Porn Kahani भोली-भाली शीला
01-07-2018, 02:06 PM,
#31
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--30

***********
गतांक से आगे ......................

***********

अगले दिन सुबह पंडित जी अपने सारे काम निपटा कर फिर से नूरी के घर की तरफ चल दिए .. उन्होंने वादा किया था नूरी से की उसके वापिस जाने से पहले वो रोज उसकी चुदाई करेंगे ..नूरी ने सुबह ही उन्हें फ़ोन करके बता दिया था की उसके अब्बा इरफ़ान आज सुबह किसी काम से बाहर जा रहे हैं और बारह बजे तक ही वापिस आयेंगे ..


पंडित जी वैसे भी पूरी रात नहीं सो पाए थे ..शीला जो थी उनके पहलु में और वो भी पूरी नंगी ..माधवी और गिरधर के जाने के बाद उन्होंने दो बार और चुदाई की थी ..पर नूरी को चोदने का लालच उन्हें दोबारा सोने भी नहीं दे रहा था इसलिए फ्री होते ही वो उसके घर की तरफ लगभग भागते हुए नजर आये .


वहां पहुंचकर देखा की नूरी तो अपने बाप की दूकान पर बैठी है और ग्राहकों को सामान दे रही है ..वैसे ठीक भी था , अब रोज- २ कोई दुकानदार अपनी दूकान बंद भी नहीं कर सकता , उसके ग्राहक टूट जाते हैं , इसलिए शायद इरफ़ान ने नूरी को दूकान पर बिठा दिया था और खुद अपना काम निपटाने के लिए बाहर चला गया था .


पंडित जी को देखते ही नूरी का चेहरा खिल उठा ..वहां उस वक़्त 4 लोग और भी खड़े थे ..इसलिए अपनी ख़ुशी वो खुल कर प्रकट नहीं कर पा रही थी ..


नूरी : "आइये पंडित जी ..प्रणाम ..कहिये क्या लेंगे ..''


पंडित : "च ....चावल ....''


नूरी मुस्कुरायी और :बोली "थोडा रुकिए ...अभी देती हु .."


और इतना कहकर दुसरे ग्राहकों को निपटाने लगी ..


पंडित जी उसे गोर से देख रहे थे ..उसने एक लम्बी सी टी शर्ट और लोअर पहना हुआ था ..पड़ी ही मस्त लग रही थी वो उस ड्रेस में ..


थोड़ी ही देर में वो फ्री हो गयी तो पंडित जी ने कहा : "तुम जब दूकान संभाल रही हो तो मुझे बुलाने की क्या जरुरत थी ...''


नूरी : "आप क्यों नाराज हो रहे हैं पंडित जी ..आप जल्दी से अन्दर आइये ..''


इतना कहकर उसने काउंटर के साईड का फट्टा ऊपर उठाया और अन्दर जाने का रास्ता खोल दिया ..पंडित जी बेचारे कुछ सोचने लगे फिर नूरी के चेहरे को देखकर अपना मन पक्का किया और अन्दर आ गए नूरी ने वो रास्ता फिर से बंद कर दिया ..


नूरी ने उनका हाथ पकड़ा और अन्दर की तरफ ले गयी, दूकान के पीछे की तरफ एक और कमरा था, जिसे इरफ़ान ने गोडाउन बना रखा था , चावल, दाल , आटे की बोरियां रखी थी वहां ..


अन्दर जाते ही नूरी पंडित जी से लिपट गयी ..और उन्हें चूमने लगी ..


पंडित जी ने बड़ी मुश्किल से अपने आप को उससे छुड़ाया : "यहाँ सही नहीं होगा ...कोई बाहर आ गया तो मुश्किल हो जायेगी ..''


पर नूरी नहीं मानी .. वो उन्हें चूमती रही ..आखिरकार लंड वाला कब तक अपने आप को संभाले ..पंडित जी ने भी विरोध करना छोड़ दिया और टी शर्ट के ऊपर से ही उसके खरबूजों को दबाने लगे ..


नूरी का दांया हाथ सीधा पंडित जी के खड़े हुए लंड पर गया और उसने एक झटके में अन्दर हाथ डालकर उसे पकड़ लिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह ......नूरी .....''


समय कम था इसलिए वो सब जल्दी - 2 कर रही थी ..उसने नीचे बैठ कर पंडित जी के लंड का एक चुप्पा लिया ही था की बाहर से आवाज आई : "इरफ़ान भाई ...ओ इरफ़ान भाई ..कहाँ हो .."


बाहर कोई ग्राहक आया था ..नूरी जल्दी से उठी, अपना चेहरा ठीक किया और पंडित जी को चुप रहने का इशारा करके बाहर निकल गयी ..


पंडित जी भी सोचने लगे की वो भी ना जाने किस मुसीबत में फंस गए हैं ..उन्हें अन्दर आना ही नहीं चाहिए था ..


नूरी के बाहर जाते ही ग्राहक खुश होते हुए बोला : "अरे वाह ...आज तो नूरी खुद सामान देगी अपने हाथों से ..''

वो शायद उसे जानता था ..


नूरी : "आप सामान बताइए सुलेमान भाई ..मखन मत लगाइए ..''


सुलेमान : "मक्खन तो तुझपर लगा हुआ है ..बातें सुनकर भी फिसली चली जाती है ..''


कुछ देर रूककर वो बोला : "अच्छा , मुझे दस किलो चावल देना ''


अगले ही पल नूरी वापिस अन्दर आ गयी ..उसके हाथ में एक बड़ी सी पोलिथिन थी ..पंडित जी जल्दी से चावल वाली बोरी में से दस किलो चावल निकाल कर उसके अन्दर डाल दिए ..नूरी जाने लगी तो कुछ सोचकर वो पलटी और पंडित जी का हाथ पकड़ कर सीधा अपने लोअर के अन्दर डाल दिया ..उसने अन्दर पेंटी नहीं पहनी थी और उसकी चूत बिलकुल चिकनी थी ..उसकी सोंधी सी महक पंडित जी को बाहर तक आ रही थी ..उसकी तपिश से उनके लंड का पारा ऊपर चढ़ गया और उसने उसे जोर से दबा दिया ..


और फिर उनका हाथ बाहर निकलवाकर वो बाहर चल दी ..



सुलेमान : "अरे नूरी ...तू तो हांफ रही है ..मुझे बोल दिया होता मैं अन्दर आ जाता चावल उठाने ..''


पर शायद नूरी उसे ज्यादा मुंह नहीं लगाना चाहती थी ..उसने जल्दी से पैसे लिए और उसे चलता किया ..


उसके जाते ही वो भागकर वापिस अन्दर आई ..और पंडित जी से लिपट गयी ...


पंडित जी ने आनन् फानन में उसका लोअर नीचे किया ..और अपनी धोती भी खोल कर नीचे गिरा दी ..नूरी ने उनका कच्छा भी खोल दिया ..पंडित जी भी जान गए थे की उन दोनों के पास ज्यादा समय नहीं है ..उन्होंने चावल की बोरियों के ऊपर नूरी को पीठ के बल लिटाया और धप्प से एक ही झटके में उसकी चूत के अन्दर अपना पहलवान उतार दिया ..


दोनों ने अभी तक अपने पुरे कपडे नहीं उतारे थे ..पर उत्तेजना इतनी थी दोनों में की उसके बिना भी उन्हें आज तक का सबसे ज्यादा मजा आ रहा था ..


पंडित जी ने उसकी टी शर्ट ऊपर की और झुक कर उसके अंगूर अपने मुंह में भर लिये .


नूरी ने पंडित जी के सर को पकड़ कर अपनी छाती पर रगड़ सा दिया


''अह्ह्ह्ह्ह .....पंडित जी .....चोदो ....अपनी रांड को .....अह्ह्ह्ह .....चूस .....और जोर से चूस ....अन्न्न्न ......''


पंडित जी के लंड का इंजन बड़ी तेजी से उसकी चूत की पटरी पर दौड़ रहा था ..पंडित जी का हर झटका नूरी को चावल की बोरी के और अन्दर धकेल रहा था ..


पर वो अभी और आगे चल पायें तभी बाहर से इरफ़ान की आवाज आ गयी : "अरे नूरी ...कहाँ चली गयी ..दूकान खुली छोड़ के ..''


नूरी ने जल्दी से पंडित जी को पीछे किया, अपना लोअर ऊपर किया और अपना हुलिया ठीक करके बाहर भागी ..


पंडित जी की तो जान ही निकल गयी, वो समझ गए की आज तो वो गए काम से .


बाहर जाते ही नूरी बोली : "अरे अब्बा ....मैं तो अन्दर की सफाई कर रही थी ..कोने में कितनी गंदगी है ..एक बोरी भी फटी हुई है, उसमे से चावल गिर रहे हैं ..बस वही समेट रही थी .."


इरफ़ान : "अरे बेटा ...वो तो सब चलता रहता है ..कभी समय ही नहीं मिलता मुझे अन्दर की सफाई करने का ..तू कर रही है तो अच्छा है ..पर ऐसे गल्ला खुला छोड़कर अन्दर मत जाया कर ..ग्राहक वापिस चले जाते हैं ..चल अब तू ऊपर चली जा और खाना बनाकर रख ..मैं आ गया हु अब तो ''


उसकी बातें अन्दर छुपा हुआ पंडित सुन रहा था ..वो सोचने लगा की अगर नूरी ऊपर चली गयी तो इरफ़ान कभी भी अन्दर आकर उसे पकड़ लेगा ..


नूरी : "चली जाती हु ..पर अभी अन्दर वाला काम तो निपटा लू ..''


इतना कहकर वो वापिस अन्दर आ गयी ..पंडित का चेहरा और लंड दोनों लटके हुए थे ..पर नूरी के मन में कुछ और ही चल रहा था ..उसने अन्दर आते ही पंडित के लंड को अपने मुंह में ठूसा और उसे फिर से जगाने के काम में लग गयी ..


बाहर उसका बाप बैठा था, उसके बावजूद वो पंडित के साथ वही सब करने में लगी थी, कितनी हिम्मत थी इस लड़की में ..


पंडित का लंड जल्द ही फिर से जोश में आ गया ..नूरी फिर से नीचे से नंगी हुई और अब चावल की बोरी पर लेटने की बारी पंडित जी की थी ...वो उछल कर पंडित जी के ऊपर चढ़ गयी और उनके लंड महाराज को अपने अन्दर लेकर उनके ऊपर उछलने लगी ...

और इस बार वो रुकी नहीं ...तब तक उछलती रही जब तक उसकी चूत से बारिश की बूंदे निकलकर बाहर छिटकने नहीं लग गयी ..


'' आआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह उम्म्म्म्म्म .......ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह येस्सस्सस्स .........''


उसने पंडित जी के लंड को अपनी चूत में पकड़कर बुरी तरह से निचोड़ डाला ...


पंडित भी जल्दी से उठा ...वो जानता था की रोज की तरह उसके पास ज्यादा समय नहीं है ...बाद में चाहे वो पकड़ा जाए या बच जाए, पर अभी उसे नूरी की चूत मारकर अपने लंड का गुस्सा भी शांत करना था ..


उसने नूरी को अपनी जगह पर लिटाया और पेल दिया वापिस अपना मूसल उसके अन्दर ..


''अझ्ह्ह्ह्ह्ह .......धीरे .....पंडित जी ......उम्म्म्म ....''


पंडित जी के धक्के लगने लगे उसके अन्दर ...


तभी फिर से बाहर से इरफ़ान की आवाज आई


"नूरी ....अन्दर से दो किलो चावल लेकर आ ''


शायद कोई ग्राहक आया था ..


पर अब नूरी के पास समय नहीं था ....वो चुद रही थी ..और ना ही पंडित उसे छोड़ना चाहता था ..


वो उसे चोदता रहा ...और पांच मिनट तक धक्के देने के बाद उसने अपना सारा रस निकाल कर उसके अन्दर डाल दिया ..


नूरी जल्दी से उठी ..कपडे पहने और चावल लेकर बाहर चल दी .


इरफ़ान : "इतनी देर लगा दी ...''


और ग्राहक को दे दिए ..और उसके जाने के बाद वो बोला : "मुझे तो भूख लगी है बहुत ..तू जाकर खाना बना, मैं आता हु .."


नूरी : "खाना तो बना पड़ा है ...आप जाकर खा आओ ..फिर मैं चली जाउंगी .."


इरफ़ान : "पहले तो नहीं बोली तू की खाना बना पड़ा है ..चल ठीक है ..मैं जाता हु .."


और वो ऊपर चला गया ...उसके जाते ही नूरी अन्दर आई, पंडित जी तब तक तैयार हो चुके थे ..


नूरी ने जल्दी से उन्हें बाहर निकाला और अगली बार जल्दी ही मिलने का वादा करके वो बाहर निकल गए ..

पंडित जी रास्ते में ही थे तो उन्हें नूरी का फ़ोन फिर से आया .


नूरी : "पंडित जी ...कहाँ तक पहुंचे ..''


पंडित : "अभी तो रास्ते में ही हु ..मंदिर ही जा रहा हु ..पर तुमने तो आज मरवाने के पुरे इंतजाम कर लिए थे ..''


नूरी : "ही ही ...आप कब से डरने लग गए पंडित जी ..आपके पास तो हर मुसीबत का हल होता है ..आप तो अंतर्यामी है ..फिर आप क्यों डर रहे थे .. उस दिन पार्क में जब आपने मेरी चुदाई की थी तब भी आप इतना नहीं डरे थे, जितना आज डर गए ..''


पंडित : "उस दिन की बात और थी ..पर आज इरफ़ान भाई बैठे थे बाहर ..जब तुम दोबारा आकर मेरे ऊपर चढ़ गयी थी ..तुम्हे अपने अब्बा का भी डर नहीं लगा ये सब करते हुए ..''


वो कुछ देर तक चुप रही ..और फिर धीरे से बोली : "आपको तो पता है पंडित जी ..मेरे मन में अपने अब्बा को लेकर कैसे विचार थे ..वो तो मुझे आपने समझा दिया और आपकी कृपा से मेरी चूत की प्यास बुझने लगी ..वर्ना मैंने तो पूरा मन बना लिया था की मैं अब्बा को किसी भी तरह से अपने जाल में फंसा कर रहूंगी ..उसके बाद चाहे मैं पूरी जिन्दगी उनकी रखेल बनकर ही क्यों न रहू घर पर ...लेकिन आपसे चुदाई करवाकर मुझे एक अलग ही तरह का मजा आया ..और मैं अपने अब्बा के बारे में सब कुछ भूल सी गयी ...पर आज जब हम वो सब कर रहे थे और अब्बा आ गए तो मेरे मन में एक अजीब सा ख्याल आया ...वो दूकान में बैठे थे और अन्दर मैं आपके लंड को अपनी चूत में ले रही थी ..पता है क्या सोचकर ..की वो लंड आपका नहीं , अब्बा का है ..''


पंडित उसकी बातें सुनकर हक्का बक्का रह गया ..


नूरी ने आगे कहा : "और जब मुझे ये एहसास हुआ की अब्बा मुझे चोद रहे हैं तो मुझे एक अजीब से नशे का एहसास हुआ, ऐसा नशा जिसमे डूबकर मैं पूरी जिन्दगी उभरना नहीं चाहती ..जरा सोचिये पंडित जी , अपने अब्बा के बारे में सोचकर ही मेरी ऐसी हालत थी की मैंने उनसे डरे बिना आपसे चुदवा लिया , जरा सोचिये, अगर वो सब मेरे साथ करेंगे तो मेरा क्या हाल होगा ...''


नूरी की साँसे तेज हो गयी ये सब बोलते हुए, शायद वो अपने अब्बा के बारे में सोचकर उत्तेजना फील कर रही थी .


पंडित अभी तक वेट कर रहा था उस बात का जिसके लिए नूरी ने फोन किया था ..


आखिरकार नूरी बोल ही पड़ी : "पंडित जी ...आपने मेरे लिए इतना किया है ...प्लीस पंडित जी ..आप ही कुछ रास्ता निकालिए ..मुझे किसी भी तरह से चुदवाना है अपने अब्बा से ...नहीं तो मैं पागल हो जाउंगी ..मैं अपने कपडे फाड़कर उनके सामने पहुँच जाउंगी ...फिर चाहे कुछ भी हो, मुझे नहीं पता ..''


पंडित समझ गया की वो अपने अब्बा के लंड को निगलने के लिए अब कुछ भी कर सकती है ..


पंडित : "पर तुमने तो कहा था की प्रेग्नेंट होने तक तुम मेरे अलावा कुछ और नहीं सोचोगी ..''


पंडित ने आखिरी कोशिश की ..


नूरी (शर्माते हुए) : "वो तो मैं हो चुकी हु पंडित जी ...आपकी कृपा से मेरे पेट में आपका बच्चा पहुँच चूका है ..मैंने कल ही चेक किया था प्रेगाकिट्ट से ..और ये बात मैं आपको आज बताना भी चाहती थी ..पर अब्बा के आ जाने से सब गड़बड़ हो गया ...''


पंडित उसकी बात सुनकर बहुत खुश हुआ ..उसे अपने ऊपर गर्व सा हुआ ..अपने लंड को धीरे से मसलकर उसने उसकी पीठ थपथपाई ..


पंडित : "अरे वाह ...ये तो बहुत अच्छा हुआ ..अब तुम जल्दी से घर जाने कि तय्यारी करो ..''


नूरी : "वो तो मुझे जाना ही है ..पर उससे पहले मुझे अब्बा से चुदवाना भी है ..इसलिए मैंने अभी फ़ोन किया है ..आप जल्दी से इसके बारे में कुछ सोचिये और मुझे बताइए ..''


इतना कहकर उसने फोन रख दिया .


पंडित सोचने लगे की किस तरह से वो नूरी और इरफ़ान की चुदाई करवाए .


ये सोचते हुए वो मंदिर पहुँच गए, दोपहर का समय था इसलिए मंदिर में कोई नहीं था ..वो सीधा अपने कमरे में चले गए ..


वहां पहुंचकर देखा की गिरधर उनका इन्तजार कर रहा है ..


पंडित जी : "अरे गिरधर ...तुम इस वक़्त यहाँ क्या कर रहे हो ..''


