Hindi Sex Stories By raj sharma
02-24-2019, 02:35 PM,
#51
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
मेरी इज़्ज़त लूट ली पार्ट-2


गतान्क से आगे................... 
और उसने मुझे कपड़े सीधे करने को कहा. मैने कपड़े सीधे किए और उनके कहने के मुताबिक उनके स्टॉप पर उतर गयी और फोन बूथ जाकर घर फोन करके बताया कि मैं मेरी सहेली के पास जा रही हूँ घर आने मे देर होगी. फिर उन चारो के साथ चल पड़ी. कुछ देर चलने के बाद हम एक होटेल पर आगाए उसने दो कमरे बुक किए. दो इसलिए किसिको शक ना हो उसने मुझे बाहर ही खड़े रहने को कहा. होडी देर मे उनके पीछे चली गयी. वो मुझे एक कमरे मे लेकर आए. वो चारो भी उसी रूम मे आगाए फिर वो मुझे देखते हुए हसने लगे. और उनमे से एक बोला दोस्तो आज हम अपने प्यारी मेडम को चोदने वाले है. मेडम जी को भी कितनी खुजली है कि वो अपने ही स्टूडेंट्स से चुदवाना चाहती है. तभी दूसरा बोला साली रंडी ने बोहत मारा है हमको आज साली की चूत ही फाड़ डालूँगा. आज इसको ऐसा चोदुन्गा कि ये फिर किसी स्टूडेंट को हाथ भी नही लगाएगी. फिर वो चारो मुझपे टूट पड़े कोई मेरे छाती पे कोई मेरे झंघो पे तो किसीने मेरे होंठो को किस करना शुरू किया वो चारो मेरे किसीना किसी अंगसे खेल रहे थे उन्होने मुझे अपने वश मे कर लिया था. एक मेरे दाए बूब्स को दबा रहा था तो दूसरा मेरे ब्लाउस को खोल रहा था उसने मेरे ब्लाउस को खोलकर मेरे ब्रा को उपर किया और मेरे बूब्स को मूह मे लेकर चूसने लगा. जैसे कोई छोटा बच्चा अपनी मा का दूध पिता है वैसे मेरा स्तनपान कर रहा था.एक ने मेरी साड़ी निकालकर दूर फेंक दी और मेरी पॅंटी के उपारसे मेरे चूत को हाथ सहलाने लगा था मे उन चारो के नशे मे झूम रही थी. मुझे कुछ होश ही नही थी मे हवस मे इतनी गंदी हो गयी थी कि एक साथ चार पराए लड़को के साथ अपनी जवानी लूटा रही थी. उन चारोने मुझे पूरा नंगा कर दिया था मेरी अन्छुइ चूत उनके सामने पूरी नंगी थी. मैने दो दिन पहले ही चूत्के उपरके बॉल निकाल दिए थे. मेरी गोरी चूत देखकर उनमे से सबसे बड़ा बोला साली की चूत देख तो ज़रा कितनी चिकनी है लगता है किसीने इसको अभी तक मारा नही है. और उसने मुझसे पूछा क्यों मेडम आपने कभी किसी से अपनी चूत को मरवाई है या नही. मैने सर हिलाते ना का जवाब दिया. और वो बहुत खुश हुआ और अपने कपड़े निकालने लगा. और अपने दोस्तोसे कहने लगा देखो मे सबसे पहले मेडम की चूत को चोदुन्गा क्योंकि होटेल का बिल मेने भरा है. वो पूरा नंगा हो चुक्का था. उसका लंड देखकर मेरी साँस ही अटक गयी वो किसी घोड़े के लंड इतना बड़ा था. 

वो मेरे उपर आगेया और मुझे कहने लगा “ मेडम आप हमे रोज़ पढ़ाती है ना आज हम आपको सिखाएँगे की चुदाई कैसे करते है. आज तो तेरी चूत तो मैं फाड़ के ही रहूँगा तेरी आँखोसे आँसू नही निकाले तो मे भी एक बाप का बेटा नही.” उसके बाते और लंड देखकर मैं डर गयी थी. अब उसने मेरे दोनो पैरो को फैलाया और अपना लंड मेरी छोटिसी चूत्पर रखा और उसे मेरे चूत के अंदर धकेलने लगा. उसने मेरे पैरो को कस्के पकड़ा और ज़ोर्से अपने लंड को मेरे चूत पर दबाते उसने उसका लंड मेरी चूत के अंदर घूसाया लंड अंदर घुसाते ही मैं चिल्लाई मैं छटपटाने लगी जैसे किसी मछली को पानी से बाहर निकालने के बाद मछली छटपटती है. मैं चिल्लनी लगी ऊवूऊवूवुउवुउयियैआइयैयीयीयियी ईईईईईईईईईईई म्‍म्म्मममममममममाआआअ आआ चोर्डूऊऊओ मुझे प्लस्सस्स्स्सस्स आआआआआआहह ह आआआआआआआहह ह म्‍म्म्ममममममाआआअ मार गाययययययययययीीईईई ईईईईईई निकालो तुम्हारा ये लंड बोहत दर्द हो रहा है. प्लीज़ छोड़ दो मुझे. मैं छटपटाती हुई उसे कहने लगी पर वो मुझे कहने लगा साली इतने मे ही दर्द हो रहा है अभी तक सिर्फ़ मूह ही अंदर गया है पूरा जाने के बाद तो फिर क्या होगा पहले दर्द होता ही है. बाद मे बोहत मज़ा आता है ज़्यादा नाटक करेगी तो ज़बरदस्ती करनी पड़ेगी अभी हमको गरम किया है चुपचाप ठंडा कर नही तो तेरा ऐसा हाल करेंगे की शकल दिखाने के लायक नही रहेगी. और उसने अपना लंड मेरी चूत और घूसाया मुझे चक्करसे आने लगे थे. चूत इतनी टाइट थी की उसको काफ़ी ज़ोर लगाना पड़ रहा था इधर मे झार गयी और मैं ढीली पड़ गई धीरे धीरे उसने पूरा लंड मेरे चूत मे घुसाया तो मेरी सील भी टूट गयी थी मेरे चूत्से खून निकल रहा था. मैं दर्द के मारे रोने लगी थी मेरी आँखोके आँसू देखकर उसको जीत मिली थी उसने जो कहा वो साबित भी किया था मेरी चूत फट भी गयी थी और मेरे आँखोसे आँसू भी बह रहे थे. उसने लंड थोड़ा बाहर निकाला और फिरसे अंदर घुसाया फिर उसने लंड अंदर बाहर करना चालू रखा आधे घंटे मे सात बार झार चूकि थी लेकिन वो किस मिट्टी का बना हूआ था कि झरने का नाम ही नही ले रहा था. अब मेरा दर्द कम हो गया था और मुझे मज़ा आने लगा था मैं भी उसको अपनी कमर उपर करके साथ दे रही थी. उसने अपना स्पीड बढ़ाया और मुझे अपने से लिपटाते हुए कहने लगा उउउउउउउउउउउउउउउउउउउ फफफफफफफफफफफफफफ्फ़ माआअडमम्म्ममम अब मेरा निकलने वाला हाइईईईईईईईईईई. और मेरी चूत मे झार गया. थोड़ी देर तक मेरे उपर पड़ा रहने के बाद मेरे उपर से हट गया मैं बोहत थक चूकि थी लेकिन वो हट गया था कि दूसरा तैय्यार था उसने अब मेरे उपर क़ब्ज़ा किया और मुझे कुतिया की तरह खड़ा किया. 

मुझे कहने लगा “ उसने आपकी चूत फाडी अब मैं आपकी गांद को फाड़ूँगा मैं आपकी गांद मारूँगा और उसने अपना लंड मेरी गांद मे घुसाया हालाँकि उसका लंड पहले लड़के इतना बड़ा नही था लेकिन मेरी गांद का छेद बोहत छोटा होने के कारण मेरी गांद मे दर्द हो रहा था. लंड गांद मे घुसते ही मैं दर्द से आगे भागने लगी लेकिन आगे से दूसरे लड़के ने मुझे पकड़ा और मेरे मूह मे अपना लंड डालकर मेरे मूह को चोदने लगा. मुझे चूत से ज़्यादा गांद मारने से दर्द हो रहा था. लेकिन वो कामभकख्त मेरी गांद को घोड़े के स्पीड्स चोद रहा था मेरी गंद मे उसका लंड लगभग 10 मिनट तक अंदर बाहर हुआ और वो झार गया. मैं बोहत थक चुकी थी लेकिन वो चार मैं अकेली थी अब एक के बाद दूसरा दूसरे के बाद तीसरा इसके मुताबिक तीसरा मुझपे चढ़ गया और उसके बाद चौथा. चारो मुझे एक के बाद एक चोदने लगे चारोने मुझे दोपहर 1.30 से शाम के 5 बजे तक चोदा उन्हॉहने मुझे एक एक ने मुझे दो राउंड चोदा फिर हम सब शाम को घर निकले लेकिन मुझसे चला नही जा रहा था कैसे वैसे मैं घर आई और अपने बिस्तर पर लेटते ही सो गयी उस दिन मुझे बोहत अच्छी नींद आई. 

उसके बाद तो मैं उनकी रखैल हो गयी थी उनके जब जी आता वो मुझे चोद्ते थे. उन्होने मुझे ब्लॅक मैल भी करना शूरू किया था. अगर मैं उनको परीक्षा मे पास नही करूँगी तो वो मुझे पूरे स्कूल मे बदनाम करेंगे.. इसलिए मैं उनको पेपर के सारे आन्सर बताती थी. वो मुझे कभी मेरे कॅबिन मे भी चोद्ते थे उन्होने एक बार मुझे उनके दोस्तो के साथ भी चुदवाया था. बस मे भी वो चारो मुझे बोहत छेड़ते थे. अब वो स्कूल से पास होके गये है इसलिए अब वो मुझे ज़्यादा मिलते भी नही है. लेकिन कभी कभी वो मुझे अपने घर बुलाते है और कभी मेरे घर भी आते है मैं उनको ट्यूशन पढ़ाने के बहाने अपने घर बुलाती हूँ और उनसे नये नये सेक्स के लेसन लेती रहती हूँ. तो दोस्तो कैसी लगी इस चुड़क्कड़ की कहानी आपका दोस्त राज शर्मा 

समाप्त
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:28 PM,
#52
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
भैंस वाली भाभी की बेटी 

ये बात पिच्छले साल की है जब मैने अपने नये मकान मे रहना सुरू किया था. मेरे मकान के पास मेरे गाओं का जो कि भाई लगता है की फॅमिली भी रहती है. उनकी फॅमिली मे भाई भाभी ओर एक लड़का ओर 2 लड़किया रहती है. लड़का बी.टेक कर रहा है 1स्ट्रीट एअर मे है ओर लड़किया 10+1 मे ओर 9थ मे पढ़ती है. भाभी जी की एज 45 साल है ओर लड़कियो की एज 22 साल ओर 20 साल है. बड़ी लड़की का नाम मीनाक्षी ओर छोटी का नाम प्रियंका है. भाई साहिब एक्स. सर्विस मॅन है जो अब सेक्यूरिटी की जॉब करता तो अक्सर ड्यूटी पर रहता है ओर ड्यूटी डे नाइट करनी पड़ती है इसलिए घर पर कम ही रहते है ओर भाभी जी ने घर मे 2 भैंसे रखी हुई है जिनका वो दूध बेचती है. भाभी जी भी घर पर कम ही रहती है वो सुबह सुबह चारा लेने के लिए खेत मे जाती है. लड़का प्राइवेट कॉलेज मे जाता है तो उसकी छुट्टी साम को 5 बजे होती है. उनके घर मे कंप्यूटर भी है जो कभी कभार मैं चला लेता था ओर लड़के को मूवी की सीडीज़ भी ला कर देता था उसमे कुच्छ अडल्ट मूवीस भी थी. ऐसे मे बड़ी लड़की मीनाक्षी जो गूव्ट. स्कूल मे पढ़ती है अक्सर घर मे अकेली रहती है. तो दोस्तो ये था फॅमिली बॅकग्राउंड भाई ओर भाभी के परिवार का. मैने उनके घर पर सुबह ओर साम को दूध लाने के लिए जाता हूँ ओर कभी कभार लस्सी भी ले आता हूँ. 



मीनाक्षी जो कि अभी सोहलवे साल मे थी की जवानी ने उसको सताना सुरू कर दिया थाउस को अकेले देखकर मैं उनके घर पर जाता था. वो पहले दिन से मुझे अजीब सी नज़रो से देखती थी. जब मैं दूध डालने के लिए बोलता तो चाय के लिए भी पूछ लेती थी. सुरू सुरू मे तो मैने मना किया पर जब मुझे पता चला कि वो चुदवाने के चक्कर मे है तो मैं भी कह दिया करता कि चाय तो पीला दे ओर झाड़ू निकालते वक्त अपनी चुचिया मेरे को दिखा देती थी. तो वो चाय बना लेती थी जिसको हम दोनो पिया करते. जब मैं चाय पीता तो वो टीवी ऑन कर लिया करती थी. चाय पीते पीते टीवी भी देख लिया करता. एक दिन सुबह सुबह मैं उनके घर पर गया तो घर पर कोई नही था सिर्फ़ मीनाक्षी अकेली थी. मैने कहा मीनाक्षी दूध डाल दे तो बोली आपको आज ताज़ा दूध पिलाउन्गि. मैने कहा कि अगर तू ताज़ा दूध पिलाएगी तो मैं भी मज़े से पी लूँगा. उस पर वो बोली कि आप थोड़ी देर बैठो मैं आज अकेली हूँ थोड़ी देर मे डालती हू ओर बोली अंकल जी आप चाइ पीओगे क्या मैं अकेली हूँ हम दोनो चाय पी लेते है. 


मैने कहा ठीक है चाइ बना लो मैं मन ही मन सोच रहा था आज तो ये 100% चुदेगि. वो चाइ बनाने लगी तो मैं भी रशोई मे पहुँच गया . उसने चुन्नी नही ले रखी थी सूट पहना हुआ था ओर उसका बड़ा गला था जिससे उसके चुन्चे जो बाहर को निकलने को हो रहे थे साफ दिखाई दे रहे थे मुझको. उसने नज़रो ही नज़रो मे मुझे घूरा कि मैं उसके चुन्चे देख रहा हूँ. वो बोली अंकल घर मे अकेली बोर हो जाती हूँ क्या करूँ मैने कहा कोई बात नही मैं हूँ ना तुझे बोर नही होने दूँगा तो वो बोली ऐसा क्या करोगे जो आप मुझे बोर नही होने दोगो तो मैं उसके पास जाकर खड़ा हो गया ओर उससे पूछा तू क्या चाहती है तो वो बोली अंकल जी मैं अपने भाई के कंप्यूटर पर फिल्म देखना चाहती हूँ पर उसमे पासवर्ड डाल रखा है मेरे भाई ने तो मैने कहा पासवर्ड मेरे को पता है आजा मैं तेरे को मूवी दिखता हूँ. मैने कंप्यूटर को चालू किया ओर उसको पूछा की कोन्सि मूवी देखेगी तो वो बोली आपको जो अच्छी लगे वो दिखा दो तो मैने कहा क़ी यू 
यू- टर्न मूवी अच्छी है इसमे अच्छी फाइटिंग है तो वो बोली ठीक है. यू-टर्न मूवी देख रहे थे जिसमे काफ़ी सेक्स सीन है मूवी मे जब लड़का लड़की को अपना चूसा रहा था ओर वो सेक्स भी कर रहे थे तो उसकी गाल शरम से लाल थी ओर मेरा लंड ये सीन देखकर 90 डिग्री पर खड़ा हो गया. वो भी यही चाहती थी के कब मैं उसको चोदने के लिए कहूँ ओर कब उसको चोदु. यह सब देखकर मैने उसको अपनी बाहों मे ले लिया वो शरम से मेरे सीने पर चिपक गयी. 



