैं। वो एक अलग सी टेबल की ओर इशारा किया। दोनों बैठ गए। 

मालिनी ने देखा की वो लड़की उस बुजुर्ग से बहुत हंस हंस के बात कर रही थी। 

शिवा: क्या देख रही हो? देखो बूढ़ा क्या मज़े ले रहा है छोकरी से। 

मालिनी: छि ऐसा क्यों बोलते हो? हो सकता है दोनों रिश्तेदार हों? 

शिवा: अरे ऐसी जगहों में लोग माल लाते हैं चोदने के लिए। ये लड़की या तो इसके ऑफ़िस में काम करती होगी जिसे वो यहाँ चोदने के लिए लाया है। और या फिर वो कोई रँडी होगी जो कि पैसों के लिए आयी होगी। 

मालिनी: वाह आपको बड़ा अनुभव है? कहीं आप भी तो यहाँ किसी को नहीं लाते। 

शिवा उसकी जाँघ दबाकर बोला: अरे जिसके पास ऐसा माल हो वो थूका हुआ क्यों चाटेगा? 

मालिनी हँसने लगी और फिर बोली: अरे देखो उसके गले में मंगल सूत्र है। कहीं यह उसकी बीवी तो नहीं? 

शिवा: वाह क्या क़िस्मत है साले की। हो सकता है जानू। 

तभी उस लड़की का फ़ोन बजा और जैसे ही वो उसे उठाई वह बंद हो गया। वो बोली: ओह मेरा फ़ोन डिसचार्ज हो गया है। फिर वो अपना पर्स खोली और बोली: ओह मैं तो चार्जर लाना ही भूल गयी। अब क्या होगा? 

उसका साथी बुज़ुर्ग बोला: ओह देखो रेस्तराँ वाले के पास है क्या? 

वो उठी और जैसे ही शिवा के टेबल के पास से गुज़री वो रुकी और बोली: आपका और मेरा फ़ोन एक ही मेक का है। आपके पास चार्जर होगा क्या? 

शिवा: है तो पर हम सिर्फ़ आधा घंटा ही रुकेंगे। 

वो: ठीक है इतनी देर में मेरा थोड़ा बहुत तो चार्ज हो ही जाएगा। 

शिवा: ठीक है ले जाइए । 

वो: मैं चार्जर ले जाती हूँ और थोड़ी देर में इसे वापस पहुँचा दूँगी। मैं यहीं पीछे कॉटिज नम्बर ३ में हूँ। 

शिवा : ठीक है । वो चार्जर लेकर चली गयी। वो आदमी भी उसके साथ चला गया।

मालिनी उसको चिढ़ाई: वाह बस लड़की देखी और फिसल गए। 

शिवा: अरे तो क्या मना कर देता। तभी वेटर उनका ऑर्डर ले आया। दोनों खाने लगे और फिर चाय पिए। 

शिवा: मैं वाशरूम जा रहा हूँ। तुमको जाना है? 

मालिनी: हाँ मुझे भी जाना है। 

शिवा ने वेटर से पूछा : भाई वाश रूम किधर है। 

वेटर: सर आपका वाश रूम वो है। मगर लेडीज़ टोयलेट को ठीक किया जा रहा है। इसलिए मैडम आप पीछे कोट्टेज नम्बर ४ में चली जाइए। वो खुला है आप उसका टोयलेट उपयोग कर लीजिए। ये कहकर उसने कोट्टेज का रास्ता भी दिखा गया। 

शिवा तो चला गया male वाशरूम में। और मालिनी पीछे के रास्ते से कोट्टेज की ओर चली गयी। कोटेज नम्बर ४ में जाते हुए अचानक वो ठिठक गयी। उसे जिस कोट्टेज के पास से गुज़र रही थी, वहाँ से अजीब सी आवाज़ें सुनाई पड़ीं। वो ठिठकी और सामने खिड़की के पास खड़ी हुई और सुनने की कोशिश की । अंदर की आवाज़ से उसके चेहरे पर मुस्कान आ गयी। आवाज़ें साफ़ साफ़ चुदाई की थीं । वो मन ही मन मुस्कुराकर आगे बढ़ कर कोटेज नम्बर ४ पर पहुँची और बाथरूम में जाकर फ़्रेश हुई और फिर वापस जाने लगी। तभी उसकी निगाह उस साथ वाले कोटेज के नम्बर पर पड़ी ३ नम्बर था। वही जहाँ वो लड़की और बुज़ुर्ग ठहरे थे जिसने उसका चार्जर लिया था। इसका मतलब है कि वो लड़की उस बुज़ुर्ग से चुदवा रही थी। ओह तो शिवा सही था कि वो उसको चोदने ही लाया है ।अब वो वापस कोटेज नम्बर ४ में वापस गयी क्योंकि दोनों जुड़े हुए थे। फिर वो उसके एक कमरे में गयी जो नम्बर ३ से जुड़ा था। वहाँ एक खिड़की थी जो की बरामदे में खुलती थी। वो उसके पास आयी और खुली खिड़की से पर्दा हटाकर झाँकी और उसका मुँह खुला ही रह गया। 

अंदर वो लड़की का स्कर्ट ऊपर चढ़ा हुआ था और उसका टॉप भी ऊपर था और वो पलंग के किनारे में अपनी गाँड़ हवा में लटका कर चौपाया बनी हुई थी। उसके बड़े दूध जो कि नीचे की ओर लटक रहे थे उसके दोनों पंजों में दबे थे। और वो बुज़ुर्ग जिसकी पैंट नीचे गिरी हुई थी उसे पीछे से चोद रहा था । 

उसका लौड़ा जो शिवा से थोड़ा सा ही बड़ा था उसकी बुर में अंदर बाहर हो रहा था। वो लड़की उइइइइइइइ कहकर मज़े लेकर अपनी गाँड़ पीछे करके उसका लौड़ा पूरा अंदर तक ले रही थी। फ़च फ़च की आवाज़ें गूँज रही थीं। मालिनी वहाँ से हटने ही वाली थी कि उसके पैर रुक गए जब उसके कान में ये आवाज़ पड़ी: ओह्ह्ह्ह्ह्ह पाआऽऽऽऽऽऽपा और ज़ोर से चोओओओओओदो। 
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:18 AM,
#86
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
मालिनी पापा शब्द से चौंकी। वो वापस आकर झाँकने लगी। वो लड़की फिर चिल्लाई: आऽऽऽऽऽऽह पापा फ़ाआऽऽऽऽऽड़ दो नाआऽऽऽऽ। आऽऽऽह क्या मज़ाआऽऽऽ देते हो आऽऽऽऽऽऽऽप।हाऽऽऽऽय्य काऽऽऽऽऽश आऽऽऽऽऽपके बेटे का भी इतना आऽऽऽऽह मस्त होओओओओओओता तो क्याआऽऽऽऽऽऽ मज़ाआऽऽऽऽ आऽऽऽऽ जाता।

आदमी: आऽऽहहह अगर उसका भी मस्त लौड़ा होता तो मुझे कैसे मजाऽऽऽऽऽऽमिलताआऽऽऽऽ। मेरी बच्चीइइइइइइइ। । ह्म्म्म्म्म्म्म्म। 

लड़की: आऽऽऽह पाऽऽऽऽऽपा फाऽऽऽऽड़ दो मेरी बुर। कितना मज़ाआऽऽऽऽऽ दे रहे हो हाऽऽययय। 

आदमी: आऽऽऽऽऽहहह मेरीइइइइइ रँडी और चिल्ला साऽऽऽऽऽऽऽऽली कुतियाआऽऽऽऽऽऽ। तू मेरी रँडीइइइइइइइइ है। है ना? 

लड़की: हाऽऽऽऽऽऽऽऽय हाँ मैं आऽऽऽऽऽऽऽऽऽपकी रँडीइइइइइइइ हूँ। फिर वो उइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽ कहकर झड़ने लगी और नीचे बिस्तर पर गिर गयी। वो आदमी अभी भी उसपर चढ़ कर चोदे जा रहा था और चिल्लाया: आऽऽऽह मेरी रँडी बेटी मैं भी गया। अब वो भी उसपर गिर सा गया। 

लड़की पलट कर बोली: पापा अपनी रँडी बहु को पेमेंट नहीं करेंगे? 

आदमी मुस्कुराया और पर्स से पैसे निकाला और उसे दिया और बोला: लो मेरी रँडी बहु अपनी पेमेंट। 

लड़की उठी और अपने कपड़े ठीक किए और पैसे किसी रँडी के माफ़िक़ अपनी ब्रा में डाल लिया। वह आदमी उसको फिर से अपनी बाँहों में खींच कर बोला: आऽऽऽँहह मेरी रँडी बहु तुम तो अब पक्की रँडी बन गयी हो। क्या चुदवाइ हो आज । मज़ा आ गया। 

अब वो उठा और बाथरूम में गया। वो लड़की भी बाथरूम में घुसी। पहले वो आदमी वापस आया और तौलिए से अपना बदन पोंछा। तभी वो लड़की भी बाहर आयी। अब उसका टॉप और स्कर्ट सही था। वो आदमी अभी भी नंगा था। तभी फ़ोन बजा। उस आदमी ने अपना फ़ोन उठाया और बोला: राज का फ़ोन है। 

लड़की: आप बात करो। 

आदमी: हेलो बेटा क्या हाल है?