दरअसल वो समय रितु के आने का भी था ..इसलिए पंडित जी घबरा रहे थे की कहीं गिरधर को उनके बारे में पता न चल जाए ..


गिरधर : "प्रणाम पंडित जी ...बात ही कुछ ऐसी थी की मैं रात का इन्तजार ही नहीं कर सकता था ..''


पंडित : "बोलो ..ऐसी क्या बात है .."


गिरधर ने बताना शुरू किया ..की कल रात को उनके घर से निकलने के बाद कैसे घर जाते हुए उसने अपनी पत्नी को गालियाँ निकाली और उसको रंडी की तरह किसी और से चुदवा भी डाला ..


रंडी की तरह चुदवाने की बात सुनकर पंडित भी हेरान रह गया ..उसे गिरधर की मानसिकता का अंदाजा भी नहीं था की वो अपनी खुद की पत्नी के साथ ऐसा भी कर सकता है ..
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:07 PM,
#32
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--31

***********
गतांक से आगे ......................

***********

पंडित को जैसे उसकी बात पर विश्वास ही नहीं हो रहा था ..जिसे देखकर गिरधर ने झट से अपना मोबाइल निकाला और उन्हें माधवी की चुदाई का MMS दिखाने लगा ..


पंडित ने देखा की मूवी बनाते हुए अँधेरा काफी था, फिर भी गोर से देखने पर उन्हें पता चल गया की ये माधवी ही है जो दिवार के सहारे खड़ी होकर चुद रही है ..एक लम्बे और मोटे से लंड से ..उसके चेहरे का क्लोसअप देखकर पंडित जी को भी पता चल गया की वो पूरा मजा ले रही थी ..


गिरधर : "देखा पंडित जी ...कैसे रंडी की तरह मुंह बना कर चुदवा रही है ..साली पहले तो मना कर रही थी ..पर मुल्ला जी का लंड अन्दर जाते ही इसके तेवर ही बदल गए ..उसके बाद तो कुतिया ने एक शब्द भी नहीं निकाला मुंह से ..देखो कैसे अपनी चूत को अपने हाथों से फेला कर उसका लंड अन्दर डलवा रही है भेन की लोड़ी ...''


अपनी बीबी का विडियो देखकर वो फिर से उत्तेजित होने लगा और उसके मुंह से गालियाँ निकलने लगी ..


पंडित जी का भी तानपुरा अपने अकार में आकर मधुर संगीत बजाने लगा ..तभी पंडित जी की नजर माधवी को चोद रहे मुल्ला जी पर पड़ी ..और उनकी आँखे आश्चर्य से फेल कर चोडी हो गयी ..


पंडित : "अरे ....ये ...ये मुल्लाजी ..तुम्हे पता है ये कौन है ..''


गिरधर : "नहीं पंडित जी ..मुझे नहीं पता ..कह रहे थे की उनकी बीबी के मरने के बाद वो अक्सर अपनी प्यास रंडियों को चोदकर ही बुझाते हैं ..काफी समय से आ रहे हैं वो तो इस बाजार में ..माधवी को चोदकर वो बहुत खुश हुए थे ..और मुंह मांगे पैसे भी दिए थे ..मैंने तो बस उसे सबक सिखाने के रंडी बनाकर चुदवा डाला ..पर ये सब करने में और इतने पैसे मिलने से मजा भी बहुत आया ..और मुल्ला जी ने तो जाते हुए ये भी कहा की कभी भी दोबारा इसे चुदवाने की इच्छा हो तो उन्हें फोन कर दू ..उन्होंने अपना नंबर भी दिया है मुझे ..''


पंडित समझ गया की इरफ़ान अक्सर वहां जाया करता है ..और इत्तेफाक से गिरधर और माधवी उसे मिल गए और गिरधर ने माधवी का सौदा कर दिया ..गिरधर को तो पता नहीं था इरफ़ान के बारे में पर उसे इस तरह से सरेआम सड़क के बीचो बीच चुदाई करते देखकर, पंडित जी ने उसे पहचान लिया था ..


और उनके मन में एक योजना बननी भी शुरू हो गयी ..नूरी को उसके बाप इरफ़ान से चुदवाने के लिए ..


पर इसके लिए गिरधर की मदद की आवश्यकता थी ..


पंडित : "सुनो गिरधर ...तुम्हे मेरे लिए एक काम करना होगा ..''


गिरधर : "आप कहकर तो देखिये पंडित जी ..मैं आपके लिए तो कुछ भी कर सकता हु ..''


गिरधर ने उसे अपनी योजना समझाई ..जिसे सुनकर गिरधर भी हेरान रह गया ..

गिरधर को सारी बातें समझाने के बाद पंडित जी ने गिरधर से पूछा : "घर जाने के बाद माधवी ने कुछ शिकायत नहीं की तुमसे ..की क्यों उसे ऐसे सरेआम रंडी की तरह से चुदवा दिया ''


गिरधर (अपनी खींसे निपोरते हुए ) : "पंडित जी ...आप भी तो माधवी की चुदाई कर चुके है, उसे पहचाना नहीं अभी तक आपने ..साली की चूत में इतनी गर्मी है की घर जाकर मैंने खुले में चुदाई कर साली की तब जाकर बुझी उसके भौन्स्ड़े की आग ..''


पंडित उसकी बात सुनकर मुस्कुरा दिया ..


गिरधर से रहा नहीं गया और उसने आगे बोलना शुरू किया : "अरे कल तो मेरा सबसे अच्छा दिन था पंडित जी ..पता है, जब मैं माधवी की चुदाई कर रहा था तो रितु अपने कमरे की खिड़की से सब देख रही थी ..और उसने तो अपने कपडे भी उतार डाले थे ..और हमारी चुदाई देखकर अपनी चूत मसल रही थी साली रंडी की औलाद ...''


अब पंडित जी के दोबारा से चोंकने की बारी थी ..


पंडित जी : "यानी ...तुमने देखा रितु को वो सब करते हुए ...और तुमने कुछ कहा नहीं ..''


गिरधर : "कहा न ..माधवी को अन्दर भेजने के बाद मैंने उसे वहीँ खिड़की में ही रंगे हाथों पकड़ लिया था ..और मजे भी लिए ..''


इतना कहकर उसने रितु के साथ का किस्सा भी नमक मिर्च लगा कर सुना दिया ..


पंडित : "हम्म ...यानी अब रितु की चुदाई भी जल्द होने वाली है ..''


गिरधर : "हाँ पंडित जी ..बस मुझे डर है तो माधवी का ..कहीं वो कोई पंगा ना कर दे ..लेकिन कोई न कोई जुगाड़ तो करना ही पड़ेगा ..आप ही कोई रास्ता सुझाइए ..''


गिरधर ने पंडित जी के सामने अपने हाथ जोड़ दिए ..


पंडित : "वो भी जुगाड़ कर लेंगे ...पर अभी तो ये मुल्ला जी वाला काम करवा दो तुम पहले मेरा ...और जब तक रितु की नहीं मिल पा रही तुम्हारे लिए मैं कोई और इंतजाम भी करवा दूंगा ..''


गिरधर के मुंह से लार टपकने लगी ..वो बोला : "मुझे आप की बात पर पूरा भरोसा है पंडित जी ..''


और एक बार फिर से पंडित जी ने उसे अपनी योजना समझाई और उसे जाने के लिए बोल दिया ..गिरधर के जाने के बाद पंडित जी ने खाना खाया और लेट गए ..


पर सोना तो पंडित जी की किस्मत ही नहीं था ..और न ही उनके लंड की किस्मत में ..


उनके लेटते ही दरवाजा खड़क गया उनके घर का ..


पंडित जी ने दरवाजा खोला और उनके सामने रितु खड़ी थी ..


मुस्कुराती हुई ..लहराती हुई ..पीले रंग के सूट में ..

उसका फूल सा खिला चेहरा देखकर पंडित जी की सारी थकान फुर्र्र से उड़ गयी ..उसके ऊपर पीले रंग का सूट काफी जच रहा था .


पंडित जी की आँखों में देखती हुई वो अन्दर आ गयी ..और पंडित जी ने भी दरवाजा बंद कर दिया और रितु के पीछे जाकर उसे अपनी बाजुओं से पकड़कर उसके सपाट पेट के ऊपर अपने हाथ रख दिए ..और अपना सर उसके कंधे पर .


पंडित जी : "उम्म्म्म ...आज बहुत महक रही हो ..''


पंडित जी ने उसके बालों को अपने चेहरे से रगड़ते हुए कहा .


वो कुछ बोली नहीं , बस मंद -2 मुस्कुराती रही . पंडित जी के चिपक जाने से उसकी सांस लेने की गति थोडा बड़ गयी थी ..इसलिए उसके ऊपर नीचे होते हुए मुम्मे पंडित जी को साफ़ दिखाई दे रहे थे .


पंडित : "क्या हुआ ...आज इतनी चुप क्यों हो ..''


रितु कुछ देर तक सोचती रही और फिर धीरे से बोली : "वो ...वो ..कल रात ...मैं ...मैंने ..''


वो घबरा रही थी ..और पंडित जी समझ गए की वो वही बात बताना चाहती है जो अभी -2 गिरधर बता कर गया है ..


पंडित : "मुझे पता है ..जो तुम कहना चाहती हो ..''


पंडित जी की बात सुनकर वो एकदम से चोंक गयी और पलटकर उनकी तरफ मुंह कर लिया और उनकी आँखों में देखकर बोली : "आप ...को कैसे ....''


पर पंडित जी की मुस्कराहट देखकर वो समझ गयी की पंडित जी ने अपने ''ज्ञान'' से वो सब जान लिया है ..


उसने नजरें झुका ली ..और अपने गुलाबी और फड़कते हुए होंठों से बोली : "आप नहीं जानते पंडित जी ..कल मैंने क्या फील लिया ..कल का दिन मेरी जिन्दगी का सबसे अच्छा दिन था ..आपको तो मैंने अपना शरीर और कोमार्य सौंप दिया है ..और आपकी वजह से ही मुझे शारीरिक सुख क्या होता है, ये पता चला ..पर कल रात जो हुआ ..वो एहसास कुछ अलग ही था ..मैंने आज तक ऐसा कभी भी महसूस नहीं किया ..आप तो सब जानते ही है ..जब ... जब पापा ने मुझे छुवा था न ...तो ...तो ..''


उसकी साँसे भारी होने लगी ...उसके मुंह से हवा निकलने की तेज आवाजें आने लगी ..


पंडित : "कहाँ छुआ था तुम्हारे पापा ने ..बोलो ''


रितु ने हिरन जैसी आँखे उठा कर पंडित जी को देखा ...उसकी आँखों में गुलाबी डोरे तेर रहे थे ..चेहरे पर अजीब सा गुलाबीपन आ चूका था ..उसने कांपते हाथों से पंडित जी के हाथ को पकड़ा और ऊपर उठा कर सीधा अपनी छाती पर रख दिया ...


''यहाँ ....यहाँ छुआ था उन्होंने ..ऐसा लगा था की मेरी जान ही निकल रही है ..अपनी उँगलियों में दबाकर जब उन्होंने मेरे निप्पलस को जोर से दबाया था तो ...तो ..''


वो थोड़ी देर के लिए रुकी ..एक दो गहरी साँसे ली और बोली "तो ऐसा लगा की मेरे दानों से निकल कर मेरी जान उनके पास जा रही है ..''


पंडित के हाथों में उसके निप्पल किसी शूल की तरह से चुभ रहे थे ..पंडित ने भी मौके का फायेदा उठा कर उन्हें दबा डाला ..


वो सिस्कार उठी ..और फिर रितु ने पंडित जी का हाथ थोडा नीचे सरकाकर अपनी नाभि पर रख दिया ..पंडित जी ने वहां भी अपनी कलाकारी दिखाई और अपनी ऊँगली उसकी नाभि में डाल कर घुमा डाली ..


''उम्म्म्म्म्म्म्म ......''


रितु की शराबी आँखे बंद सी होने लगी ..और फिर रितु ने थोडा दबाव डालकर पंडित जी को अपनी योनि के द्वार तक पहुंचा दिया ..और वहां पहुंचकर उनके हाथ को और जोर से अपनी सीनी-भीनी सी चूत पर रखकर दबा दिया ..


रितु की चूत को दबाने से उसके अन्दर से ऐसे पानी निकला जैसे पंडित जी ने कोई पानी से भीगा स्पोंज दबा दिया हो ..उसकी चूत से रिस रहा रस पंडित जी को अपनी हथेली पर भी महसूस हुआ ..थोडा बहुत निकलकर बाहर भी गिर गया ..उसकी पीली सलवार का आगे वाला हिस्सा गिला होकर पारदर्शी सा हो गया ..और उसके अन्दर उसकी सफ़ेद पेंटी साफ़ नजर आने लगी ..


''ओह्ह्ह्ह ....पंडित जी ....आपको मैं क्या बताऊँ ...पापा ने जब अपनी ऊँगली मेरे अन्दर डाली तो मैं वहीँ बेहोश सी होने लगी थी ..और उसके बाद जब उन्होंने मुझे वहां चूमा था ...तो ... तो ...''


वो बदहवास सी हो गयी ...उसे शायद वही मंजर फिर से याद आ गया जब गिरधर ने उसकी चूत को दशहरी आम की तरह से चूस कर उसका सारा रस पी लिया था ..


आवेश में आकर रितु ने पंडित जी के सर को किसी खिलोने की तरह से पकड़ा और धम्म से अपने होंठों से चिपका कर उन्हें चूसने लगी ..इतनी तेज उसने पकड़ा था की एक बार तो पंडित जी को लगा की वो उनका रेप कर रही है ..


''ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह रितु ....उम्म्म्म्म्म ....थोडा धीरे ........''


पंडित जी ने किसी मुर्गे की तरह से छटपटाते हुए कहा ..


पर रितु को तो अब पंडित जी अपने पापा की तरह दिखाई दे रहे थे ..और वो भी बिना किसी खिड़की के अवरोध के ..


उसने झुककर पंडित जी की सफाचट छाती पर अपनी थूक से गीली जीभ रखी और उसे जोरों से चूसने और चाटने लगी ..

दुसरे हाथ से उसने झट से उनकी धोती को खोल कर नीचे गिरा दिया , अन्दर उन्होंने कुछ भी नहीं पहना हुआ था ..लगातार चुदाई की वजह से दिन ब दिन पंडित जी का लंड मोटा और सुन्दर होता जा रहा था ..उनके लंड की नसें साफ़ दिखाई दे रही थी ..पंडित जी ने रितु के सूट को पकड़कर ऊपर खींच लिया और उसने खुद अपनी ब्रा उतार कर पंडित जी के चरणों में अर्पित कर दी ..


रितु अब पंडित जी के लंड के सामने नतमस्तक होकर बैठी थी ..और उसकी सुन्दरता की अपने पापा के लंड से तुलना कर रही थी ..


दोनों का लगभग एक सामान ही था ..पंडित जी थोडा आगे ही थे इस मामले में ..पर पापा का लंड तो पापा का ही होता है ..कोई भी लड़की अपने पापा के लंड को छोटा थोड़े ही मानेगी ..


अब वो तो था नहीं उसके सामने, इसलिए उसने आँखे बंद की और उसी को गिरधर का लोड़ा समझ कर उसपर अपनी गीली जीभ रगड़ने लगी ..

''उम्म्म्म्म्म ....पापा .....ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ....''


रितु हलके से सिसकारी मारकर पंडित के लंड को अपने मुंह में ले गयी और उसे बुरी तरह से चूसने लगी ...

वो कल रात की सारी कसर जैसे अब पूरी कर लेना चाहती हो ..


पंडित को भी आज कुछ अलग ही मजा आ रहा था ..वो सोच रहा था की बेटियों को अपने पापा से कितना प्यार होता है ..वहां नूरी अपने अब्बा से मरवाने के लिए मरी जा रही है और यहाँ रितु का भी यही हाल है ..दोनों को अपने बाप से चुदवाना है ..


पर पंडित जी को इससे कोई परेशानी नहीं थी ..वो तो पहले ही दोनों का रस चख चुके थे ..अब वो अपने बाप से चुदे या यार से ..उन्हें क्या.


पर उन्हें ज्यादा मजा मिल रहा है ये ही बहुत था उनके लिये.


अब तक पंडित जी का शेर पुरे जोश में आ चुका था ..इसलिए रितु को उसे अपने मुंह में रखकर चूसने में मुश्किल हो रही थी . पर उसने भी हार नहीं मानी , अपना पूरा मुंह उसने खोल कर पंडित जी के महाराज को अन्दर विराजमान करवा लिया और उसकी सेवा पानी अपनी जीभ और लार से करने लगी .


पंडित जी ने उसके सर के बाल एक हाथ से पकडे और दुसरे हाथ से उसकी गर्दन के आगे वाला हिस्सा पकड़कर दबा दिया ..और लगे चोदने उसके मुंह को ..
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:07 PM,
#33
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--32

***********
गतांक से आगे ......................

***********

पंडित जी ने जिस प्रकार से उसके गले को पकड़ा हुआ था उन्हें अपने लंड का एहसास रितु के गले के अन्दर से साफ़ महसूस हो रहा था ..वो उसकी डीप थ्रोट यानी गले के अन्दर तक की चुदाई कर रहे थे ..जिसमे उन्हें बड़ा मजा आ रहा था ..और शायद रितु को भी .


पंडित को जब लगने लगा की रितु को उनका लम्बा लंड चूसने में तकलीफ हो रही है तो उन्होंने अपने चतुर दिमाग का इस्तेमाल किया और रितु से बोले


"ले ...बेटी ...अह्ह्ह ...रितु ....चूस अपने बाप का लंड ...जोर से ...अन्दर तक ...चूस ...भेन चोद ...''


उन्होंने गिरधर के अंदाज में गालियाँ देकर रितु को जैसे ही बेटी कहकर संबोधित किया उसमे जैसे एक नयी जान आ गयी ..फिर तो उसने अपनी और अपने गले की परवाह किये बिना पंडित जी के लंड को अपने मुंह में लेकर जैसे पूजने लगी ..उसकी सेवा करने लगी ..


और उसके मुंह से अजीब सी आवाजें भी निकलने लगी ..