मैने कहा क्या हुआ तो वो बोली कुच्छ नही ये क्या कर रहे है फिल्म मे तो मैने कहा क्या तुम कुच्छ नही जानती हो . तो बोली कि मैने मम्मी को देखा है जब पापा के साथ सोई हुई थी तो पापा मम्मी की चूत मे उंगली कर रहे थे ओर मम्मी पापा का लंड चूस रही थी दोनो आह आह कर रहे थे ओर थोड़ी देर बाद पापा ने मुम्मी के मूह पर सफेद पानी छ्चोड़ दिया ओर पापा मम्मी के उपर निढाल होकर लेट गये पर मम्मी कह रही थी कि तुम्हारी यही कमी है तुम कुच्छ कर ही नही पाते हो ओर मेरे को उंगली करके काम चलाना पड़ता है.
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:28 PM,
#53
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
तब मैने सोचा कि इसमे तो बहूत मज़ा आता होगा तब मैने बाथरूम मे जाकर उंगली करने की सोची पर मेरे को दर्द हो रहा था इसलिए मैं उंगली कर नही पाई. उसके बाद वो बोली अंकल चूत मे लंड डालने पर दर्द होता होगा ना तो मैने कहा की पहली बार थोड़ा सा दर्द होता है पर मज़े बहूत आते है ऐसे बात करते करते हम दोनो आपस मे चिपक गये थे. मैं उसके माममे जो कि मुझे बहूत आनंद दे रहे थे को मसल रहा था ओर मैने अपना लंड उसके हाथ मे पकड़ा रखा था को हिला रही थी. वो बोली अंकल जी आप मेरे मम्मो को दबा रहे हो तो मुझे बहूत मज़े आ रहे हैं. तो मैने कहा मेरे जान मज़े अभी तूने लिए कहाँ पर है मज़े तो मैं तुम्हे अभी दूँगा. ऐसा कहकर मैने उसका कमीज़ उतार दिया उसने सिर्फ़ कमीज़ ही पहना हुआ था क्योंकि वो अभी 21 ही साल की थी ओर उसने अभी ब्रा पहननि सुरू नही की थी. कसम से यारो मैं तो उसको देखता ही रह गया क्या मम्मे थे उसके मैने उसके मुम्मो को अपने दोनो हाथो मे लिया ओर ज़ोर ज़ोर से दबाना सुरू किया तो उसकी सिसकिया निकल पड़ी मैं भी मदहोश हो गया था अब मैं उसके मम्मो को चूम रहा था उसने मेरे सर को पकड़ रखा था फिर मैने उसकी सलवार मे हाथ डाला तो देखा की उसकी चूत गीली हो चुकी थी मैने सोचा अब इसको चोदने का सही वक्त आ गया है मैने उसे कहा कि तू अपनी सलवार खोल तो उसने झट से अपनी सलवार खोल दी….अरे यारो क्या द्रश्य था अभी उसके चूत पर सिर्फ़ देखने के लिए ब्राउन बाल ही उगे हुए थे ओर उसकी चूत ऐसी फूली हुई थी क्या बयान करू यारो मेरा दिल उसको खाने को कर रहा था… 



मस्त चूत उपर की ओर फूली हुए थी ओर उसकी चूत का दाना काफ़ी बड़ा था….बिल्कुल कुँवारी चूत…सील बंद चूत थी उसकी……मैं उसकी चूत देखकर माधोस हो गया था..ऐसी चूत मैने जिंदगी मे पहले कभी नही देखी थी…मैने उसकी चूत को मसलना सुरू किया तो वो भी मेरे को चूमने लगी…ओर वो आह उः आह उः कर रही थी.मैने उसको एक बार गीला ओर कर दिया था..वो फिर अपनी चूत की तरफ इशारा कर के कहने लगी अंकल जी यहाँ पर मेरे को खुजली हो रही है कुच्छ करो…आप.तो मैने कहा की अब करता हूँ…ऐसा कहकर मैने उसको बेड पर लिटा दिया ओर उसके नीचे एक गंदा सा कपड़ा जो कि वहाँ पर रखा हुआ था को उसके नीचे बिच्छा दिया था ताकि खून के धब्बो से बेड शीट खराब ना हो…वो बिल्कुल नंगी मेरे सामने लेटी हुई थी …मैने अपनी बनियान जो कि मेरे सरीर पर थी को उतारा अब हम दोनो नंगे थे मैने कहा की सरसो का तेल कहाँ पर है तो वो बोली कि उसका क्या करोगे तो मैने कहा बात तू बता दे फिर तेरे को बताउन्गा की मैं क्या करूँगा….तो उसने हाथ से टेबल की तरफ इशारा कर के कहा की उसमे है ….मैने तेल की सीसी निकाली ओर कुच्छ तेल अपने लॅंड पर लगाया ओर कुच्छ तेल उसकी चूत पर लगाया…. 

फिर मैने अपना लंड उसकी चूत पर रख कर रगड़ना सुरा कर दिया .वो पूरी तरह से मस्त हो चुकी थी ओर कह रही थी आप ओर मत तड़फाव कब कुच्छ करो ना.तो मैने अपना लंड जो उसके चूत के दाने पर था को आगे की तरफ धकेल दिया ….कसम से यारो …..उसकी चीख..ही निकल पड़ी …..ये तो मेरे को एक्सपीरियेन्स था…कि मैने उसके मूह पर हाथ रख कर उसकी चीख को बंद कर दिया था….वरना कसम से यारो मैं तो मारा ही जाता….वो बोली की अंकल जी इसको निकाल दो नही तो मैं मार ही ज़ाउन्गि……… मैने कहा कि कोई बात नही अब दर्द नही होगा…लिकिन फिर भी वो बोली की नही मुझे नही चुदवाना आप इसको निकाल लो नही तो मैं मा को बता दूँगी…. मैने कहा की कोई बात नही है बस थोड़ी देर रुक जाओ मैं तुम्हे दर्द नही होने दूँगा…. इस पर वो कुच्छ नही बोली मैने उसकी चूत मे अभी भी लंड को जो कि थोडा सा ही घुसा हुआ था को घुसाए रखा. था……… 2 मिनूट के बाद मैने उससे पुचछा की अब दर्द हो रहा है कि नही तो वो बोली कि नही अब दर्द नही हो रहा है अब 
मेरी चूत मे दोबारा खुजली सुरू हो गयी है अब तो आप इसे घुसा ही दो अब मुझसे ओर बर्दास्त नही होता चाहे मेरे को कितना ही दर्द क्यों ना हो…इस पर मैने कहा कि कुच्छ देर ओर रूको .मैने सोचा कि अबकी बार इसकी चूत फाड़ने मे कोई देर नही करनी है…मैने अपना लंड बाहर निकाला ओर.दोबारा से उसकी चूत पर रगड़ना सुरू किया….तो वो बोली अंकल जी अब तो आप मेरी चूत फाड़ ही दो…. 

मैने देखा कि अब मौका है …तो मैने अपना लंड जो कि उसकी चूत मे घुसने को बेकरार था …को उसकी चूत पर रखा ओर उसके मूह पर अपनी हथेली रखकर….. एक ज़ोर का धक्का……………कााअ लगाया…………कसम से यारो मेरा लंड ही जाने की उसको कितना दर्द ओर सुकून मिला………. उसकी चूत से खून की फुफ्कार निकली…… ……वो बोली आपने तो मेरी चूत को फाड़ ही दिया इसमे से तो खून निकल रहा है अब क्या करेंगे……….अब क्या होगा तो मैने कहा कि मेरी जान ये पहली बार जब चुदाई करते है तो ऐसे ही चूत फटती है….अब आगे से ऐसा नहीं होगा..वो बोली अंकल जी मेरे को दरद बहूत हो रहा है आप प्लीज़ एक बार अपने लंड को निकाल लो..तो मैने कहा कि अब मैं नही निकालुन्गा…अब मैं तेरे को तेरे दर्द को शांत करके तुझको असली चुदाई का मज़ा देता हूँ….मैं उसकी चूत जो की खून से भरी हुई थी जैसे कि किसी ने माँग मे सिंदूर की सीसी उडेल दी है ऐसे उसकी चूत लाल लग रही थी… के अंदर अपना लंड डालना सुरू किया…अभी तक मेरा लंड 60% ही उसकी चूत मे गया था…को मैं अंदर बाहर कर रहा था…फिर मैने एक ज़ोर का धक्का लगाया ओर उसकी चूत मे अपना पूरा लंड डाल दिया…तो एक बार फिर उपर को उच्छली ..इस बार वो मज़े मे उच्छली थी….. मैने अब अपने लंड की.. सपीड़ बढ़ा दी थी….वो अब पूरे मज़े ले रही थी….वो अपनी चूत को उपर नीचे कर रही थी और कह रही थी अंकल जी ये मज़े होते है चुदाई के मेरी चूत आपकी हमेशा आभारी रहेगी जो आपने इसकी चुदाई की….अब आपका इस पर पूरा हक है .आप जब चाहे इसकी चुदाई कर सकते है …ये आपकी गुलाम है…. मैं भी पूरे मज़े से उसकी चुदाई कर रहा था…..मेरे लंड को जन्नत मिल गयी…..थी…मेरा लंड बार बार उसकी चूत की गहराई मे आनंद ले रहा..था……… कसम से मेरा लंड बार बार कह रहा था क्या चूत मिली है…….. उसकी कसी हुए कुँवारी चूत ने मेरे लंड को निहाल कर दिया था… 

वो भी अपने चूतड़ को उपर नीचे कर रही थी…मैं उसके मुम्मो को बार बार बार चूम रहा था.. मैने अपना लंड निकाला ओर उसे कहा कि अब तुम नीचे आकर झुक जाओ……उसने ऐसा ही किया 



फिर मैने उसके पिछे से चूत मे अपना लंड पूरा डाला तो उसे थोड़ा दर्द हुआ पर अब उसे मज़े आ रहे थे….मैं लगातार 20 मिनूट से चुदाई कर रहा था……कि वो बोली अंकल जी अब पता नही मुझे क्या हो रहा कि मेरी चूत मे से कुच्छ निकलने को हो रहा है………तो मैने कहा कि मेरे लंड भी कुच्छ छूटने वाला है….तो बोली कि आप…जो छ्चोड़ रहे हो…वो मेरी चूत मे …..ही छ्चोड़ देना ताकि मेरी चूत को ….आराम मिले….फिर मेरे लंड ने उसकी चूत मे ही ….अपना लावा छ्चोड़ दिया….हम दोनो अब निढाल थे…मैं उसके उपर लेट गया लंड को उसकी चूत मे ही रख रखा था.उसने मुझे अपनी बाहों मे जाकड़ रखा था…..हम 10 मिनूट तक चिपके रह एक दूसरे के साथ………फिर मैने कहा कि अब हमे साफ सफाई कर लेनी चाहिए… तो वो एकदम उठ खड़ी हुए ओर बोली कि हाँ शायद मेरी मा आ जाए….फिर हम दोनो उठे…..ओर मैने अपना लंड जो की खून से ओर मेरे ओर उसके लावे से सना हुआ था को एक कपड़े से साफ किया ओर उसने अपनी चूत जिसकी हालत बिगड़ गयी थी को साफ किया ओर उस कपड़े को हमने टाय्लेट मे डाल दिया था…ओर उसके बाद मैने कपड़े डाले ओर उसने खून से भरे हुए कपड़े को बाहर घर के पिछे जहाँ पर गंदगी पड़ी हुई थी डाल दिया ओर सफाई कर के नहाने चली गयी तब तक मैं अपने घर पर चला गया… 

मैं थोड़ी देर बाद आया तो फिर वो घर पर अकेली थी…उसकी मा घर पर नही आई थी…….मैने उससे पुचछा कि कैसे लगा…..तो बोली कसम से तुमने मुझे ओर मेरी चूत को निहाल कर दिया….फिर बोली कि अब मैं आप को राजा कह कर बोला करूँगी तो मैने कहा कि ऐसा मत करना नही तो घर वाले सक करेंगे तू मुझे अंकल जी ही कहा कर तो बोली आप तो बहूत समझदार हो तो मैने कहा कि समझदार हूँ तभी तो तेरे को चोद पाया………इस पर वो हंस पड़ी…ओर बोली की मैं आप के लिए चाय बनती हूँ मैने कहा कि चाय तो तेरे मा के हाथो की ही पियुंगा अब मैं चलता हूँ.तो बोली कि कोई बात नही…आप जब चाहे तब पीना.फिर मैने उसके गालो की एक पप्पी ली ओर अपने घर आ गया…तो दोस्तो अब जब वो घर पर अकेली होती है मेरे को मिस कॉल कर देती है ओर मैं उसको चोदने के लिए उसके घर पर पहुँच जाता हूँ…मैने उसकी चुदाई बड़े मस्त अंदाज मे की है.उसने अपनी दो कुँवारी सहेलियो को भी मेरे से चुदवाया है वो कहानिया मैं आपको बाद मे बताउन्गा दोस्तो कहानी कैसी लगी ज़रूर बताना आपका दोस्त राज शर्मा
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:28 PM,
#54
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
सोनी मौसी की चुदाई --1

मेरा नाम सिमर है में खरार में रहता हूँ . में मोहाली में जॉब कर रहा हू. ये स्टोरी मेरी दूर की मौसी सोनी के बारे में है कि कैसे मैने उसको चोदा. तो स्टोरी शुरू करते हैं सोनी मौसी की उमर 30 साल की है और फिगर 36'24'36 का फिगर है विथ मिल्की बॉडी.

मौसी लुधियाना में रहती है.यह बात आज से 1 साल पहले की है जब मैं किसी काम के सिलसिले मे लुधियाना गया था.मैं एक बात बताना भूल गया कि मेरी मौसी अपने दो बच्चो के साथ अकेली रहती है क्यों कि मौसा जी फॉरिन में काम करतें हैं.सो मुझे काम निपटाने में 4-5 दिन लगने थे तो घर वालों से कह दिया कि मैं मौसी के पास रहूँगा.तो मैं उस दिन काम ख़तम होने के बाद मौसी के यहाँ चला गया.तब तक मेरे मन मैं कोई ऐसा ख़याल नही था.रात को जब मैं घर पहुँचा तो मौसी ने दरवाज़ा खोला वो नाहकर निकली थी उन्होने वाइट कलर का ट्रॅन्स्परेंट सूट डाला हुआ था.

उनके ट्रॅन्स्परेंट सूट मे से उनके बूब्स विज़िबल थे. मौसी ने ब्रा नही डाली थी. उन्हे इस हालत में देख कर मेरा लंड एक दम खड़ा हो गया.मौसी मुझे देख कर बहुत खुश हुई ऑर अंदर आने को बोला.फिर हम इधर उधर की बातें करने लगे लेकिन मेरा ध्यान तो मौसी के बूब्स पर था ऑर यही सोच रहा था कि मौसी को कैसे चोदु.फिर इतने में मौसी के दोनो बच्चे ट्यूशन से आ गये .मौसी खाना बनाने लग गयी ओर मैं बचों क़ साथ खेलने लग गेया.

रात को हम सब ने खाना खाया ऑर मैं टी.वी देखने लगा .बच्चे सोने चले गये थे.टी.वी पर जिस्म पिक्चर आ रही थी.मौसी भी मेरे साथ पिक्चर देखने लगी.पिक्चर में हॉट सीन चल रहा था.मैने धीरे धीरे मौसी के हाथ पर हाथ फिराने लगा मौसी ने कुछ नही कहा जिससे मेरी हिम्मत और बढ़ गयी मैं अपना हाथ मौसी के बूब्स पर ले गया मुझे लगा मौसी गरम हो गयी थी.अब मैं उनको किस करने लगा लेकिन मौसी अपने आप को छुड़ाने की कोशिश करने लगी.लेकिन मैं कहा छोड़ने वाला था. धीरे धीरे उन्हे भी मज़ा आने लगे ऑर वो मेरा साथ देने लगी.

अब मेने उनका सूट उतार दिया उन्होने नीचे ब्रा नही पहनी थी जिससे उनके बूब्स बाहर आ गये ओर मैं उनके बूब्स पागलों की तारह चूसने लगा.मौसी मोनिंग कर रही थी 'अहह ओर ज़ोर से चूसो'.मैं 15 मिनिट तक उनके बूब्स चूस्ता रहा अब मैने अपने सारे कपड़े उतार दिए आंटी मेरा लंड देख कर कहने लगी कि तुम्हारा लंड तो तुम्हारे मौसा से बड़ा है.मैने मौसी की सलवार भी निकाल दी. मैं यह देख कर हैरान था कि मौसी नीचे पॅंटी नही पहनती थी. अब मैने आंटी को 69 पोज़िशन में आने को कहा ऑर वो मान गयी.अब वो मेरा लंड चूस रही थी ऑर मैं उनकी चूत.10 मिनिट बाद हम दोनो झाड़ गये ऑर एक दूसरे का सारा पानी पी गये.

मौसी अब बहुत गरम हो चुकी थी ऑर कहने लगी कि 'जान अब और मत तद्पाओ ऑर डाल दो मेरी चूत में अपना लंड अब और नही सहा जा रहा'.मैने जेब से कॉंडम निकाला मगर मौसी ने कहा कि मुझे बिना कॉंडम के ही चोदो मैं तुम्हारा रस चूत में लेना चाहती हूँ.तो मैने उनकी चूत के नीचे तकिया लगाया ओर उनकी टांगे फैला दी .मिने अपना लंड उनकी चूत पर सेट किया ओर एक शॉट लगाया.मेरा आधा लंड उनकी चूत में समा गया मौसी की चूत काफ़ी टाइट थी वो दर्द से कराहने लगी ओर रुकने को कहने लगी.मैं थोड़ी देर रुक गया ओर उनके लिप्स ओर बूब्स चूसने लगा.जब उनका दर्द कम हुआ तो मैं धीरे धीरे धक्के लगाने लगा ऑर कुछ देर बाद एक ज़ोर का शॉट मारा जिस से मेरा पूरा 6"लंड मौसी की चूत मे समा गया.मौसी अब मेरा साथ दे रही थी ऑर कह रही थी कि मुझे और ज़ोर ज़ोर से चोदो मेरे राजा .वो चूतड़ उछाल -2 कर मज़ा ले रही थी.इस बीच वो तीन बार झाड़ चुकी थी ओर पूरे कमरे में हमारी चुदाई की आवाज़ें आ रही थी.करीब 20 मिनिट बाद मैं झड़ने वाल था तो मैने मौसी को कहा तो उन्होने रस अंदर ही निकालने को कहा.20 मिनिट बाद मैने अपना रस मौसी की चूत मे निकल दिया.ओर काफ़ी देर मैं मौसी के उपर पड़ा रहा फिर हम नहा के फ्रेश हुए.