उधर: -----

आदमी: हम ठीक हैं बेटा। हाँ अपने घर पर ही हैं। और कहाँ होंगे बेटा? वो आँख मारते हुए बोला।
उधर: ----

आदमी: हाँ हाँ यही है , बुलाता हूँ किचन में होगी। 

तब तक वो लड़की उसके पास आकर खड़ी हो गयी थी और उसे चूम रही थी। और फिर वो अपना हाथ उसके बॉल्ज़ और लौड़े पर ले गयी और उसको सहला रही थी। अब आदमी ने दिखाने के लिए आवाज़ लगाई: शीला बहू , राज का फ़ोन है। 

लड़की आँख मारकर उसके लौड़े को सहलाते हुए फ़ोन ली: हाय जी। कैसे हैं? कब वापस आएँगे? 

उधर:-----

लड़की: जल्दी वापस आइएगा । आपकी बहुत याद आती है। ये कहकर वो इस आदमी के निपल चाटने लगी। वो भी उसकी चूचि दबाने लगा । 
उधर:------

लड़की: हाँ हाँ पापा जी का पूरा ख़याल रखती हूँ। वो बिलकुल मज़े में हैं। आप उनकी बिलकुल चिंता ना करें ।मैं हूँ ना उनके लिए यहाँ। वो मुस्कुरा कर उसका लौड़ा सहलाने लगी। 

उधर/ -----

लड़की: ठीक है आप अपना ख़याल रखिए और अपना पूरा काम निपटा के ही आइए। यहाँ की चिंता मत करिए। अच्छा बाई। 

लड़की हँसकर : पापा मुझे कहना था कि आप वहीं रहो क्योंकि मुझे तो मेरा प्यार मिल गया है । वो उसकी छाती को चूमी और और फिर नीचे बैठी और उसके सोए हुए लौंडे को चूम ली। 

उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ क्या गरम लड़की है, मालिनी सोची। अपने ससुर से क्या मज़े मार रही है। 

तभी आदमी बोला: शीला तुमको चार्जर भी वापस करना है ना? 

शीला: ओह सच में पापा । चलो मैं अभी देकर आती हूँ। आप तय्यार होकर आओ। 

अब वहाँ से जल्दी से हटकर मालिनी कांपते हुए क़दमों से वापस आयी और उसका लाल चेहरा देखकर शिवा बोला: क्या हुआ ? बड़ी देर लगा दी? 

मालिनी: बाद में कार में बैठकर बताऊँगी। 

शिवा: ओह ठीक है। देखो वो लड़की भी आ गयी मेरा चार्जर ले कर। चलो अब चलते हैं। वो दोनों खड़े हुए और तभी वो लड़की आके उसको चार्जर दे कर बोली: थैंक्स।मेरा नाम शीला है। आपका? 

शिवा: मैं शिवा हूँ और ये मालिनी है मेरी पत्नी। वो जो आपके साथ हैं वो कौन है? 

शीला: वो मेरे ससुर जी हैं। हम पास के शहर में रहते हैं। मेरे पति विदेश में हैं और पापा मुझे यहाँ मेरा मन बदलने के लिए लाए हैं। 

मालिनी सोची कि कमिनी कितना झूठ बोल रही है। अभी गाँड़ दबाकर अपने ससुर से चुदवा रही थी और अपने पति से फ़ोन पर बात करते हुए अपने ससुर का लौड़ा सहला रही थी। 

मालिनी: बहुत अच्छी बात है कि आपके ससुर आपका इतना ख़याल रख रहे हैं। 

शीला: हाँ जी इस मामले में मैं बहुत ख़ुश नसीब हूँ। मुझे सास और ससुर दोनों प्यार करते हैं। 

मालिनी: ओह तो आपकी सास नहीं आयी? 

शीला: वो एक शादी में बाहर गयीं हैं । 

मालिनी सोची कि सास नहीं है तो क्या मज़े से चुदवा रही है ससुर से । वह बोली: अच्छा लगा आपसे मिलकर। 

शीला: आप चाहो तो हम फ़ोन नम्बर शेयर कर लेते हैं। 

मालिनी: ठीक है मेरा नम्बर ------ है तुम मुझे अभी काल करो मैं सेव कर लेती हूँ। 

शीला और मालिनी ने एक दूसरे का नमबर सेव कर लिया। तभी वहाँ शीला का ससुर भी आ गया। शीला ने उसको भी दोनों से मिलवाया। शिवा ने नोटिस किया कि वो मालिनी को चाहत भरी निगाह से देख रहा था। क्योंकि वो एक ही शहर के थे तो एक दूसरे को अपने घर आने का निमंत्रण दिए।

अब वो एक दूसरे से हाथ मिलाए और फिर शिवा और मालिनी अपनी कार में चल पड़े। 

रास्ते में शिवा बोला: हाँ बताओ क्या हुआ था? 

मालिनी: ये शीला अपने ससुर से चुदवा रही थी पीछे अपने कोटेज में! 

शिवा हैरानी से : क्या? सच में? 

मालिनी: हाँ मैंने अपनी आँखों से देखा है। और एक बात बताऊँ ? वो किसी रँडी की तरह ही चुदवा रही थी। और उसका ससुर उसे रँडी ही बोल रहा था। और जानते हो उसने उसे रँडी की तरह पाँच हज़ार रुपए भी दिए। 

शिवा: हे भगवान। सुनकर भी अजीब लगता है। वो लड़की अपनी ससुर की रँडी है ? हमारा समाज कहाँ जा रहा है? 

अब मालिनी को भी थोड़ा सा डर सा लगा। वो भी तो अपने ससुर के साथ फँसी हुई थी। कहीं शिवा को इसका पता लगा तो पता नहीं वो कैसे रीऐक्ट करेगा? वो बोली: हाँ बड़ा अजीब तो है। पर वो लड़की बोल रही थी कि उसका पति अक्सर बाहर रहता है और शायद उसका हथियार भी कमज़ोर है। 

शिवा: ओह तब तो लड़की का बहुत ज़्यादा दोष नहीं है। बुर तो सबकी खुजाती है। और अगर पति उसकी प्यास नहीं बुझा पाए तो वो किसी से तो चुदेगी ही। और एक तरह से ठीक ही है कि वो अपने ससुर से ही चुदवा रही है। वरना बाहर किसी से चुदवाती तो बदनामी का भी डर रहता है। 

मालिनी सोची कि अगर मजबूरी में चुदवा रही है तो शिवा को कोई ऐतराज़ नहीं है। ये एक बड़ी बात है पर उसके ख़ुद के साथ तो इस तरह की कोई मजबूरी नहीं है। शिवा उसे पूरे मज़े देता है और उसका हथियार भी तगड़ा है। ये बहाने तो उसके लिए नहीं चलेंगे अगर वो ससुर के साथ पकड़ी गयी। वो सोची कि उग्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ वो क्या करे? पापा को कैसे कंट्रोल करे। उनकी प्यास तो बढ़ती ही जा रही है। और सच तो ये है कि अब उसे ख़ुद को भी पापा के साथ मज़ा आता है। हे भगवान क्या करूँ। वो बोली: आपका मतलब है कि मजबूरी में अपने ससुर से चुदवाना ग़लत नहीं है। 

शिवा: हाँ मेरे हिसाब से तो ठीक ही है। फिर हँसकर बोला: अरे मैं तो तुमको पूरा मज़ा और पूरी संतुष्टि देता हूँ ना? तुमको तो ज़रूरत नहीं है ना किसी से चुदावने की? 

मालिनी ने झूठा ग़ुस्सा दिखाते हुए उसकी जाँघ पर एक मुक्का मारकर बोली: आप भी कुछ भी बोले जा रहे हो। 
पर वो मन ही मन चिंता करने लगी कि क्या अपने ससुर के साथ वो जो भी मजबूरी में कर रही है वो सही है क्या? वो कैसे शिवा को समझाए कि पापा को दूसरी शादी से रोकना ही उसकी मजबूरी है। फिर वो सोची कि ये सच है कि ये मजबूरी तो है पर ये भी सच है कि आजकल उसको ख़ुद को भी पापा के साथ मस्ती करने में मज़ा आने लगा है। वो फ़ैसला करी कि अब वो उनसे दूर होने की कोशिश करेगी। पर पता नहीं वो उनकी दूसरी शादी को कैसे टालेगी उसे नहीं पता। 

मालिनी को चिंता में डूबा देखकर शिवा बोला: क्या बात है किस चिंता में हो? 

मालिनी: कुछ नहीं। तभी मालिनी का फ़ोन बजा। सरला की काल थी। वो बोली: हाय मम्मी बस आधे घंटे में पहुँचेंगे। 

सरला: बहुत देर हो गयी है इसलिए फ़िक्र कर रही थी । चलो ठीक है आओ। वो फ़ोन काट दी। 

जब वो घर पहुँचे तो दरवाज़ा सरला ने ही खोला।शिवा उसको देखता ही रह गया। वो बहुत सेक्सी लग रही थी । उसने मस्त गुलाबी साड़ी पहनी थी जो करीब पारदर्शी थी। और साथ ही सलीवलेस ब्लाउस से उसकी गोल गोल गोरी बाहं भी मस्त दिख रही थीं । उसने खुले गले का ब्लाउस पहना था। उसकी आधी चूचियाँ ब्लाउस और पारदर्शी साड़ी से बाहर झाँक रही थी। मालिनी उसके गले लगी और बोली: मम्मी बहुत सुंदर लग रही ही। फिर वो उससे अलग हुई और शिवा झुककर उसके पैर छुआ। सरला उसे बाँह पकड़कर उठाने लगी और शिवा के नाक में मस्त सेण्ट की ख़ुशबू आयी। अब वो उठा और उसकी निगाह चिकने पेट और गहरी नाभि पर पड़ी। सरला की बाहँ अब ऊपर हुई और उसकी मस्त गोरी चिकनी बग़ल देखकर वो मस्त होने लगा । सरला ने उसका सिर झुकाया और उसका माथा चुमी। अब शिवा की आँखें उसकी खुली अर्धनग्न छातियों पर थीं और वहाँ से आ रही मस्त और मादक करने वाली गंध उसके लौडे में हलचल मचा दी। उसे अपने आप पर शर्म आयी कि वो अपनी माँ की उम्र की सास को ऐसी निगाहों से देख रहा है। वो सरला से अलग हुआ और बोला: मम्मी जी कैसी हैं ? 