''अह्ह्ह्ह ....पापा ......उम्म्म्म्म .....चोदो मुझे ....मेरे मुंह को ....अह्ह्ह्ह ....उम्म्म्म्म .......''


उसकी हरकतों में आये बदलाव को पंडित जी का लंड साफ़ महसूस कर पा रहा था .


अब पंडित जी से भी सब्र नहीं हुआ ..उन्होंने उसको खड़ा किया और उसके होंठों को अपने होंठों में दबाकर जोरों से चूसने लगे ..आज जैसी किस्स तो उन्होंने खुद भी किसी से नहीं की थी ..इतना जंगलीपन ..इतनी बर्बरता ..इतने रफ्फ तरीके से उन्होंने रितु के चेहरे को पकड़कर चुसा था की उसके होंठों के किनारे से खून की एक बूँद उभर आई ...जिसे पंडित जी ने अपनी जीभ से साफ़ कर दिया ..और फिर से उसके होंठों को पीने लगे ..


और रितु तो बस आँखे बंद किये अपने ''पापा'' की ''निर्दयता'' का मजा ले रही थी ..


पंडित जी ने एक कोने में रखी हुई लकड़ी की टेबल पर रितु को पेट के बल लिटा दिया और उसकी गांड को फेला कर उसे चोडा कर दिया ..और अपने अंगूठे पर ढेर साड़ी थूक लगा कर उन्होंने उसके पीछे वाले छेद को गीला कर दिया ..

अपनी गांड पर गीलापन पाकर वो सिहर सी उठी ..उसे पता चल गया की आज पंडित जी उसकी गांड का उदघाटन करने के मूड में हैं ..


और हो भी क्यों न , पंडित जी समझ चुके थे की अब रितु का गिरधर के चुंगल में फंसना लगभग तय है ..क्योंकि आग दोनों तरफ बराबर लगी हुई है ..इसलिए वो उसकी गांड मारने वाले पहले व्यक्ति बनना चाहते थे ..क्योंकि गिरधर तो वैसे ही गांड का दीवाना है, उसका बस चले तो वो चूत से पहले गांड मार ले रितु की ..इसलिए पंडित जी पहले से ही वहां अपने नाम का ठप्पा लगा देना चाहते थे .


रितु भी बस दम साधे उनके अगले एक्शन का इन्तजार कर रही थी ..और जैसे ही पंडित जी ने उसके पीछे वाले छेद पर अपने लंड को लगाया उसके किसी उदबिलाव की तरह से अपना सर ऊपर की तरफ उठा लिया और जोर से चीख पड़ी ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ....पंडित जी .....ये कहाँ डाल रहे हो ..उम्म्म्म्म्म ''


उस साली को मजा भी आ रहा था और फिर भी किसी अबोध की तरह उनसे सवाल भी कर रही थी ..मानो उसे पता ही नहीं हो की यहाँ से भी होता है ..


पर तब तक पंडित जी के दो धक्को ने आधे से ज्यादा काम कर दिया था ..और उसकी भरी हुई गांड और भी ज्यादा भर कर दोनों तरफ मोर पंख जैसे फेल गयी .


अब रितु को भी दर्द होने लगा ..पहली बार जो था उसकी गांड में ..


''ओह्ह्ह पंडित जी ....धीरे करो .न ....अह्ह्ह्ह्ह्ह .....''


वो छटपटाने लगी ..पंडित जी ने उसके दोनों हाथ पकड़कर पीठ से बाँध दिए ...और उसके बालों को पकड़कर पीछे की तरफ खींचा और उसे घोड़ी बना दिया ..और फिर एक जोरदार शॉट मारकर उसके अस्तबल में अपना पूरा घोडा उतार दिया ..


वो घोड़ी जैसे हिनहिना उठी .


''अग्ग्ग्ग्घ्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......उम्म्म्म्म्म्म्म ........मर्र्र गयी ......अह्ह्ह्ह्ह्ह ....''


और उसके बाद तो पंडित जी ने उसके रेस कोर्स में अपने घोड़े को ऐसा दोड़ाया ..ऐसा दोड़ाया की एक पल के लिए तो रितु को भी यही लगने लगा की पंडित जी उसकी गांड नहीं मार रहे बल्कि अपने घोड़े को दौड़ा रहे हैं रेस में ..

पंडित जी का हर झटका उसे स्वर्ग का मजा दे रहा था ..वो जिस तरह से पेट के बल लेटी हुई थी ..उसकी चूत वाले हिस्से पर टेबल का कपडा रगड़ खा रहा था ..रगड़ क्या खा रहा था जैसे उसकी चूत को खा रहा था ..पंडित जी के हर झटके से वो सूती कपडा उसकी चूत की दरार में घुसता जा रहा था ..उसके होंठों पर अजीब किस्म की मुस्कान फेल रही थी ..दोनों छेदों में मिल रहे मजे को वो बयान भी नहीं कर पा रही थी ..बस चिल्ला कर और हंस कर मजे लेने में लगी हुई थी ..


बस उसके मुंह से टूटे फूटे शब्द निकल रहे थे ...जो थे ..


''ओह्ह पापा .....उम्म्म पापा ...जोर से पापा ...हां न… पापा ..''


और जल्द ही पंडित के लंड ने अपनी बार पहली सिंचाई कर दी रितु की बंजर गांड में ..जिसे महसूस करके उसका रोम रोम पुलकित हो उठा ..गांड के अन्दर गीलेपन के एहसास ने उसे ऐसा मजा दिया जैसा उसे अब तक नहीं आया था ..


और उसी गीलेपन के एहसास के साथ उसकी चूत से रगड़ खा रहे कपडे ने भी उसकी चूत को रगड़ -2 कर उसके ओर्गास्म तक पंहुचा दिया ..और वो दोनों तरफ से भीगी हुई सी हांफती हुई ..झड़ने लगी ..


''उम्म्म्म्म्म्म्म्म .......अह्ह्ह्ह्ह्ह ...मजा आ गया .......पंडित जी ..''


आखिर में जाकर रितु ने चुदाई का श्रेय आखिरकार पंडित जी को दे ही दिया ..


पंडित जी ने भी अपना मुसल बाहर खींचा और उसकी धुलाई करने के लिए बाथरूम में चले गए ..


रितु भी खड़ी हो गयी ...उसकी चूत में फंस कर टेबल का कपडा उसके साथ ही खिंच का बाहर आ गया और उसके पैरों के बीच लटक कर झूलने लगा ..


उसकी गांड से रिस रिसकर पंडित जी का प्रसाद बाहर निकल रहा था ..और उसकी चूत से निकल रहा गर्म पानी उस कपडे को गीला कर रहा था ..


उसने भी अपनी चूत और गांड पूरी तरह से साफ़ की और कपडे पहन कर वापिस अपने घर की तरफ चल दी ..


आज का नया ''अध्याय'' पंडित जी ने उसे बखूभी सिखाया था ..

दूसरी तरफ गिरधर ने पंडित जी के घर से निकलते ही इरफ़ान भाई को फ़ोन लगाया .


इरफ़ान : "हेल्लो ...कौन बोल रहा है ..''


गिरधर : "साहब ...मैं बोल रहा हु ..गिरधर ..वो मिले थे न हम कल रात को ...जी बी रोड के बाहर ''


इरफ़ान समझ गया की ये वही दल्ला है जिसके आइटम की उसने बीच रोड पर बजायी थी .


इरफ़ान : "अरे मियां ..तुम हो ..मैं सोच ही रहा था की शाम को तुम्हे फ़ोन करू ..पर तुमने खुद ही कर दिया ..बोलो क्या खबर है ..''


गिरधर : "साहब ...खबर तो बड़ी अच्छी है ..एक नया माल आया है मार्किट में ..सिर्फ दो चार दिनों के लिए ही है वो यहाँ ..और है भी मु****न लड़की ..आपको पसंद आएगी ..''


मु****न लड़की के बारे में सुनते ही इरफ़ान की तोप खड़ी हो गयी ..उसने लपलपाती जुबान से पूछा : "उम्र क्या होगी उसकी ...??''



गिरधर ने चटकारा लेते हुए बताया : "होगी करीब 24 के आस पास ''


जैसा पंडित जी ने उसे बताया था ..


और ये सुनते ही इरफ़ान ने एक लम्बी और ठंडी सांस ली और उसका हाथ सीधा जाकर अपने लंड को सहलाने लगा और उसने मन ही मन सोचा 'उम्म्म्म्म बिलकुल नूरी की उम्र की है ये तो ..'


गिरधर : "अरे साहब ...क्या हुआ ...क्या सोचने लगे ''


इरफ़ान : ''उम्म्म्म ...कुछ नहीं ...बोलो कब और कहाँ ...''


अब इसके बारे में तो पंडित जी ने उसे बताया ही नहीं था ..


उसने कुछ देर सोचा और फिर बोला : "वो भी बता दूंगा साहब ...लड़की खानदानी है ..बस थोड़े मजे और थोड़े पैसो के लिए ये कर रही है ..मैंने सोचा की पहले आप से पूछ लू और बुकिंग ले लू , फिर उसके साथ सीन फिक्स करके बता दूंगा ...''


इरफ़ान : "ठीक है ..तुम पैसों की फ़िक्र मत करो ..बस जल्दी से इससे मिलने का इंतजाम करवाओ ..''


खानदानी और वो भी जवान लड़की ...मजा आ जाएगा ..इरफ़ान के मन में तो लड्डू फूटने लगे ..


गिरधर : "ठीक है साहब ..मैं आपको दोबारा फ़ोन करता हु ..''


उसने फ़ोन रखा और झट से पंडित जी से आगे का प्रोग्राम पूछने के लिए फ़ोन लगाया ..पर उन्होंने उठाया ही नहीं ..उठाते भी कैसे, वो उसकी लड़की जो चोद रहे थे .


रितु की गांड मारने के बाद जब पंडित जी वापिस अपने पलंग पर आकर लेटे तो उन्होंने गिरधर की मिस काल देखि ..और उसे फ़ोन किया , तब तक रितु वापिस अपने घर की तरफ निकल चुकी थी .


पंडित : "हाँ गिरधर बोलो ..''


गिरधर : "पंडित जी ..मैंने आपके कहे अनुसार उसे फ़ोन कर दिया है ..और वो तो जवान लड़की के बारे में सुनकर पागल सा हुए जा रहा है ..और पूछ रहा था की कब और कहाँ मिल सकती है ..बस इसी के लिए फ़ोन कर रहा था मैं , वो तो आपने बताया ही नहीं ..''


पंडित जी भी सोच में पड़ गए ..उन्होंने भी इसके बारे में नहीं सोचा था ..अपने कमरे में वो ला नहीं सकते थे ..गिरधर के घर पर भी मुमकिन नहीं था ..और उस दिन जैसे सड़क के बीचो बीच भी असंभव था ..


पंडित जी की तरफ से कोई जवाब ना आते देख गिरधर ही बोल पडा : "पंडित जी ..अगर आप बुरा ना माने तो मेरे पास एक जगह है ..''


पंडित : "कोन सी ...जल्दी बताओ ..''


वो यहाँ से थोड़ी दूर है ..वहां एक खंडहर है ..जिसमे कोई आता जाता नहीं है ..शायद कोई पुराना किला है .


पंडित समझ गया की वो किस जगह की बात कर रहा है ..वो लगभग उनकी कालोनी से बिलकुल बाहर की तरफ था ..और वहां आबादी भी काफी कम थी , बिलकुल सुनसानियत में बना हुआ था वो पुराना किला ..


पर खंडहर में चुदाई कैसे संभव होगी ..पंडित जी सोचने लगे ..


गिरधर : "मैं अक्सर उस इलाके में जब सब्जी बेचने जाता हु तो सुस्ताने के लिए वहीँ पर सोने चला जाता हु , कोई नहीं आता जाता वहां ..''


पंडित को उसका सुझाव सही लगा ..ऐसी जगह पर ही चुदाई करवाना सही रहेगा ..ना तो कोई होगा वहां और ना ही कोई पहचान पायेगा बाप बेटी को चुदते हुए देखकर .


पंडित : "ठीक है ..गिरधर ..वही जगह फाइनल करते हैं ..तुम बोल दो इरफ़ान को ..और आज शाम का समय ले लो उससे , मैं लड़की को बोल दूंगा ..''


पंडित जी को पूरा विशवास था की नूरी इस बात के लिए कभी मना नहीं करेगी इसलिए उससे बिना पूछे उन्होंने प्रोग्राम पक्का कर दिया था .


गिरधर : "ठीक है पंडित जी ...पर एक गुजारिश है पंडित जी आपसे ..''


पंडित : "हाँ ..बोलो ..''


गिरधर (खींसे निपोरते हुए ) : "वो ...वो ..लड़की से मजा ..मुझे भी मिलेगा क्या ...''


पंडित जी हंस दिए ..और सोचने लगे 'ये गिरधर भी कितना बड़ा ठरकी है ..साला हर किसी को चोदने के लिए उतावला रहता है ..'
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:07 PM,
#34
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--33

***********
गतांक से आगे ......................

***********

पंडित : "ठीक है ..उसका इंतजाम भी कर दूंगा ..''


पंडित जी का आश्वासन पाकर गिरधर ख़ुशी से पागल हो गया ..


उसने पंडित जी का फ़ोन काटकर जल्दी से इरफ़ान को फ़ोन लगाया और उसे शाम को 5 बजे का टाइम दे दिया और जगह भी बता दी ..वो भी मान गया .खंडहर में चुदाई के ख़याल से ही उसकी तोप से गोले निकलने को आतुर होने लगे ..


पर उसे कुछ इस तरह निकलना पड़ेगा ..ताकि नूरी को कोई शक न हो सके ..


लगभग चार के आस पास उसने नूरी को ऊपर से बुलाया और उससे कहा की दूकान का सामान लेने के लिए सदर बाजार जाना है ..


नूरी को भला क्या प्रॉब्लम होनी थी ..इरफ़ान ने कहा की वो दूकान संभाल ले , इतना कहकर वो बाहर निकल गया ..


नूरी का फ़ोन ऊपर ही रह गया , उसके नीचे उतरने के साथ ही पंडित जी ने उसे फोन मिलाया पर घंटी बजती रही ..उसने फ़ोन नहीं उठाया ..उठती भी कैसे, वो तो नीचे थी दूकान पर .




जब 4 - 5 बार फ़ोन करने पर भी उसने नहीं उठाया तो पंडित जी समझ गए की या तो वो सो रही है या फिर फ़ोन उसके आस पास नहीं है ..उधर टाइम भी होने वाला था , इसलिए उसे बताना जरुरी था, ये सोचकर वो खुद उसके घर की तरफ चल दिए ..


नूरी को दूकान पर बैठे हुए अभी पांच मिनट ही हुए थे की उनकी दूकान प् पुराना ग्राहक सुलेमान वहां आ पहुंचा , दरअसल उसने इरफ़ान भाई को बाहर जाते हुए देख लिया था , और दोपहर का समय होने की वजह से वहां भीड़ भी नहीं थी ..उसकी गन्दी नजरें कब से नूरी के ऊपर थी, और वो भी उसकी बातों का मजा लती रहती थी ..पर बात कभी उसके आगे नहीं बड़ी थी , आज सुलेमान ने सोच लिया था की अपना लक नूरी पर आजमा कर रहेगा ..


वो सीधा दूकान पर जा पहुंचा


सुलेमान : "क्या बात है नूरी ...रोज इसी तरह दूकान पर आकर बैठोगी तो मैं सारा दिन कुछ न कुछ लेता ही रहूंगा ..''


नूरी भी थोड़े चंचल मूड में थी ..


नूरी : "तो मना किसने किया है सुलेमान ..तो बोलता जा और मैं निकालती जाती हु ..बोल क्या चाहिए ''


उसका दोअर्थी मतलब समझकर एक बार तो सुलेमान को लगा की वो नूरी को खुलेआम बोल दे ..पर उसकी हिम्मत नहीं हुई .


उसने नूरी की छाती की तरफ देखते हुए कहा : "दो दूध की थेलियाँ दे दे ..''


नूरी भी उसकी बात के पीछे छुपा अर्थ समझ गयी और बोली : "कोन सी लेगा ..अमूल की या मदर डेयरी की ..''


मदर डेयरी बोलते हुए उसने अपनी नजरे झुका कर अपनी छातियों की तरफ इशारा किया ..


अब तो सुलेमान भी समझ गया की नूरी भी वही चाहती है जो वो चाहता है ..


उसने थोडा और चाशनी भरे स्वर में उससे पुछा : "फर्क क्या है दोनों में ..मुझे तो एक जैसे ही लगते हैं ..''


नूरी ने भी सोचा की मौका अच्छा है ..उसके अब्बा भी घर पर नहीं है ..और सुलेमान उसे अच्छा भी लगता है ..और उसपर लाइन भी मारता है .तो क्यों ना आज इसके साथ ही मजा लिया जाए ..


उसने नशीली आवाज में उससे धीरे से कहा : "अन्दर आओ ..तुम्हे दिखाती हु की क्या फर्क है ..''


सुलेमान को तो अपनी किस्मत पर विशवास ही नहीं हुआ ..


वो झट से साईड का फट्टा उठा कर अन्दर चल दिया ..नूरी के पीछे - 2 .


अन्दर जाते ही नूरी ने फ्रिज में से अमूल के दूध की एक थेली निकाली और उसके किनारे को अपने मुंह से छील कर उसमे छेद कर दिया ..और ठन्डे दूध का एक लंबा घूँट पी लिया ..और जान बूझकर उसने थोडा दूध बाहर भी निकाल दिया जो उसके गले से होता हुआ उसकी ब्रेस्ट को भिगोता चला गया ..


सुलेमान की गिद्ध जैसी नजरें पहले से ही उसकी ब्रेस्ट को घूर रही थी ..दूध से गीला होने की वजह से वो और स्वादिष्ट नजर आने लगी ..


उसने अपने होंठों पर जीभ फेरी ..जैसे वो सारा दूध पी लेना चाहता हो ..


नूरी ने वो दूध की थेली उसकी तरफ कर दी ..और बोली : "लो पीकर देखो ..और चेक करो इसका टेस्ट ..''


उसने थेली को झपटा और अपने मुंह से लगा कर सार दूध एक ही बार में पी गया ..