मौसी कहने लगी कि उसे इतना मज़ा आज तक नही आया.मेरे पूछने पर कि चूत बहोत टाइट है वो कहने लगी कि तुम्हारे मौसा जी तो फॉरिन में रहते हैं वो जब आते हैं तो चोद्ते हैं.वो भी सीधा बीच मे डाल कर पानी निकाल लेते हैं पर में प्यासी रह जाती हूँ ऑर उंगली से अपने को शांत करती हूँ.लेकिन आज तुमने मुझे पूरा मज़ा दिया है,जब तक तुम यहाँ रहोगे मुझे चोद्ते रहने.मैं तुम्हारी चुदाई की दीवानी हो गयी हूँ.मैं 5 दिन तक मौसी क यहाँ रहा ओर उन्हे अलग अलग पोज़िशन्स में चोदा.कैसे मैने मौसी की गांद मारी ये सब अगली स्टोरी में.

क्रमशः.....................
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:28 PM,
#55
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
सोनी मौसी की चुदाई - पार्ट- २

गतान्क से आगे...................

अब सीधे स्टोरी पे चलते हैं कि कैसे मैने सोनी की चूत के साथ साथ गांद भी मारी.जैसे की आप जानते हैं सोनी मौसी मेरी चुदाई की शौकीन हो गयी थी ऑर मुझसे बिल्कुल फ्रॅंक हो गयी थी.

दूसरे दिन मुझे कॉल आया कि हमारी कंपनी के मॅनेजर जिनसे मुझे मिलना था वो 4 दिन के लिए किसी शिर्डी में गये हैं तो आप 3-4 दिन बाद आना.ये सुनकर मैने सोचा कि तेरी तो लॉटरी लग गयी है.उस दिन सुबह जब बच्चे स्कूल चले गये तो मौसी काम निपटाने के बाद नहाने चली गयी तो मैं भी उनके साथ ही बाथरूम में नहाने के लिए एंटर हो गया.

मौसी मुझे देखकर बोली कि थोड़ा तो सबर कर लेकिन मैने कहा मेरा तो सबर रात से टूट गया है तो वो हँसने लगी.हम दोनो ने अपने कपड़े निकाल दिए ऑर बाथ टब में घुस गये ओर एक दूसरे पे पानी डालने लगे.मेने मौसी के होठों पर अपने होंठ रख दिए ऑर उनको किस करने लगा मौसी गरम होने लगी थी ओर उन्होने अपन अपना मूँह खोल दिया ओर मैने अपनी टंग उनके मूँह मे डाल दी.20 मिनिट हम किस्सिंग का मज़ा लेते रहे.

उसके बाद मैं मौसी के बूब्स चूसने लगा मौसी "आ ऊहह अया श मेरिइइ माआ आह आह ओह" जैसी आवाज़ें निकालने लगी.मैं एक हाथ से मौसी की चूत में उंगली कर रहा था दूसरे हाथ से उनके बूब्स सहला रहा था. मौसी का सारा बदन मैने अपने किस्सस से नहला दिया ऑर नीचे आते हुए उनकी चूत चाटने लगा.इतने में मौसी तीन बार झाड़ चुकी थी ऑर उनकी हालत खराब हो रही थी.मेरा लंड भी अकड़ गया था और मेरा बुरा हाल था.

अब उन्होने जल्दी से मेरा लंड पकड़ा ऑर उसको सहलाने लगी उन्होने हिला हिला कर मेरा पानी निकाल दिया. कुछ देर के बाद वो फिर मेरा लंड मूँह मे लेकर चूसने लगी ओर चूस चूस कर दुबारा खड़ा कर दिया ऑर बोलने लगी कि अब मेरी हालत खराब हो रही है.मेरी चूत में बहोत खुजली हो रही है इसको जल्दी से मिटा दो.

मैने जल्दी से देर ना करते हुए अपना लंड उनकी चूत पे सेट किया ओर ज़ोर से झटका मारा मेरा पूरा लंड उनकी चूत में समा गया.मैं धीरे धीरे मौसी को चोदने लगा मौसी सिसकियाँ ले रही थी आ ओह आअहह ऊऊहह मीईएरईईईई राजा फफफफफफाड़ दो मेरी चूऊऊऊऊथ ओह माआ आहाआआाआआओमम्म्मम आआमूऊह चोदो मेरे आ आईईईआ राज अमैन तुम्हैरि हूँ करीब 15 मिनिट की चुदाई के बाद मौसी ने मेरे को कस के पकड़ लिया ऑर ज़ोर से पीठ पे नाख़ून गढ़ाने लगी मैं समझ गया कि ये झाड़ गयी हैं.

लेकिन मैं अभी नही झाड़ा था तो मैने उनको कहा कि मैं आपकी गांद मारना चाहता हूँ वो बोली कि नही ये नही हो सकता मेरी गांद तो तेरे मौसा ने भी नही मारी है नही नही ऐसा नही हो सकता.मैने कहा कि पहली बार थोड़ा दर्द होगा उसके बाद मज़ा आएगा तो बोली कि नही मेरी गांद फॅट गई तो मैने कहा कि आप घबराईए मत मैं आराम से धीरे धीरे करूँगा मेरे काफ़ी प्रेस करने पर वो मान गयी.मैने उन्हे घोड़ी बनने को कहा वो घोड़ बन गाइतो मैने पास में पड़ी सरसों के तेल की बोटेल उठाई ऑर उसमें से ढेर सारा तेल निकाल कर मौसी की गांद में लगा दिया ऑर अपना लंड भी तेल से अच्छी तरह सेभिगो दिया ऑर अपना लंड उनकी गांद पे सेट कर के जल्दी से झटका मारा तो मेरे लंड का सूपड़ा उनकी गांद में घुस गेया मौसी चिल्लाने लगी ओह म्‍म्म्ममममाआआआआ म्‍म्म्मममर्र गाइ ब्ब्ब्बबबाहाँ छोड़ न्‍न्‍नन्ंनिककककककककककााआाआल इसको म्‍म्म्ममीईईईरी गगगंद फॅट गयी लेकिन मैने उनकी एक ना सुनी ऑर दूसरा झटका बड़ी ज़ोर से मारा तो मेरा पूरा लंड उनकी गांद में घुस गया.उनकी गांद बहोत टाइट थी मुझे ऐसा लग रहा था की किसी चीज़ ने मेरा लंड पकड़ लिया है.मैने धीरे धीरे उन्हे चोदना शुरू किया वो अभी भी रो रही थी कि बाहर निकालो उसकी गांद फॅट गयी है ऑर बहुत दर्द हो रहा है.लेकिन मैने उनकी एक ना सुनी ऑर चोदना चालू रखा.करीब 20 मिनिट की चुदाई के बाद मैं ने अपना पानी उनकी गांद में छोड़ दिया ऑर उनके उपर ही लेट गेया.

फिर मैने उन्हे उठाया ऑर बाथरूम तक ले गया क्यूंकी उनसे चला नही जा रहा था.वहाँ हम इकट्ठे नहाए ऑर एक बार ऑर चुदाई की. तो दोस्तो ये थी मेरी लाइफ की सच्ची घटना कि कैसे मेरे सेक्स की शुरुआत हुई.आप लोगो की कॉमेंट्स की इंतेज़ार रहेगा

समाप्त
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:28 PM,
#56
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
raj sharma stories

विलेज में सुहागरात

मेरे उरोजों पे रेंगते तेरे होंठ, मुझे मदहोश किये जाते हैं

कुछ करो हम तेरे आगोश में बिन पिए बहक से जाते हैं

हेलो दोस्तो मैं राज शर्मा एक बार फिर से आपके सामने अपनी एक और

कहानी ले के आ गया हू मगर मैं एक बात ज़रूर बोलना चाहता हू कि मुझको

मेरी पिछली स्टोरी’स पे बहुत सी मैल आई और ज़्यादातर मैल सिर्फ़ इस

लिए थी कि आप अपनी फ्रेंड का कॉन्टेक्ट नंबर दे दो या फिर हमको कोई सेफ

प्लेस बता दो जहा हम अपनी गर्लफ्रेंड को ले जा के उसको चोद सके तो

मैं एक बात बिल्कुल क्लियर कर देना चाहता हू कि

जिसको भी चोदा है तो उसको सीक्रेट रखना पहली शर्त है इस लिए मैं

कभी भी उस लड़की के बारे मे किसी को कुछ नही बता सकता इस लिए

प्ल्ज़ मुझको फिर दुबारा इस लिए कोई मैल ना करे

और अब मैं आपलोगो का ज़्यादा टाइम बर्बाद ना करते हुए अपनी स्टोरी की तरफ

आता हू ये बात आज से कोई 2 मंथ पहले की है मैं अपने ऑफीस के

काम से एक विलेज मे गया हुआ था वाहा पे मुझको उस विलेज के

प्रधान से मिलना था मैं जब उस प्रधान के घर गया और दरवाज़ा नॉक

किया तो एक कोई 25 साल की बहुत ही खूबसूरत सी औरत बाहर निकली मैं

उसको देखता ही रह गया कोई 5फिट 6 इंच उसकी हाइट थी गोरा रंग उसने

एक अच्छी सी ब्लू साडी पहनी हुई थी मैं उसको देखता ही रह गया फिर

मैने उसको बताया कि मैं प्रधान से मिलना चाहता हू तो उसने मुझको

अंदर आने को कहा और औंदर एक रूम मे बैठाया और बोली कि आप

यहा बैठिए पापा अभी आते है तो मैं समझ गया कि ये प्रधान की

बेटी है थोड़ी देर मे वो मेरे लिए पानी ले के आई और मुझको पानी

दे के चली गयी

इस भरी गर्मी में यारों

बारिस सी चूत में बरस गयी

लौंडे ने मारी धार जो अन्दर

मैं प्यारे बस सरस गयी.

जब थमी चुदाई की घड़ियाँ

चोदू मुझ पर लेट गया

बोला प्यार से "रानी बिटिया'

आज तो मन बस हरस गया.

बरसो से छुपी तमन्ना थी

अपनी बिटिया का रेप करूँ

बांध जूड पलंग से तुमको

बिना बताये रेड करूँ.

आज ये सुन्दर मौका देखा

जबरन तुझको चोद दिया

मुझे माफ करना मेरी रानी

मैंने तुझ पर जोर किया.

चूम होठ पापा के बोली

पापा तुम सा कोई नहीं

ये चूत तुम्हारी चेरी है

मैं भी कोई गैर नहीं.

मेरी भी एक इच्छा पापा

वो भी आज पूरी कर दो

मुझे बनाकर कुतिया तुम

लंड चूत में ठेल ही दो.

महीने से ऊपर आज हुए

उस रात जब तुमने चोदा था

मेरी चूत को रगड़ रगड़

अपने लंड से खोदा था.

तब से मैं हूँ तरस रही

क्यों इतने दिन बाद सुध ली मेरी

क्यों न रेप किया मेरा

क्यों भूली चूत तुम्हे मेरी.

चूत चोद मुह में डाला

गांड में भी माल निकाला

चूस चास कर साफ किया

फिर भी न माना चूत-स्नान किया.

कुछ देर बाद प्रधान मेरे रूम मे आया और मैने उसको बताया कि मैं

क्यू आया था और काफ़ी देर तक हमारी बात चलती रही क्योंकि हमारी

कंपनी उस विलेज मैं एक प्रॉजेक्ट शुरू करना चाहती थी जिसके लिए

हमको प्रधान से बात करनी थी प्रधान मेरी बात से बहुत खुश हुआ

क्योंकि उस प्रॉजेक्ट से उसके विलेज का बहुत विकास हो जाएगा और उस विकास

का पूरा क्रेडिट उस प्रधान को मिलने वाला था इस लिए प्रधान मुझको बोला

कि आपको जो भी हेल्प चाहिए होगी मैं तुरंत करूँगा.मैने प्रधान को

बोला कि इस प्रॉजेक्ट के सिलसिले मैं मुझको कुछ दिन इस गाओं मे रहना

पड़ेगा इस लिए मेरे लिए एक कमरे का इंतज़ाम करो और साथ मे कोई

आदमी जो मेरे लिए खाना वगेरा बना सके मेरे कपड़े धो सके तो

प्रधान मुझको बोला कि मेरा घर बहुत बड़ा है आप इसी मे रह लीजिए

आपको कोई परेशानी नही होगी तो मैने उसको मना किया कि मुझको कई

बार लेट नाइट भी बाहर जाना पड़ेगा और मुझको प्रॉजेक्ट के सिलसिले

मे कई लोगो को बुलाना भी पड़ेगा इस लिए मुझको कोई अलग मकान का

इंतज़ाम कर के दो तो वो बोला मेरा एक मकान गाओं से बाहर खेत के पास

बना हुआ है आप देख लीजिए अगर आपको पसंद हो तो वही रह लीजिए

मैने कहा ठीक है मैं प्रधान के साथ उसका मकान देखने गया तो वो

मुझको पसंद आ गया क्योंकि वो बिल्कुल अलग हट के बना था कि मैं वाहा

जैसे भी रहू किसी को कोई परेशानी नही होने वाली थी मैने मकान के

लिए हा कर दी और पूछा कि खाने और कपड़े धोने का भी कोई इंतज़ाम

है कि नही तो वो बोला कि सर ये काम तो मेरी विधवा बेटी कर देगी वो

घर से खाना बना के ले आया करेगी आपके लिए और आपके कपड़े भी धो

देगी वैसे भी उसका टाइम पास नही होता क्योंकि मैने बचपन मे उसकी

शादी कर दी थी और अभी उसका गौना (विदाई) नही हुआ था कि उसका पति

मर गया

इस तरह मेरे लिए मकान और खाने का इंतज़ाम हो गया और मैं अगले

दिन ही अपना समान ले के वापिस उस विलेज मे रहने आ गया मैं शाम

को पहुचा था और वाहा आके देखा कि प्रधान के साथ कुछ आदमी खड़े

है उन्होने मेरा समान घर मे सेट कर दिया और इसी मे रात के 9 बज

चुके थे प्रधान ने मुझको बोला कि मैं अब जा रहा हू और आपके लिए

खाना भिजवाता हू तब तक आप नहा लीजिए और प्रधान चला गया मैने

दरवाज़ा बंद किया और नहाने के लिए बाथरूम मे चला गया बात ले

के मैने एक टीशर्ट और शॉर्ट पहन लिए और रूम मे टीवी देखने लगा

तभी डोर पे नॉक हुआ तो मैने जैसे दरवाज़ा खोला तो देखा उसी दिन

वाली वो लेडी दरवाज़े के बाहर खड़ी थी आज उसके चेहरे पे एक स्माइल थी

और वो मुस्कुराती हुई बोली साहब मैं आपके लिए खाना लाई हू मैने

खुद बनाया है औब आप शहर वालो को पता नही पसंद आएगा कि नही

मैने उसको अंदर आने को कहा वो अंदर आई और मेरे लिए खाना

निकालने लगी जितनी देर वो खाना लगा रही थी मैं उसकी बॉडी को ही

निहारता रहा क्या अल्मस्त जवानी थी मेरा मन कर रहा था कि अभी इसको

अपनी बाहो मे भर लू और खाने की जगह इसको ही खा जाउ मगर मैने

अपने आप को कंट्रोल किया और खाना खाने लगा खाना खाते हुए मैने

ऐसे ही उसके साथ थोड़ी बहुत बात की और उसके खाने की बहुत तारीफ़

भी की

ऐसे ही कुछ दिन चलता रहा औब वो मुझसे काफ़ी हद तक खुल गयी थी

और मुझसे हसी मज़ाक भी कर लेती थी उसका नाम रागिनी था

एक दिन जब वो सुबह मेरे लिए चाइ और नाश्ता ले के आई तो मैने

दरवाज़ा खोला और फिर वापिस बेड पे आके लेट गया उसने पूछा कि क्या हुआ

साहब आज आप कुछ ठीक नही लग रहे है तो मैने कहा कि आज कुछ

तबीयत ठीक नही है पूरा बदन टूट रहा है और सिर भारी सा हो रहा

है तो वो मेरा माथा छू के देखने लगी और बोली बुखार तो नही है

लगता है आप बहुत थक गये है आइए मैं आपकी मालिश कर दू इससे

आपको आराम मिलेगा मैने उसको मना किया मगर वो नही मानी और तेल ले

के आ गयी उसने ज़मीन पे एक चटाई बिछा दी और बोली इस्पे टीशर्ट

उतार के लेट जाइए मैने वेसा ही किया और सिर्फ़ शॉर्ट’स पहन के लेट

गया वो मेरे पैरो मैं मालिश करने लगी उसने उस वक़्त एक पिंक कलर की

सारी पहनी हुई थी वो थोड़ा झुक के मेरे पैरो पे तेल लगा रही थी

जिससे उसके बूब्स ब्लाउस से बाहर आ रहे थे ये देख के मेरा लंड खड़ा

हो गया मैने देखा वो तिरछी निगाह से मेरे लंड को देख रही थी मैने

ऐसे ही उससे बात करते हुए उसको पूछा कि रागिनी तुम्हारी उमर क्या है

तो वो बोली 25 मैने कहा कि क्या तुम्हारा मन नही करता कि तुम्हारी

दुबारा शादी हो तो वो बोली की साहब कौन सी औरत ये नही चाहेगी कि

उसको उसका मर्द प्यार करे और मैं भी तो एक औरत हू मगर मेरा मर्द

तो बिना मुझको टच किए ही मर् गया अब तो ऐसे ही जिंदगी काटनी

पड़ेगी मुझको और तरसते रहना पड़ेगा मैने कहा कि क्या शादी के बिना

प्यार नही हो सकता क्या तो वो बोली कि आप तो जानते है मैं विलेज

मैं रहती हू और प्रधान की बेटी हू इस गाओं मे कोई ऐसा है ही नही

जो मेरे को प्यार कर सके मैने कहा कि क्या मैं भी नही ?