सरला: बेटा मैं बिलकुल ठीक हूँ। चलो अब अंदर आओ। 

वो दोनों अंदर आए। अंदर ताई जी भी बैठी थीं और बीमार सी दिख रहीं थीं । उन्होंने उनके भी पैर छुए। 

फिर सब बातें करने लगे । तभी ताऊ जी भी आए और उन्होंने उनके पैर भी छुए ।शिवा ने देखा कि ताऊजी की आँखें बार बार सरला पर जा रही थी। उनकी आँखों में वासना स्पष्ट नज़र आ रही थी।
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:18 AM,
#87
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
तभी मालिनी का भाई कोलेज से आया और मालिनी से लिपट कर प्यार किया। तभी ताऊ की दोनों बेटियाँ भी आयीं। स्कर्ट ब्लाउस में दोनों बहुत प्यारी लग रहीं थीं। वो सब शिवा से भी हाथ मिलाए। 

राकेश जो कि मालिनी का भाई था बोला: दीदी चलो ना हमारे कमरे में बातें करेंगे। 

चारु जो बड़ी थी बोली: हाँ दीदी चलो ना। 

मुन्नी जो छोटी थी , मालिनी का हाथ पकड़कर उसे खिंचने लगी। मालिनी हँसकर बोली: अच्छा बाबा चलती हूँ। फिर शिवा को बोली: आप भी आइए ना ।

शिवा हँसकर : तुम जाओ मैं आता हूँ। मेरे सामने ये शर्माएँगी। 

जब बच्चे चले गए तो मालिनी बोली: क्या लोगे बेटा? ठंडा या गरम? 

शिवा: मम्मी जी पानी दे दीजिए। 

सरला उठी और अपनी मोटी गाँड़ मटकाते हुए किचन में गयी और पानी लाकर गिलास को देती हुई अपनी साड़ी का पल्लू ठीक करने के बहाने अपनी क्लिवेज़ शिवा को अच्छे से दिखा दी। शिवा के नाक में उसके मस्त सेण्ट की गंध आइ और वो उत्तेजित होने लगा। फिर वो थोड़ी देर बातें किए और ताई जी लेटने चली गयीं। ताऊ जी भी एक फ़ोन आने से बाहर चले गए। अब सरला और शिवा ही आसपास बैठे थे। बातें करते करते वो उसकी जाँघ दबा देती थी। फिर वो बोली: बेटा, खाना लगा दूँ? 

शिवा : जी मम्मी लगा दीजिए। 

सरला उठी और मटकती हुई किचन में चली गयी। थोड़ी देर वह टी वी देखता रहा फिर उसे बाथरूम जाने की ज़रूरत महसूस हुई। वो ड्रॉइंग रूम से बाहर आकर इधर उधर देखा तो उसे बाथरूम दिखाई दिया। वो जब पेशाब करके बाहर आया तो वह एक कमरे के सामने से गुज़रा। उसमें से उसे कुछ अजीब सी आवाज़ें आ रही थीं । वो रुका और एक खुली खिड़की के परदे को हटा कर अंदर झाँका। अब वो चौका क्योंकि उसने देखा कि ताऊ जी मम्मी को अपने से चिपका कर खड़े थे और उनकी खुली चूचियों को चूमे जा रहे थे। मम्मी भी मज़े से उनका सिर दबा रही थी। ताऊजी मम्मी की मस्त मोटी गाँड़ भी मसल रहे थे। ताऊजी: मेरी जान आज क्या माल दिख रही हो? उफफफ बहुत ही सुंदर सजी हुई हो। क्या बात है? आख़िर क्यों इतना सेक्सी रूप धरी हो। क्या दामाद को पटाना है? 

शिवा एकदम से चौंक गया। ये क्या बोल रहे हैं ताऊजी। 

सरला: आप भी कुछ भी बोलते हो। क्या मैं अच्छे कपड़े नहीं पहन सकती? 

श्याम उसको चूमते हुए बोला: अरे क्यों नहीं पहन सकती। क्या माल दिख रही हो? 

सरला: आऽऽऽह अब छोड़ो । मुझे खाना लगाना है। 

वह आख़िर बार उसकी चूचियाँ दबाया उसे छोड़ा और बोला: चलो अब खाना लगाओ। 

शिवा जल्दी से वहाँ से हट गया। 

सरला अब खाना लगाने लगी।

शिवा आकर सोफ़े पर बैठकर अपना खड़ा लौड़ा ऐडजस्ट किया और सोचने लगा कि ये क्या देखा मैंने? मम्मी ताऊजी से लगी हुईं हैं। क्या मालिनी को पता है? पर उसने कभी ज़िक्र नहीं किया। इसका मतलब है कि मालिनी भी मुझसे बातें छिपा लेती है? वह सोचा कि वो ख़ुद भी तो अपनी सास को ख़राब नज़र से देख रहा है। उसके लौड़े का बार बार खड़ा होना इसका सबूत था। वो अपने लौड़े पर हाथ फेरा मानो उसे तसल्ली दे रहा हो, और सोचने लगा कि उस दिन मम्मी की सहेली भी तो ऐसी ही औरत थी जो कि उसका लौड़ा ही चूस गयी थी। तो क्या सच में मम्मी चरित्रहीन है ? 

तभी मालिनी और उसके कज़िन हँसते हुए कमरे में आए और चारु बोली: जीजा जी आज हम दीदी और आपके साथ मूवी देखेंगे। 

शिवा: हाँ हाँ क्यों नहीं साली साहिबा। आप जो चाहेंगी वैसा ही होगा। 

मालिनी: आह तेरे जीजा जी का मूड अच्छा है और कुछ भी माँग ले। 

मुन्नी: जीजा जी मुझे मोबाइल दिलवाइए ना। 

शिवा: बिलकुल दिलाएँगे अगर तुम एक मीठी सी पप्पी दोगी। 

लाड़ प्यार में पली मुन्नी फट से आगे आयी और उसकी गोद में बैठ गयी और अपने गाल आगे करके बोली: लीजिए पप्पी। 

शिवा की हालत ख़राब हो गयी। वो उसके पैंट में फँसे खड़े लौड़े पर बैठ गयी थी। अब उसे दुखने लगा था, वो जल्दी से उसकी पप्पी लिया और उसको अपनी गोद से उठाया और बोला: मालिनी इसे मोबाइल दिलवा देना। अब शिवा अपनी पैंट के ऊपर हाथ रखकर अपना इरेक्शन मालिनी से छुपाने की कोशिश किया। पर उसकी कोशिश नाकामयाब रही क्योंकि मालिनी को आभास हो गया था कि शिवा का लौड़ा शायद खड़ा है। पर क्यों? वो सोची। 

मालिनी दिखाने के लिए ख़ुश होकर: जी दिलवा दूँगी। अब मुन्नी ख़ुश होकर मालिनी की गोद में बैठ कर उसको भी पप्पी दे दी। 

तभी सरला आयी और बोली: चलो सब लोग खाना लग गया है। 

मुन्नी: चाची, आपको पता है, जीजा जी मुझे मोबाइल दिलाएँगे। और आज हम सब मूवी भी देखने जाएँगे । हैं ना जीजा जी? वो शिवा की बाँह पकड़कर बोली। 

शिवा मुस्कुराया: ज़रूर छोटी साली जी। 

सब हँसने लगे। पर सरला सोच में डूब गयी। वो सोची कि ये अच्छा अवसर है अगर शिवा ना जाए तो बात आगे बढ़ सकती है। उसने एक योजना बनाई और बोली: देखो मैं तो नहीं जाऊँगी। तुम सब जाओ। 

मालिनी: क्यों मम्मी आप भी चलो ना। 

सरला: नहीं बेटी मैं नहीं जा सकती हूँ। तेरी ताई का भी ध्यान रखना पड़ता है। पिछले कुछ दिनों से उसकी तबियत ज़्यादा ही ख़राब है। 

अब सब खाना खाने बैठे तब सरला धीरे से किचन में जाकर शिवा के फ़ोन में sms की। उसने लिखा: मुझे तुमसे बहुत ज़रूरी बातें करनी है,वो भी अकेले में। अगर तुम कुछ बहाना बना कर मूवी ना जाओ तो हम अकेले में बातें कर सकेंगे। बात इतनी सेन्सिटिव है कि अभी मैं मालिनी को भी नहीं बता सकती। 

सब खाना खा रहे थे। सरला ने शिवा के फ़ोन में sms आने की आवाज़ सुनी। पर वह मस्ती में बातें कर रहा था। उसने sms की तरफ़ ध्यान नहीं दिया। सरला चाहती थी कि वो एक बार फ़ोन चेक करे। पर उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो ये काम कैसे करे? ख़ैर सबने खाना खाया और शिवा ने खाने की बहुत तारीफ़ भी की। फिर सब खाना खा कर बैठे और मस्ती करने लगे। मूवी जाने में अभी एक घण्टे थे। इसी समय में सरला चाहती थी कि किसी तरह से शिवा अपना sms पढ़ ले। 

जब बहुत देर हो जाने के बाद भी वो फ़ोन चेक नहीं किया तो सरला बोली: शिवा तुम्हारा फ़ोन मैंने आज लगाया था जब तुम यहाँ आ रहे थे। पर वो लगा नहीं। तुमने अपना नम्बर बदला है क्या? 