अब नूरी दोबारा से फ्रिज के अन्दर झुकी और कुछ ढूँढने के बाद बोली : "ओहो ...मदर डेयरी का दूध तो ख़त्म हो चुका है ..अब तुम कैसे चेक करोगे की किसका टेस्ट बेहतर है ..''


उसने बुरा सा मुंह बनाया ...और इस अंदाज से बोली जैसे सुलेमान को कोई इनविटेशन दे रही हो ..


और सुलेमान भी पक्का चोदु था ..वो समझ गया ..और थोडा आगे आया और नूरी की कमर पर हाथ रखकर अपनी तरफ खींच लिया ..


नूरी : "ये ...ये क्या कर रहे हो ..''


सुलेमान : "थेली वाला दूध नहीं है तो क्या हुआ ..ये भी तो मदर डेयरी का ही सेम्पल है तुम्हारे पास ..''


उसने नजरें झुका कर उसकी छातियों की तरफ इशारा किया ..


नूरी : "तो ..तो ..तुम इसमें से टेस्ट करोगे ..''


वो दोनों जैसे कोई खेल खेलने में लगे हुए थे ..


वो खुद भी यही चाह रही थी ..पर फिर भी खेल की रोचकता को बनाए रखने के लिए ऐसे सवाल कर रही थी और अनजान बनने का नाटक भी .



सुलेमान : "हाँ .....तभी तो बता सकूँगा की कोनसा दूध सही है ..''


इतना कहकर उसने अपना सर नीचे किया और अपनी जीभ निकाल कर उसकी गर्दन पर रख दी ..जहाँ दूध की बूंदे अभी तक जमी हुई थी ..


नूरी के मुंह से एक लम्बी सी सिसकारी निकल गयी ...और उसने सुलेमान के सर को पकड़कर अपनी छाती पर जोरों से दबा दिया ..

सुलेमान की जीभ नीचे फिसलती हुई उसके उभारों तक जा पहुंची ..उसने सूट पहना हुआ था, जिसका गला काफी गहरा था , इसी वजह से वो उसके मोटे मुम्मों का आधे से ज्यादा भाग अपनी जीभ से चूस पा रहा था ..


वो ये सब कर रहे थे, इसी बीच पंडित जी दूकान पर आ पहुंचे ..


वहां कोई नहीं था ..उन्होंने टाईम देखा ,पांच बजने में आधा घंटा था , मतलब इरफ़ान भी तो शायद निकल चुके होंगे ..यानी दूकान इस वक़्त नूरी के भरोसे थी ..पर वो है कहाँ , वो ये सोच ही रहे थे की उन्हें दूकान के अन्दर से नूरी की सिसकारी की आवाज आई ..


पंडित जी समझ गए की नूरी जरुर कुछ गड़बड़ कर रही है ..

वो धीरे से अन्दर दाखिल हो गए ..और पीछे वाले कमरे में जाकर आते की बोरी के पीछे छुप गए ..और वहां से जो उन्होंने देखा उसे देखकर उनका शक पक्का हो गया ..


सुलेमान ने नूरी को बुरी तरह से पकड़ा हुआ था और उसकी गर्दन को अपनी जीभ से चाट रहा था ..

पंडित ने एक पल के लिए तो सोचा की नूरी को अपनी उपस्थिति का एहसास कराये पर कुछ सोचकर वो खुद रुक गए .. क्योंकि उनके दिमाग में अचानक एक बात आ गयी थी ..इसलिए वो वेट करने लगे ,और उन दोनों का खेल देखने में लग गए .


सुलेमान ने धीरे - २ नूरी के सूट की कमीज को ऊपर की तरफ खींचकर निकालना शुरू कर दिया ..


वो मचल रही थी ..और मचलते हुए बोली : "ये क्या कर रहे हो तुम ...''


सुलेमान : "तुमने भी तो दूध पीने के लिए थेली को फाड़ा था ..मैं तो थेली को उतार रहा हु ..''


इतना कहते हुए उसने उसकी शर्ट को उतार फेंका ..


उसके बाद का नजारा देखकर तो सुलेमान की कुत्ते जैसी जीभ ऐसे बाहर आ गयी जैसे उसने गोश्त का भण्डार देख लिया हो ..और था भी वो नजारा ऐसा ही ..ब्लेक ब्रा के अन्दर उसके मोटे मुम्मे किसी लबाबदार डिश जैसे लग रहे थे ..जिन्हें वो अपनी जीभ और दांतों से चबा जाना चाहता था ..


उसने अपनी जीभ को उसके उभारों पर फिर से फेराया ..सुलेमान की जीभ की गर्मी और उसकी लार की ठंडक अपने जिस्म पर पाकर वो कांप सी गयी ..


अगले ही पल उसके मोटे हाथों ने उसकी ब्रा के कप नीचे खिसका दिए ..और उसके मजेदार , लज्जतदार , रसीले और मोटे मुम्मे उछल कर बाहर निकल आये ..जिनपर किशमिश जैसे काले रंग के दाने लगे हुए थे ..


सुलेमान ने अपना मुंह पूरा खोल और एक मुम्मे का गोश्त अपने मुंह में ठूस कर उसे जोर से चूसने लगा ..


उसकी ब्रा अभी तक वहीँ की वहीँ थी ..और सुलेमान ने सिर्फ उसकी ब्रेस्ट को बाहर निकाला था , ऐसा एहसास उसने आज तक नहीं पाया था ..वो फिर से सुलेमान के सर को अपनी छाती से दबा कर उसे बच्चों की तरह प्यार करते हुए उसे अपना दूध पिलाने लगी ..


थोड़ी देर चूसने के बाद उसने दूसरी तरफ का भी दूध पीया ..और थोडा चूसने के बाद उसने सर ऊपर उठाया और धीरे से बोला


''इस मदर डेयरी के दूध का मुकाबला कोई नहीं कर सकता ...''


उसकी बात सुनकर नूरी मुस्कुरा दी ..और उसका सर पकड़कर उसके होंठों को जोर जोर से चूसने लगी ..

नूरी ने उसका सर पकड़कर वापिस अपने निप्पल पर लगा दिया ..जैसे कह रही हो ..'बातें कम कर ..काम पर ध्यान दे तू .'


उसने दुसरे हाथ से उसकी ब्रा के स्ट्रेप को खींचकर नीचे गिरा दिया ..और उसकी ब्रा उसके पेट पर जाकर अटक गयी ..


अब उसकी दोनों छातियाँ सुलेमान के सामने थी , जैसे थाली में दो खरबूजे सजा दिए हो ,खाने के लिए .

सुलेमान भी दिल खोल कर सिर्फ उन्हें खा ही नहीं रहा था, बल्कि दबा रहा था, निचोड़ रहा था , पी रहा था , जैसे सच में उसमे से दूध की धार निकलेगी और उसकी प्यास बुझा देगी ..

पर दूध की धार निकलने में तो अभी नौ महीने का समय था ..अभी -२ तो पंडित जी ने बीज बोया था उसके अन्दर ..दूध निकलने में टाईम तो लगेगा ही न ..


तभी नूरी के हाथ फिसल कर सुलेमान के लंड के ऊपर चला गया ..उसने उसे जोर से पकड़ कर दबा दिया ..उसकी सलवार के नाड़े को खोलकर उसने झट से नीचे गिरा दिया ..और अंडरवीयर के अन्दर हाथ डालकर उसके रेजिमेंट के सिपाही को अपने सामने तलब कर लिया ..


''वाव ....क्या लंड है तेरा सुलेमान । ''


नूरी ने जैसे ही उसे देखा वो अपनी आँखे फेला कर बोली


वो बिलकुल काले रंग का था ..पर मोटा काफी था , एक खीरे जितना मोटा ..और उतना ही लम्बा ..

नूरी ने अपना दूसरा हाथ अपनी चूत के ऊपर रखा और उसकी चूत के मुंह से निकल रहे पानी को उसने अपनी पेंटी से ही मसल कर साफ़ कर दिया .


वो धीरे से जमीन पर बैठ गयी ..और उसने सुलेमान के लंड को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया ..

सुलेमान ने जब देखा की नूरी के गुलाबी होंठ उसके काले लंड को निगल रहे हैं तो उसकी आँखे बंद सी होती चली गयी ..उसने अपना चेहरा ऊपर कर लिया और अपने लंड की चुस्वायी का मजा लेने लगा .


इसी बीच पंडित जी की नजरें उनके साथ - 2 घडी पर भी थी ..दस मिनट हो चुके थे उन्हें यहाँ आये हुए ..वो ज्यादा लेट नहीं होना चाहते थे ..पर उन्हें सही समय का भी इन्तजार था ..

नूरी ने अपने हिलते हुए मुम्मो को उसके घुटनों पर रगड़ते हुए जोर जोर से लंड को पीना शुरू कर दिया ..सुलेमान की हालत खराब होती जा रही थी ..उसके लंड का पानी कभी भी निकल सकता था ..वो सोच रहा था की ऐसे ही वो उसके लंड को पीती रही तो वो उसकी चूत नहीं मार पायेगा जबकि नूरी कुछ और ही सोच रही थी , वो जानती थी की एक बार झड जाने के बाद आदमी को दोबारा झड़ने में टाईम लगता है , इसलिए वो पहले उसके लंड के दूध से अपनी प्यास बुझाना चाहती थी और उसके बाद उससे अपनी चूत चट्वानी थी उसको ..और अंत में फिर से उसके लंड से अपनी चूत की चुदाई करवानी थी ..ये प्रोग्राम था उसके दिमाग में ..


पर वो बेचारी क्या जानती थी की पंडित जी भी वहीँ छुपकर खड़े हैं और उसके सोचे हुए प्लान पर पानी फेरने वाले हैं ..


अगले दो मिनट के अन्दर ही नूरी ने अपने मुंह का कमाल दिखाकर सुलेमान के खीरे का सारा जूस पी लिया ..कुछ नीचे जमीन पर गिर, कुछ उसके मुम्मों पर ..पर ज्यादातर उसके मुंह के अन्दर ही गया ..

नूरी ने अपनी ब्रेस्ट और मुंह के किनारे पर लगा हुआ सुलेमान का माल अपने हाथ की उँगलियों से हथेली में समेटा और अपनी लम्बी जीभ निकाल कर उसे कुतिया की तरह चाटना शुरू कर दिया ..

अब बारी थी नूरी की ..उसकी चूत की ..जो इतनी देर से बह रही थी की उसकी पेंटी और सलवार पूरी गीली हो चुकी थी ..


उसने अपनी सलवार का नाड़ा खोलकर नीचे गिरा दिया ..


मेचिंग ब्लेक कलर की पेंटी देखकर सुलेमान के मुंह से फिर से लार टपकने लगी ..


उसने उसकी पेंटी को खींचकर नीचे गिरा दिया ..


बस इसी पल का इन्तजार था पंडित जी को ..


जैसे ही उसकी नंगी चूत का नजारा पंडित जी ने देखा वो चुपके से बाहर की तरफ निकल गए ..


और जैसे ही नूरी को जमीन पर लिटा कर सुलेमान ने अपनी जीभ उसकी चूत पर रखी .. बाहर से पंडित जी की आवाज आई ..


''अरे इरफ़ान भाई ...कहाँ हो ...''


सुलेमान की तो जैसे झांटो में आग लग गयी ..वो इतनी देर से दुआ मांग रहा था की आधे घंटे तक कोई भी ना आये दूकान पर ..ताकि वो सब काम आसानी से निपटा सके ..
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:07 PM,
#35
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--34

***********
गतांक से आगे ......................

***********

उसने तो समझा था की कोई ग्राहक है ..पर नूरी समझ गयी थी की वो पंडित जी हैं ..


उसने धीरे से सुलेमान से कहा ..''तुम यहीं रहना , मैं इन्हें निपटा कर अभी आती हु ..मेरी चूत की आग बुझाये बिना मैं तुझे कहीं नहीं जाने दूँगी ..''


उसकी बात सुनकर सुलेमान की सांस में सांस आई .


उसने जल्दी से अपने कपडे पहने और बाहर निकल आई ..


बाहर पंडित जी थे . वो जल्दी से उनके पास पहुंची और बोली : "पंडित जी ..अब्बा कहीं बाहर गए हैं ..बस आने ही वाले हैं, आप अभी जाइये ..अभी नहीं हो पायेगा ..''


वो समझ रही थी की ठरकी पंडित रोज की तरह उसकी चूत मारने के लिए आया है ..पर अभी उसका ध्यान सुलेमान की तरफ था, इसलिए वो पंडित जी को टरकाने के लिए ऐसा बोल रही थी ..क्योंकि वो जानती थी की पिछली बार भी कैसे पंडित जी की फट गयी थी जब बाहर उसके अब्बा आ गए थे और वो दोनों अन्दर चुदाई कर रहे थे ..इसलिए अब्बा का नाम बोलकर वो उन्हें डरा भी रही थी ताकि वो जल्दी से पतली गली से निकल जाए .


पर वो भोली - भाली ये नहीं जानती थी की ये सब माया पंडित जी की है, और पंडित जी ने भी यही समय इसलिए चुना था ताकि नूरी अपनी प्यासी चूत की तड़प थोडा और संभाल कर रखे ताकि इरफ़ान के साथ चुदाई में और भी ज्यादा मजा आये .

वो मुस्कुराये और नूरी से बोले : "मुझे बेवकूफ बनाने की कोई जरुरत नहीं है ..मुझे पता है की अन्दर कौन है ..और तुम क्या कर रही थी ..''


अब गांड फटने की बारी नूरी की थी ..उसने आँखे गोल करके पंडित जी के चेहरे को देखा जैसे विशवास कर लेना चाहती हो की वो जो बोल रहे हैं वो सच भी है या नहीं ..पर पंडित जी की आँखों में आत्मविश्वास देखकर उसने नजरे नीची कर ली .


नूरी : "वो ...दरअसल ...मैंने सोचा ..की ..''


पंडित : "तुमने सोचा की मौका अच्छा है ..अब्बा भी गए हुए हैं ..पंडित जी का लंड भी ले चुकी हु ..तो जाते - 2 सुलेमान के साथ भी मजे ले ही लूँ ..''


वो चुप हो गयी ..कुछ भी न बोल पायी .


पंडित : "मैंने ही इरफ़ान भाई को भेजा है ..तुमने ही तो बोला था अपने अब्बा से चुदने के लिए ..इसलिए मैंने सारा जुगाड़ किया है .''


इतना कहकर पंडित जी ने सारी कहानी एक ही सांस में नूरी को सूना दी ..

वो अपना मुंह फाड़े सुनती रही और मन ही मन खुश होती रही की आखिरकार उसकी बरसों की मुराद पूरी होने जा रही है ..अपने अब्बा से चुदने की ..

पंडित : "पर मुझे क्या पता था की तुम यहाँ दुसरे लंड से मजे ले रही हो ..अगर ये ज्यादा जरुरी है तो रहने दो ..पर बाद में मुझसे उम्मीद मत रखना ..''


नूरी तपाक से बोली : "अरे नहीं पंडित जी ..कैसी बाते करते हो आप ..जिस पल के लिए मैं इतने समय से वेट कर रही थी, उसे मैं ऐसे ही नहीं जाने देना चाहती ..''


उसके चेहरे की ख़ुशी बता रही थी की वो पंडित जी की योजना से पूरी तरह से सहमत है ..


पर पंडित जी ये सब खुले आम नहीं करवाना चाहते थे ..उन्होंने नूरी को जल्दी से तैयार होने की हिदायत दी ...और उसे क्या करना है और क्या पहनना है वो भी बता दिया ..


और समय की मांग को ध्यान में रखते हुए उसे जल्दी से जल्दी वहां पहुँचने को कहा ..और ये सब कहकर वो जल्दी से निकल गए .


उनके जाते ही नूरी भागकर अन्दर आई और जल्दी से सुलेमान को कपडे पहनकर वापिस जाने को कहा ..वो बोली की अब्बा का फ़ोन था .. वो बस आने ही वाले हैं , सुलेमान की तो जैसे माँ ही मर गयी नूरी की बात सुनकर , उसका चेहरा और लंड देखने लायक था ..


पर नूरी ने अगली बार जल्दी ही अधूरा काम निपटाने का वादा करते हुए उसे वापिस भेज दिया ..


और फिर उसने दूकान बंद की और भागकर ऊपर गयी , पंडित जी के कहे अनुसार उसने वैसे ही कपडे पहने और ताला लगाकर खंडहर की तरफ चल दी .


वहां दूसरी तरफ खंडहर के बाहर गिरधर खड़ा होकर इरफ़ान का वेट कर रहा था , इरफ़ान भाई जैसे ही उसे आते हुए दिखाई दिए वो उनकी तरफ दौड़ा चला आया ..


इरफ़ान : "हाँ भाई ..किधर है तेरा आइटम ...जब से तूने बताया है, मेरा तो लंड बैठने का नाम ही नहीं ले रहा ..''

गिरधर : "अरे साहब ..हुस्न का दीदार करने के लिए थोडा इन्तजार और करना पड़ेगा बस ..आप अन्दर जाइये, वो बस आने ही वाली है, मैं उसे लेकर अन्दर आता हु ..''


इतना कहकर उसने अपने हाथ आगे फेला दिए , इरफ़ान समझ गया और उसने अपनी जेब से दस हजार रूपए निकालकर उसकी हथेली पर रख दिए ..बिन मांगे उसे मुंह मांगे रूपए मिल गए थे ..वो खुश हो गया और पैसे अपनी जेब में रख कर गिरधर ने इरफ़ान को खंडहर के अन्दर भेज दिया ..शाम का समय था, इसलिए जो इक्का दुक्का लोग भी वहां मौज मस्ती के लिए आये हुए थे, वो भी जा चुके थे ..


इरफ़ान के अन्दर जाने के कुछ देर के बाद ही उसे पंडित जी भी आते दिखाई दिए ..


पंडित जी ने आकर उसे बता दिया की सब कुछ योजना के अनुसार ही हो रहा है ..लगभग 10 मिनट के बाद ही रिक्शे पर नूरी आती दिखाई दी ..उसने बुरका पहना हुआ था ..पूरा शरीर ढका हुआ था , सिर्फ आँखों वाले हिस्से के जालीदार कपडे में से उसकी नशीली आँखे नजर आ रही थी .