तो वो बोली धुत आप मुझ जैसी गाओं की लड़की को प्यार करेंगे मैं

कुछ नही बोला और उठ के बैठ गया और उसकी आँखो मे देखने लगा

वो कुछ देर तो मुझको देखती रही फिर उसने शर्मा के अपनी आखे बंद

कर दी तो मैने उसको हग कर के सीने से लगा लिया उसकी चुचिया मेरे

सीने से डब रही थी वो कुछ नही बोली और उसने भी मुझको हग कर लिया

मैने उसके गरम होंठो पे अपने होंठ रख के उसको चूसना शुरू कर

दिया और मेरा एक हाथ उसके नरम नरम दूध को सहलाने लगा तो उसने

मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली प्ल्ज़ अभी ये मत करो क्योंकि मैं बिल्कुल

कुवारि हू और मेरा एक अरमान था कि जब भी मैं फर्स्ट टाइम चुदाई

कर्वाऊ तो वो बिल्कुल सुहाग रात की तरह हो आज बापू दोपहर मे

रिश्तेदारी मे जाने वाले है मैं रात को आपका खाना ले के आउन्गि

तब यही रुक जाउन्गि क्योंकि घर पे कोई और रोकने वाला नही होगा तब आप

मुझको अपनी दुल्हन बना के बहुत सा प्यार करना मैने कहा ठीक है

मगर अभी जब शुरुआत हो गयी है तो कम से कम कुछ पिला तो दो और

मैने उसका ब्लाउस सरका के उसका एक दूध बाहर निकाल के बहुत ज़ोर से

चूस लिया वो आअहह करने लगी उसके बाद वो अपने घर चली गयी

शाम को कोई 6 बजे मेरा दरवाज़ा नॉक हुआ तो मैने दरवाज़ा खोल के देखा

तो बाहर एक आदमी खड़ा था और उसके हाथ मे एक बहुत बड़ा सा पॅकेट

था उसने बोला कि प्रधान जी के घर से ये समान लाया हू उन्होने आपको

देने को बोला था मैं वो पॅकेट ले के अंदर आ गया और उसे खोला तो

देखा उसमे बहुत से फूल थे और एक चिट्ठी थी जिसमे रागिनी ने लिखा

था कि ये फूल भेज रही हू अपनी सुहाग रात मनाने के लिए इन फूलो

से मेरी सुहागरात को याद गार बना देना मैने अंदर बेडरूम मे बेड

पे एक न्यू वाइट बेडशीट बिछाई और वो फूल उसपे डाल दिए और पूरा

रूम ऐसे सज़ा दिया जैसे सुहागरात मे सजाया जाता है और खुद भी

नहा के शेव कर के कुर्ता पयज़ामा पहन के तैयार हो गया

रात को कोई 830 रागिनी आई और मैने उसको हग करने की कोशिश की तो

वो मुस्कुराते हुए बोली जानू थोड़ा इंतजार तो करो उसके हाथ मे एक

छोटा सा बॅग था और वो मेरे से बोली की सबर करो सबर का फल मीठा

होता है मैं जब आपको बुलाउन्गी तब रूम मे आना तब तक उधेर

देखना भी नही और वो रूम मे चली गयी मैं बाहर बैठा इंतजार

करता रहा कोई 30 मिनट बाद अंदर से आवाज़ आई जानुउऊउउ आओ ना

मैं अंदर रूम मे उठ के गया तो उसको देखता ही रह गया उसने एक रेड

सारी पहनी हुई थी और थोड़े से गहने और बहुत अछा मेकप कर के वो

बिलकल दुल्हन बनी हुई थी और बेड पे थोड़ा सा घूँघट निकाल के बैठी

हुई थी मैने दरवाज़ा अंदर से बंद किया और उसके पास जा के बेड पे

बैठ गया और उसका घूँघट उठाया उसने शरम से अपनी नज़रे झुका

रखी थी मैने उसकी आँखो पे अपने होंठ रख दिए तो उसने अपना बदन

ढीला छोड़ दिया मैने उसको हग कर के सीने से लगा लिया और थोड़ी देर

ऐसे ही बैठा रहा उसकी धड़कन बहुत तेज चल रही थी फिर वो उठी

और बगल से गरम दूध का ग्लास उठा के मुझको देने लगी कि इसको पी

लीजिए मैने वो दूध का ग्लास उसके हाथ से ले के साइड मे रख दिया

और उसको कहा कि जानू इस वक़्त ये दूध पीने का वक़्त नही है मुझको तो

कुछ और पीना है तो उसने शर्मा के धीरे से पूछा और क्या पीना है तो

मैने उसके दोनो दूध को सहलाते हुए कहा ये पीना है तो उसने शर्मा के

धात्ट बोला और कहा आप तो बहुत वो है मैने ऐसे ही दूध को सहलाते

हुए उसको गरम करना शुरू किया और धीरे धीरे उसका पल्लू हटा के उसके

ब्लाउस के बटन खोलने लगा उसने अपने हाथ से अपना चेहरा ढक लिया

और बोली मुझको शरम आ रही है मैने उसका पूरा ब्लाउस उतार दिया और

फिर सारी भी खोल दी औब वो पेटीकोट और ब्रा मे थी उसने वाइट ब्रा

पहनी हुई थी फिर मैने उसको हग किया और पीछे से उसके ब्रा का हुक भी

खोल दिया औब मैं उसकी पीठ को सहला रहा था और उसकी नेक पे अपने

होठ से रगड़ रहा था उसके मुँह से हल्की हल्की आहह निकल रही थी

मैने उसकी पीठ को सहलाते हुए अपना हाथ उसके पेटीकोटे मे डालते

हुए उसकी गांद को भी सहलाना शुरू कर दिया और ऐसे ही मैने उसका ज़ोर

लगा के नारा तोड़ दिया जैसे नारा टूटा उसका पेटीकोटे नीचे गिर गया अब

वो सिर्फ़ पॅंटी मे थी मैने उसको ऐसे ही बेड पे लिटा दिया और खुद

खड़े हो के अपने कपड़े उतारने लगा और खुद भी सिर्फ़ अंडरवेर मे आ

गया और धीरे से उसके उपेर लेट के होंठो से होंठ मिला दिए उसके दोनो

हाथ उसके सिर के साइड मे रख के उंगलियो मे उंगलिया फसा के कस के

पकड़ लिया था और उसके होंठो का रस पीने लगा ऐसे ही पीते पीते मेरा

खड़ा लंड उसकी चूत के उप्पेर पॅंटी को रगड़ रहा था उसने अपनी आँखो

को बंद किया हुआ था और फिर मैने एक हाथ से अपना अंडरवेर उतार

दिया और पूरा नंगा हो गया उसके बाद मैने उसकी पॅंटी भी उतार दी और

फिर ऐसे ही उसके उप्पेर लेट गया उसके माथे से उसको चूमना शुरू किया

और नीचे की तरफ आने लगा जैसे मेरे होंठ उसकी चूत तक पहुचे

उसने दोनो हाथो से मेरा सिर पकड़ लिया और उसके मुँह से सिसकारिया

निकलने लगी उसकी चूत बिल्कुल पिंक कलर की थी और बिल्कुल सॉफ उसने

यहा आने से पहले ही अपनी झाँते सॉफ की थी उसकी चूत से हल्का सा

पानी निकल रहा था मैने उसकी चूत को सहलाना शुरू किया थोड़ी देर

बाद मे खड़ा हुआ और उसके सिर की तरफ जा के उसके सिर के नीचे एक

हाथ लगा के उसका सिर थोड़ा सा उठाया और उसके होंठ पे अपना लंड

रगड़ दिया और उसने ऐसा करते ही अपना हल्का सा मुँह खोला तो मैने

अपना लंड उसके मुँह मे दे दिया जिसको उसने बहुत प्यार से चूसना

शुरू कर दिया मैं उसकी चूचियो को सहला रहा था ऐसे ही कोई 10 मिनट

तक मैं उसको अपना लंड चुस्वाता रहा फिर मैने उसको बेड पे सीधा

लिटाया और उसके पैर घुटनो से मोड़ के उसके दोनो हाथो मे पकड़वा दिए

और मैं उसकी टाँगो के बीच आ गया और उसको बोला कि अब थोड़ा सा

बर्दाश्त करना तुमको हल्की सी दर्द होगी तो वो बोली कि मैं तैयार हू

उसके बाद मैने अपने लंड की टिप उसकी चूत के कट पे रगडी तो उसके

मुँह से श्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह श्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह निकलने लगा और उसकी पूरी बॉडी ने एक

झटका खाया फिर मैने एक हाथ से उसकी कमर को पकड़ा और दूसरे हाथ

से अपना लंड पकड़ के उसकी टिप को उसकी चूत के होल पे रखा फिर मैने

उसके दोनो कंधे पकड़ के हल्का सा धक्का मारा जिससे मेरे लंड की टिप

उसकी चूत मे घुस गयी और उसके मुँह से चीख निकल गयी मैने अपना

लंड को वैसे ही रहने दिया और झुक के उसके निप्पल चूसने लगा वो दर्द

से आहह आहह कर रही थी थोड़ी देर बाद उसका दर्द कुछ कम हो गया

तो मैने उसके दूध को सहलाते हुए धीरे धीरे लंड को और अंदर किया

थोडा अंदर जाने के बाद मेरा लंड किसी चीज़्ज़ से टकरा के रुक गया

वो उसकी चूत की सील थी जिससे मैं समझ गया कि अब ये ज़ोर से

चिल्लाने वाली है मैने उसको कस के पकड़ लिया और उसके लिप्स को अपने

होंठो मे दबा लिया की वो जयदा ज़ोर से चिल्ला ना पाए और पूरी ताक़त

से एक ज़ोर का धक्का मार दिया मेरा लंड उसकी चूत की सील तोड़ता हुआ

पूरा अंदर घुस गया वो दर्द से बिल्कुल तड़पने लगी और अपना मुँह मेरे

होंठो से छुड़ाने की कोशिश करने लगी कि वो चिल्ला सके मगर मैने

उसको कस के पकड़े रखा और अपना लंड भी अंदर डाल के कुछ देर रुका

रहा धीरे धीरे वो शांत हो गयी उसकी आँखो से आँसू निकल आए थे

दर्द से फिर मैने उसके होंठो को आज़ाद किया और दूध पीने लगा उसके मुँह

से अब कराहते निकल रही थी औब मैने धीरे धीरे अपना लंड अंदर

बाहर करना शुरू किया और धीरे धीरे स्पीड बढ़ाता गया अब उसको भी

मज़ा आने लगा था और वो अपनी गांद उछाल उछाल के चुदवाने लगी थी

ऐसे ही मैं कोई 10 मिनट तक उसको चोद्ता रहा इतनी देर मे वो एक बार

झाड़ चुकी थी अब उसको बहुत मज़ा आ रहा था और वो कह रही थी

आहह और ज़ोर से चोदो मेरी 25 साल की उमर मे इतनी खुशी मुझको

कभी नही मिली आअहह मुझको पूरा निचोड़ दो मुझको बहुत अछा

लग रहा है मैने फिर उसकी चूत से लंड निकाला और देखा कि बेडशीट

खून से भर चुकी है मैने उसको घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी गांद

को पकड़ के फिर लंड उसकी चूत मे डाल दिया और ज़ोर ज़ोर से चोदने

लगा अब मैने अपने हाथ उसकी साइड से डाल के उसके दोनो दूध पकड़

लिए थे जो मेरे धक्को से बहुत बुरी तरह हिल रहे थे और ऐसे ही

उसको चोद्ता रहा वो मज़े से आआहह आहह कर के मुझसे

चुदवा रही थी अचानक वो ज़ोर से चिल्लाई मेरी चूत फिर झड़ने वाली

है और ज़ोर से चोदो और इतना बोलते ही उसकी बॉडी ने झटका खाया और वो

फिर से झाड़ गयी

वो साली, साली नही,

जीजा से जिसने चुदवाया नहीं

वो जीजा भी कोई जीजा है,

जिसने साली को लंड पे बिठाया नहीं

थोड़ी देर बाद मुझको लगा कि अब मैं भी झड़ने वाला हू क्योंकि मैने

कॉंडम नही लगाया था इस लिए मैने लंड निकाल के उसकी गांद के उप्पेर

पिचकारी छोड़ दी और उसके बाद हम ऐसे ही नंगे कुछ देर एक दूसरे को

हग कर के लेट गये उसके बाद वो बाथरूम गयी उससे ठीक से चला नही

जा रहा था क्योंकि उसकी चूत कुछ फट गयी थी मैं भी उसके पीछे

बाथरूम गया और उसको बोला कि मेरा भी लंड साफ करो उसने अपनी चूत

और मेरा लंड पानी से धो के सॉफ किया जिससे मेरा लंड फिर से खड़ा

होने लगा मैने उसको लंड चूसने के लिए कहा तो वो मेरे पैरो के पास

ज़मीन पे बैठ के मेरे लंड की लॉलीपोप चूसने लगी फिर मैने उसको

गोद मे उठाया और बेडरूम मे ले आया और बेडरूम मे पड़े टेबल पे

उसकी गांद टीका के उसके दोनो पैर उप्पेर उठा के अपने कंधो पे रख के

उसके सामने खड़े हो के उसकी चूत मे अपना लंड डाल दिया और फिर से

उसको बहुत बुरी तरह से चोदा ये वाली चुदाई मे उसको भी बहुत मज़ा

आया इस तरह उस रात हमने अपनी सुहाग रात मे कोई 4 बार चुदाई की

सुबह उसकी ऐसी हालत हो चुकी थी कि वो बिल्कुल भी चल नही पा रही

थी बहुत मुश्किल से वो अपने घर गयी उसका बाप 3 दिन बाद वापिस आने

वाला था और डे टाइम मे मुझको भी अपने प्रॉजेक्ट के सिलसाले मे बिज़ी

रहना पड़ता था इस लिए वो 3 दिन तक रोज रात को आ के मेरी बीवी बन

जाती थी और हम बहुत चुदाई करते थे नेक्स्ट डे मैने उसकी गांद भी

मार दी और उसकी गांद से भी बहुत खून निकला

इसी तरह अब मैं जब भी उस विलेज मे जाता हू तो वो मेरी वाइफ का

रोल प्ले करने को आ जाती है और मेरे लंड की प्यास बुझा देती है

प्ल्ज़ मुझको ज़रूर बताईएएगा की केसी लगी मेरी स्टोरी
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:28 PM,
#57
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
Raj-Sharma-stories