शिवा: नहीं तो, मेरा नम्बर वही है। 

सरला: अच्छा मैं तुमको एक मिस्ड कॉल देती हूँ तुम देखो बजता है कि नहीं। अब वो उसे फ़ोन करी और शिवा की घंटी बजी । अब वो अपना फ़ोन उठाया और बोला: मम्मी देखो आपका नम्बर आ रहा है। 

सरला: ओह फिर ठीक है। तभी वो देखी कि शिवा ने sms को नोटिस किया। उसे पढ़कर वो सवालिया नज़रों से उसे देखा। सरला ने हाँ में सिर हिलाया और बोली: बेटा थोड़ा आराम करना हो तो मेरे कमरे में आराम कर लो। 

शिवा उसका इशारा समझ गया और बोला: मालिनी तुम बातें करो मैं थोड़ी देर लेट लेता हूँ। 

सरला उसे लेकर अपने बेडरूम में आयी और बोली: बेटा तुमको कोई बहाना बनाना है क्योंकि मुझे तुमसे अकेले में बात करनी है। श्याम भी शाम के पहले नहीं आएँगे। 

शिवा: वो तो मैंने sms में पढ़ा पर ऐसी क्या बात है जो आप मालिनी को भी नहीं बताना चाहती? 

सरला: बेटा बात तुम्हारे पापा के बारे में है। प्लीज़ कोई बहाना बना लो। 

शिवा हैरानी से : मेरे पापा के बारे में ? ओह, ठीक है मैं लेट जाता हूँ। बाद में मैं सिर दर्द का बहाना बना दूँगा। 

सरला ख़ुश होकर: ठीक है बेटा आराम करो। वह झुक कर उसको चादर उढाई और झुकने के कारण उसके उभारों के दर्शन कर वह एक बार फिर से गरम हो गया। फिर वह बाहर चली गयी। 

फिर वही हुआ जो सरला चाहती थी। ठीक समय पर शिवा ने सर दर्द का बहाना बनाया और मालिनी आख़िर में हराकर अपने कजिंस के साथ मूवी देखने चली गयी। 

उनके जाने के बाद शिवा उठकर ड्रॉइंग रूम में आया और सरला से बोला: हाँ मम्मी जी अब बताइए क्या बात है वो भी पापा के बारे में? 

सरला मुँह उतराके बोली: बेटा एक बहुत बड़ी समस्या आ गयी है। 

शिवा: क्या समस्या आप बताइए तो सही। 

सरला: बेटा तुम्हारे पापा दूसरी शादी का सोच रहे है। 

शिवा: क्या ? आपसे किसने कहा? 

सरला: ख़ुद तुम्हारे पापा ने। 

शिवा: ओह ये तो बड़ी गड़बड़ हो जाएगी। 

सरला: और भी सुनो, वो तो लड़की भी मालिनी से छोटी लाएँगे ऐसा बोले हैं ! 

शिवा: हे भगवान। ये पापा को क्या हो गया है? 

सरला: बेटा, मुझे तो तुम दोनों की बहुत चिंता है। एक तो मालिनी की सास उससे छोटी उम्र की और दूसरी ओर उसके भी बच्चे हुए तो तुम्हारे लिए एक और सर दर्द हो जाएगा। जायदाद में वो भी बराबर का हिस्से दार हो जाएगा। घर की शांति भंग होगी वो अलग। मेरा तो सोच सोच कर सिर फटा जा रहा है। बेचारी मेरी बच्ची का क्या होगा? ये कहते हुए वो रोने लगी। 

शिवा उसके रोने से हड़बड़ा गया और उठ कर उसके पास आकर बैठा और उसको दिलासा देते हुए बोला: मम्मी आप क्यों रो रही हो? हम कुछ करेंगे ना। पापा को समझाएँगे। 

सरला ज़ोर से रोती हुई बोली: वो सब मैं कर चुकी हूँ वो नहीं मान रहे हैं। अब शिवा उसके हाथ को सहलाया और बोला: मम्मी रोने से कोई समस्या हल नहीं होगी। वह उसकी बाँह को सहलाया और उसकी उँगलियाँ उसके बड़े स्तन से छू गयीं। उसे जैसे बिजली का झटका लगा। उधर सरला ने रोते हुए अपना सिर उसके कंधे पर रख दिया था और उसकी साड़ी का पल्लू भी गिर गया था । अब शिवा को उसके आधे दूध जो कि ब्लाउस से बाहर थे साफ़ साफ़ दिखाई दे रहे थे और उसके लौड़े ने फिर से अपनी अकड़ दिखानी शुरू कर दी। 

सरला भी अब रोते हुए बोली: क्या करूँ रोने केअलावा और क्या कर सकती हूँ? 
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:18 AM,
#88
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
शिवा अब सरला को अपनी ओर खींचकर बोला: मम्मी प्लीज़ चुप हो जाओ। मैं हूँ ना कुछ ना कुछ करूँगा । अब वो अपने हाथ से उसके गाल को सहला कर उसके आँसू पोंछने लगा। शिवा की नाक में उसके सेंट और उसके बदन की मादक गंध भी समा रही थी। मालिनी का बदन गठा हुआ था और सरला का मुलायम थोड़ा चरबी लिए हुए था ।वह उसको चुप कराते हुए उसके पेट पर से ले जाकर उसकी चिकनी कमर पर एक हाथ रखा और सरला को अपनी ओर खिंचा और गाल सहलाकर बोला: मम्मी पहले आप चुप हो जाओ। अब सरला की एक चूची उसकी बाँह से पूरी सट गयी थी। उसका सिर शिवा के कंधे पर था। सरला की आँखें बंद थीं। उसके होंठ खुले थे मानो कह रहे हों मुझे चूस लो।

शिवा का लौड़ा अब पूरी तरह से सख़्त हो चुका था, वह अब उसके ऊपर झुका और उसकी आँख को चूमा और बोला: मम्मी प्लीज़ रोना बंद करो। मैं कुछ ना कुछ करूँगा। फिर वह उसकी दूसरी आँख को भी चूमा । अब वो नीचे आकर उसके गाल चूमा और बोला: मेरे रहते आपको कभी आँसू नहीं बहाना पड़ेगा। फिर वह कसकर सरला को अपनी बाँह में भींच लिया और सरला भी उसकी छाती में अपना मुँह घुसा दी। अब शिवा उसकी नंगी पीठ को सहला रहा था जहाँ ब्लाउस के नाम पर एक छोटा सा पट्टा भर था। अब वो उसके कंधे को चूमने लगा। सरला भी मस्ती में आ गयी थी और उसने शिवा के पैंट में तने हुए तंबू को साफ़ साफ़ देख लिया था और अंदाज़ा कर लिया था कि इसका भी इसके बाप जैसा ही तगड़ा हथियार है। अपना हाथ सरला ने उसकी जाँघ पर रखा जो कि तंबू के काफ़ी पास ही था। 

शिवा का अब अपने आप पर क़ाबू नहीं रहा और वो सरला के सिर पर हाथ रखकर उसके मुँह को ऊपर किया और अपने होंठ उसके होंठ से चिपका दिया। सरला आऽऽऽऽह नहीं नहीं बोली पर सिर्फ़ दिखावे के लिए ।शिवा अब उसके होंठ चूसने लगा। वह विरोध का नाटक करते हुए अपना मुँह घुमाई। सरला: आऽऽऽऽह बेटा ये ग़लत है । प्लीज़ छोड़ दो। आऽऽऽहहह। 

शिवा उसे और ज़ोर से जकड़ के उसके होंठ और गाल चूमने लगा। सरला अब भी विरोध कर रही थी। तभी शिवा ने उसकी छातियों पर अपना मुँह घुसेडा और उनको ब्लाउस जे ऊपर से ही चूमने लगा। सरला: आऽऽऽऽऽह बेएएएएएटा ये ग़लत है। तुम मेरे दामाद हो। 

शिवा उसकी दोनों चूचियों को अपने पंजों में दबाते हुए बोला: मम्मी ग़लत तो वो भो है जो अभी थोड़ी देर पहले आप ताऊ जी के साथ कर रहीं थीं । अगर वो ग़लत नहीं है तो ये भी नहीं है। वो और ज़ोर से उसकी बड़ी बड़ी चूचियाँ मसलने लगा। 

सरला चौंकी और बोली: ओह तो तुमने देख लिया? देखो बेटा श्याम जी का मैं तुमको समझा सकती हूँ। 

शिवा: मम्मी मुझे कुछ नहीं समझना है । मुझे बस आपकी चूचियाँ दबानी है। 

सरला: उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ धीरे दबाओ ना दुखता है। 

अब शिवा जोश में आकर उसकी एक चूचि को ब्लाउस के अंदर हाथ डालकर निकाल लिया और उसे दोनों हाथों से दबाने लगा। वो बोला: आऽऽऽऽऽह क्या मस्त चूची है मम्मी आपकी। मेरी मम्मी की भी ऐसी बड़ी बड़ी थीं । मैं हमेशा चाहता था कि ऐसी बड़ी बड़ी चूची दबाऊँ और चूसूँ। अब वो उसकी चूची चूसने लगा। निपल में जीभ भी रगड़ने लगा। अब सरला चिल्लाई: आऽऽऽऽऽऽह मरीइइइइइइइ । उइइइइइइ । 

शिवा अब दूसरी चूची भी ब्लाउस से बाहर निकाला और उसे भी दबाया और चूसा। सरला उसकी जाँघ दबाए जा रही थी। शिवा ने मस्ती में आकर उसका हाथ अपने तंबू पर रख दिया। सरला ने भी बिना देर किए उसे मूठ्ठी में भर लिया और उसको दबाने लगी। अब कुछ बचा नहीं था छिपाने को।
सरला: आऽऽऽऽऽह सब कुछ यहाँ ही कर लोगे क्या? चलो बेडरूम में। 