वो जब उनके पास आकर खड़ी हुई तो गिरधर की नजरें बुर्के के ऊपर से ही उसे चोदने में लगी हुई थी ..फिटिंग वाले बुर्के में उसके शरीर के भराव और उभार साफ़ दिखाई दे रहे थे ..गिरधर ने अपनी जीभ सूखे होंठों पर फिराई ..शायद सोच रहा था की उसका नंबर भी तो लगने वाला है इस माल पर .


पंडित जी ने उसे फिर से जरुरी बाते समझाई और उसे गिरधर के साथ अन्दर भेज दिया ..


अन्दर इरफ़ान एक कोने में बने हुए चबूतरे पर बैठा हुआ था , जहाँ से पीछे की तरफ की खायी साफ़ दिखाई दे रही थी ..दूर -2 तक सिर्फ जंगल और पेड़ ही थे ..उसने एक पत्थर की बेंच को साफ़ सुथरा करके उसे चोदने के लिए सजा सा लिया था .


और उसे तो बस इन्तजार था उस लड़की के आने का ..वो सोचने लगा की कैसे वो इस बियाबान खंडहर में उसकी चुदाई करेगा कैसे उसकी गांड मारेगा ..और वो ये सब सोच ही रहा था की गिरधर के साथ उसे नूरी आती हुई दिखाई दी ..


बुर्के के पीछे छुपी हुई नूरी को वो भला कैसे पहचान पाता ..वो तो बस उसके भरे हुए शरीर को देखकर मंत्र्मुघ्ध सा हो गया ..और बड़ी ही बेशर्मी से उन दोनों के सामने ही अपने लंड को मसलने लगा ..


अपने अब्बा को देखकर नूरी की चूत से वैसे ही पसीना निकल रहा था ..ऊपर से उनका लंड मसलना देखकर वो तो जैसे बेकाबू सी हो गयी ..उसका मन तो कर रहा था की अभी अपना बुरका उतार फेंके और अपने अब्बा को दिखा दे की वो कौन है ..पर पंडित जी ने उसे इस बात के लिए मना किया था, इसलिए वो बस खड़ी रही .


इरफ़ान : "वह गिरधर ..तूने सच ही कहा था ..सच में भरा हुआ माल है ये तो ..इसे बुर्के में देखकर ही मेरा लंड ऐसे मचल रहा है , जब ये नंगी होकर चूत दिखाएगी तो क्या हाल होगा इसका ..''


अपने बाप के मुंह से लंड चूत की बाते सुनकर नूरी के होंठ भी फडफडा उठे ..पर वो सिर्फ सिसक कर रह गयी ..


गिरधर : "ये तो मैंने पहले ही कहा था साहब , अब बस आप एन्जॉय करो ..मैं चलता हु ..''


इतना कहकर वो बाहर निकल आया ..और पंडित जी के साथ मिलकर वापिस आकर एक कोने में छिप गया ..जहाँ से वो उनकी चुदाई को आराम से देख सकते थे .


अब असली खेल शुरू होने वाला था .

इरफ़ान को ये पता भी नहीं चल पाया की गिरधर वहीँ छुपकर बैठ गया है उनका खेल देखने के लिए , उसका तो पूरा ध्यान ''नूरी'' के ऊपर था ..


इरफ़ान : "तुम्हारा कसा हुआ बदन देखकर तो लग रहा है की तुमने चुदाई काफी करवाई है ..''


वो चुप रही ..


इरफ़ान आगे बड़ा और उसने उसके चेहरे से बुर्के को उतारना चाहा .. पर उसने मना कर
दिया ..


नूरी (आवाज बदल कर , जैसा पंडित जी ने कहा था ) : ''आप प्लीस मेरा चेहरा ना देखे...मैंने इसके बारे में पहले से ही बोल दिया था गिरधर को ..''


इरफ़ान : "पर उसने तो ऐसा कुछ नहीं बताया ..पर कोई बात नहीं ..मैं समझ सकता हु की तुम एक शरीफ घराने की लड़की हो ..पर चेहरे के अलावा तो कुछ छुपाने का इरादा नहीं है ना ..''


कहते हुए इरफ़ान ने नूरी के मुम्मों के ऊपर हाथ रखकर उन्हें जोर से दबा दिया ..


''ऊम्म्म्म्म्म्म .....नाआअ ....वो सब देख सकते हो .....अयीईई .....''


इरफ़ान ने उसकी घुन्डियाँ पकड़कर ऐसे निचोड़ दी मानो करोंदे का रस निकाल रहा हो ..


इरफ़ान ने नूरी को पत्थर की सीट पर बिठा दिया ..और खुद उसके सामने जाकर घुटने मोड़ कर बैठ गया ..


और उसकी टांगो के ऊपर का कपडा धीरे - 2 ऊपर करने लगा ..


जैसे -२ उसका बुरका ऊपर जा रहा था उसकी गोरी पिंडलियाँ नंगी होती जा रही थी ..जिन्हें देखकर इरफ़ान का बुरा हाल हो रहा था ..पंडित जी के कहे अनुसार उसने बुर्के के अन्दर सिर्फ ब्रा और पेंटी पहनी हुई थी ..ब्लेक कलर की , जो उसके गोर रंग से कंट्रास करके काफी जच रही थी .


जैसे ही उसकी मोटी और गद्देदार जांघे इरफ़ान के सामने चमकी उसने अपनी बाहर निकल रही कुत्ते जैसी जीभ को नीचे किया और उसे ऐसे चाटने लगा जैसे चीज वाला सेंडविच ..अपने अब्बा के पहले स्पर्श से नूरी सिहर उठी ..उनकी खुरदुरी जीभ के एहसास को अपनी चिकनी जाँघों के ऊपर पाकर उसने आँखे बंद कर ली ..और उनके सर को अपने हाथों से दबा कर अपने ''अब्बा'' को और ऊपर आने का निमंत्रण दिया ..

इरफ़ान भी अपनी गीली जीभ को ऊपर की तरफ खिसकाता हुआ उसकी पेंटी तक जा पहुंचा ..अब तो उसका मन कर रहा था की बस उसकी कच्छी के चिथड़े उड़ा डाले ...पर वो बेचारी घर क्या पहन कर जायेगी ये सोचकर वो रुक गया ..और उसने नूरी को बुरका उतारने को कहा ..


वो खड़ी हुई और बड़ी अदा के साथ उसने अपने बुर्के के बटन खोलने शुरू किये ..और सारे बटन खोने के बाद उसे कोट की तरह उतार कर नीचे फेंक दिया ..


अब वो सिर्फ ब्रा, पेंटी और नकाब में थी ..सब कुछ ब्लेक कलर का था ..


नूरी के सीने की ऊंचाईया देखकर इरफ़ान की आँखे बाहर निकल आई ..इतनी सेक्सी लेस वाली ब्रा के अन्दर बंद कबूतरों को देखकर उसके हाथ फद्फड़ाने लगे उन्हें पकड़ने के लिए ..और उसकी पतली कमर के नीचे की फेलावट को देखकर उसके लंड महाराज का बुरा हाल हो गया , ना जाने कितनी मुश्किल से वो छोटी सी पेंटी उसकी चोडी और उभरी हुई गांड को कवर करने में कामयाब हो रही थी , ये तो नूरी ही जानती थी ..आगे की तरफ का गहरा धब्बा नूरी की चूत की हालत बयान कर रहा था ..


पंडित जी तो नार्मल थे पर गिरधर की हालत खराब होने लगी ..उसने भी ऐसा माल आज तक नहीं देखा था ..हर तरफ से भरा हुआ और कसाव वाला शरीर था उसका ..वो अपने लंड को अपनी पेंट के ऊपर से ही मसलने लगा ..पंडित उसकी हरकत देखकर मुस्कुरा दिए ..


उधर , इरफ़ान ने आगे बढकर नूरी की ब्रा के स्ट्रेप को एक ही झटके में नीचे गिरा दिया ..और अगले ही पल उसके खरबूजे जितने बड़े मुम्मे बाहर की तरफ निकल आये जिनके ऊपर के दानो को देखकर इरफ़ान के मुंह में पानी आ गया ..और उसने अपना सर नीचे करके उन्हें अपने मुंह में दबोच लिया और अपने दांतों और होंठों से उसकी सेवा करने लगा ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .....उम्म्म्म्म्म्म .......''

नूरी का बदन कमान जैसे टेड़ा होकर पीछे की तरफ झुक गया ..इरफ़ान ने अपने दोनों हाथ उसकी गांड के ऊपर रख दिए और पेंटी के अन्दर डालकर उसकी नंगी गांड को थाम लिया .. और उन्हें गुब्बारों की तरह दबाने लगा ..


वो खड़ा हुआ कभी उसका दांया मुम्मा चूसता और कभी बांया ...और उसके हाथ की उँगलियाँ धीरे -2 उसकी गांड की सरहदों में दाखिल होकर वहां बनी हुई दोनों चोंकियों को कुरेदने में लगी थी ..एक हाथ की उँगलियाँ उसकी गांड के छेद को कुरेद रही थी और दुसरे हाथ की उँगलियाँ उसकी रसीली चूत को ..


इरफ़ान का मन तो कर रहा था की उसके रसीले होंठों को चूस ले पर उसने मना कर रखा था ..इसलिए वो झुका और उसकी चूत के सामने अपना मुंह लेकर बैठ गया ..और एक ही झटके में उसने उसकी गदरायी हुई गांड का लिबास उतार कर उसे नंगा कर दिया ..


अपने अब्बा की भूखी आँखों के सामने अपनी चूत को बेपर्दा पाकर नूरी की चूत भावुक हो उठी और उसमे से गर्म रस आंसुओं की तरह बहकर बाहर आने लगा ..जिसे उसके अब्बा ने एक पल भी गंवाए अपने मुंह से चाटकर साफ़ कर दिया ..


अब फिर से इरफ़ान ने नूरी को पत्थर की बेंच पर लिटा दिया और उसकी टांगों को खोलकर उसके अन्दर अपने मुंह से खुदाई करने लगा ..

जितनी खुदाई करता उतना ही पानी बाहर निकल आता , उसका चेहरा और होंठ बुरी तरह से उसके रस से नहा कर गीले हो गए ..


नूरी ने अपनी ब्रा के स्ट्रेप भी खोल दिए और अब वो पूरी नंगी थी ..अपने बाप के सामने .


और जैसे वो नंगी हो चुकी थी, वैसे ही वो अपने अब्बा को भी नंगा देखना चाहती थी ..पर उन्होंने अभी तक अपना एक भी कपडा नहीं उतारा था ..और ये इरफ़ान जान बूझकर कर रहा था ..वो उसकी चूत को चूसकर और उसके मुम्मे दबा कर उसे पूरी तरह से गर्म कर देना चाहता था ताकि बाद में वो खुद उसके कपडे उतारकर उसके लंड को किसी पागल कुतिया की तरह से चूसे और चाटे ..


और हुआ भी यही ...नूरी से जब बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो खड़ी हुई और इरफ़ान के सामने घुटनों के बल बैठ गयी ..और उसके पायजामे के नाड़े को खोलने लगी ..


वो आराम से खड़ा होकर उसे बेसब्री से ये सब करता हुआ देख रहा था ..नूरी ज्यादा बोल नहीं रही थी, क्योंकि उसे डर था की कहीं उसकी आवाज को उसके अब्बा पहचान ना ले ..
वो सिर्फ सिसकारी मारकर हाल-ऐ-चूत बयान कर रही थी ..


इरफ़ान ने ऊपर से अपना कुर्ता खुद ही उतार दिया और नीचे से जैसे ही उसका पायजामा नीचे सरका उसके अन्दर खड़ा हुआ जानवर आखिरी पिंजरा तोड़कर बाहर आने को मचलने लगा ..


और फिर नूरी ने धीरे-२ उसके कच्छे को भी नीचे उतार दिया ...और जैसे ही उसे अपने अब्बा के लंड का दीदार हुआ उसने अपने नकाब के ऊपर से ही उसे अपने छोटे भाई की तरह से चूम लिया ..


पर बीच में आ रहा कपडा उसे परेशान कर रहा था, उसने धीरे से अपने नकाब को सिर्फ होंठों तक ऊपर उठाया और अपने अब्बा के लंड को अपने मुंह ममे ले लिया ..और उसे जोर -२ से चूसने लगी ..


इरफ़ान को तो लगा जैसे उसका लंड किसी गर्म सुरंग में पहुँच गया है ..इतनी हीट निकल रही थी नूरी के मुंह से जैसे वो उसके लंड का सीख कबाब बना रही है अपने मुंह में ..

पर उसे मजा भी उतना ही आ रहा था ..इतनी जवान लड़की ने आज तक उसके लंड को नहीं चूसा था ..अपनी बेटी की उम्र की लड़की से अपना लंड चुसवाना किसे अच्छा नहीं लगेगा ..और जैसे ही इरफ़ान को अपनी बेटी का ख्याल आया वो और जोश से भर उठा ...वो सोचने लगा की ये लड़की बिलकुल उसकी बेटी नूरी की उम्र की है और शारीरिक रूप से भी वैसी ही लग रही है ..काश जो वो सोच रहा है वो सच होता ..कितना अच्छा होता ..


अब वो बेचारा क्या जानता था की ये सच हो चुका है ..जिसे वो चोदने की तैय्यारी कर रहा है वो उसकी अपनी बेटी नूरी ही है ..और उस लड़की को अपनी बेटी नूरी समझ कर वो उसके मुंह को चोदने लगा .


और जैसे ही इरफ़ान को लगने लगा की उसके लंड का पानी निकलने वाला है वो सिहर सा उठा ..और उसने नूरी के सर को पकड़कर उसे रोक दिया ..


''बस ......बस .....रुक जा नूरी ....''


अपनी बेटी के बारे में सोचते- २ उसके मुंह से नूरी निकल गया ..जिसे सुनकर एक पल के लिए तो नूरी के साथ - २ पंडित और गिरधर भी सकते में आ गए की कहीं इरफ़ान को पता तो नहीं चल गया ..


पर अगले ही पल इरफ़ान संभल गया और नूरी से बोला : "उम् माफ़ करना ...मेरे मुंह से नूरी निकल गया ...''


नूरी (बदली आवाज में ) : "ये नूरी कौन है ..अगर आप चाहो तो मैं नूरी बनकर ये सब कर सकती हु ..आपको भी ज्यादा मजा आयेगा ..''


वो तो मन ही मन खुश हो रही थी की उसके अब्बा भी उसके बारे में वैसे ही सोच रहे हैं जैसे वो सोच रही है ..बस उनके मन को अच्छी तरह से टटोल कर वो उनके सामने बेपर्दा होना चाहती थी ..


इरफ़ान थोड़ी देर के लिए सकुचा सा गया ..वो सोचने लगा की उस ''रंडी' को अपनी बेटी के बारे में बताये या नहीं ..


नूरी ने उसकी चिंता भांप ली ..और बोली : "लगता है ये तुम्हारी बेटी का नाम है ..है ना ..''


इरफ़ान (हेरान होते हुए ) : "तुम ...तुम्हे कैसे पता ...चला ..''


नूरी (हँसते हुए) : "अक्सर बेटी की उम्र की लड़की देखकर अपनी बेटी ही याद आ जाती है ..आपकी उम्र देखकर पता चल रहा है की आपकी बेटी की उम्र मेरी जितनी ही होगी ..और शायद आप मुझमे उसका अक्स देख रहे हैं ..''


इरफ़ान ने हाँ में सर हिला दिया ..
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:08 PM,
#36
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--35

***********
गतांक से आगे ......................

***********

नूरी : "आप शर्मिंदा मत होइये ...आप गलत नहीं सोच रहे हैं ..ज्यादातर बाप अपनी बेटियों के बारे में यही सोचते हैं ..और ज्यादातर लड़कियां भी अपने बाप के बारे में यही सोचती है ..''


इरफ़ान : "अच्छा ....सच में ?"


नूरी : "हाँ ...मैं भी सोचती हु अपने अब्बा के बारे में ...जैसे अभी भी मुझे यही लग रहा है की मैं अपने अब्बा का लंड चूस रही हु ..ये सब सोचते हुए करने में काफी मजा आता है ..अगर आप चाहो तो मैं आपको अब्बा कहकर ये सब कर सकती हु ...आपको भी अच्छा लगेगा और मुझे भी ..''


इरफ़ान उसके ऑफर को कैसे मना कर सकता था ..वो खुद भी तो यही चाहता था ..


उसने हामी भर दी ..


और इतना कहते ही नूरी ने एक लम्बी सांस भरी और अपने अब्बा के लोंडे को अपने मुंह में धकेल कर उसे और तेजी से चूसने लगी ..


''ओह्ह्ह्ह्ह .....अब्बू .......उम्म्म्म्म ........तुम्हारे लंड को देखकर मेरी चूत से पानी निकल रहा है .....''


और इस बार वो अपनी आवाज बदलनी भूल गयी ..


जिसे सुनकर एक पल के लिए तो इरफ़ान भी चोंक सा गया ..वो सोचने लगा , मेरी बेटी की एक्टिंग करते हुए इसकी आवाज भी उसके जैसे कैसे हो गयी ..पर उसने ज्यादा सोचना उचित नहीं समझा क्योंकि जिस तरह से वो उसके लंड को चूस रही थी इरफ़ान को दोबारा लगने लगा की उसकी पिचकारी छूट जायेगी ..


उसने फिर से अपनी ''बेटी'' को रोक दिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .....नूरी ......मेरी बच्ची .....रुक जा ......और मत चूस ...अपने अब्बा का लंड ....अह्ह्ह्ह .....रुक जा ....''


और एक आज्ञाकारी बेटी की तरह से नूरी ने अपने ''अब्बा'' का लंड बाहर निकाल दिया ...


इतना गर्म सीन देखकर गिरधर ने साड़ी बेशर्मी की हदें पार करते हुए अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसे पंडित जी के सामने ही मसलने लगा ..


नूरी ने जैसे ही इरफ़ान के लंड को बाहर निकाला वो जाकर फिर से उसी सीट पर लेट गयी ..और अपनी टाँगे उठा कर बोली : "आओ न अब्बू ...चोदो अपनी नूरी को ...घुसा दो मेरी चूत में अपना ये मोटा लंड ...मारो मेरी चूत और बुझा दो मेरी प्यास ...आओ न अब्बू ..''