रश्मि के साथ पहली बार 
मेने रश्मि को हमेशा पार्टीस या किसी शादी के फंक्षन्स में ही देखा था. रश्मि समाज की एक मानी हुई हस्ती थी. कामयाब बिज़्नेस वोमेन होने के अलावा वो सामाजिक कार्यकर्ता भी थी. अक्सर उसके किस्से किसी ना किसी सामाजिक कार्य के लिए चर्चित थे. रश्मि का आकर्षक व्यक्तित्व और उसका सुन्दर बदन किसी भी मर्द को उसकी तरफ आकर्षित कर सकता था. 
एक फंक्षन में मुझे उसके बगल में बैठने का मौका मिला. में उससे बात करना चाहता था पर ऐसा हुआ नही, उसे किसी चॅरिटी फंक्षन में जाना था और वो एक अलग सी छाप मेरे जेहन में छोड़ चली गयी. 
रश्मि की एक अड्वर्टाइज़िंग कंपनी थी जिसे वो बेचना चाहती थी, और इसी सिलसिले में वो मेरी सेक्रेटरी सीमा से अपायंटमेंट बुक करना चाहती थी. मेरी एड कंपनी अच्छी चल रही थी, और ना मैं कोई कंपनी को खरीदने का इरादा रखता था. जब रश्मि की कंपनी के बारे में मुझे सीमा ने बताया तो मेने उससे पूछा, "क्या तुम पेरसोन्नाली उसके बारे मे कुछ जानती हो?" 
"मेरा एक दोस्त उसके लिए काम करता है." उसने जवाब दिया. 
"तुम उसके बारे में कितना जानती हो?" मेने फिर पूछा. 
"यही कि उसकी शादी शुदा जिंदगी अच्छी नही है. किसी कारण से उसका तलाक़ होने वाला है. रश्मि एक बहोत ही मेहन्नति और ईमानदार महिला है. अपने वर्कर्स का वो अपने परिवार के सद्स्य जैसा ख़याल रखती है." सीमा ने जवाब दिया. 
"ठीक है में उससे मिलूँगा." 
सीमा ने हंसते हुए कहा, "में जानती थी आप उससे ज़रूर मिलेंगे." 
रश्मि ने मेरे कॅबिन में इस तरह कदम रखा जैसे कि वो कॅबिन उसी का हो. उसका ऑफीस में घुसने का अंदाज़ सॉफ कह रहा था कि वो एक फर्स्ट क्लास बिज़्नेस वोमेन थी. दिखने में वो 5"9 की थी. वो मेरे टेबल की ओर बढ़ी और मुझसे हाथ मिलाया. 
मेने भी खड़े हो उससे हाथ मिलाया और अपनी कुर्सी पर झट से बैठ गया. इस तरह की औरतें मुझे काफ़ी गरम कर देती थी और उनसे अपने खड़े लंड को छुपाना मुश्किल हो जाता था. 
रश्मि मेरे सामने कुर्सी मेरे सामने बैठ गयी और उसने अपना ब्रीफकेस बगल में रख लिया. रश्मि ने घूटने तक का काले रंग का स्कर्ट पहन रखा था जिससे उसकी आधे से ज़्यादा नंगी टाँगे दिखाई दे रही थी. उसे देखते ही मेरे लंड में सिरहन हुई और वो गर्माने लगा. 
"राज मुझे खुशी हुई कि तुमने मुझसे मिलने के लिए वक्त निकाला. मुझे मालूम है तुम अपने बिज़्नेस में काफ़ी कमियाब हो और मेरी कंपनी तुम्हारी कंपनी के मुक़ाबले कुछ भी नही है." रश्मि मुझे देखते हुए बोली. 
"मुझे भी आपसे मिलकर काफ़ी खुशी हुई." मेने कहा. 
"हम बात आगे बढ़ाए उसके पहले में तुम्हे कुछ दिखाना चाहती हूँ." वो अपना ब्रीफकेस उठाने के लिए थोड़ा नीचे झुकी तो उसकी स्कर्ट थोडा और उपर खिसक गयी जिससे उसकी जाँघो का उपरी हिस्सा नज़र आने लगा. 
उसने वापस घूमकर अपना ब्रीफकेस अपनी गोद में रख लिया. उसने ब्रीफकेस खोल कर उसमे सी एक फाइल निकाली और फिर ब्रीफकेस बंद कर उसे अपने पाओ के पास रख दिया. इस दौरान उसने कई बार अपने पाओ पर पाओ चढ़ाए और उतारे जो एक औरत लिए नॉर्मल सी बात है लेकिन रश्मि ने इस तरह से किया कि मुझे उसकी ब्लॅक कलर की पॅंटीस साफ दिखाई दे. 
वो खड़ी हो गयी और झुक कर मुझे फाइल दिखाने लगी. मेने तिरछी नज़रों से देखा कि उसके सफेद मम्मे लो कट के ब्लाउस में से साफ झलक रहे थे. उसने एक काले रंग की पारदर्शी ब्रा पहनी हुई थी. 
"राज इस डील से तुम्हे पहले ही साल में . 5 लॅक्स का फ़ायदा हो सकता है." वो और टेबल पे झुकते हुए बोली. पर मेरा ध्यान उसकी बॅलेन्स शीट देखने में कहाँ था. मेरा ध्यान तो उसकी अनबॅलेन्स्ड चुचियों पे अटका था. 
मेने देखा कि उसके ब्लाउस के उपरी दो बटन खुले थे. मुझे अच्छी तरह याद है कि जब वो ऑफीस में आई थी तो उसके ब्लाउस के सभी बटन बंद थे. ज़रूर उसने वो बटन जब अपनी ब्रीफकेस में से फाइल निकाल रही थी तब खोले होंगे. मुझे ये औरत काफ़ी खेली खाई और समझदार लगी. 
मैं भी इस खेल में उसका साथ देने लगा. उसने मुझे फाइल के एक पन्ने को दिखाते हुई जान बुझ कर अपना पेन ज़मीन पर गिरा दिया. और जब घूम कर वो पेन उठाने के लिए झुकी तो उसकी मस्त चूतड़ ठीक मेरे चेहरे के सामने थे. उसकी मस्त गांद को देख कर मेरे लंड एक दम तन गया. उसने पेन उठाया और फिर टेबल पर झुक गयी. 
में भी अपनी कुर्सी को थोड़ा पीछे खिसका ऐसे बैठ गया जिससे उसे मेरा लंड जो पॅंट में तंबू बनाए हुए था साफ दिखाई दे. पर वो एकदम अंजान बने हुए मुझे पेपर्स समझाने लगी. 
फाइल के पन्ने पलटते हुए उसने अपना एक हाथ मेरे कंधे पर रख दिया. तब मुझे उसके बदन से आने वाले पर्फ्यूम की महेक आई. महेक तो कमरे में पहले से फैली हुई थी किंतु उसके बदन की सुंदरता मे में इतना खोया हुआ था कि महसूस नही कर पाया. 
खुसबु गुलाब की थी या हिना की पता नही पर उसका नज़दीक होना और बदन से उठती खुश्बू मुझे पागल किए दे रही थी. में उसे छूना चाहता था, पर मैं अपने जज्बातों को रोक रहा था. रश्मि मुझे एक एक चीज़ समझा रही थी, और मैं उसके मम्मो की गोलैइओ में खोया उसकी हां में हां मिला रहा था.
मन तो कर रहा था कि उसकी प्यारी गांद पर हाथ फेर दूं, पर बदले में कहीं थप्पड़ ना पड़ जाए सोच कर चुप रह गया. मेने सोचा चलो टाँगो से शुरू करते है. जैसे ही मेने अपनी उंगली धीरे से उसकी टाँगो की छुई, "राज जहाँ तक में समझती हूँ तुम्हारी कंपनी खर्चों के मामले में कुछ ज़्यादा लापरवाह है. हमारी कंपनी एक प्लान के तहत ही खर्चा करती है, ये तुम्हारे काम आएगी. पैसो को पकड़ कर जब्त करना चाहिए ना कि खर्च करना." वो मेरी ओर देखते हुए बोली. 
तब मेने उसके घूटनो को जब्त कर लिया, जब्त नही बल्कि अपनी पूरी हथेली उसके घूटनो पे रख दी. उसे इस बात का अहसास ज़रूर हुआ होगा पर वो फिर अंजान बनते हुए बोली, "राज ये अच्छा समय है, मार्केट में बहोत काम है और तुम अपने सब सपने पूरे कर सकते हो." 
मुझे लगने लगा कि वो भी मुझसे खेल खेल रही है. वो मुझे अपने और कामो के बारे मे बताने लगी और मैं अपना हाथ धीरे धीरे उप्पर बढ़ने लगा. घुटनो से होता हुआ मेरा हाथ अब उसकी जांघों पर था. एरकॉनडिशन चालू होने के बावजूद मुझे गर्मी लगने लगी, मेने अपने बाए हाथ से अपनी टाइ की नाट ढीली की और दूसरे हाथ से उसकी जाँघो को सहलाने लगा. वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराइ और फिर मुझे फाइल दिखाने समझाने लगी. 
मेरा हाथ उपर की ओर बढ़ रहा था और वो अंजान बनी मुझे समझा रही थी. मेरा हाथ अब उसकी जांघों के अन्द्रुनि हिस्से पे रेंग रहा था. अगर वो इस समय मुझे रोकती तो में नही जानता कि मैं क्या करता पर मेने अपने हाथ को हटाया नही. मेरा हाथ अब इसके आगे नही बढ़ सकता था जब तक कि वो अपनी टाँगो को थोड़ा और फैला मुझे रास्ता दे. 
"राज तुम्हारी कंपनी पुराना सॉफ्टवेर यूज़ करती है, हमारी कंपनी के मध्यम से तुम लेटेस्ट टेक्नालजी से काम ले सकोगे. इससे तुम हर लाइन की अन्द्रुनि से अन्द्रुनि जानकारी हासिल कर सकोगे." ये कहते हुई वो अपने ब्रीफकेस से एक फाइल निकालने के लिए झुकी और इस दौरान अपनी टाँगे थोड़ी फैला दी. 
आन्द्रुनि जानकारी हासिल करने के लिए मेरे हाथों को रास्ता मिल चुक्का था. मेने अपना हाथ थोड़ा उपर खिसकाई तो पाया उसकी पॅंटीस पूरी तरह गीली हो चुकी थी. 
"राज हमारी कंपनी के पास एक सॉफ्टवेर है जिससे कंपनी का हर आदमी किसी भी डाटा को चेक कर सकता है. तुम उन डेटा को भी पा सकते हो जो आम इंसान के पाने की हद के बाहर है." उसने अपनी टाँगो को और फैलाते हुए कहा. 
मैं और मेरा हाथ तो किसी और डाटा की तलाश में थे. मेने अपना हाथ उसकी गीली हुई चूत पर पॅंटी के उपर रख दिया. उसकी पूरी पॅंटी गीली थी और मेरी शर्ट भी पसीने में भीग चुकी थी. 
वो अब टेबल पे बैठ चुकी थी, "राज हमारे पास में ऐसे वेब सर्वर्स हैं जो हर दिक्कतों को मिटा सकते है. तुम्हारे मुलाज़िम 24 घंटे किसी भी डाटा को पा सकते है." में उसकी चूत में उंगली किए जा रहा था. 
"रूको पहले रास्ते की दिक्कतों को हटाओ?" मेने धीरे से उसकी चूत को दबा दिया. मेने अपनी उंगलियाँ उसकी पॅंटी के एलास्टिक में फँसा उन्हे नीचे खिसकाना शुरू किया. 
रश्मि अभी भी शान बने हुए मुझे अपनी कंपनी का हर डाटा समझा रही थी. मेने अपनी एक उंगली उसकी चूत मे घुसाइ तो मुझे लगा जैसे कि मेने किसी भट्टी में उंगली डाल दी हो. उसकी चूत से पानी बह रहा था. मैं अपनी दो उंगलियों से उसे चोद रहा था पर उस पर इस बात का बिल्कुल भी असर नही था. मेने उसकी पॅंटी उतार कर ज़मीन पर गिरा दी थी. 
उसकी खुली हुई चूत मुझे इन्वाइट कर रही थी. मेने अपना हाथ बढ़ा उसके टॉप को खोलना चाहा, "राज तुम्हे हमारी कंपनी से काफ़ी फ़ायदे हो सकते हैं, इससे तुम्हारे बिज़्नेस में काफ़ी तरक्की हो सकती है." रश्मि मेरी आँखों में झाँकते हुए बोली. 
मैं और ज़ोर से उसकी चूत में उंगली करने लगा. 
उसने मेरे चेहरे को अपने हाथों में पकड़ पूछा, "अब मेरी कंपनी को खरीदने का और क्या लोगे?" 
मेने देखा कि वो इस डील को ख़त्म ही करना चाहती है, और उसके लिए वो कुछ भी पेश कर सकती है अपने आप को भी. 
मेने फोन उठाया और इनटरकम पर अपनी सेक्रेटरी सीमा का नंबर दबाया, उम्मीद थी कि वो लंच से वापस आ गयी हो. 
"हां राज," 
"सीम क्या तुम हमारे लॉयर के साथ बात कर डॉक्युमेंट्स तय्यार कर सकती हो कि हम म्र्स रश्मि की फर्म को 3 करोड़ में खरीद रहे हैं, एक कन्फर्मेशन लेटर पहले तय्यार कर के ले आओ." 
"अभी लेकर आती हूँ," सीम अपने काम में काफ़ी होशियार थी. 
में रश्मि की स्कर्ट को उपर उठता रहा जब मैं सीमा से बात कर रहा था, अब उसकी जंघे और चूत एक दम नंगी हो चुकी थी. उसकी गुलाबी चूत और झीने झीने भूरे बाल दिखाई दे रहे थे. 
रश्मि मेरी ओर देखते हुए बोली, "राज इस डील का तुम्हे मुझे अड्वान्स देना होगा?" 
"रश्मि क्या अड्वान्स देना होगा?" मेने पूछा. 
"तुम्हे मुझे चोदना होगा. अपना लंड अपनी पॅंट से बाहर निकालो, पिछले एक घंटे से सहन किए जा रही हूँ. जल्दी से अपने लंड को मेरी चूत में डाल कर मुझे जोरों से चोदो." 
जैसा रश्मि ने कहा था में खड़ा हो कर उसके पीछे आ गया. रश्मि टेबल पर झुक कर घोड़ी बन गयी. मेने अपनी पॅंट और अंडरवेर उतार दी. रश्मि ने अपने टाँगे एकदम फैला दी थी जिससे उसकी चूत का मुँह और खुल गया था. 
"तुम मुझे पहले ही इतना गीला कर चुके हो कि तुम्हारा जी चाहे वैसे और ज़ोर से चोद सकते हो." रश्मि ने मेरी और गर्दन घुमा कर कहा. 
मेने अपने लंड को थोड़ी देर उसकी चूत पर रगड़ा और धीरे से अपने सूपदे को अंदर घुसाया. जैसे ही मेरे लंड का सूपड़ा उसकी चूत की दीवारों को चीरते हुए अंदर घुसा उसके मुँह से सिसकारी निकल पड़ी, 
"ऊऊऊऊहह हााआ ओह राज तुम्हारा लंड कितना बड़ा है. मेने सुना था तुम्हारे लंड के बारे में कि काफ़ी बड़ा है और तुम चुदाई भी अछी करते हो." 
"कहाँ सुना तुमने ये?" मेने अपने लंड को पूरा उसकी चूत में घुसाते हुए कहा. 
"राज इस तरह की बातें बहोत जल्दी फैलती है सोसाइटी में. एक औरत से दूसरी औरत तक फिर सड़कों पे. राज सुना है क़ि तुम चोदने मे माहिर हो, औरत को चुदाई का पूरा मज़ा देते हो. और आज तुमसे चुदवा के पता लगा कि जो सुना उससे कहीं बेहतर चोदते हो." रश्मि ने अपने चुतताड पीछे करते हुए कहा. 
में ज़ोर ज़ोर से उसकी चूत में धक्के मार रहा था. वो भी पूरे जोश में अपने चुतताड पीछे धकेल मेरे धक्के का जवाब दे रही थी, "ओह राज मज़ा आ रहा है, और ज़ोर से चोदो फाड़ दो मेरी चूत को." 
मैं और ज़ोर से अपने लंड को उसकी चूत की जड़ तक लंड घुसा धक्के मार रहा था. वो मेरा पूरा का पूरा लंड अपनी चूत में ले रही थी. उसकी चूत बहोत टाइट और गरम थी. मुझे बहोत मज़ा आ रहा था. मेने उसके स्कर्ट को एकदम उपर उठा उसके चुतताड को कस के अपने हाथों से पक्कड़ ज़ोर के धक्के मार रहा था."ऊऊहह हहाा रूको मत चोदते जाओ हााआआं आईसस्स्स्स्ससे हीईीईई ओह राज मेरा छूटने वाला है," वो ज़ोर के धक्के लगा रही थी, मेने उसके पानी का स्पर्श अपने लंड के चारों तरफ महसूस किया तभी मेरी नज़र दरवाज़े पर खड़ी सीमा पर पड़ी. 
सीमा मेरे ऑफीस के बंद दरवाज़े पर खड़ी एक हाथ में रश्मि का लेटर और अपनी स्कर्ट पकड़े हुए थी, और दूसरे हाथ से अपनी खुली चूत में उंगली कर रही थी. रश्मि की नज़र उसपर पड़ी और वो मुस्कुरा दी, समझ गयी कि एक बॉस के कॅबिन में अगर उसकी सेक्रेटरी अपनी चूत में उंगल कर रही है तो कोई मुसीबत नही आने वाली. 
सीमा समझ गयी कि मेने उसे देख लिया है वो मुस्कुराते हुए हमारे करीब आई और हम लोगो को चुदाई करते देखने लगी. मेने रश्मि को चोदना चालू रखा था. सीमा हमारे करीब आई और अपने हाथ रश्मि की गांद पर रख बोली, "राज इसकी गांद कितनी सुदार और प्यारी है, है ना!" 
सीमा ने अपना एक हाथ रश्मि के खुले टॉप के अंदर डाल उसकी चुचियों को सहलाया और उसके निपल मसल दिए, "और सुंदर चुचियाँ भी है." मेने कहा. 
"राज रश्मि बहोत सुन्दर है, क्या इसकी चूत भी इसकी चुचियों की तरह कसी है?" 
"हां बहोत ही टाइट चूत है इसकी." मेने ज़ोर का धक्का मारते हुए कहा. 
"तुम्हे पता है आज मैं खाना खाने कहाँ गयी थी?" 
ये क्या चुदाई के बीच में ये खाना का रोना ले के बैठ गयी मैं सोचने लगा, "नही मुझे नही पता." में थोड़ा उखड़ते हुए बोला. 
"मैं आज सेयेज़र्ज़ पॅलेस गयी थी" 
में सीमा को सुन रहा था और रश्मि ने अपनी चूत को सिकोड 