शिवा उठा और उसको अपनी गोद में उठाने लगा। सरला हँसकर बोली: मैं मालनी की तरह हल्की फुलकि नहीं हूँ । मैं अच्छी ख़ासी भारी हूँ। तुम मुझे उठा नहीं पाओगे। गिर जाऊँगी तो हड्डी टूट जाएगी। 

शिवा: मम्मी देखो कैसे बच्ची की तरह आपको उठा लेता हूँ। ये कहते हुए उसने उसकी टांगों के नीचे और पीठ के नीचे भी हाथ डाला और उसे आराम से उठा लिया और बोला: देखो आपको इतने आराम से उठा लिया ना। अब वो झुककर उसकी चूचि चूसने लगा। और बेडरूम की ओर बढ़ा। वहाँ पहुँचकर उसने सरला को बिस्तर पर लिटा दिया। सरला बिस्तर पर पीठ के बल लेटीं थी और उसकी चूचियाँ ब्लाउस के बाहर थी और उनपर शिवा का गीला थूक लगा हुआ था ।

वह अब अपनी क़मीज़ उतारा और फिर बेल्ट खोला और पैंट भी उतार दिया । चड्डी में से उसके लौड़े का उभार देख कर सरला की बुर गीली होने लगी। उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ क्या मस्त हथियार है - वो सोची। चड्डी में सामने का हिस्सा थोड़ा सा गीला हुए जा रहा था उसके प्रीकम से। 

अब वह उसके ऊपर आया और उसके होंठ चूसने लगा। सरला भी अब उसका साथ देने लगी। शिवा ने अपनी जीभ उसके मुँह में डाली और सरला उसको चूसने लगी। फिर शिवा ने अपना मुँह हटाया और खोल दिया अनुभवी सरला ने अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी जिसे शिवा चूसने लगा। शिवा के हाथ अब उसकी चूचियों पर आ गए थे । वह बोला: आऽऽऽऽऽह मम्मी कितने सॉफ़्ट और फ़र्म है आपके दूध। म्म्म्म्म्म चूसने में बहुत मज़ा आ रहा है। फिर वो उसकी चूचि चूसते हुए उनको दबाने लगा। 

सरला: आऽऽऽऽऽह बेएएएएएएटा क्या माआऽर ही डालेगाआऽऽ। बहुत मज़ाआऽऽऽऽऽऽ आऽऽऽऽ रहाआऽऽऽऽ है। उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ । 

शिवा अब नीचे आया और उसके चिकने पेट को चूमा और नाभि में जीभ डालकर चाटने लगा। 

सरला: उइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽ क्याआऽऽऽऽ कर रहे हो। उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ । 

अब शिवा और नीचे खिसका और उसने कमर से लिपटी साड़ी को निकाल दिया । पूरी साड़ी खुल गयी थी। उसने उसे निकाल दिया।सरला ने अपनी क़मर उठाकर उसको निकालने में उसकी मदद की। पेटिकोट में वह बहुत मस्त दिख रही थी। अब उसने उसकी नाभि को जीभ से चाटा और पेटिकोट का नाड़ा खोला और उसको नीचे करने लगा। सरला ने भी पूरी बेशर्मी से अपनी क़मर उठाकर उसे निकालने में पूरी मदद की। वो आज भी पैंटी नहीं पहनी थी। उसकी जाँघें चिपकी हुईं थीं ।उसकी बुर का थोड़ा सा ऊपरी हिस्सा ही दिखाई दे रहा था। वो उसकी जाँघों को सहलाने लगा और फिर उसकी पेड़ू को सहलाया। सरला हम्म कर उठी। अब उसने जाँघों को फैलाया और सरला ने इसमे भी सहयोग किया।अब मदमस्त जाँघों के बीच कचौरी की तरह फूली हुई बुर और उसकी फाँक की ग़हरी लकीर साफ़ दिखाई पड़ रही थी और उसके लौड़े ने और प्रीकम छोड़ दिया ।

शिवा अब उसकी जाँघों को चूमने लगा और फिर उसकी बुर को भी नाक डालकर सूँघा वो बोला: मम्मी आऽऽऽह क्या मस्त गंध है आपकी बुर की। वो उसे सहलाता रहा।फिर वह उसकी फाँकों को फैलाया और वहाँ के गुलाबी हिस्से को देखा और उसमें जीभ डाला और उसे जीभ से मानो चोदने लगा। सरला: आऽऽऽऽऽऽऽह कर उठी। अब वो बोला:मम्मी मालिनी की डिलिवरी नोर्मल हुई थी या सजेरीयन ? 

सरला: आह्ह्ह्ह्ह मेरे दोनों बच्चे नोर्मल हुए थे। 

शिवा: इसका मतलब है कि मालिनी इसी छेद से बाहर आयी थी? ह्न्म्म्म्म्म । अब वो उसे चाटने लगा। सरला की सिसकियाँ निकलने लगी। अब उसने उसकी जाँघों को और ऊपर उठाया और उसकी गाँड़ के छेद को देखकर मस्ती से ऊँगली से सहलाया और एक ऊँगली अंदर किया । उसने देखा कि ऊँगली आसानी से अंदर चली गयी। वो अब दो ऊँगली डाला और वो भी आराम से चली गयीं। वो बोला: मम्मी जी आपकी गाँड़ बहुत मस्त है और खुली हुई है, क्या ताऊजी गाँड़ भी मारते है? 

सरला: आऽऽऽंह अच्छा लग रहा है बेटा। हाँ मारते हैं। पर अभी इधर कुछ दिनों से नहीं मारी। 
शिवा: क्या मालिनी के पापा भी गाँड़ मारते थे? 

सरला: हाँ बेटा, वो तो मेरी गाँड़ के पीछे पागल थे। उनको मेरे चूतर बहुत पसंद थे। 

शिवा: मम्मी आपके चूतर तो मुझे भी बहुत पसंद हैं । वो उनको चूमकर बोला और फिर जीभ से गाँड़ भी कुरेदने लगा। सरला: आऽऽऽऽऽहाह । 

शिवा मुँह उठाकर बोला: मम्मी मैंने भी अभी तक किसी की गाँड़ नहीं मारी है। आज आपकी मारूँगा दूसरे राउंड में ठीक है ना? 

सरला: आऽऽऽह मार लेना बेटा आऽऽऽऽह अब बुर तो मार पहले हाय्य्य्य्य्य्य्य। बहुत खुजा रही है।

शिवा अब उसने उसकी क्लिट को जीभ से छेड़ा तो वो उछल पड़ी और उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ करके उसके मुँह को हटाई और बोली: वहाँ हमला किया तो एक मिनट में ठंडी पड़ जाऊँगी झड़कर। 

शिवा मुस्कुराते हुए उठा और आकर उसके बग़ल में लेटा और उसकी चूचियाँ दबाकर चूसने लगा। अब सरला भी उठी और उसके ऊपर आ कर उसके निपल्ज़ को दाँत और जीभ से छेड़कर उसे मस्त कर दी फिर नीचे जाकर उसके पेट और नाभि को चूमते हुए उसकी चड्डी तक पहुँची। उसने वहाँ नाक रखी और प्रीकम को सूँघा और फिर उसकी जीभ से चाटकर मस्ती में आकर बोली: आऽऽऽंब तुम्हारी गंध भी बहुत मस्ती ले आने वाली है बेटा। अब वो उसकी चड्डी निकाली और उसका लौड़ा देखकर बोली: आऽऽऽऽहहहह क्या मस्त हथियार है उगफफ कौन ना पागल हो जाए इसको देखकर। म्म्म्म्म्म्म। कहकर वो उसको पूरी लम्बाई में चुमी और चाटी। फिर उसके एक एक बॉल को भी चूम और चाट कर मस्ती से बोली: उम्म्म्म्म्म्म बहुत मस्त है ये । पुच पुच करके उसको चुमी। अब वो अपनी जीभ लेज़ाकर उसके लौड़े के सुराख़ को चाटी और प्रीकम को खा गयी और फिर अब वो उसके सुपाडे को मुँह में लेकर चूसने लगी। 

शिवा अब मस्ती में आकर बड़बड़ाया: आऽऽऽऽऽऽह मम्मी आऽऽऽऽऽहहह क्या चूसती हो आऽऽऽऽऽप। वाआऽऽऽऽऽऽऽहहह।
सरला अब उसको डीप थ्रोट दे रही थी। पहली दफ़ा शिवा ये अनुभव प्राप्त कर रहा था। वो अब कमर उछालकर अपना लौड़ा उसके मुँह को नीचे से चोदने लगा। सरला अब मज़े से उसको चूसे जा रही थी। 
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:19 AM,
#89
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
अब सरला उठी और आकर उसके ऊपर बैठी और उसके होंठ चूसने लगी। वो भी उसकी बड़ी बड़ी छातियाँ दबाने लगा। अब वो अपनी कमर उठाई और उसके लौड़े को पकड़कर अपनी बुर के मुँह पर रखी और नीचे दबाकर अपनी बुर में उसको अंदर करते हुए उइइइइइइइ कहकर अपनी कमर को पूरा दबा दी और लौड़े को जड़ तक अपने अंदर कर लिया। अब वह अपनी कमर उछालकर उसे चोदने लगी। शिवा भी नीचे से धक्के मारकर ह्म्म्म्म्म्म कहते हुए मस्तीसे उसका साथ देने लगा। 

अब मालिनी : आऽऽऽऽऽहहह बेएएएएएटा आऽऽऽऽऽऽऽह फाऽऽऽऽऽड़ दोओओओओओओओ मेरीइइइइइइइइ बुर।

शिवा: ह्म्म्म्म्म्म मम्मी क्या मज़ा आ रहा है। सरला की कमर हिले जा रही थी। फिर वो बोली: बेटा अब मैं थक गयी हूँ। तुम ऊपर आ जाओ। 

शिवा उसको अपनी बाहों में भरकर उसे लिए हुए ही पलट गया और ख़ुद ऊपर आ गया। अब वो उसकी टाँगों को अपने कंधे पर रखकर बुरी तरह से चोदने लगा । अब तो कमरा सरला की आऽऽऽऽऽह उइइइइइइइ ऊम ऊम ऊम की आवाज़ों से भर गया। पलंग की चरमराहट अब अपनी चरम सीमा पर था जो बुरी तरह से हिल रहा था। मालिनी सोची कि जवान लड़के की चुदाई अलग ही होती है। उफफफफ क्या ताक़त है इस लड़के में। फिर वह चिल्ला कर उइइइइइइइइइ मॉआऽऽऽऽ कहकर झड़ने लगी। शिवा भी ह्म्म्म्म्म कहकर झड़ने लगा। अब वह आकर उसकी बग़ल में लेट गया। अब वो सरला के गाल चूमकर बोला: मम्मी आपको पता नहीं है कि आपने आज मुझे कितना मज़ा दिया है। मेरे सालों की इच्छा थी कि मैं एक आपकी उम्र की औरत को चोदूँ। आज मैं बहुत संतुष्ट हूँ। 

सरला: अच्छा वो क्यों? 