अपनी ''बेटी'' का आग्रह वो कैसे ठुकरा सकता था .... वो खड़ा होकर उसकी टांगो के बीच पहुंचा और अपना लंड उसकी चूत के ऊपर रख दिया ..और उसके नकाब के पीछे छिपी हुई आँखों में देखकर वो उसपर झुक गया ..और झुकने के साथ ही उसका पहाड़ी लंड किसी बर्फीले शूल की तरह उसकी गर्म चूत के अन्दर उतरता चला गया ..दोनों ही चीखे मारकर अपने एहसास का बयान करने लगे ..


''ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अब्बा ......उम्म्म्म्म्म्म ......क्या लंड है आपका ....उम्म्म्म्म्म ....और अन्दर डालो ....अह्ह्ह्ह्ह .....जोर से ....चोदो ...अपनी नूरी ....को ....अब्बू .....आज अपनी बेटी की चूत फाड़ कर रख दो ....अह्ह्ह्ह्ह्ह .....जोर से ...और जोर से ....''


इरफ़ान भी बडबडाने लगा : "अह्ह्ह्ह ...ले साली .....ले अपने बाप का लंड ....अह्ह्ह्ह ....और अन्दर ले ....घुसवा ले पूरा ....अपनी फुद्दी मे. ....अह्ह्ह्ह ....''

और आवेश में आकर इरफ़ान ने एक ही पल में नीचे झुककर उसके चेहरे का नकाब ऊपर कर दिया ...और चेहरा देखने से पहले ही झुक कर उसके होंठों को अपने मुंह में लेकर जोर - २ से चूसने लगा और नीचे से उसकी चूत में भी जोरों के धक्के मारने लगा ..


और अगले ही पल जब उसने अपनी आँखे खोलकर नूरी के चेहरे को देखा तो उसकी हेरानी की कोई सीमा ही नहीं रही ...


नूरी भी समझ चुकी थी की अब बहुत देर हो चुकी है ..पर उसने अपने अब्बू को अपने ऊपर से उठने नहीं दिया ..


इरफ़ान : "नूरी ....तू ...और ..और यहाँ ..........''


वो उठने लगा पर नूरी ने उसकी गांड को अपनी टांगो से बाँध लिया था और नीचे से धक्के मारकर वो बाकी का काम निपटाने लगी ...


इरफ़ान भी अपने आखिरी पड़ाव पर था ...और हेरात की बात ये थी की अपनी बेटी को सामने पाकर उसके लंड की कसावट और भी ज्यादा हो गयी थी ...वो अपने लंड को बाहर भी निकालना चाहता था और अन्दर भी रखना चाहता था ...


नूरी ने आखिर अपनी मंजिल पा ही ली ...और अपने अब्बू को अपनी छाती पर दबोच कर उसने अपनी चूत को भी उनके लंड से बुरी तरह से जकड लिया ..ताकि वो कहीं जा ना पायें ...

और अपनी गिरफ्त से छोड़ने के बाद वो अपने अब्बू से बोली : "अब्बू ...वो मैं तुम्हे सब बाद में बता दूंगी ...पर अभी आप वो करो जिसके लिए यहाँ आये हो ..जल्दी ..''


इरफ़ान ने ''अनमने'' मन से उसकी बात मान ली और धक्के मारकर अपने लंड को उसकी टनल के अन्दर बाहर करने लगा ..


अब उसके सामने नूरी का मासूम सा चेहरा था ..वो अपनी बडी -२ आँखों से अपने अब्बू को छोड़ते हुए देख रही थी ..और मुस्कुरा भी रही थी ..उसके हिलते हुए मोटे मुम्मे देखकर इरफ़ान के लंड की पिचकारियाँ आखिरकार उसकी चूत के अन्दर निकलने लगी ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ......,ओफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ .,.,.मैं आया ......ओह्ह्ह्ह्ह नूरी ......''

इतना कहकर वो पसीने से भीगी हुई ब्रेस्ट के ऊपर गिर पड़ा ..


थोड़ी देर के बाद वो उठा और अपने लंड को रुमाल से साफ़ करता हुआ अपने कपडे पहनने लगा ..


वो क्या बोले और क्या पूछे नूरी से वो समझ नहीं पा रहा था ..


नूरी ने ही आखिर कार बात शुरू की


नूरी : "अब्बू ,मुझे पता है की आप क्या सोच रहे हैं ..पर आप शायद नहीं जानते की मैं कितने सालों से यही चाहती थी जो आज हुआ है ...हाँ अब्बू,जब से मैंने जवानी की देहलीज पर कदम रखा है, मैंने हमेशा से ही आपके बारे में सोचा है ..और धीरे- २ मैं आपसे चुदने के बारे में सोचने लगी ..अपने शोहर से चुदते हुए भी मैंने हमेशा आपको ही सोचा है ..''


इरफ़ान हेरानी से अपनी बेटी का इकबालिया बयान सुन रहा था ..


नूरी : "मुझे जब बच्चा नहीं हो रहा था तो मैंने सोच लिया था की मैं आपसे चुद्वाकर प्रेग्नेंट हो जाउंगी ..पर पंडित जी के समझाने पर मैं मान गयी ..पर मुझसे रहा नहीं गया और आखिरकार उनके ही एक दोस्त की मदद से मैंने आपको यहाँ बुलाया और बाकी सब आपके सामने है ..''


इरफ़ान : "पर नूरी ...ये गलत है ...दुनिया की नजर में ये गलत है ..''


नूरी : "मुझे पता है अब्बू ...पर दुनिया को खुश रखने के लिए मैं अपनी हसरतों का गला नहीं घोंट सकती ..मैंने जो चाहां था वो कर लिया ..और जिस तरह से आपने मुझे आज चोदा है मुझे लग रहा है की मैं जल्द ही आपके बच्चे की माँ बन जाउंगी ..''


नूरी ने बड़ी चालाकी से पंडित जी की बात नहीं बताई और उनके बच्चे को भी इरफ़ान का नाम दे दिया ..


नूरी : "अब्बू ....अब ज्यादा मत सोचिये ...जो होना था वो हो चूका है ...अब बाकी की बातें घर चलकर करते हैं ..''


इतना कहकर वो नंगी उठकर आई और अपने अब्बू के गले से लिपट गयी ..


''और मुझे पता है की बातों से ज्यादा और भी कुछ करना है घर चलकर अभी तो ...''


और उसने ऊपर उचक कर अपने अब्बू को होंठों पर चूम लिया ..

नूरी ने भी अपने कपडे पहन लिए और वो थोड़ी देर के बाद अपने घर की तरफ निकल पड़े ..


उनके जाने के बाद पंडित और गिरधर भी अपने घर निकल लिए ..आज तो गिरधर नूरी की चूत नहीं मार पाया था पर पंडित जी ने उसे भरोसा दिलाया की जल्दी ही वो उसका इंतजाम करवा देंगे ..वो ख़ुशी -2 पंडित जी की बात मान गया ..वैसे भी दस हजार कमा कर वो आज बहुत खुश था .


घर पहुँच कर इरफ़ान और नूरी जल्दी से ऊपर अपने घर की तरफ चल दिए ..उनकी दूकान तो अब तक बंद थी और नूरी का 'नया' आशिक सुलेमान काफी देर से दूकान खुलने या नूरी के आने की प्रतीक्षा कर रहा था ..जिसे नूरी ने जल्दबाजी में नहीं देखा ..और वो सीधा ऊपर चली गयी अपने अब्बू के साथ ..


और ऊपर जाते ही उसने अपने बुर्के को फिर से एक बार निकाल कर ऐसे फेंका जैसे अब कभी उसकी जरुरत ही नहीं है ..और मादरजात नंगी होकर अपने अब्बू के सामने खड़ी हो गयी ..


पर इरफ़ान अभी तक सामाजिक बातों में उलझा हुआ था ..उसे मन ही मन ये सब गलत लग रहा था ..उसका मन (लंड ) तो वही चाहता था पर दिमाग उसकी इजाजत नहीं दे रहा था .


नूरी के नंगा होने के बावजूद वो ऐसे ही खड़ा रहा और अपनी उलझन को बताने के लिए उसने जैसे ही अपना मुंह खोला , नूरी ने उसके पास आकर उसके मुंह पर अपनी नाजुक उँगलियाँ रख दी ..

और बोली : "अब्बू ...मुझे पता है की तुम क्या सोच रहे हो ..पर मेरा विशवास करो, जो भी हमारे बीच हो रहा है वो किसी और को पता नहीं चलेगा ..और आपसे ऐसा प्यार पाकर मुझे कितनी ख़ुशी हो रही है ये मैं बता नहीं सकती ..आप भले ही पचास के आस पास है, पर आपके अन्दर अभी भी इतनी गर्मी है की किसी भी जवान लड़के से आसानी से कोई भी मुल्कबला जीत जाओ ..''


इतना कहकर उसने अपने अब्बू के लंड और उसके दोनों रिश्तेदारों (टट्टे)को अपने हाथ में पकड़कर धीरे - २ दबाना शुरू कर दिया ..


वो तो पहले से ही नूरी की मेहमान नवाजी से खुश थे उसके दोबारा हाथ लगाने से ऐसे अकड़कर खड़े हो गए जैसे उसके गुलाम हो ..

इरफ़ान की सोच उसके मुंह में ही दबकर रह गई ..उसकी आँखों में भी अपनी बेटी के लिए ''प्यार'' उमड़ पड़ा ..और उसने अपने हाथों से उसके चेहरे को ऐसे पकड़ा जैसे गुलाब का फूल और फिर होंठ नीचे करके वो उसके गुलकन्द का स्वाद चखने लगा ..


नूरी के मुंह से सिस्कारियों की लाइन सी लग गयी ..उसके अब्बू ने उसे स्वीकार जो कर लिया था, खुले मन से ..ये सोचते हुए उसकी चूत और होंठों से मीठे रस की लहर बाहर की तरफ निकलने लगी ..


जब से उसकी पत्नी की मृत्यु हुई थी, आज पहली बार इरफ़ान के घर में उत्तेजना से भरी हुई सिस्कारियां गूँज रही थी ..जिन्हें सुनकर शायद उसके घर की दीवारें भी झूमने लगी थी .


''ओह्ह्ह अब्बू ....आप नहीं जानते आप मुझे कितने अच्छे लगते हैं ...शुरू से ही ...मैं आपको ..देखकर ....उम्म्म ...पुच ....अपनी .....चूत में ....उम्म्म ....पुच ....उँगलियाँ डाला करती ....थी ...अह्ह्ह्ह्ह .....''


इरफ़ान ने अपना हाथ नीचे किया और अपनी तीन उँगलियाँ एक ही बार में उसकी चूत के अन्दर उतार दी ..नूरी की तो जैसे आत्मा तृप्त हो गयी ..वो मचलती हुई अपने अब्बा की उँगलियों के ऊपर ऊ ला ला वाला डांस करने लगी ..


इरफ़ान ने नूरी की दोनों ब्रेस्ट को अपने हाथों से पकड़ा और उन्हें बारी - २ से चूसने लगा ..इरफ़ान ने जैसे ही अपनी बेटी के अंगूरी दाने अपने दांतों के नीचे दबाये वो जोर से सिसक कर अपने अब्बू की गोद में चढ़ गयी ..और उनके मुंह को जोर से अपनी छाती में दबा कर अपना अंगूरी रस पिलाने लगी ..

भले ही इरफ़ान में मरदाना ताकत काफी थी पर उम्र के हिसाब से उसकी साँसे जैसे रुकने सी लगी थी ..नूरी ने अपने बूढ़े बाप की साँसे अपनी छाती से दबा कर रोक दी थी ..पर मौका ही कुछ ऐसा था की नूरी को जैसे कुछ पता ही नहीं चला ..इरफ़ान ने बड़ी मुश्किल से उसे नीचे उतारा , उसकी साँसे फूल रही थी ..


नूरी ने जल्दी से अपने अब्बू के कपडे उतारने शुरू किये ..और अगले एक मिनट में इरफ़ान भी अपनी बच्ची की तरह नंगा खड़ा था वहां ..


नूरी ने बड़े प्यार से उन्हें देखा और उनके लंड को ऐसे पकड़ा जैसे वो उनका हाथ हो और अन्दर बेडरूम की तरफ ले कर चल दी .


अन्दर लेजाकर उसने अब्बू को बेड पर लिटा दिया और उनके लंड को बड़े प्यार से अपने हाथों में लेकर अपने मुंह का रास्ता दिखाया ..और उसे आइसक्रीम की तरह चूसने लगी ..

इरफ़ान अपनी कोहनियों के बल बैठकर अपनी बेटी के प्यार को अपने लंड पर महसूस कर रहा था ..


नूरी अपनी मोटी -2 ब्रेस्ट को अपने अब्बू के घुटनों से रगड़ कर उन्हें और भी ज्यादा उत्तेजित कर रही थी .


इरफ़ान ने उठकर नूरी को बिस्तर पर उल्टा लिटा दिया और खुद उसके ऊपर चड़कर अपना लंड उसके मुंह में पेलकर उससे चूसवाने लगा ..

इरफ़ान के लंड के रस की पहली धार निकल कर नूरी के मुंह को ठंडक पहुंचा रही थी ..जो उसके होंठों के किनारों से बहकर बाहर की तरफ भी आ रही थी .. 
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:08 PM,
#37
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--36

***********
गतांक से आगे ......................

***********

अब उससे सब्र करना मुश्किल हो गया ..उसने नूरी को घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत में लंड को लगाकर उसको तरसाने के लिए सिर्फ अपने लंड को टच करने लगा .

अपनी चूत के होंठों के ऊपर अपने अब्बू के लंड की गर्माहट पाकर वो बावली कुतिया की तरह जोर -२ से भोंकने लगी ...


''अह्ह्ह्ह्ह्ह अब्ब्बू .......उम्म्म्म्म .....डाल भी दो ना ....ऐसे मत तरसाओ ....अपनी नूरी को ...''


इरफ़ान ने भी मुस्कुराते हुए उसकी बात मान ली और एक जोरदार झटके के साथ उसकी चूत में लंड पेलकर उसकी घुड़सवारी करने लगा ..उसने लगाम के बदले उसके बालों को खींच लिया और पीछे से धक्के मारकर अपनी गति तेज कर दी ..


अपने आपको अपने अब्बू के सपुर्द करके आज नूरी बहुत खुश थी ..वो कुलांचे भरकर, लंड को अपनी फुद्दी में लेकर दोड़ने लगी ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह ......अब्बू .....उम्म्म्म्म्म .......हा न…. .... ...अह्ह्ह्ह ..ऐसे हि…। अह्ह्ह ...ओग्ग्ग ......मर्र्र्र्र .....गयी .....उम्म्म्म्म ......जोर .....से .....करो ....अब्ब्बू ......अब्बब्बब्बब ह्ह्ह्ह ऊऊऊऊ ........''


उसकी चूत ने जवाब दे दिया ...पर इरफ़ान का घोडा थमने का नाम नहीं ले रहा था ..


वो बेड पर लेट गया और नूरी को अपने ऊपर खींच कर फिर से उसकी चूत को अपने लंड से भर दिया ..और उसके मुम्मों के थपेड़े अपने चेहरे पर झेलता हुआ फिर से उसकी चुदायी करने लगा ..


नूरी के हर अंग को आज इरफ़ान ने हिला कर रख दिया था

और अब नूरी का एक और ओर्गास्म बन रहा था ..जिसे पाने के लिए उसने अपनी तरफ से और तेजी से कूदना और चिल्लाना चुसू कर दिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .....अब्ब्बा .......अह्ह्ह्ह्ह ...मार ..डालोगे ...आज तो आप। ....अह्ह्ह्ह्ह .......उह्ह्ह्ह्न्न्न .......ऐसे ही ....चोदो ...अपनी नूरी को .....अह्ह्ह्ह ....''


और जल्द ही इरफ़ान भी अपनी बेटी के होंठों को अपने मुंह में चूसता हुआ उसकी चूत में अपने लंड के बीज निकालने लगा ..

दोनों एक साथ ही झड़ने लगे थे ..

वो ये सब कर तो रहे थे पर उन्हें अंदाजा भी नहीं था की सुलेमान वो सब देख रहा है ..जल्दबाजी में नूरी और इरफ़ान सीडियो से ऊपर जाने का दरवाजा बंद करना भूल गए थे ..


दरअसल काफी देर तक जब कोई नीचे नहीं उतरा तो अपने लंड की अकड़ के हाथों मजबूर होकर सुलेमान सीडियां चड़कर ऊपर आ गया ..उसने सोचा की अगर इरफ़ान ने पूछ भी लिया की ऊपर क्या करने आया है तो बोल देगा की दूकान से कुछ सामान लेना था पर वो बंद थी इसलिए ऊपर पूछने चला आया की कब तक खुलेगी ..


पर ऊपर आकर तो सुलेमान की आँखों के साथ - 2 जैसे किस्मत भी खुल गयी ..उसने सपने में भी सोचा नहीं था की नूरी अपने अब्बा के साथ चुदाई की तय्यारी कर रही होगी ..साथ ही साथ उसे अपनी किस्मत पर नाज भी हुआ क्योंकि अब वो उन दोनों का ऐसा राज जान चुका था जिसकी मदद से वो कुछ भी कर सकता था ..


वो सही वक़्त का इन्तजार करने लगा और वहीँ चुप कर बैठ गया . अपने मोबाइल कमरे से उसने बाप बेटी के सारे एपिसोड को रिकॉर्ड करना शुरू कर दिया था ..


और जब ये सब कुछ हो चुका था तो वो बाहर निकल आया ..क्योंकि अब सही वक़्त आ चुका था ..

और उसके बाहर निकलते ही सबसे पहले इरफ़ान की नजर पड़ी उसपर ..उसे तो जैसे बिच्छू ने डंक मार लिया हो ..वो उछल गया और उसने जल्दी से नूरी की चूत से अपना लोड़ा बाहर खींचा और पास पड़ी हुई चादर को ऊपर खींचकर दोनों के जिस्मों को ढक लिया ..