लंड को अपनी चूत की गिरफ़्त मे ले लिया. रश्मि सिसकारियाँ भरते हुए मेरे लंड के पानी को निचोड़ रही थी. उसने एक हाथ बढ़ा कर सीमा के टाँगो पर से रेंगते हुए उसकी चूत पर रख दिया. 
"ओह राज देखो तो ये मेरी चूत से खेल रही है. रश्मि ने अपनी दो उंगली मेरी चूत मे डाल कर अपने अंगूठे से मेरे चूत के दाने को सहला रही है." 
"तुम मुझे सेआसोर्स पॅलेस के बारे में बता रही थी?' 
"गोली मारो सेआसोर्स पॅलेस को इस वक़्त, जब हम इससे निपट लेंगे तब में तुम्हे बताउन्गि." वो अपनी कमर हिलाते हुए बोली. 
रश्मि अपनी उंगलियों से सीमा की चूत को चोद रही थी, सीमा की साँसे भी अब उखाड़ने लगी थी. सीमा ने अपना हाथ बढ़ा रश्मि की चूत पर रख दिया. मेरा लंड रश्मि की चूत में घुसते हुए मेरा लंड सीमा की उंगलियों से टकराता तो एक अजीब ही सनसनी मच जाती. अब वो रश्मि को चूत को सहला रही थी. 
"क्या तुम्हे मेरी चूत अच्छी लगी राज?' उसने ज़ोर से मेरे लंड को भींचते हुए अपना पानी मेरे लंड पर छोड़ दिया. मेने भी दो तीन धक्के ज़ोर के मार के अपना सारा पानी उसकी चूत में उंड़ेल दिया. 
मेने अपना लंड रश्मि की चूत से बाहर निकाला. मेरे लंड से छू कर रश्मि की चूत का पानी ज़मीन पर टपक रहा था. रश्मि भी जब सीधा होना चाही तो सीमा ने उसे रोक दिया. सीम उसके पीछे आ अपनी दो उंगली रश्मि की चूत में घुसा दी. थोड़ी देर अपनी उंगली उसकी चूत में घुमाने के बाद, वीर्य से लिपटी अपनी उंगली उसने रश्मि को चूसने के लिए दी. 
रश्मि ने बिना जीझकते हुए अपने मुँह के अंदर तक लेकर उसकी उंगलियों को चूसा और चॅटा. सीमा ने अपनी उंगलियाँ बाहर खींच ली. रश्मि खड़ी हो कर अपने स्कर्ट को सीधा करने लगी. सीमा ने रश्मि की पॅंटी जो ज़मीन पर पड़ी थी, उसे उठा कर सूंघने लगी. 
रश्मि की और देख आँख मार कर बोली, "तुम्हारी चूत की खुश्बू सही में बड़ी मतवाली है." कहकर उसने पॅंटी रश्मि को पकड़ा दी. रश्मि ने पॅंटी पहन अपने कपड़े ठीक कर लिए. रश्मि ने अपनी स्कर्ट और ब्लाउस भी ठीक किया पर अपने ब्लाउस के दो बटन खुले ही रहने दिए. 
उसने डील का लेटर उठाया और मेरे सामने रख दिया. मेने साइन करके उसे वो लेटर दे दिया. उसने वो लेटर ले कर अपने ब्रीफकेस में रख उसे बंद किया और खड़ी हो गयी. "थॅंक यू राज. उमीद हमारा रिश्ता आज के बाद और मजबूत होगा." कहकर वो वहाँ से चली गयी. 
"कमाल की औरत है, ऐसी औरतें कम ही देखने को मिलती है." सीमा मेरी ओर देखते हुए बोली. 
"हां तुम सही कह रही हो, इतना आत्मविश्वास किसी में मे कम ही होता है. रश्मि उन औरतों में से है, जो चाहा वो हर हाल में हासिल करती है." मेने सीमा की बात का जवाब दिया. 
"मैं शुरू से ही तुम्हे देख रही थी. जब तुम रश्मि को चोद रहे थे तो मुझ से रहा नही गया, मैं भी इस सुंदर औरत की चूत देखना चाहती थी, इसीलिए चली आई." 
"कोई बात नही, अच्छा तुम सेआसेर्स पॅलेस के बारे में कुछ बता रही थी?" मेने सीमा से पूछा. 
"में वहाँ पे टेबल पे बैठी सूप पी रही थी कि तभी एक बहुत ही सुंदर लड़की जिसका नाम चाँदनी था मेरे पास आई और पूछा कि क्या वो वहाँ बैठ सकती है. बड़ी ही अजीब लड़की थी हम लोग बात कर रहे थे और उसी दौरान उसने अपना हाथ मेरी जांघों पर रखा और मेरी चूत से खेलने लगी." 
"फिर क्या हुआ?" मेने पूछा. 
"उसने मुझसे लॅडीस वॉश रूम में चलने को कहा, वो इतनी सुंदर थी और साथ ही उसने मेरी चूत को सहला सहला के इतना गरम कर दिया था की में अपने आप को रोक नही पाई और उसके पीछे वॉश रूम में आ गयी." सीमा अपनी चूत खुजाते हुए बोली, "वहाँ उसने मेरी चूत को इतना कस कस के चूसा और चटा की मेरी चूत ने तीन बार पानी छोड़ा. मुझे देर हो रही थी इसलिए में उसकी चूत का स्वाद नही चख पाई." 
"उम्म्म काफ़ी दिलचस्प लड़की होगी." 
सीमा वापस अपने कॅबिन में जाने के लिए उठी, "वैसे राज वो फरोज़ और फरोज़ में काम करती है. मेने उसे अपनी कंपनी में काम करने के लिए मना लिया है. वो कल से मेरी असिस्टेंट के रूप में हमें जाय्न कर रही है, तुम चाहो तो सुबह उसका इंटरव्यू ले सकते हो." 
मैं भी उस लड़की की सुंदर चूत और बदन के ख़यालों में खो गया. 

समाप्त
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:28 PM,
#58
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
मेरी दीदी की ननद --1
मेरी फेमिली में में हूँ माताज़ी, पिताजी हें और मुझ से तीन साल बड़ी दीदी है जिस का नाम है शालिनी. मैं और दीदी एक दूजे से बहुत प्यार करते हें. भाई बहन से ज़्यादा हम दोस्त हें. हम एक दूजे की निजी बातें जानते हें और मुश्केली में राय लेते देते हें. सेक्स के बारे में हम काफ़ी खुले विचार के हें, हालाँकि हम ने आपस में चुदाई नहीं की है जब में छोटा था तब अक्सर वो मुज़े नहलाती थी. उस वक़्त मात्र कुतूहल से दीदी मेरी लोडी के साथ खेला करती थी. मुज़े गुदगुदी होती थी और लोडी कड़ी हो जाती थी. जैसे जैसे उमर बढ़ती चली तैसे तैसे हमारी छेड़ छाड़ बढ़ती चली. ये बिना बनी तब मैं सत्रह साल का था और वो बीस साल की. तब तक मेने उस की चुचियाँ देख ली थी, भोस देख ली थी और उस ने मेरा लंड हाथ में लेकर मूट मार लिया था. चुदाई क्या है कैसे की जाती है क्यूं की जाती है ये सब मुझे उस ने सिखाया था.कहानी शुरू होती है शालिनी की शादी से. पिताजी ने बड़ी धाम धूम से शादी मनाई. बारात दो दिन महेमान रही. खाना पीना, गाना बजाना सब दो दिन चला. जीजाजी शैलेश कुमार उस वक़्त बाइस साल के थे और बहुत ख़ूबसूरत थे. दीदी भी कुछ कम नहीं थी. लोग कहते थे की जोड़ी सुंदर बनी हैबारात में सोलह साल की एक लड़की थी, पारूल, जीजू की छोटी बहन दीदी की ननद. वे भाई बहन भी एक दूजे से बहुत प्यार करते थे. पारो पाँच फूट लंबी थी, गोरी थी और पतली थी. गोल चहेरे पैर काली काली बड़ी आँखें थी/ बाल काले और लंबे थे. कमर पतली थी और नितंब भारी थे. कबूतर की जोड़ी जैसे छोटे छोटे स्तन सीने पर लगे हुए थे. मेरी तरह वो बचपन से निकल कर जवानी में क़दम रख रही थी.क्या हुआ, कुछ पता नहीं लेकिन पहले दिन से ही पारो मुझ से नाराज़ थी. जब भी मुझ से मिलती तब डोरे निकालती और हून्ह--- कह कर मुँह मुचकोड़ कर चली जाती थी. एक बार मुझे अकेले में मिली और बोली : तू रोहित हो ना ? पता है ? मेरे भैया तेरी बहन की फाड़ के रख देंगे .ऐसी बालिश बात सुन कर मुझे ग़ुस्सा आ गया. भला कौन दूल्हा अपनी दुल्हन की ज़िली तोड़े बिना रहता है ? अपने आप पर कंट्रोल रख कर मैने कहा : तू भी एक लड़की हो, एक ना एक दिन तेरी भी कोई फाड़ देगा .मुँह लटकाए वो चली गयी .दीदी ससुराल से तीन दिन बाद आई. मैने मा को उसे कहते सुना : डरने की कोई बात नहीं है कभी कभी आदमी देर लगाता है सब ठीक हो जाएगा .अकेली पा कर मैने उसे पूछा : क्यूं री ? साजन से चुदवा के आई हो ना ? कैसा है जीजू का लंड ? बहुत दर्द हुआ था पहली बार ?दीदी : कुछ नहीं हुआ है रोहित. वो पारूल अपने भैया से छूटती नहीं, रोज़ हमारे साथ सोती है तेरे जीजू ने एक बार अलग कमरे में सोने को कहा तो रोने लगी और हंगामा मचा दिया.मैं समझ गया, दीदी चुदाये बिना आई थी. पाँच सात दिन बाद वो फिर ससुराल गयी और एक महीने के बाद आई. अब की बार उसे देख कर मेरा दिल डूब गया. उस के चहरे पर से नूर उड़ गया था, कम से कम पाँच किलो वज़न घट गया था, आँखें आस पास काले धब्बे पड़ गये थे. उस का हाल देख कर माताज़ी रो पड़ी. दीदी ने मुझे बताया की वो अब भी कँवारी थी, जीजू ने एक बार भी चोदा नहीं था. मैने पूछा : जीजू का लंड तो ठीक है ना, खड़ा होता है या नहीं ?दीदी : वो तो ठीक है नहाते वक़्त मैने देखा है रात को मौक़ा नहीं मिलता.मैं : हनीमून पर चले जाओ ना .दीदी : तेरे जीजू ने ये भी ट्राय कर देखा. वो साथ चलने पर तुली.मैं : सच कहूँ ? तेरी ये ननद को चाहिए है एक मोटा तगड़ा लंड. एक बार चुदवायेगी तो शांत हो जाए गी.दीदी : तेरे जीजू भी यही कहते हें. लेकिन वो अभी सोलह साल की है कौन चोदेगा उसे ?मैने शरारत से कहा : मैं चोद लूं ?दीदी हस कर बोली : तू क्या चोदेगा ? तेरी तो नुन्नी है चोद ने के लिए लंड चाहिए.मैने पाजामा खोल कर मेरा लौड़ा दिखाया और कहा : ये देख. नुन्नी लगती है तुझे ? कहे तो अभी खड़ा कर दूं. देखना है ?दीदी : ना बाबा ना. सलामत रहे तेरा लंडमैं : मान लो की मैने पारूल को चोद भी लिया, जीजू को पता चले की मैने उसे चोदा है तो तेरे पैर ख़फा नहीं होगे ?दीदी : ना, वो भी उन से थक गये हें. कहते थे की कोई अच्छा आदमी मिल जाय तो उसे हर्ज नहीं है पारूल की चुदाई में .मैं : तो, दीदी, मुझे आने दे तेरे घर. ट्राय करेंगे, कामयाब रहे तो सही वरना कुछ नहीं.दीवाली के दिन आ रहे थे. स्कूल में डेढ़ महीने की छुट्टियाँ पड़ी. दीदी ने जीजू से बात की होगी क्यूं की उन का ख़त आया पिताजी के नाम जिस में मुझे दीवाली मनाने अपने शहर में बुलाया था. मैं दीदी के ससुराल चला आया. मुझे मिल कर दीदी और जीजू बहुत ख़ुश हुए. हर वक़्त की तरह इस बार भी पारो हून्ह --- कर के चली गयीजीजू सिविल कोर्ट में नौकरी करते थे और अपने पुरखों के मकान में रहते थे. मकान पुराना था लेकिन तीन मज़ले वाला बड़ा था. आस पास दूसरे मकान जो थे वो भी पुराने थे लेकिन ख़ाली पड़े थे. शहर के बीच होने पर भी जीजू ने काफ़ी प्राईवसी पाई थी.

यहाँ आने के पहले दिन मुझे पता चला की जीजू के फ़ैमीली में वो और पारो दोनो ही थे. कई साल पहले जब उन के माता पिता का देहांत हुआ तब पारो छोटी बच्ची थी. उस दिन से जीजू ने पारो को अपनी बेटी की तरह पाला पोसा था. उस दिन से ही पारो अपने भैया के साथ सोती थी और इतनी लगी हुई थी की दीदी के आने पैर छूटना नहीं चाहती थी. दीदी की समस्या हल कर ने का कोई प्लान मैने बनाया नहीं था. मैं सोचता था की क्या किया जाय. इतने में जीजू हम सब को छोटी सी ट्रिप पर ले गये और मेरा काम बन गया.शहर से क़रीबन तीस माइल दूर ग़लटेश्वर नाम की एक जगह है मही सागर नदी किनारे एक सदीओ पुराना शिव मंदिर है आसपास नेचारल सेटिंग है कई लोग पीकनिक के वास्ते यहाँ आते हें. आने जाने में लेकिन सारा दिन लगता हैमैने एक अच्छा सा केमेरा ख़रीदा था जो मैं हमेशा साथ रखता था. इस पीकनिक पर वो ख़ूब काम आया. मैने जीजू और दीदी की कई फ़ोटू खीछी. मैं जान बुज़ कर पारो की उपेक्षा करता रहा, उस के जानते हुए उस की एक भी फ़ोटू नहीं ली. हालाँकि मैने उस की चार पिक्चर ली थी जिस का उस को पता नहीं चला था.अचानक मेरी नज़र मंदिर की बाहरी दीवारों पर जो शिल्प था उस पर पड़ी. मैं देखता ही रह गया. वो शिल्प था चुदाई करते हुए कपल्स का. अलग अलग पोज़ीशन में चुदाई करती हुई पुतलियाँ इतनी आबेहुब थी की ऐसा लगे की अभी बोल उठेगी. जीजू से छुपा छुपी मैं फटा फट उन शिल्प के फ़ोटू खींच ने लगा. इतने में दीदी आ गयी चुदाई करते प्रेमी के शिल्प देख वो उदास हो गयीपारो मुझ से क़तराती रही. सारा दिन इधर उधर घुमे फिरे और शाम को घर आएदूसरे दिन मैने मेरे दोस्त के स्टूडिओ में फ़िल्म्स दे दी, डेवेलप और प्रिंट निकालने के लिए तीसरे दिन दीदी और जीजू को कुछ काम के वास्ते बाहर जाना पड़ा, सुबह से गये रात को आने वाले थे. ट्यूशन क्लास की वजह से पारो साथ जा ना सकी. दोपहर के दो बजे वो क्लास से आई. फ़ोटो स्टूडिओ रास्ते में आता था इस लिए वो पिक्चर्स लेते आई. आते ही उस ने पेकेट मेरे तरफ़ फेंका और रसोईघर में चली गयी चाय बनाने. मैं उस के पीछे पीछे गया. अकडी हुई मेरी ओर पीठ कर के वो खड़ी थी.मैने कहा : मेरे लिए भी चाय बनाना.ग़ुस्से में वो बोली : ख़ुद बना लेना. नौकर नहीं हूँ तुमारी.मैने पास जा कर उस के कंधे पर हाथ रक्खा. तुरंत उस ने छिड़क दिया और बोली : दूर रहो मुझ से. छुओ मत. मुझे ऐसी हरकतें पसंद नहीं.मैने धीरे से कहा : अच्छा बाबा, माफ़ करना. लेकिन ये तो बताओ की तुम मुझ से इतनी नाराज़ क्यूं हो ? क्या किया है मैने ?पारो : अपने आप से पूछिए क्या नहीं किया है आप ने.में : अच्छा बाबा, क्या नहीं किया है मेने?अब तक वो मुज़ से मुँह फेरे खड़ी थी. पलट कर बोली : बड़े भोले बनते हो. सारी दुनिया के फ़ोटू निकाल ते हो, यहाँ तक की वो मंदिर के पत्थरों भी बाक़ी ना रहे. एक में हूँ जिस को तुम टालते रहे हो. मेरी एक भी फ़ोटू नहीं खींची तुमने. आप का क़ीमती केमेरा बिगड़ जाय इतनी बद सूरत हूँ ना में ?में : कौन कहता है की मेने तुमारी तस्वीर नहीं खींची ? भला, इतनी सुंदर लड़की पास हो और फ़ोटू ना निकाले ऐसा कौन मूर्ख होगा ?पारो : मुज़े उल्लू मत बनाईए. दिखाइए मेरी फ़ोटोमें : पहले चाय पीलाओ.