शिवा: मैंने अपनी मम्मी को कई बार कपड़े बदलते हुए नंगी देखा था। उनकी बड़ी बड़ी छातियाँ और उनकी बड़ी गाँड़ मुझसे बहुत आकर्षित करतीं थीं। आज आपको चोदते समय मुझे लगा मानो मैं अपनी मम्मी को ही चोद रहा हूँ। मेरी बहुत बड़ी फ़ैंटासी को मानो आपने रीऐलिटी में बदल दिया है। 
अब वो उसकी चूचि चूसने लगा। अब शिवा ने उसके बड़े बड़े चूतरों को सहलाया और बोला: मम्मी आपके चूतर तो मख्ख्नन की तरह चिकने हैं । फिर वह अपनी ऊँगली गाँड़ में घुमाने लगा। वह बोला: मम्मी मालिनी की गाँड़ में तो एक ऊँगली भी मुश्किल से जाती है। बहुत टाइट है उसकी गाँड़। मेरी हिम्मत ही नहीं होती उसकी गाँड़ मारने की। 
सरला: पहली बार गाँड़ मरवाने में सच में बहुत दर्द हुआ था पर अब सब ठीक है। अब तो कुछ दिन ना मरवाओ तो गाँड़ खुजाने लगती है बेटा। आऽऽऽऽहहह क्या कर रहा है? थूक लगा कर डाल ना ऊँगली। सूखे ही घुसेडे जा रहा है अंदर? 

शिवा: सारी मम्मी । फिर वो ऊँगली में थूक लगाया और गाँड़ में दो उँगलियाँ डाल दिया। सरला आऽऽऽऽह कर उठी। 

शिवा: मम्मी ये पापा की दूसरी शादी का क्या अपने मालिनी को बताया है? 

सरला उसके लौड़े को सहलाकर: हाँ उसे पता है। वो काफ़ी परेशान है। पर तुमको इस लिए नहीं बताई कि वो तुमको परेशान नहीं देख सकती। 

शिवा गाँड़ में उँगलियाँ घुमाते हुए: ओह, ऐसा? एक बात पूँछु मम्मी अगर ग़ुस्सा ना होगी तो? 

सरला: अरे पूछ ना बेटा जो भी पूछना है। वो उसके बॉल्ज़ को सहलाते हुए बोली। 

शिवा:पापा ने आपको क्यों बताया कि वो दूसरी शादी करने का सोच रहे है? 

सरला हड़बड़ा कर: मुझे क्या पता? ऐसा क्यों पूछा? 

शिवा: मम्मी मुझे शक है कि आपके और पापा के बीच भी कुछ हो चुका है। उस दिन पार्टी में पापा जिस तरह से आपको देख रहे थे और आप भी उनको जैसी निगाहों से देख रहीं थीं, मुझे तो गड़बड़ लगी थी।

सरला: देखो बेटा, अब तुमसे ये सब करने के बाद अब मैं तुमसे झूठ नहीं बोलूँगी। वह उसके लौड़े को मुठियाते हुए बोली: हाँ मैं उनके साथ भी ये सब कर चुकी हूँ। 

शिवा: ओह तो मेरा शक सही था। कितनी बार मिली हो आप पापा से ? 

सरला: तीन चार बार। बस अब कुछ और ना पूछना। मुझे अजीब लग रहा है। 

शिवा: ठीक है नहीं पूछूँगा । बस इतना बता दीजिए कि क्या आपने पापा से गाँड़ भी मरवायी थी? वह उसकी गाँड़ में उँगली करते हुए कहा। 

सरला: हाँ मरवाई है। उनको बहुत अच्छा लगता है गाँड़ मारना। वो बताए थे। 

शिवा: ओह तो ताऊजी भी मारते है क्या? 

सरला: हाँ मारते हैं। 

शिवा: मम्मी उस बार जब आप और ताऊजी हमारे घर आए थे और रात रुके थे पार्टी के बाद । उस दिन भी आप पापा से चुदवायी थी ना? 

सरला: हाँ। 

शिवा: पर ताऊ भी तो थे वहाँ । उनको तो पता होगा ना? 

सरला: बेटा, तुम मुझे बहुत एम्बारस कर रहे हो।

शिवा : प्लीज़ मम्मी बताइए ना। वह अब उसकी चूचि चूसने लगा। 

सरला: आऽऽँहह । हाँ श्याम को सब पता है बल्कि उस रात को हम तीनों ने साथ में ही किया था। 

शिवा का लौड़ा पूरा खड़ा हो गया था। वो बोला: मतलब आप तीनों ने एक साथ सेक्स किया था? Wow। तो कैसे किया था? किसने आपकी गाँड़ मारी थी और किसने बुर? वह चूचि चूसकर दबाते हुए बोला । उसकी उँगली अभी भी गाँड़ में घुसी हुई थी। 

सरला अब गरम हो चुकी थी । वो बोली: आऽऽहहह हाँ एक गाँड़ मारता था और दूसरा बुर चोदताथा। ह्ह्ह्ह्ह्ह्हाय । अब कुछ करो ना। प्लीज़ । 

शिवा भी गरम हो चुका था और उसने सरला को लुढ़का कर पेट के बल लिटाया और वो उसके मस्त चूतरों को सहलाया और दबाया । दिर वह उनको चूमने लगा। अब सरला ख़ुद ही चौपाया बन गयी और अपनी गाँड़ बाहर कर उसे चोदने का मानो आमंत्रण दी। सरला बोली: बेटा थोड़ा सा क्रीम लगा ले। और डाल दे। सच बहुत खुजा रही है। 

शिवा मस्त होकर क्रीम लेकर उसकी गाँड़ में और अपने लौड़े पर लगाया और उसके चूतरों को फैलाया और अपने लौड़े को उसके छेद में लगाकर धक्का दिया। अब लौड़ा उसकी गाँड़ में धँसता चला गया। सरला आऽऽऽहहह मरीइइइइइइइ चिल्लाई। 

शिवा अब मस्ती में आकर उसकी गाँड़ मारने लगा। उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ क्या मज़ाआऽऽऽ आऽऽऽऽ रहाआऽऽऽऽऽ है। वह अब पिस्टन की तरह आगे पीछे होकर उसकी गाँड़ मार रहा था सरला की चीख़ें निकल रही थी। शिवा हाथ नीचे कर के उसकी चूचियाँ दबाए जा रहा था । जल्दी ही सरला भी आऽऽऽंहहह करके अपनी बुर की क्लिट मसलने लगी। फिर उसने शिवा का हाथ पकड़ा और उसे अपनी क्लिट में रगड़ने लगी। शिवा अब ख़ुद उसकी क्लिट रगड़ने लगा और गाँड़ में धक्के भी मारता रहा। जल्दी ही दोनों चिल्ला कर झड़ने लगे। 

सरला पेट के बल गिर गयी और वो उसके बग़ल में लेट गया। सरला हाँफते हुए बोली: जानते हो आज तो तुमने मेरे साथ ये चुदाई की है । ये मेरे जीवन की सबसे बढ़िया चुदाई है जिसे मैं जीवन भर नहीं भूलूँगी। उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ क्या ताक़त है तुममें। कितना दम में है तुम्हारी कमर में। सच में मालिनी बहुत क़िस्मत वाली है जो उसे ऐसा बढ़िया चुदक्कड पति मिला है। जितनी बढ़िया तुमने बुर चोदी उतनी ही बढ़िया गाँड़ भी मारी। 

शिवा हँसकर: मम्मी अभी तो एक राउंड और होगा। 

सरला: नहीं नहीं बस मैं थक गयी हूँ। और नहीं करवा सकती। 

शिवा: मम्मी ये सब मूवी देखकर अब आते होंगे । चलो हम तय्यार होकर ड्रॉइंग रूम में चलते हैं। वो दोनों फिर बाथरूम में फ़्रेश होकर ड्रॉइंग रूम में पहुँचे और सरला चाय बनाकर लाई। वो इस बीच अपनी जेठानी को भी पानी और चाय उसके कमरे में दे आयी थी। 

शिवा: मम्मी एक बात पूछूँ ? ग़ुस्सा मत करना। 

सरला: सब कुछ तो बता दिया है । अब और क्या बताना है? 

शिवा: मम्मी मालिनी और राकेश क्या श्याम ताऊ जी के बच्चें हैं। 

सरला: नहीं वो मेरे पति से हैं । बल्कि यहाँ उलटा है। 

शिवा चाय पीते हुए: उलटा मतलब ? 