इरफ़ान : "सु ...सु ..सुलेमान .....तू यहाँ क्या कर रहा है कमीने ...''


अपने आशिक का नाम सुनते ही नूरी ने भी पलट कर उसकी तरफ देखा ..पर ज्यादा हेरान नहीं हुई वो ..और ना ही उसने कोशिश की अपनी नंगी छातियों को छुपाने की ..


सुलेमान (हँसते हुए) : ''इरफ़ान मियां ...मैं यहाँ कैसे आया ..और कब आया ..ये मत पूछो अब ..आप तो मुझे ये बताओ की ये चल क्या रहा है ..तुम बाप बेटी के बीच ..''


उसने अपने लंड को मसलते हुए कहा ..


कोई और मौका होता तो इरफ़ान उसकी हलक में हाथ डालकर उसकी जुबान खींच लेता ..उसका रुतबा और व्यवहार था ही ऐसा पुरे मोहल्ले में की हर कोई उसकी इज्जत करता था ..और ये सुलेमान तो उसके सामने पला - बड़ा हुआ था , और अब ये कल का लोंडा उससे इस तरह से सवाल कर रहा है ..


पर वो कुछ ना बोल पाए आखिर गलती उनकी ही जो थी ..अपनी बेटी को चोदना कोई छोटी बात नहीं है जो कोई भी अनदेखा कर दे ..घर की चारदीवारी में जो होता है अगर वो मोहल्ले वालों को ऐसे पता चल गयी तो उसकी बरसों की इज्जत मिटटी में मिल जायेगी ..इरफ़ान ये सोचते -२ ही कांप उठा ..


इरफ़ान : "वो ..वो ..कुछ भी तो नहीं ...तुझसे मतलब ..और तेरी हिम्मत कैसे हुई हमारे घर में घुसने की ..''


इरफ़ान बेचारा उठ भी नहीं पा रहा था ..नंगा जो था वो चादर के नीचे .


सुलेमान : "अरे चचा ...इतने भोले तो नहीं है हम भी ..जो इतना भी ना समझे की आप कर क्या रहे थे नूरी की चूत में लंड डालकर ...''


नूरी उसकी बात सुनकर मुस्कुरा दी ...पर इरफ़ान का गुस्सा सातवे आसमान पर पहुँच गया ...


इरफ़ान : "कमीने ...तेरी हिम्मत कैसे हुई ये बोलने की ..निकल जा अभी के अभी मेरे घर से ..तेरी माँ की चूत ...साले ...गली के कीड़े ...निकल यहाँ से ..''


आवेश में आकर इरफ़ान नंगा ही खड़ा हो गया और सुलेमान को धक्का मारकर घर से बाहर निकालने लगा ..


सुलेमान : "मियां ....आप मुझे घर से निकाल तो रहे हो ..पर एक बात सोच लो ..मेरे घर से निकलते ही तुम्हारी जो बदनामी होगी पुरे मोहल्ले में ..वो आप बर्दाश्त नहीं कर पायेंगे ...''


इरफ़ान : "तू मुझे ब्लेकमेल कर रहा है ..तेरी बातों को सुनने वाला है कौन ...सब तेरे बारे में जानते हैं ..वो तेरी नहीं , मेरी बात सुनेगे और समझेंगे ...''


सुलेमान : "मुझे पता था ...इसलिए मैंने ये सब रिकॉर्ड कर लिया था ...''


इतना कहकर उसने जो मूवी बनायीं थी, वो प्ले करके दिखाने लगा ..जिसे देखकर इरफ़ान के पैरों तले से जमीन निकल गयी ..


वो बुरी तरह से फंस चुका था ..


आखिर में उसने होश से काम लेते हुए ,अपनी आवाज में थोड़ी नरमी लाते हुए ,
सुलेमान से कहा : "तू ....तुम ...चाहते क्या हो ....''


सुलेमान : "हाँ ...अब आये न रास्ते पर ...देखो चचा ....मैं भी तुम्हे ऐसे ब्लेकमेल करके कुछ नहीं करना चाहता था ...पर क्या करू ..अपनी आदत से मजबूर हु ..और रही बात चाहने की ..तो मैं तो बस ..वही चाहता हु ..जो अभी आप चाह कर हटे हो ..नूरी की चूत.''


अपनी बेटी का नाम उसके मुंह से दोबारा सुन कर वो फिर से गुस्से से भर उठा ...पर अगले ही पल उसे अपनी स्थिति का आभास हुआ ...वो खून का घूँट पी कर रह गया ..


अचानक इरफ़ान को अपने नंगेपन का एहसास हुआ ..उसने झट से अपना पायजामा उठाया और पहन लिया ..और उसने नूरी की तरफ देखा ..तो हेरान रह गया ..वो भी अपने शरीर से चादर को उतार चुकी थी ..और अपने अब्बू के लंड से निकले रस को अपनी चूत से निकाल कर अपनी उँगलियों से बड़ी ही बेशर्मी से मसल रही थी ..


उसने आज तक अपनी बेटी पर गली के आवारा लड़कों की गन्दी नजर नहीं पड़ने दी थी ..और आज नूरी सुलेमान के सामने इस तरह नंगी पड़ी हुई थी जैसे वो भी यही चाहती है ..


उसने नूरी की तरफ गुस्से से भरी हुई नजरों से देखा ...जैसे कह रहे हो 'बेशरम ..कपडे तो पहन ले ..'


पर नूरी तो मंद ही मंद मुस्कुराते हुए सुलेमान की तरफ देख रही थी ..उसके मन में तो फिल्मे बननी शुरू हो गयी थी जिसमे वो सुलेमान से चुद रही है और उसके अब्बू बेबस और लाचार से होकर सामने बैठे हुए देख रहे हैं ..ये सब सोचते हुए ही उसकी उँगलियों की लचक उसकी चूत में और ज्यादा हो गयी ..


इरफ़ान : "नूरी ...ये क्या बेहूदगी है ...कपडे पहनो ...जल्दी से ...''


नूरी : "अब्बू ...आप क्यों ज्यादा परेशान हो रहे हैं ...आप भी जानते हैं की ये जो बोल रहा है वो कर भी सकता है ..आप एक काम करो ..आप नीचे जाओ ..और दूकान संभालो ..मैं इसे संभालती हु ..''


अपनी फूल जैसी बेटी के मुंह से रंडियों जैसी बातें सुनकर इरफ़ान को ऐसा लगा की ब्लड प्रेशर से उसका दिमाग फट जाएगा ..पर जो भी था, होना तो आखिर में वही था, जो सुलेमान चाहता था ..उसे चाहे इस बात पर गुस्सा आ रहा था की उसकी बेटी को कोई गली का लड़का चोद रहा है ..पर नूरी ने संयम से काम लेते हुए वो डिसाइड भी कर लिया था ..इरफ़ान फिर से एक बार खून का घूँट पीकर रह गया ..

नूरी ने सुलेमान को कोने में रखे हुए सोफे की तरफ चलने का इशारा किया ...क्योंकि बेड पर उसकी चूत से निकले अब्बू के रस की वजह से काफी गीलापन आ चुका था ..और वहां जाकर वो लेट गयी ..

इरफ़ान ने थके हुए क़दमों से कोने में पड़ा हुआ अपना कुरता उठाया और बाहर की तरफ जाने लगा ..उसे जाता हुआ देखकर सुलेमान ने बिना उसकी परवाह किये अपने कपडे उतारना शुरू कर दिए ..


अपनी टी शर्ट और फिर जींस को एक ही झटके में उतारने के बाद उसके अंडरवीयर में बना हुआ उभार देखकर नूरी तो जैसे पागल ही हो गयी ...उसने सुलेमान को अपनी तरफ खींचा और अंडरवीयर के ऊपर से ही उसके लंड के ऊपर कट्टी मार ली ..


इरफ़ान की कमर थी उनकी तरफ, और वो धीरे -2 सीडियो की तरफ बढ़ रहा था ..सुलेमान की सिसकारी सुनकर उसने धीरे से अपना सर पीछे किया तो अपनी बेटी का ये रूप देखकर वो भी दंग रह गया ..नूरी को देखकर उसे लग ही नहीं रहा था की उसके साथ कोई गलत काम हो रहा है ..वो तो उसे एन्जॉय कर रही थी ..और वो ठिठक कर वहीँ दरवाजे के बाहर खड़ा हो गया ..और उसके रुकने का उन दोनों पर कोई प्रभाव नहीं था ..वो दोनों तो एक दुसरे में मस्त थे ..खासकर नूरी, जो अपने अब्बू के लिए अपने आप को 'कुर्बान' कर रही थी .


नूरी ने एक ही झटके में सुलेमान के सुलेमानी लंड को आज़ाद कर दिया और वो उसके चेहरे के सामने सलामी देने लगा ..


नूरी ने उसे प्यार से देखा उसे लिटा कर और बड़ी ही नजाकत से उसके लंड को अपने मुंह में लेकर ठंडक का एहसास दिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......उम्म्म्म्म्म्म ...नूरी .........स्स्स्स्स्स्स्स्स ....सा ली ......कुतिया .... ''

अभी थोड़ी देर पहले जिस सुलेमान को इरफ़ान गलियां दे रहा था वही अब उसकी बेटी के मुंह में लंड पेलकर उसे गालियाँ दे रहा था ..वक़्त भी इंसान को कैसे पलट कर वार करता है ..


पर जिस नूरी को उसने आज तक दुनिया की नजरों से बचाकर रखा था और आज खुद उसकी चुदाई भी कर चूका था ..उसे किसी और से इस तरह से चुदत देखकर ना जाने क्यों उसे कुछ हो रहा था ..पहले तो गुस्सा आ रहा था पर नूरी को इस तरह से सुलेमान का लंड चूसते देखकर उसके अन्दर लंड के अन्दर भी कुछ -२ होने लगा था ..


तभी सुलेमान की नजरें इरफ़ान पर पड़ गयी ...और वो हँसते हुए बोला : "अरे चचा ....देखना ही है तो आराम से अन्दर आकर देखो ...मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है ... हा हा ..''


नूरी ने भी चोर नजरों से अपने अब्बू को देखा , दोनों की नजरें एक पल के लिए चार हुई ..पर फिर एकदम से नूरी ने अपनी नजरें घुमा ली और फिर से सुलेमान के लंड को चूसने लगी ..जैसे कह रही हो 'ओहो अब्बू ...अब जाओ भी ..ऐसे ही देखते रहोगे क्या ..'


इरफ़ान थके हुए क़दमों से नीचे की तरफ चल दिया ..और दूकान खोलकर वहां बैठ गया ..



उसके जाते ही सुलेमान ने नूरी को ऊपर उठाया और उसके गुलाबी होंठों को जोर -२ से चूसता हुआ उसके अधरों का रस पीने लगा ..


नूरी : "अरे वाह मेरे चीते ...तूने तो आज कमाल कर दिया ...मेरे अब्बू के सामने ही मुझे पाने का जो तरीका अपनाया, वो वाकई काबिले तारीफ है ..और आज तेरी इसी बात से खुश होकर नूरी पूरी मस्ती में चुदेगी ....बोल क्या करू में तेरे लिए ..''


दोस्तों , अगर कोई नंगी लड़की सामने लेटकर ऐसा बोले की क्या करू तेरे लिए तो समझ लो आपसे बड़ा ही-मेन कोई नहीं है उसकी नजरों में ..


सुलेमान : "तू तो बस मुझे आज खुश कर दे ...अपनी चूत से भी ...और गांड से भी ..''


नूरी ने हँसते हुए उसके लंड को मसला और बोली : "साले ...मुंह तो चोद ही चूका है आज तू मेरा ...बाकी के दोनों छेद भी चोद डाल ... आज नूरी पूरी तरह से तेरी है ..जहाँ से चाहे मार ले ..''


इतना कहकर वो चादर की तरह बिछ गयी ..


सुलेमान को बड़ी प्यास लगी थी , इसलिए वो सीधा नूरी की चूत से निकल रहे झरने के नीचे पहुँच गया और वहां मुंह लगा कर अपनी प्यास बुझाने लगा ..

सुलेमान के दांये हाथ की तीन उँगलियाँ अन्दर से खोद कर उसकी चूत का अमृत बाहर निकाल रही थी और वो अपनी जीभ से उसे कुत्ते की तरह से पी रहा था ..

नूरी ने उसके सर के बालों को पकड़ा और झटके दे - देकर अपनी चूत पर उसके होंठों को मारने लगी ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह ,,........साले ........कुत्ते ......चाट .....मेरी चूत को अपनी जीभ से ......भेन चोद ....''
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:08 PM,
#38
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--37

***********
गतांक से आगे ......................

***********

उसके मुंह से गालियाँ भी सुलेमान को फूलों जैसी लग रही थी ..वो भी गली के कुत्ते की तरह से अपनी लम्बी जीभ निकाल कर उसकी चूत का नाप लेने में लगा हुआ था ..

नूरी का मुंह गोल सा होकर खुला हुआ था ..और सुलेमान उसके सामने लेट कर उसकी चूत को ऐसे चूस रहा था जैसे उसमे से ही उसे ऑक्सीजन मिल रही हो जीने के लिए ..




वो फिर उठा और उसने नूरी की चूत में लंड डालकर उसकी चुदाई करनी शुरू कर दी ..


वो मचलती हुई उसके नाम की माला जपने लगी ...


''ओह्ह सुलेमान…. अह्ह्ह्ह .....चोद ....साले ......और जोर से ......भेन चोद .....अह्ह्ह सुले ......मा न्न… ... ''




उसकी गीली चूत की गलियों से रस की बहार निकल कर फिर से उसके अन्दर एक और ओर्गास्म पैदा करने लगी ..पर तभी सुलेमान ने अपना लंड बाहर खींचा और उसे दिवार की तरफ मुंह करके खड़ा कर दिया और पीछे से उसकी गांड के छेद पर टिका कर एक जोरदार धक्का दिया और अपने रोकेट को उसकी गेलेक्सी के अन्दर पहुंचा दिया ...




नूरी की आँखे बोजिल सी हो गयी, इतना मजा तो उसे आज तक नहीं आया था ...पहले सुलेमान की जीभ उसकी चूत पर, फिर उसका लंड ...और अब उसका लंड उसकी गांड के अन्दर ...सब कुछ इतना अच्छा लग रहा था की उसका मन कर रहा था की ये सब कभी ख़त्म ही न हो ...


वो चुदती रहे ...
चुदती रहे ..................
बस चुदती रहे .................


और नीचे बैठे हुए इरफ़ान का ध्यान ऊपर ही था, जब बाप को पता हो की इस वक़्त उसकी बेटी की चुदाई हो रही है तो उसे चैन कैसे आ सकता है ..वो बेचैन सा होकर उठा और फिर से ऊपर की तरफ चल दिया ..नूरी के चीखने की आवाजें बाहर तक आ रही थी ..जिसे सुनकर उसे पता चल रहा था की उसे कितना मजा आ रहा है ..


अब तक दोनों के अन्दर का तूफ़ान अपने उफान पर पहुँच चुका था ..सुलेमान ने उसके मोटे मुम्मे मलते हुए उसकी गांड का बेन्ड और तेजी से बजाना शुरू कर दिया ..और उसकी थिरकन से नूरी ने भी और तेजी से नाचना शुरू कर दिया ..


और जैसे ही सुलेमान को एहसास हुआ की उसके लंड का पानी निकलने वाला है , उसने फिर से नूरी को सोफे पर लिटाया और उसके सेक्सी चेहरे की तरफ देखते हुए अपने लंड को मसलने लगा ...और देखते ही देखते, उसके लंड की पिचकारियाँ नूरी की छाती और चेहरे पर पड़ने लगी ...




''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ......नूरी ......मेरी जान .......अह्ह्ह्ह्ह्ह ....साली ........ले .....मेरा सार…ऱस .....निगल जा .....अह्ह्ह्ह्ह ...''


और नूरी भी अपनी चूत के ऊपर अपनी उँगलियों को रगड़ते हुए कब झड़ने लगी उसे भी पता नहीं चला , उसे तो तब एहसास हुआ जब उसकी उँगलियों पर उसके गर्म पानी की जलन अपना एहसास करवा रही थी ..


नूरी ने सुलेमान को अपनी तरफ खींच कर अपने ऊपर लिटा लिया ...और तभी उसकी नजरें दरवाजे के पीछे छुप कर सारा खेल देख रहे इरफ़ान पर पड़ी ..जिन्हें देखकर उसके एहसास का मजा दुगना हो गया .


थोड़ी देर तक पड़े रहने के बाद सुलेमान ने अपने कपडे पहने और दोबारा आने का वादा करके जल्दी से बाहर निकल गया ..उसके जाते ही दरवाजे के पीछे छुपा हुआ इरफ़ान नूरी के पास आकर बैठ गया ..


इरफ़ान : "बेटी ...ये सब मेरी वजह से ही हुआ है ..आज वो कुत्ता जो भी करके गया है वो मेरी नादानी की वजह से ही हुआ है ..''


नूरी ने अपने अब्बू को अपने ऊपर खींच लिया और बोली : "अरे नहीं अब्बू, आप ऐसा मत सोचो , अगर कोई भी बेटी होती तो अपने पिता की इज्जत के लिए यही करती ...हाँ , ये सच है की ये सब गलत था, पर मजा मुझे भी आ रहा था ...''


इरफ़ान (झल्लाते हुए) : "हाँ , वो तो मैं देख ही रहा था … ..''


नूरी (लाड प्यार से उनके सीने पर अपने मुम्मे रगड़ते हुए ) : "ओह्हो अब्बू ...आप भी न, अब मैं छोटी बच्ची नहीं रही, शादी हो चुकी है मेरी ..और ये चुदाई क्या होती है , मुझे भी पता है ..जैसे आपको मजा आता है न बाहर जाकर चोदने में, मुझे भी आता है, ऐसे अलग - 2 तरह के लंड लेने में ...पर आपकी बात अलग है ...आप जैसा स्टेमिना किसी में नहीं है ..''


इतना कहकर उसने अपने अब्बू के लंड के ऊपर फिर से हाथ फेरना शुरू कर दिया ...


थोड़ी देर लगेगी पर जल्दी तैयार हो जाएगा अब्बू का लंड , अगली चुदाई के लिए ..