उस ने दोनो के लिए चाय बनाई. चाय पी कर हम मेरे कमरे में गये और फ़ोटो देखने बैठे. में पलंग पर बैठा था. वो मेरी बगल में आ बैठी, थोड़ी सी दूर. उस ने पतले कपड़े का फ़्रॉक पहना था जिस के आरपार अंदर की ब्रा साफ़ दिखाई दे रही थी. उस के बदन से मस्त ख़ुश्बू आ रही थी. सूंघ कर मेरा लौड़ा जाग ने लगा.पहले हम ने दीदी और जीजू की फ़ोटू देखी. बाद में पारो की चार फ़ोटू निकली. अपनी पिक्चर देखने के लिए वो नज़दीक सरकी. मेरे कंधे पर हाथ रख वो ऐसे बैठी की हमारी जांघें एक दूजे से सट गयी मैं मेरी पीठ पर उस के स्तन का दबाव महसूस करने लगा. बेचारा मेरा लंड, क्या करे वो ? खड़ा हो कर सलामी दे रहा था और लार टपका रहा था. बड़ी मुश्किल से मैने उसे छुपाए रक्खा.पारो की चार फ़ोटो में से तीन सीधी सादी थी जिस में वो हसती हुई पकड़ी गयी थी. बड़ी प्यारी लगती थी. चौथी फ़ोटू में वो नीचे झुकी हुई थी और पवन से दुपट्टा सीने से हट गया था. उस की चुचियाँ साफ़ दिखाई दे रही थी. पिक्चर देख वो शरमा गयी और बोली : तुम बड़े शैतान हो.मैं : पसंद आया मेरा काम ?मेरी जाँघ पर हाथ रख कर उस ने कहा : जी, पसंद आया.मैं : तो ओर फ़ोटू खींच ने दो गी ?पारो : हाँ हाँ लेकिन ये बाक़ी की फ़ोटू किस की है ?मैं : रहने दे. ये फ़ोटू तेरे देखने लायक नहीं हैपारो : क्या मतलब ? नंगी फ़ोटू है क्या ? देखूं तो मैंइतना कह कर अचानक वो फ़ोटू लेने के लिए झपटी. मैने हाथ हटा दिया. इस छीना झपटी में वो गिर पड़ी मेरी बाहों में. वो संभल जाए इस से पहले मैने उसे सीने से लगा लिया. झटपट वो संभल गयी शर्म से उस का चहेरा लाल लाल हो गया और उस ने सर झुका दिया. मेरे पहलू से लेकिन वो हटी नहीं. मैने मेरा हाथ उस की कमर में डाल दिया. उंगलियाँ मलते मलते दबे आवाज़ से वो बोली : क्यूं सताते हो ? दिखाओ ना.मेरे पास कोई चारा नहीं था. चुदाई करते हुए शिल्प की पिक्चर्स मैं दिखाने लगा. मुस्कराती हुई, दाँतों में उंगली चबा ती हुई वो देखती रही.अंत में बोली : बस ? यही था ? ये तो कुछ नहीं है भैया के पास एक किताब है जिस में सच्चे आदमी और औरतों के फ़ोटू हैमैं : तुझे कैसे मालूम ?पारो : मैने किताब देखी है देखनी ही तुझे ?मैं : हाँ --- हाँ ----ज़रूर.खड़ी हो कर वो बोली : चलो मेरे साथ.अब दिक्कत क्या थी की मेरा लंड पूरा तन गया था. निकार के बावजूद उस ने मेरे पाजामा का तंबू बना रक्खा था. इस हालत में मैं कैसे चल सकूँ ?मैने कहा : मैं बैठा हूँ तू किताब ले आवो किताब ले आई और बोली : एक दिन जब मैं भैया के कमरे की सफ़ाई कर ररही टी तब मैने पलंग नीचे ये पाई. मेरे ख़याल से भाभी ने भी देखी हैमें : दीदी देखे या ना देखे, क्या फ़र्क पड़ेगा ? तू जो उन के बीच आ रही हो.पारो : में उन के बीच नहीं आ रही हूँ देख रोहित, भैया मेरे सर्वस्व है कोई मुज़ से उन्हें छीन ले ये में बरदास्त नहीं करूंगी, चाहे वो भाभी हो या ओर कोई.मैं : अरी पगली, दीदी कहाँ जाएगी तेरे भैया को छीन ले कर ? भैया के साथ वो भी तेरी हो जाएगी. कब तक तू कबाब में हड्डी बनी रहेगी ?पारो : मैं जानती हूँमैं : क्या जानती होपारो : ---- की मेरी वजह से भैया वो नहीं कर पाए हें.मैं : वो माइने क्या ? मैं समझा नहीं.पारो : ख़ूब समझते हो और भोले बन रहे हो.मैं : मैं तो बुद्धू हूँ मुझे क्या पता ?वो शरमा राही थी फिर भी बोली : मज़ाक छोड़ो. देखो, भैया से मैने सिर्फ़ एक चीज़ माँगी हैमें : वो क्या ?उस ने नज़रें फेर ली और बोली : मैने कहा, एक बार, सिर्फ़ एक बार मुझे देखने दे ---- .में : क्या देखने दे ?पाओ : शैतान, जानते हुए भी पूछते हो.मैं : नहीं जानता मैं साफ़ साफ़ बताओ ना.पारो : वो, वो जो हर दूल्हा दुल्हन करते हें सुहाग रात कोमैं : मुझे ये भी नहीं पता. क्या करते हें ?पारो : हाय राम, चु --- चु --- मुझ से नहीं बोला जातामैं : ओह, ओ, चुदाई की कह रही हो ?अपना चहेरा छुपा कर सिर हिला कर उस ने हा कही.मैं : तुझे दीदी और जीजू की चुदाई देखनी है एक बार, इतना ही ?उस ने मुँह फेर लिया और हाँ बोली.मैं : जीजू ने क्या कहा ?पारो : भाभी ना बोलती हैमैं : मैं उन को समझा उंगा. लेकिन एक ही बार, ज़्यादा नहीं. और एक बात पूछु ? उन को चोद ते देख कर तुम एक्साइट हो जाओ गी तो क्या करोगी ?पारो : नहीं बता उगी तुझे.

मैने आगे बात ना चलाई. पलंग पैर बैठ मैने उसे पास बुला लिया. वो मेरी बगल में आ बैठी. मैने किताब उस के हाथ में रख दी. मेरा हाथ उस की कमर में डाला. उस ने किताब खोली.किताब के पहले पन्ने पैर नर्म लोडा और टटार लंड के चित्र थे. देख कर पारो बोली : ऐसा ही होता है क्या बोले इस को ? शीश्न ? मैने देखा हैमेरा लंड तन कर ठुमके ले रहा था. मैने कहा : इस को लोडा कहते हें और इस को लंड. कहाँ देखा है तुम ने ?वो फिर शरमाई और बोली : किसी को ना कहने का वचन दे.में : वचन दिया.पारो : मैने भैया का देखा है कैसे वो बाद में बतौँगी.मेरा हाथ उस की पीठ सहला ने लगा. वो मेरे और निकट आई. हम दोनो उत्तेजित होते चले थे लेकिन उस वक़्त हमें भान नहीं था.दूसरे पन्ने पैर बंद और चौड़ी की हुई भोस के फ़ोटू थे .जान बुज़ कर मैने पूछा : ये भी ऐसी ही होती है क्या ? क्या कहते हें उसे ?सर झुका कर वो बोली : भोस. ऐसी ही होती है भाभी की भी ऐसी ही होगी.मैं : तेरी कैसी है ? देखने देगी मुज़े ?पारो : तुम जो तुमरा दिखाओ तो मैं मेरी दिखा उंगी.मैं खड़ा हो गया. नाडी चोद पाजामा उतरा और लंड आज़ाद किया.थोड़ी देर ताज़जुबई से वो देखती रही, फिर बोली : मैं छ्छू सकती हूँ ?मैं : क्यूं नहीं ?उंगलिओं के नोक से उस ने लंड छुआ. कोमल उंगलिओं का हलका स्पर्श पा कर लंड ओर कड़ा हो गया और ठुमका लेने लगा.पारो ; ये तो हिलता हैमैं : क्यूं नहीं ? तुझे सलाम कर रहा हैपारो : धत्त,मैं : मुट्ठि में ले तो ज़रा.उस ने मुट्ठि से लंड पकड़ा तो ठुमक ठुमक कर के वो ज़्यादा कड़ा हो गया.उस की मद होशी बढ़ ने लगी साँसें तेज़ चल ने लगी चहेरा लाल हो गया.वो बोली : हाय रे, इतना कड़ा क्यूं हुआ है ? दर्द नहीं होता ऐसे तन जाने से ?मैं : ऐसे कड़ा ना हो तो चूत में कैसे घुस सके और कैसे चोद सके ?पारो : ये तो लार भी निकालता हैवाकई मेरा लंड अपनी लार से गिला होता चला था.मैं : ये लार नहीं है अपनी प्यारी चूत के लिए वो आँसू बहा रहा हैमुट्ठि से लंड दबोच कर वो बोली : रोहित, बड़ा शैतान है तू.मैने उसे बाहों में भर लिया और कहा : ऐसे ऐसे मुठ मार.वो डरते डरते मुठ मारने लगी उस के गोरे गाल पैर मैने हलकी किस कर दी और कहा : मझा आता है ना ?जवाब में उस ने मेरे गाल पर किस की.मैं : अब सोच, जब ये चूत में घुस कर ऐसा करे तब कितना आनंद आता होगा.वो बोली नहीं, उस ने मुट्ठि से लंड मसल डाला.मैने लंड छुड़ा कर कहा ; अब तेरी बारी .शरमाती हुई वो खड़ी हो गयी फ़्रॉक नीचे हाथ डाल कर निकर निकल ने लगी मैने कहा : ऐसे नहीं, पलंग पर लेट जा.वो चित लेट गयी शरम से नज़र चुरा कर उस ने फ़्रॉक उपर उठाया.उस की गोरी गोरी चिक्नी जांघें खुली हुई. देख कर मेरा लंड फन फनाने लगा. उस ने सफ़ेद पेंटी पहनी थी. भोस के पानी से पेंटी गीली हो कर चिपक गयी थी. कुले उठा कर उस ने पेंटी उतारी. तुरंत उस ने हाथ से भोस ढक दी.मैने कहा : ऐसे छुपा ओगी तो मैं कैसे देख पा उंगा ?उसकी कलाई पकड़ कर मैने उस के हाथ हटा दिए उस की छोटी सी भोस मेरे सामने आई .काले घुंघराले झांट से ढकी उस की भोस छोटी थी. मोन्स उँची थी. बड़े होठ मोटे थे और एक दूजे से लगे हुए थे. तीन इंच लंबी दरार चिकाने पानी से गीली हुई थी. मैने हलके से छुआ. तुरंत उस ने मेरा हाथ हटा दिया मैने कहा : तूने मेरा लंड पकड़ा था, अब मुझे तेरी छुने दे.मैने फिर भोस पर हाथ रखा. उस ने मेरी कलाई पकड़ ली लेकिन विरोध किया नहीं. उंगलिओं से बड़े होत चौड़े कर मैने भोस का भीतरी हिस्सा देखा. किताब में दिखाई थी वैसी ही पारो की भोस थी. जवान कँवारी लड़की की भोस मैं पहली बार देख रहा था. छोटे होठ नाज़ुक और पतले और जाँवली रंग के थे. दरार के अगले कोने में एक इंच लंबी टटार क्लैटोरिस थी. क्लैटोरिस का छोटा मत्था चेरी जैसा दिखाई दे रहा था. दरार के पिछले हिस्से में था चूत का मुँह जो गिला गिला हुआ था. मैने उंगली के हलके स्पर्श से दरार को टटोला. जैसे मैने क्लैटोरिस को छुआ वो झटके से कूद पड़ी. मैने चूत का मुँह छुआ और एक उंगली अंदर डाली. उंगली योनी पटल तक जा सकी
क्रमशः.............................
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:29 PM,
#59
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
मेरी दीदी की ननद --2