सरला:असल में चारु और मुन्नी मेरे पति की संतान हैं। ये बात मैंने कभी किसी को नहीं बतायी। यहाँ तक कि मालिनी को भी नहीं। हुआ ये था कि जब जेठानी के बच्चा नहीं हो रहा था तब उसका चेक अप करवाया था मैंने । और वो बिलकुल ठीक थी कमी ज़ेठ जी यानी श्याम जी में थी। उनके वीर्य में कुछ कमी थी। फिर मैंने अपने पति को मनाया और जेठानी को उनसे चुदाया और वो दो बच्चियों की मॉ बनी। इसलिए जेठानी के बच्चे मेरे बच्चों से छोटें है। 

शिवा: ओह ये तो बड़ी अजीब बात है। ताई जी पापा जी से आपके सामने चुदतीं थीं क्या? 

सरला: हाँ शुरू में वो झिझकती थीं ना। इसलिए मैं वहाँ सामने रहती थी। बाद में वो ख़ुद दोपहर को चुदवा लेती थीं। 

शिवा: और आप ताऊ जी से कैसे शुरू हुई? 

सरला: वो तो मेरे पति की मृत्यु के बाद श्याम मुझे पटा लिए। मैं भी प्यासी थी तो फँस गयी। 

शिवा : ओह , । तभी बहुत शोर करते हुए सभी बच्चे मालिनी के साथ अंदर आए। और मूवी के बारे में उत्साह से बताने लगे। 

मुन्नी भी बहुत ख़ुश होकर अपना नया मोबाइल शिवा को दिखाई और बोली: थैंक्स जीजा जी , दीदी ने आपके कहने से दिलवा दिया। और उसने शिवा के पास आके उसकी पप्पी ले ली। सब हँसने लगे। शिवा ने भी मुन्नी के गाल में एक पप्पी दे दी।

सरला ने सबके लिए चाय बनाई। सब खाते पिते बहुत बातें किए। शिवा : मालिनी कब वापस चलना है? 

चारु: प्लीज़ कल चले जाइएगा ना। अभी दीदी से बहुत सी बातें करनी हैं। 

सरला: और क्या बेटा। प्लीज़ एक रात के लिए रुक जाओ। 

शिवा उसकी आँखों में देखा और वहाँ वासना साफ़ साफ़ दिखाई दी उसको। 

वो मुस्कुराकर: ठीक है आप सब चाहते हो तो यही सही, पर हमको कल सुबह सुबह ही जाना होगा। ११ बजे तक दुकान खोलनी रहती है ना। 

सब ख़ुश हो गए। मुन्नी उससे आकर लिपट गयी और बोली: थैंक्स जीजा जी। शिवा ने भी प्यार से उसके गाल सहला दिए। 
[url=/>
-
Reply
06-10-2017, 10:19 AM,
#90
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
मालिनी सोची कि पापा को शायद परेशानी होगी। सो वह बोली: पापा के खाने का क्या होगा? 

सरला: अरे एक रात बाहर खा लेंगे। मैं उनको बोल देती हूँ। 

शिवा मुस्कुराया और सोचा कि वो आपकी बात तो मान ही जाएँगे। फिर चारु और मुन्नी मालिनी को अपने कमरे में ले गए। शिवा बोला: राकेश मैं थोड़ा सैर करके आता हूँ। कोई पार्क है क्या पास में? 

राकेश: जीजा जी आप चाहो तो मैं ले चलता हूँ आपको। 

शिवा: हाँ हाँ चलो ना। साथ रहेगा तो अच्छा ही लगेगा। 

राकेश: मैं अभी आया जूते बदलकर। वो अपने कमरे में चला गया। 

सरला किचन में खाने की तय्यारी कर रही थी । शिवा उसके पास आया। वो उसको पीछे से पकड़कर उसके कंधों को चूमकर बोला: मम्मी अब रोक तो लिया है आपने , रात का प्रोग्राम बनेगा क्या। 

सरला: क्यों रात को मालिनी की नहीं लोगे क्या? 

शिवा: उसका पिरीयड्ज़ आया हुआ है। आज तीसरा दिन है। 

सरला: तभी मेरी लेने का ख़याल आया है? 

शिवा उसकी गाँड़ दबाकर और चूचि मसलकर बोला: उफफफ मम्मी क्या माल हो आप। कुछ करो ना रात की चुदाई का इंतज़ाम। 

सरला: उइइइइइइ छोड़ ना बेटा। मार ही डालेगा क्या। चल कुछ सोचती हूँ। और कुछ नहीं कर पाई तो मालिनी के दूध में नींद की एक गोली डाल दूँगी। वो मज़े से सोती रहेगी और तुम आके मज़े कर लेना। ठीक है ना? 

शिवा उसे चूमकर: वाह मम्मी आपका प्लान बढ़िया है। लगता है ताई जी पर भी यही प्लान आज़माती होगी। 

सरला उसके लौड़े को पैंट के ऊपर से दबाकर बोली: धत्त बदमाश कंही का। शिवा हंसकर उसकी बुर को साड़ी के ऊपर से दबाकर: ठीक है मम्मी मैं और राकेश थोड़ा पार्क तक घूम कर आते हैं । आप पापा से हमारे कल आने की बात कर लेना। फिर वह बाहर आया और तभी राकेश भी आया और दोनों पार्क की ओर चल पड़े। 

उधर सरला ने अपने कपड़े ठीक किए जो शिवा ने ब्लाउस और साड़ी मसलकर ख़राब कर दिए थे और बुर को खुजाकर वो सोची कि उफफफ कितना गरम ख़ून है इस लड़के का? 

फिर वो राजीव को फ़ोन लगाई: नमस्ते समधी जी। कैसे हैं ? 

राजीव : बहुत उदास हूँ, बहु को तुमने हज़म जो कर लिया है। 

सरला हँसकर : वो दोनों तो आज रुकने का सोचे हैं। कल सुबह वापस आएँगे। 

राजीव: ये तो ग़लत बात है। शाम को वापस आने की बात हुई थी। मेरे डिनर का क्या होगा? 

सरला: अरे एक रात बाज़ार से ऑर्डर करके मँगा लीजिएगा ना। रात के लिए कोई छम्मक छल्लो भी बुला लीजिए। आपकी रात रंगीन कर देगी। 

राजीव: तुम जानती हो मुझे रँडी में कोई दिलचस्पी नहीं है। अच्छा ये तो बताओ तुम्हारा और शिवा का कुछ हुआ? बात आगे बढ़ी कि नाहीं ? 

सरला हँसते हुए: वो तो आपका सगा बेटा ही निकला ।आज ही दोपहर को उसने मेरी आगे और पीछे दोनों की ले ली। 

राजीव ख़ुशी से चिल्लाया: क्या बोलती हो? हो भी गया? 

सरला: आप दुनिया के इकलौते बाप होगे जो अपने बेटे की ऐसी करतूत से ख़ुश हो रहे हैं। कोई दूसरा होता तो बेटे को दस जूते मारता ।

राजीव: अरे मेरा बेटा है। मुझे उस पर गर्व है। अच्छा बताओ कुछ सीखा है वो कि नहीं की बिस्तर पर औरत को कैसे मज़ा देना है? 

सरला: अरे वो तो उस्ताद हो गया है। आख़िर मेरी बेटी भी तो साथ में ट्रेनिंग दी है ना उसको? 

राजीव: अच्छा बताओ कि मेरे साथ ज़्यादा मज़ा आया कि शिवा के साथ? 

सरला हँसती हुई: सच बोलूँ? शिवा का जवान बदन और उसका मस्त हथियार पागल कर देने वाला है। और जानते हो जवानी का स्टेमिना कितना ज़्यादा होता है। पूरे आधे घंटे बिना रुके उसने मुझे चोदा है। उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ मेरी तो जैसे बरसों की प्यास बुझा दी उसने। आपको जलन तो नहीं हो रही है? 

राजीव: अरे नहीं । बल्कि गर्व हो रहा है अपने बेटे की मर्दानगी पर। फिर आज रात का क्या प्लान है? 

सरला: अभी आया था किचन में। सब कुछ दबाकर बोला है कि रात को आएगा मेरे कमरे में । 

राजीव: और मालिनी उठ गयी और देखी कि शिवा नहीं है तो? 

सरला: उसको तो नींद की एक गोली दे दूँगी। सुबह तक मस्त सोएगी। 

राजीव: चलो बढ़िया। अब इसके बाद तुम यहाँ आना और मैं मालिनी को तुम्हारी और शिवा की चुदाई दिखाऊँगा। बस उसके बाद सब कुछ बढ़िया हो जाएगा। 

सरला थोड़ा परेशान होकर: शिवा को पता चला आपके और मालिनी के बारे में तो पता नहीं वो इसे कैसे लेगा? 

राजीव : अरे तुम चिंता ना करो मैं उसका पहले ही ब्रेन वाश कर दूँगा। अब उसे थोड़ी इनसेस्ट का मतलब समझाना होगा। 

सरला: वो तो मैंने यहाँ ही शुरू कर दिया है। वैसे आपको बता दूँ कि आज उसने मेरे सामने कई बार बोला कि वो अपनी सगी माँ को नंगी देख चुका था और उसकी फंतसि थी किवो अपनी माँ को चोदे। 

राजीव हैरानी से बोला: ओह। ऐसा क्या? ये तो नयी बात पता चली। 

सरला: वो मुझसे और अपनी माँ में तुलना भी कर रहा था। ख़ासकर हमारी छातियों की। 

राजीव: ओह तब तो काम आसान हो जाएगा। चलो रात में मज़े लो और कल रिपोर्ट देना। हैपी फ़किंग मेरे बेटे के साथ। फिर वो फ़ोन काट दिया। 

उधर मालिनी अपनी बहनों के साथ बातें कर रही थी। बातों बातों में बात सेक्स की ओर मुड़ गयी। स्कूल में होने वाली बातों के बारे में लड़कियाँ बताने लगीं। 

चारु: पता दीदी, हमारे स्कूल में कई लड़कियाँ बड़े अजीब अजीब से कपड़े पहन कर आती हैं । हमारी चाची तो हमको ऐसे कपड़े कभी पहनने ही ना दे। 

मालिनी: पर स्कूल में तो यूनीफ़ॉर्म होती है ना? 

चारु: शनिवार को कुछ भी पहन सकते है। कुछ लड़कियाँ तो मिनी स्कर्ट पहनकर आती हैं और लड़के अपनी पेन्सल कागच ज़मीन पर गिरा कर उनको उठाने के बहाने उनकी स्कर्ट के अंदर झाँकते है। ही ही ही । वो शर्मा कर हँसी। 

मालिनी भी मज़े से आँख मटका कर: अब तू १८ की हो गयी है। बता क्यों झाँकते हैं? 

चारु मस्ती में: वही देखने को झाँकते हैं जो कि जीजा जी आपकी साड़ी में देखने के लिए झाँकते हैं । 

मालिनी झूठा ग़ुस्सा दिखाकर: ठहर साली बहुत बोलना आ गया है। ये कहते हुए मारने दौड़ी। चारु चिल्लायी: चाची बचाओ ।और भाग कर किचन में सरला के पास आ गयी। 

सरला हँसकर: क्या हुआ मालिनी क्यों मार रही है इसको? 

मालिनी हँसकर: मम्मी ये बड़ी बदमाश हो गयी है। पर उसने शर्म के मारे उसको सब बात नहीं बताई। फिर दोनों वापस कमरे में आयीं। मालिनी: बहुत सयानी हो गयी है तो कोई बीएफ़ बनाया या नहीं? 

चारु: धत्त दीदी। मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ। पर सच में बहुत सी लड़कियों के हैं। वो सब बुरे बुरे काम भी कर चुकी हैं। 

मालिनी हँसकर :ओह, कैसे बुरे काम? 

चारु: दीदी आप भी ना । मैं कैसे बताऊँ। वो भी मुन्नी के सामने। देखो ना कैसे कान खोलकर सब सुन रही है। 

मालिनी: अरे तो क्या हुआ। अब मुन्नी भी तो जवान हो गयी है। देखो ना इसके दूध कितने बड़े हो गए हैं। दो साल से तो ब्रा भी पहन रही है। अब कोई बच्ची थोड़ी है। 

सब हँसने लगे। मुन्नी: दीदी आप भी मुझे चिढ़ा रही हैं । मैं जीजा जी से शिकायत करूँगी। 

मालिनी: ज़्यादा जीजा जीजा मत कर। कहीं साली को आधी घरवाली समझ कर पकड़ लिया तो उइइइइइ कर उठेगी। 

अब चारु मस्ती से बोली: तो लगता है कि जीजा जी आपको बहुत उइइइइ कराते हैं । है ना? 

मालिकी: अरे शादी के बाद तो जब वो चाहें मुझसे उइइइइइ या आऽऽहहह करा सकते हैं। उनके पास तो लाइसेंस है। पर कहीं इस बेचारी मुन्नी को उन्होंने पकड़ लिया तो ये तो गयी। हा हा हा। 

मुन्नी: हमारे जीजा जी बहुत अच्छें है। वो ऐसा नहीं करेंगे। हाँ चारु ज़्यादा उछल रही है। शायद इसके साथ वो ऐसा कर लेंगे ।

चारु: दीदी अगर वो मेरे साथ कुछ करेंगे तो मैं आपको बता दूँगी। आप उनको ठीक कर दीजिएगा ।

मालिनी हँसकर : अपने जीजा से ख़ुद ही निपटो तुम लोग। मुझे क्यों बीच में लाते हो। हा हा । 

इस तरह की चूहल हो रही थी। मालिनी को लगा कि दोनों कलियाँ फूल बनने को मरी जा रही हैं। अगर इनको शिवा ही फूल बनाए तो ज़्यादा अच्छा होगा बनिस्बत इसके कोई बाहर वाला इनकी मलाई खा जाए। वो उसकी बहनों को बड़े ही प्यार से जवान करेंगा। बाहर वाले का तो कोई भरोसा ही नहीं कि किस तरह से इन नादान लड़कियों को मसलेंगे।पता नहीं ये शादी के पहले हो प्रेगनेंट ही ना हो जाएँ। वो सोची कि इस बारे में शिवा बात करेगी। 
[url=/>
-
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up Desi Sex Kahani रंगीला लाला और ठरकी सेवक sexstories 179 38,069 10-16-2019, 07:27 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna Sex kahani मायाजाल sexstories 19 5,237 10-16-2019, 01:37 PM
Last Post: sexstories
Star Incest Kahani दीदी और बीबी की टक्कर sexstories 47 49,715 10-15-2019, 12:20 PM
Last Post: sexstories
Star Desi Sex Story रिश्तो पर कालिख sexstories 142 137,071 10-12-2019, 01:13 PM
Last Post: sexstories
  Kamvasna दोहरी ज़िंदगी sexstories 28 24,632 10-11-2019, 01:18 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani नजर का खोट sexstories 120 325,918 10-10-2019, 10:27 PM
Last Post: lovelylover
  Sex Hindi Kahani बलात्कार sexstories 16 180,370 10-09-2019, 11:01 AM
Last Post: Sulekha
Thumbs Up Desi Porn Kahani ज़िंदगी भी अजीब होती है sexstories 437 189,604 10-07-2019, 01:28 PM
Last Post: sexstories
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 64 420,017 10-06-2019, 05:11 PM
Last Post: Yogeshsisfucker
Exclamation Randi ki Kahani एक वेश्या की कहानी sexstories 35 31,795 10-04-2019, 01:01 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Mama phoophi sex kahanighodhe jase Mota jada kamukta kaniyabra kharidna wali kamuk aurat ki antarvasnaSasur jii koo nayi bra panty pahankar dekhayiटट्टी खाई अम्मा चुदाई बातचीत राज शर्माSxxxxxxvosbholi bhali bibi hot sex pornSasur bahu ki jhant banake chudi kiपियंका,कि,चुदाई,बडे,जोरो सेMaa uncle k lund ko pyar karचोदन समारोह घरेलुMugdha Chaphekar nangi pic chut and boobNude ass hole ananya panday sex babaHindi video Savita Bhabhi Tera lund Chus Le Maza haimaa ke sath nangi kusti khelimote boobs ki chusai moaning storyTv acatares xxx nude sexBaba.netHijdo ke ghar m unhi ki chudai kahanikachchi kaliyon ka intejam hindi sex kahaniyaMaa k sath chuttiyan betaye aur jam k sex keya maa beta sex storywww.hindisexstory.rajsarmameri beti meri sautan bani sexbaba storiesसती सावित्री मम्मी को आंटी ने नोकर ओर मुजसे चूदवाईantarvasna gao ki tatti khor bhabhiya storiesdod nakalna ke saxe vidoyaar tera pati chut nangi chod uii ahhBehan ke kapde phade dosto ke saath Hindi sex storiesLadki n nagi hokar pati ko javani dikhy hindi sexek.ladki.ne.apne.honeymoon.kisaribat.apni.maa.ko.btaimisthi ki chot chodae ki photoSex baba hindi siriyal gili all nude pic hd mbhan chudwake bhai ka ilaj kiya sex storyxxx saiqasee vix.Rum sardis ladki buddha xxx videovillamma 86 full storyromeatiek videosx hdxnxxxxx.jiwan.sathe.com.ladake.ka.foto.pata.naam.m.ok.ru.superass fuckDost ne Randi banaya mommy ko rajshrma stories Hindixxx girls jhaat kaise mudti haiIndian adult forums. MERE. GAON. KI. NADI. RAJSHARMAdost ki maa kaabathroom me fayda uthaya story in hindirajsharma badle ke bhawana porn sex kahaneबॉलीवुड लावण्या त्रिपाठी सेक्स नेटxnx meri kunwari chut ka maja bhaiya ne raat rajai me liya stories page 15saree uthte girte chutadon hindi porn storiesoutdoor main didi ko choda storiesकामक्रीडा कैसे लंबे समय तक बढायेnandoi aur ilaj x** audio videoeesha rebba sexbabadin mein teen baar chudwati hu mote mote chutadXXXWWW PYSA HEWAN PUL VIDIOS COMsara ali khan xxxx photo by sexbaba.netsex story on angori bhabhi and ladooRaj sharma story koi to rok loचूतसेलड़कियां अपने बू र के बा ल कसे निकलते हवीडियोkachhi ladki fadane ke tarikemoti janghe porn videobhabi k hot zism photoम्याडम बरोबर चुदाईअकशरा ठाकुर नँगी फोटोgar me bulaker cudvaya xxx videos hd dasi pron cahcixxx malyana babs suhagrat xxmachliwali ko choda sex storiesgandu hindi sexbabapesap kate pel xxx viansha shyed ki possing boobs photosantarvasa yaadgar bnayiporns mom chanjeg rum videochiranjeevi fucked meenakshi fakesKahaniya jabradasti chhuye mere boobs ko fir muje majja aaya kahaniखुले मेदान मे चुद रही थीladies ko karte time utejit hokar pani chod deti he video.comआदमी को उठाकर मुह मे लन्ड चुसती औरत xnxxActters anju kurian sexbabaමෑ ඇටයIndian tv acterss riya deepsi sex photos