गतांक से आगे..................
हम दोनो काफ़ी उत्तेजित हो गये थे. उस ने आँखें बंद कर दी थी. मुझे यहाँ तक याद है की अपनी बाहें लंबी कर उस ने मुझे अपने बदन पर खींच लिया था, इस के बाद क्या हुआ और कैसे हुआ वो मुझे याद नहीं. वो जब चीख पड़ी तब मुझे होश आया की मैं उस के उपर लेटा था और मेरा लंड झिल्ली तोड़ कर आधा चूत में घुस गया था. वो मुझे धकेल कर कहती थी : उतर जाओ, उतर जाओ, बहुत दर्द होता हैमैने उस के होठ चूमे और कहा : ज़रा धीरज धर , अभी दर्द कम हो जाएगा.वो बोली : तू क्या कर रहा है ? मुझे चोद रहा है ?मैं : ना, हम एक दूजे को चोद रहें हें.पारो : मुझे गर्भ लग जाएगा तो ?मैं : कब आई थी तेरी माहवारी ?पारो : आज कल में आनी चाहिए.मैं : तब तो डर ने की कोई बात नहीं है कैसा है अब दर्द ?पारो : कम हो गया हैमैं : बाक़ी रहा लंड डाल दूं अब ?वो घबड़ा कर बोली : अभी बाक़ी है ? फिर से दुखेगा ?मैं : नहीं दुखेगा. तू सर उठा कर देख, मैं होले होले डाल उंगा.मैं हाथों के बल अध्धर हुआ. वो हमारे पेट बीच देखने लगी हलका दबाव से मैने पूरा लंड उस की चूत में उतार दिया.अब हुआ क्या की मेरी एक्सात्मेंट बहुत बढ़ गयी थी. दीदी के घर आ कर मुठ मार ने का मौक़ा मिला नहीं था. बड़ी मुश्किल से मैं अपने आप को झड़ ने से रोक रहा था. ऐसे में पारो ने चूत सिकोडी. मेरा लंड डब गया. फिर क्या कहना ? धना धन धक्के शुरू हो गये मैं रोक नहीं पाया. पारो की परवाह किए बिना मैं चोद ने लगा और आठ दस धक्के में झड़ पड़ा.उस ने पाँव लंबे किया और मैं उतरा. उस ने भोस पर पेंटी दबा दी. चूत से ख़ून के साथ मिला हुआ ढेर सारा वीर्य निकल पड़ा. बाथरूम में जा कर हम ने सफ़ाई कर लीवो रो ने लगी मैने उसे बाहों में भर लिया, मुँह चूमा और गाल पर हाथ फ़िरया. वो मुज़ से लिपट कर रोती रही.मैं : क्यूं रोती हो ? अफ़सोस है मुझ सेचुदाई की इस बात का ?मेरे चहेरे पर हाथ फिरा कर बोली : ना , ऐसा नहीं हैमैं : बहुत दर्द हुआ ? अभी भी है ?पारो : अभी नहीं है उस वक़्त बहुत दर्द हुआ. मुझे लगा की मेरी ---- मेरी ------ चूत फटी जा रही है लेकिन तू इतनी जल्दी में क्यूं था ? तेरा बदन अकड गया था और तू ने मुझे भिंस डाला था. और --- तेरा ये --- ये --- लंड कितना मोटा हो गया था ? क्या हुआ था तुझे ?मैं : इसे ओर्गाझम कहते हें, जिस वक़्त आदमी सब कुछ भूल जाता है और अदभुत आनंद मेहसूस करता हैपारो : लड़कियों को ओर्गाझम नहीं होता ?में : क्यूं नहीं. तुझे मझा ना आया ?पारो : तू चोद ने लगा तब भोस में गुदगुदी होने चली थी, लेकिन तू रुक गया.मैं : अगली बार चोदेन्गे तब मैं तुझे ओर्गाझम करवा उंगा.पारो : अभी करो ना. देखो तेरा ये फिर से खड़ा होने लगा हैमैं : हाँ लेकिन तेरी चूत का घाव अभी हरा है मिट ने तक राह देखेंगे, वरना फिर से दर्द होगा और ख़ून निकलेगा.मेरा लंड फिर टन गया था. पारो ने उसे मुट्ठि में थाम लिया और बोली : होने दो जो हॉवे सो. मुझे ये चाहिए ------मैं ना कैसे कहूँ भला ? मुझे भी चोद ना था. मैने किताब निकली. इन में एक फ़ोटू ऐसा था जिस में आदमी नीचे लेटा था और औरत उस की जांघें पर बैठी थी. मैने ये फ़ोटू दिखा कर कहा : तू ऐसा बैठ सकोगी ?पारो : हाँ , लेकिन इस में आदमी का वो कहाँ है ?मैं : वो औरत की चूत में पूरा घुसा है इस लिए दखाई नहीं देता. आ जा.मैं चित लेट गया. अपने पाँव चौड़े कर वो मेरी जांघें पर बैठ गयी मैने लंड सीधा पकड़ रक्खा, उस ने चूत लंड पर टिकाई. आगे सीखा ने की ज़रूरत ना थी. कुले गिरा कर उस ने लंड चूत में ले लिया. लंड और चूत दोनो गिले थे इस लिए कोई दिक्कत ना हुई. पूरा लंड घुस जाने पर वो रुकी. लंड ने ठुमका लगाया. उस ने चूत सिकोडी. नितंब उठा गिरा कर वो चोद ने लगीचौड़े किए गये भोस के होठ और बीच में टटार क्लैटोरिस मैं देख सकता था. मैने अंगूठा लगा कर क्लैटोरिस सहलाई. आठ दस धक्के में वो थक गयी और मुझ पर ढल पड़ी.लंड को चूत में दबाए रख कर मैने उसे बाहों में भर लिया और पलट कर उपर आ गया. तुरंत उस ने जांघें पसारी और उपर उठा ली. दो तीन धक्के मार कर मैने पूछा : दर्द होता है ?पारो ने ना कही. मैं धीरे गहरे धक्के से चोद ने लगा. पूरा लंड निकाल ता था और घकच से डाल देता था. पारो अपने नितंब हिला ने लगी और मुँह से सी सी सी कर ने लगी योनी में फटाके होने लगे. मैने धके की रफ़्तार बढ़ाई.वो बोली : उसस उसस मुझे कुछ हो रहा है रोहित, ज़ोर से चोदो मुझे.मैं घचा घच्छ, घचा घच्छ धक्के से उसे चोद ने लगा.अचानक उसे ओर्गाझम हो गया. ओर्गाझम दौरान मैं रुका नहीं, धके देता चला. वो बेहोश सी हो गयी ओर्गाझम शांत होने पर उस की चूत की पकड़ क़म हुई. मैने अब धीरे से पाँच सात गहरे धके लगाए और अंत में लंड को चूत की गहराई में पेल कर ज़ोर से झरा.
-  - 
Reply
02-25-2019, 01:29 PM,
#60
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
एक दूजे से लिपट कर हम थोड़ी देर पड़े रहे. इतने में दीदी और जीजू आ गये फटा फट हम ने ताश की बाज़ी टेबल पर लगा दी. जब जीजू ने पूछा की हम ने क्या किया तब पारो ने फिर मुँह माचकोड़ा -- हून्ह -- कहते हुए. मैने कहा : हम ताश खेलते थे, पारो एक बार भी जीती नहीं.रात का खाना खा कर सब सो गये आज पहली बार पारूल अपने भैया से अलग कमरे में सोई. मैं बिस्तर पड़ा लेकिन नींद नहीं आई. सोच ने लगा, क्या मैने पारो को चोदा था या कोई सपना था ? उस की चूत याद आते ही नर्म लोडा उठाने लग ता था और उस में हल्का सा मीठा दर्द होता था. दर्द से फिर लोडा नर्म पड़ जाता था. इन से तसल्ली हुई की वाकई मैने पारो को चोदा ही था.और दीदी और जीजू सारा दिन कहाँ गये थे ? वापस आने पर दीदी इतनी ख़ुश क्यूं दिखाई देती थी, उस के चहेरे पर निखार क्यूं आ गया था ? जीजू भी कुछ गुनगुना रहे थे. और आज की रात जब पारो बीच में नहीं है तब जीजू दीदी को चोदे बिना छोड़ेंगे नहीं. मुझे पारो की भोस याद आ गयी दीदी की भी ऐसी ही थी ना ? जीजू का लंड कैसा होगा ? पारो को चोद ने का मौक़ा कब मिलेगा ? विचारों की धारा के साथ मेरा हाथ भी लंड पर चलता रहा. दीदी की और पारो की चुदाई सोचते सोचते में झड़ पड़ा. नींद कब आई उस का पता ना चला.दूसरे दिन जीजू को तीन दिन वास्ते बाहर गाँव जाना हुआ. मैने दीदी से पूछा की वो लोग कहाँ गये थे.मुस्कुराती वो बोली : रोहित, ये सब तेरी वजह से हो सका. तू था तो पारो ने हमें अकले जाने दिया. हम गाये थे अहमदाबाद, एक अच्छी सी होटेल में. सारा दिन ख़ाया पिया इधर उधर घुमे और ----मैं : ---- और जो भी किया, चुदाई की या नही ?जवाब में उस ने चोली नीची कर के आधे स्तन दिखाए. चोट लगी हो वैसे धब्बे पड़े हुए थे. जीजू ने बेरहमी से स्तन मसल डाले थे.मैं : कितनी बार चोदा जीजू ने ?दीदी मुज़ से बड़ी थी फिर भी शरमाई और बोली : तुज़े क्या ? तूने क्या किया सारा दिन ?मैने सब आहेवाल दे दिया. पारो को मैने चोदा जान कर वो इतनी ख़ुश हुई की मुझ से लिपट गयी और गाल पैर किस कर ने लगी मैने पूछा क्यूं वो पारो को अपनी चुदाई देखने ना कहती थी.वो बोली : तेरे जीजू अपनी बहन से शरमाते हें, कहते हें की वो देखती होगी तो उन का वो खड़ा नहीं हो पाएगामैने इस उलझन का रास्ता निकाल ना था. सब से पहले मैने जा कर दीदी का बेडरूम देखा. कमरा बड़ा था. एक ओर बड़ा पलंग था, दुसरी ओर चौड़ी सिटी थी. पलंग के सामने वाली दीवार में एक बंद दरवाज़ा था. दरवाज़े पर अक बड़ा आईना लगा हुआ था. आईने की वजह साफ़ थी. सिटी के सामने बड़ा स्क्रीन वाला टीवी था, वीडीयो प्लेयर और सीडी प्लेयर के साथ. एक कोने में बाथरूम का दरवाज़ा था.मैने मकान की टूर लगाई बेडरूम की बगल में एक छोटी सी कोटरी पाई . कोटरी में फालतू सामान भरा था. एक दूसरा बंद दरवाज़ा था जो मेरे ख़याल से बेडरूम में खुल ता था. मैने चाकू निकाला और बंद दरवाज़े की पेनल में एक सुराख बना दिया. दरवाज़ा पुराना हो ने से कोई देर ना लगी सुराख से मैने झाँखा तो दीदी का बेडरूम साफ़ दिखाई दिया. मेरा काम हो गया.मैं अब जीजू के लौट आने की राह देख ने लगा. दरमियान मैने वो किताब ठीक से पढ़ ली. काफ़ी जानकारी मिली. बारह साल की कच्ची कँवारी को चोद ने के लिए कैसे गरम किया जाय वहाँ से ले कर तीन बच्चों क शादी शुजा मा को कैसे ओर्गाझम करवाया जाय वो सब पिक्चर्स के साथ उस में लिखा था. किताब पढ़ कर रोज़ मैं हस्त मैथुन कर ता रहा क्यूं की पारो मुझ से दूर रहती थी.एक दिन पारो को एकांत में पा कर किस कर के मैने कहा : चल कुछ दिखा उन. हाथ पकड़ कर मैं उसे कोटरी में ले गया और सुराख दिखाई. उस ने आँख लगा कर देखा तो दंग रह गयीमैने कहा : जीजू आएँगे उसी दिन दीदी को चोदेन्गे. . तू रात को यहाँ आ जाना चुदाई देखने मिलेगी. मैं दीदी से कहूँगा की वो रोशनी बंद ना करे,मेरे गाल पैर चिकोटी काट कर वो बोली : बड़ा शैतान है तू.मैं किस कर ने गया तब ठेंगा दिखा कर वो भाग गयीजीजू शुक्रवार को आए. दूसरे दिन शनिवार था. जीजू सिनेमा के लास्ट शो की टिकटें ले आए. दीदी ने मुझे पारो के साथ बिठाने का प्रयत्न किया लेकिन वो मानी नहीं, मुझे जीजू के साथ बैठना पड़ा. पिक्चर बहुत सेक्सी थी. जीजू एक हाथ से दीदी की जाँघ सहलाते रहे थे. दीदी का हाथ जीजू का लंड टटोल रहा था. शो छूटने के बाद जब घर वापस आए तब रात के बारह बजे थे.सिनेमा देखने से मैं काफ़ी उत्तेजित हो गया था. मुझे ये भी पता था की आज की रात जीजू दीदी को चोदे बिना नहीं छोड़ ने वाले थे. मैं सोचने लगा की वो कैसे चोदेन्गे और मुझ से रहा नहीं गया. मैने किताब निकाली और एक अच्छी फ़ोटू देखते देखते मैने मुठ मार ली.बाद में मैं दबे पाँव कोटरी में पहुँचा. सुराख में से देखा तो बेडरूम में रोशनी जल रही थी. जीजू नंगे बदन पलंग पर बैठे थे और लोडा सहला रहे थे. इतने में बाथरूम से दीदी निकली. उस ने ब्रा और पेंटी पहनी हुई थी. आ कर वो सीधी जीजू की गोद में बैठ गयी उन की ओर पीठ कर के. जीजू ने आईना की ओर इशारा कर के कान में कुछ कहा. दीदी ने शरमा के अपनी आँखों पर हाथ रख दिए जैसे दीदी के हाथ उपर उठे जीजू ने ब्रा में क़ैद उस के स्तन थाम लिए दीदी उन के पर ढल पड़ी और उंगलियों के बीच से आईना में अपना प्रतिबिंब देख ने लगीजीजू ने हूक खोल कर ब्रा निकाल दी और दीदी के नंगे स्तन सहालाने लगे. दीदी के स्तन इतने बड़े होंगे ये मैने सोचा ना था. जीजू की हथेलियों में समते ना थे. स्तन के सेंटर में बादानी रंग की एरिओला और नीपल थे. आईने में देखते हुए जीजू नीपल मसल रहे थे. दीदी ने सर घुमा कर जीजू के मुँह से मुँह चिपका दिया. जीजू का एक हाथ दीदी के पेट पर उतर आया दीदी ने ख़ुद जांघें उठाई और चौड़ी कर दी.इतने में पारो आ गयी मैने इशारे से कहा की सुराख से देख. वो आगे आ गयी और आँख लगा कर देख ने लगी मैं उस के पीछे सट के खड़ा हो गया, मैने मेरा सर उस के कंधे पर रख दिया. धीरे से मैने पूछा : दीदी की भोस देखती हो ? तेरे जैसी ही है ना? साइज़ में ज़रा बड़ी होगी. मेरे हाथ पारो की कमर पर थे. होले होले मेरा हाथ पेट पर पहुँचा और वहाँ से स्तन परपारो ने नाईटी पहनी थी, अंदर ब्रा नहीं थी. बड़ी मौसंबी की साइज़ के स्तन मेरी हथेलिओं में समा गये दबाने से दबे नहीं ऐसे कठिन स्तन थे. नाईटी के आरपार कड़ी नीपल्स मेरी हथेलिओं में चुभ रही थी. वो दीदी की चुदाई देखती रही और में स्तन के साथ खेलता रहा. थोड़ी देर बाद मैने उसे हटाया और नज़र लगाई.दीदी अब पंग पर चित पड़ी थी. उपर उठाई हुई और चौड़ी की हुई उस की जांघें बीच जीजू धक्का दे रहे थे. कुले उछाल कर दीदी जवाब दे रही थी. आईना में देखने के लिए जीजू ने पोज़ीशन बदली. अब दीदी का सर आईना की ओर हुआ. जीजू फिर जांघें बीच गये और दीदी को चोद ने लगे. इस बार चूत में आता जाता उन का लंड साफ़ दिखाई दे रहा था. मैने फिर पारो को देखने दिया.मेरा लंड कब का तस गया था और पारो के कुले बीच दबा जा रहा था. पेट पर से मेरा हाथ उस के पाजामा के अंदर घुसा. पारो ने मेरी कलाई पकड़ कर कहा : यहाँ नहीं, तेरे कमरे में जा कर करेंगे. मैने हाथ निकाल दिया लेकिन पाजामा के उपर से भोस सहालाने लगा. पारो खेल देखती हुई नितंब हिला ने लगी थोड़ी देर बाद सुराख से हट कर बोली ; खेल ख़तम. ओह, रोहित मुझे कुछ होता है मुझ से खड़ा नहीं रहा जाता.मैं पारो को वहीं की वहीं चोद सकता था. लेकिन मैने ऐसा नहीं किया. मुझे अब की बार पारो को आराम से चोद ना था. थोड़ी देर पहले ही मैने मुठ मार ली थी इसी लिए मैं अपने आप पैर कंट्रोल रख सका.मैने उस की कमर पकड़ कर सहारा दिया. वो मुझ पर ढल पड़ी. मैने उसे बाहों में उठा लिया और मेरे कमरे में ले गया. पलंग पर बैठ मैने उसे गोद में लिया.मैने कहा : देखी भैया-भाभी की चुदाई ?उस की आँखें बंद थी. अपनी बाहें मेरे गले में डाल कर वो बोली : भैया का वो कितना बड़ा है ? फिर भी पूरा भाभी की चूत में घुस जाता था. है ना ?मैने कहा : तेरी चूत में भी ऐसे ही गया था मेरा लंड, याद है ?पारो : क्यूं नहीं ? इतना दर्द जो हुआ था.मैं : अब की बार दर्द नहीं होगा. चोद ने देगी ना मुझे ?अपना चहेरा मेरी ओर घुमा कर वो बोली : शैतान, ये भी कोई पूछ ने की बात है ?पारो का चहेरा पकड़ कर मैने होठ से होठ छू लिए उस ने किस करने दिया. मैने अब होठ से होठ दबा दिए उस के कोमल कोमल पतले होठ बहुत मीठे लगते थे. थोड़ी देर कुछ किए बिना होठ चिपकाए रक्खे. बाद मैने जीभ निकाल कर उस के होठ चाटे और चुसे. मेने कहा: ज़रा मुँह खोल.डर ते डर ते उस ने मुँह खोला. मैने उस के होठ चाटे और जीभ उस के मुँह में डाली. तुरंत किस छोड़ कर वो बोली : छी, छी ऐसा गंदा क्यूं कर रहे हो ?मैं : इसे फ़्रेंच किस कहते हें.इस में कुछ गंदा नहीं है ज़रा सब्र कर और देख, मझा आएगा. खोल तो मुँह.अब की बार उस ने मुँह खोला तब मैने जीभ लंड जैसी कड़ी बनाई और उस के मुँह में डाली. अपने होठों से उस ने पकड़ ली. अंदर बाहर कर के जीभ से मैने उस का मुँह चोदा. मुँह में जा कर मेरी जीभ चारों ओर घूम चुकी.
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Big Grin Free Sex Kahani जालिम है बेटा तेरा 73 77,698 03-28-2020, 10:16 PM
Last Post:
Thumbs Up antervasna चीख उठा हिमालय 65 28,685 03-25-2020, 01:31 PM
Last Post:
Thumbs Up Adult Stories बेगुनाह ( एक थ्रिलर उपन्यास ) 105 45,283 03-24-2020, 09:17 AM
Last Post:
Thumbs Up kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ 50 64,591 03-22-2020, 01:45 PM
Last Post:
Lightbulb Hindi Kamuk Kahani जादू की लकड़ी 86 104,412 03-19-2020, 12:44 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story चीखती रूहें 25 20,436 03-19-2020, 11:51 AM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 224 1,074,195 03-18-2020, 04:41 PM
Last Post:
Lightbulb Behan Sex Kahani मेरी प्यारी दीदी 44 107,511 03-11-2020, 10:43 AM
Last Post:
Star Incest Kahani पापा की दुलारी जवान बेटियाँ 226 756,038 03-09-2020, 05:23 PM
Last Post:
Thumbs Up XXX Sex Kahani रंडी की मुहब्बत 55 53,573 03-07-2020, 10:14 AM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


sexi dehati rep karane chikhanaरंडी आईला जवली सेक्स स्टोरीneha.kakr.nanga.sexy.kartewakt.photo mayike aai Behan ki ubharti gandप्यार हुआ इकरार हुआ सेक्सी न्यूड ए आर वीडियो गानाpapa mummy beta sexbabaDost ki bahen ko ghar bulaker pornसेक्स स्टोरीज िन हिंदी रन्डी की तरह चूड़ी पेसाब गालिया बदलाbabuji ko blouse petticoat me dikhai dewww sexbaba net Thread E0 A4 9C E0 A4 AC E0 A4 9A E0 A5 8B E0 A4 A6 E0 A4 BE E0 A4 AE E0 A5 8C E0 A4Pallabi kar xxx photo babaDesi stories savitri ki jhanto se bhari burvai bhin ki orjinal chudai hindi sex xxxबेटे के साथ चुदना अच्छा लगता हैumardaraj aunty ki chut chudai ki kahani hindi meX n XXX धोती ब्लाउज में वीडियोPati ke rishtedar se kitchen me chudi sex storiesaxxxx isukUla wali2019 xxx holi ke din aah uuuhhhxxx nypalcomKatrina nude sexbabamast chuchi 89sexvelamma like mother luke daughter in lawsex karne se khushi rukta hi batawbabe ke cudao ke kanaeysab.sa.bada.land.lani.vali.grl.sex.vidमुतते देखा मौसी को चोदो कि सेक्सी कहानीxxxbf sexy blooding AartiMadirakshi XXX hd forumxxnx lmagel bagal ke balgirl ka bur se water giranasex.comमाँ को गाओं राज शर्मा इन्सेस्ट स्टोरीSexkahani kabbadeeSexy chuda chudi kahani sexbaba netMAST GAND SEXI WOMAN PARDARSHI SUIT VIDEOWife ko threesum ke liye uksaya xxx kahanisex netpant india martgod me baithakar gari chlate kiya sexnewsexstory com marathi sex stories E0 A4 A8 E0 A4 B5 E0 A4 B0 E0 A4 BE E0 A4 A4 E0 A5 8D E0 A4 B0nhati hui ldki ko chhupkr dekhte huye sex videoSex bhibhi or nokar ki malishxxx nypalcomखेत मुझे rangraliya desi अंधा करना pack xxx hd video मेंकैटरीना.चूचि.सेहलाती.और.लंड.चुसतीBhabì de nal sex di kahanianwww.sexi.stori.hindi.new2019.baba.inma ke chodai 2019 stori HindixxxwwwBainmother batayexxxxxx hindi sariwali vabi cutme unglipanja i seksi bidio pelape liBete se chudne ka maja sexbaba मुतते देखा मौसी को चोदो कि सेक्सी कहानीमाँ के सहेली काXxx कि कहानीantarvasna tv serial diya bati me sandhya ke mamme storieskis chakki ka aata khai antarvasnaVandana ki ghapa ghap chudai hd videobhabhiji Fuck while feeding her babyकामतूरदेसी हिंदी अश्लील kahaniyan साड़ी ke uper से nitambo kulho chutadSee pure Hindi desi chodai2019RAJ Sharma sex baba maa ki chudai antrvasnagand chudai kahani maa bate ki sexbaba netmaa ne jabardasti chut chataya x video onlineगाँड़ चोदू विद्यार्थीमर्दो को रिझा के चुद लेती हुकलेज कि लरकिया पैसा देकर अपनी आग बुझाती sonarika bhadoriy ki chot chodae ki photolajarya ki video hd ma hot xxxsexbaba actressmalvikasharmaxxxkhas khas zvle marathi kahaniMa mooshi Shashank ki chdai