और ये सोचते हुए उसने फिर से उनके कपडे उतारकर उनके लंड को मुंह में ले लिया ..और चूसना शुरू कर दिया ..

इरफ़ान ने पूरी रात अच्छी तरह से अपनी बेटी को चोदा ...


और अगले दिन हमारे पंडित जी जब रोज की तरह मंदिर में पूजा अर्चना कर रहे थे तो लाल रंग के सूट में सर पर चुन्नी डाले एक लड़की उनके पास आई और बोली : "पंडित जी ...''


पंडित ने उसकी तरफ देखा , वो तकरीबन 20-22 साल की जवान लड़की थी ..गोरी-चिट्टी, सुन्दर ..



पंडित जी ने अच्छी तरह से ताड़ने के बाद कहा : "जी कहिये ...''


लड़की उनके और करीब आई और धीरे से बोली : "पंडित जी ...आपने मुझे पहचाना नहीं ..''


पंडित जी को उसकी बात सुनकर ताज्जुब हुआ ..वो उसके चेहरे को और गोर से देखने लगे ..उसका चेहरा उन्हें जाना पहचाना सा लगा ..पर ठीक से याद नहीं आ पा रहा था की कौन है वो लड़की ..


पंडित : "माफ़ कीजिये ..मैंने नहीं पहचाना आपको ..''


लड़की रेहेस्यमयी हंसी हँसते हुए बोली : "क्या पंडित जी ...आपकी यादाश्त इतनी कमजोर कैसे हो सकती है ..जबकि आपका लंड इतना ताकतवर है ..''


उसकी बात सुनते ही पंडित जी के पैरों तले से जमीन निकल गयी ...उनके हाथ में पूजा की थाली गिरते -२ बची ..पंडित जी अपने दिम्माग पर जोर डालने लगे ..आखिर कौन है ये लड़की जो उनके बारे में इस तरह की बातें कर रही है ..


पंडित जी के चेहरे पर आ रहे भाव देखकर आखिर लड़की ने ही बोलना शुरू किया : "ओहो पंडित जी ...घबराइए नहीं ..हम वैसे तो एक दुसरे को नहीं जानते पर एक दुसरे को चुदाई करते हुए देखा जरुर है ..याद है वो पार्क में उस दिन ..मैं अपने बॉयफ्रेंड के साथ थी और आप के साथ भी एक लड़की थी ...और ...''


'ओ तेरी माँ की चूत ....तो ये वो लड़की है ...' पंडित ने मन ही मन सोचा ...
(आप सभी को याद नहीं आ रहा है तो आप अपडेट नंबर 87-91 तक दोबारा पड़ ले )



उस वक़्त मंदिर में काफी भीड़ थी, इसलिए पंडित जी उसकी बात का कोई जवाब नहीं दे पाए ...और वो जाकर फिर से जाकर दुसरे भक्तों के लाये प्रसाद का भोग चडाने लगे .. पर उनका सारा ध्यान उस लड़की की तरफ ही था ..वो एक कोने में जाकर चोंकड़ी मार कर बैठ गयी ..


आधे घंटे में सारे भक्त चले गए ..और पंडित जी भी फ्री हो गये. .उन्होंने देखा की वो लड़की अभी तक वहीँ बैठी है ..पंडित जी ने जैसे ही उसकी तरफ देखा वो उनके पास आ गयी ..

पंडित जी ने अपनी नजरें चुरा ली और अपने कमरे की तरफ चलने लगे ..और वो लड़की बिना कुछ कहे उनके पीछे -२ चलती हुई उनके कमरे तक आ गयी ..और सीधा जाकर उनके बेड पर बैठ गयी ..


और उनके कहे बिना उसने बोलना शुरू कर दिया : "पता है , आपको ढूँढने के लिए पिछले दस दिनों से मैंने कितने मंदिर छान मारे ..पुरे इलाके में जितने भी बड़े और छोटे मंदिर है , उसमे जाकर मैंने आपको ढूंढा ..और आखिर में जाकर आप आज मिले हैं मुझे, यहाँ ...''


पंडित जी उसकी तरफ टकटकी लगाये हुए देखते रहे ...जैसे पूछना चाह रहे हो 'आखिर क्यों ढून्ढ रही थी मुझे '..


वो आगे बोली : "देखिये पंडित जी ...मैं आपसे सीधी बात करती हु ..मेरा नाम प्रियंका है ..और मैं संगम विहार में रहती हु ..''


उसका नाम सुनते ही पंडित जी को भी उसका नाम याद आ गया यही नाम बोलकर उसका बॉयफ्रेंड उसे चोद रहा था ..


प्रियंका : "पंडित जी ..उस दिन जो लड़का मेरे साथ था पार्क में ..वो मेरा बॉयफ्रेंड बद्री है ..और वो एक ऊँचे घराने का लड़का है ..उसने मेरे साथ एक मंदिर में शादी का नाटक किया था और भगवान् के सामने मेरी मांग में सिंदूर भरकर मुझे अपनी पत्नी का दर्जा दिया था, पर पिछले दो महीने में उसने मेरे शरीर से खेलने के अलावा और कुछ नहीं किया , अपने फार्म हाउस , दोस्तों के फ्लेट्स , और एक दो बार तो मेरे घर आकर भी मेरे साथ उसने वो सब किया जो आपने उस दिन पार्क में देखा था, वहां भी उसने तीन - चार बार मेरे साथ सेक्स किया है ..''


इतना कहकर वो रोने जैसी हालत में आ गयी ..


प्रियंका : "और अब वो कमीना मेरे साथ शादी करने से इनकार कर रहा है ..मेरे पास कोई सबूत भी नहीं है की उसने मंदिर में मेरे साथ शादी की थी ..मेरी एक वकील दोस्त ने कहा की अगर मंदिर का पुजारी गवाही दे तो बात बन सकती है और उसके खिलाफ मुकदमा चलकर हम उसे मजबूर कर सकते हैं , पर उस दिन तो वो वाले मंदिर में कोई नहीं था, इसलिए मैं आपको ढून्ढ रही थी, अगर आप ये गवाही दे दो की आपके सामने हमारी शादी हुई थी तो मेरी लाईफ बच सकती है ..वरना मुझमे और बाजारू औरत में कोई फर्क नहीं रह जाएगा ...''


पंडित : "तुमने ऐसा सोच भी कैसे लिया की तुम्हारे लिए मैं झूटी गवाही दे सकता हु ..और मैं क्यों पडू तुम्हारे इन झंझटो में ...''


पंडित का इतना कहना था की प्रियंका उठी और पंडित जी के पैरों में आकर लिपट गयी : "पंडित जी ...प्लीस ...आप समझने की कोशिश करो ..मेरी लाईफ का सवाल है ..उस दिन जब वो लड़की चुदते हुए आपको पंडित जी कह रही थी, वही बात मेरे जहन में अटक गयी थी ..आपकी वेश भूषा भी मंदिर के पंडितों जैसी थी ..इसलिए मैं आपको इतने दिनों से ढूंढ रही थी ..आप अगर मेरी मदद नहीं करेंगे तो कौन करेगा ...''


और इतना कहकर वो रोने लगी ...पंडित जी को तो आप जानते ही हैं, वो किसी लड़की का रोना नहीं देख सकते ..


उन्होंने उसके कन्धों से पकड़कर उसे ऊपर उठा लिया ..उसके कंधे से शर्ट खिसक जाने से उसकी ब्रा के प्लास्टिक स्ट्रेप नजर आ रहे थे ..उन्होंने आज तक काफी महिलाओ और लड़कियों को ऐसी स्ट्रेप वाली ब्रा पहने हुए देखा था मंदिर में , पर कभी भी ऐसी ब्रा को उतारने का मौका नहीं मिला था उन्हें ..

उन्होंने अपने हाथ की उँगलियों से उसकी ब्रा के प्लास्टिक स्ट्रेप को छु लिया ...जिसे प्रियंका ने भी साफ़ महसूस किया ..


प्रियंका : "आप चिंता मत करिए पंडित जी ...आपको ज्यादा कुछ नहीं करना है ..मैं अपनी वकील दोस्त के जरिये उसपर ऍफ़ आई आर दायर कर रही हु और गवाही के रूप में आपका नाम , एड्रेस और नंबर दे रही हु ..अगर कभी पुलिस स्टेशन में जाना पड़े तो प्लीस मेरी खातिर चले जाना ..''


पंडित : "पर, मुझे उस लड़के के खिलाफ झूठी गवाही देने पर क्यों अमादा हो ..''


प्रियंका : "क्योंकि ऐसे लडको को सबक जरूर मिलना चाहिए .उसने जो कुछ भी मेरे साथ किया, वो किसी और के साथ भी कर सकता है ..इसलिए ऐसे लड़के के खिलाफ झूठी गवाही देना कोई गुनाह नहीं है ..और वैसे भी, आपने तो देखा ही है न उसे मेरे साथ सेक्स करते हुए ..वो जब आपको देखेगा तो उसे भी याद आ जाएगा की उसने आपके सामने कैसे मुझे पार्क में चोदा था ..''


चोदम चुदाई की बातें ये लड़की कितनी आसानी से कर रही थी ..आजकल की लड़कियां काफी आगे निकल चुकी है . .


पंडित जी को उसकी उस दिन की चुदाई याद आ गयी ..कैसे वो उन्हें देखकर मुस्कुरा रही थी ..अपनी चूत में लंड डलवाकर वो अपनी हिलती हुई ब्रेस्ट पंडित जी को कैसे दिखा रही थी ...और ये सोचते हुए पंडित जी की आँखे अपने आप उसकी ब्रेस्ट पर जा चिपकी ..


पंडित जी की निगाह्हों की भाषा प्रियंका ने भली भाँती समझ ली ..उसे भी आज तक पंडित जी का वो लम्बा लंड याद था जिससे चुदकर वो लड़की मजे से चुदवा रही थी ..


प्रियंका : "अच्छा पंडित जी ...एक बात तो बताइए ...वो लड़की कौन थी ..जिसे उस दिन आप ...पार्क में ..अपने लम्बे लंड के स्पेशल दर्शन दे रहे थे ..''


इतना कहकर वो जोर -२ से हंसने लगी ..


पंडित जी का चेहरा शर्म से लाल हो उठा ..उनसे कुछ बोला ही नहीं गया ..


प्रियंका : "आप तो शरमा रहे हो पंडित जी ..मैंने लड़की होते हुए भी अपनी साड़ी बातें आपको आसानी से बता दी और आप मुझे बताने में ऐसे बिहेव कर रहे हैं जैसे मैं ये सब किसी को बताने जा रही हु ...''


पंडित : "थी कोई ...मेरी चाहने वाली ..''


उनकी बात सुनकर प्रियंका बिलकुल उनके चेहरे के पास आकर बोली : "आपके हथियार को देखकर तो कोई भी आपका चाहने वाला बन जाएगा ...पंडित जी ..''


पंडित जी को उसका इस तरह से बोलना थोडा अजीब सा लगा ..वो सोचने लगे की ये लड़की अपनी लाईफ को सुधारने आई है या उनसे चुदवाने ...


पर जो भी था, पंडित जी को इन सबमे प्रियंका एक नए चुदाई के माल के रूप में ही नजर आ रही थी ..


उन्होंने भी सोच लिया की वो प्रियंका की हेल्प जरुर करेंगे और ''मजदूरी'' के रूप में उसकी चूत भी लेकर रहेंगे ..
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:08 PM,
#39
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--38

***********
गतांक से आगे ......................

***********

पंडित जी को गहन चिंता में डूबा हुआ देखकर प्रियंका ने उनसे पूछा : "अच्छा पंडित जी ...ये तो बताइए आपको शादी हो गयी है क्या ..?"


पंडित जी ने ना में सर हिला दिया


प्रियंका : "ह्म्म्म्म ...तब तो मैं समझ ही सकती हु ....आप जैसा जवान और सुन्दर शरीर का मालिक किसलिए पार्कों में जाकर चुदाई करता है ...''


उसकी बात का पंडित जी के पास को जवाब नहीं था ..


प्रियंका (बेड के गद्दे को दबाकर देखते हुए ) : "वैसे ....ये जगह भी बुरी नहीं है पंडित जी ...आप इतना रिस्क लेकर पार्क में जाकर क्यों कर रहे थे ..''


अब पंडित जी उसको क्या बताते ..इस बेड पर उन्होंने कितनी चूतों को मसला है, उन्हें भी याद नहीं है ..बस वो प्रियंका के सामने शेखी मारकर ज्यादा चोदु प्रसाद नहीं बनना चाहते थे ..वो चाहते थे की प्रियंका उन्हें बस एक आम इंसान जैसा ही समझे ..ना की तरकीबे लड़ाकर चुदाई करने वाला ..


और प्रियंका के मन में पंडित जी की छवि बन भी ऐसी रही थी ..वो सोच रही थी की ये पंडित कितना डरपोक किस्म का है ..अपने पास कमरा होते हुए भी ये दूर जाकर पार्क में चुदाई कर रहा था ..जैसे इसको दर हो की उसके कमरे में चुदाई करते हुए कोई देख ना ले ..


पर वो बेचारी कितनी गलत थी ..


वो कुछ और कहना चाह रही थी की तभी बाहर मंदिर से किसी ने पंडित जी को पुकारा ..और पंडित जी बाहर आ गए ..उनके पीछे -२ प्रियंका भी बाहर निकल कर अपने घर चली गयी ..


रास्ते में जाते हुए वो बहुत खुश थी ..उसने जैसा सोचा था ठीक वैसा ही हुआ था .गली के कोने में खड़ी हुई कार में बैठते ही उसने फ़ोन उठाया और कॉल लगाया


प्रियंका : "हाय शिप्रा ...काम हो गया ...येस्स ....अभी आकर पूरी बात बताती हु ..''


इतना कहकर उसने कार स्टार्ट की चल दी ..


और एक बड़े से घर के सामने आकर उसने कार रोकी और भागती हुई अन्दर पहुंची ..


बेडरूम में एक 25 साल की खूबसूरत लड़की बेचैनी से टहल कर प्रियंका का वेट कर रही थी ..और जैसे ही वो अन्दर आई उसने उसे गले से लगा लिया और अपने बेड पर बिठा कर सवालों की झड़ी लगा दी ..


''बता न ...क्या कहा ..क्या बात हुई ..कहाँ मिला आखिर वो ...''


प्रियंका : "अरे रुक जा मेरी जान ...धीरे - 2 सब बताती हु ..''


दरअसल ये थी प्रियंका की वकील दोस्त शिप्रा, जो अभी ताजा - २ वकील बनी थी ..और किसी फर्म में प्रेक्टिस कर रही थी ..


और ये दोनों बचपन की दोस्त है और एक दुसरे से कोई भी बात नहीं छुपाती...और अपने यार से चुदते हुए जब उसने पंडित जी की चुदाई देखि थी वो भी इसने शिप्रा को बता दिया था ..और तब से दोनों यही सपना देख रही थी की पंडित जी का लंड कैसे लिया जाए ..और इसके लिए शिप्रा के कहने पर प्रियंका ने वो कहानी बनायीं ..और पंडित जी को ढूँढने निकल पड़ी ..वैसे वो कहानी में सच्चाई भी पूरी थी ..


प्रियंका के बॉयफ्रेंड ने उसके साथ मंदिर में शादी भी की थी और उसे जी भर कर चोदा भी था, पर शादी के लिए हमेशा टाल - मटोल करता रहता था ..


और दूसरी तरफ लंड की प्यासी प्रियंका को चुदाई के साथ -2 बद्री का पैसा भी काफी प्यारा था ..वो हमेशा उसके लिए महंगे तोहफे और अंगूठियाँ लाता था ..और कई बार तो प्रियंका ने उससे पैसे भी लिए थे, जिनका कोई हिसाब नहीं था ..


और ये सब बातें शिप्रा अच्छी तरह जानती थी ..क्योंकि उसकी चुदाई की बातें सुनकर वो भी बुरी तरह से गर्म होकर एक दुसरे को पूरा मजा देती थी ..दोनों लेस्बियन सेक्स पार्टनर थे ..


उन्होंने एक प्लान बनाया ..बद्री को फंसाकर उससे मोटा पैसा एंठने का ..और इसके लिए शिप्रा के कहने पर ही प्रियंका ने पंडित जी को मनाया था ..ताकि बद्री पर केस चलाकर उसे फंसाया जा सके और उससे मोटी रकम ऐंठी जा सके ..


और दस दिनों की मेहनत बाद आखिरकार प्रियंका को पंडित जी मिल ही गए ..और उसने उन्हें इमोशनल करके अपने साथ कर लिया ..


उसका कोई इरादा नहीं था बद्री से शादी करने का ..उसके साथ वो चुदाई के पुरे मजे तो ले चुकी थी ..बस आखिरी बार उसे केस में फंसा कर उससे पैसे लेने थे उसे, अपनी वकील दोस्त शिप्रा की मदद से ..


पर वो दोनों ये नहीं जानती थी की वो जिसे भोला भला पंडित समझ रही हैं वो असल में उनका बाप है इन सब मामलो में ..


खेर ...जैसे ही प्रियंका ने पंडित जी से मुलाकात से लेकर बाद तक का सार वाक्य बताया शिप्रा की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा ..उसने ख़ुशी के मारे प्रियंका को फिर से अपने सीने से लगा लिया ..और उसके होंठों को चूम लिया ..

शिप्रा : "वाव ...अब मजा आयेगा ...इसे कहते हैं , एक तीर से दो शिकार ..अब वो बद्री भी फंसेगा ..और साथ में पंडित जी से अपनी सेवा पानी भी करवा लेंगे ...''


इतना कहकर वो दोनों जोर से हंसने लगी ..


शिप्रा : "अच्छा ...बता ना ...देखने में कैसा है ये पोंगा पंडित ...''


प्रियंका : "उम्म्म ....देखने में तो काफी सही है यार ...उसे देखकर लगता ही नहीं की वो पंडित है ..बस उसके कपडे ही बताते हैं की उसका काम क्या है ..वर्ना वो तो किसी हीरो जैसा लगता है ..''


शिप्रा : "पोर्न मोवी के हीरो जैसा लगता है क्या ...''


इतना कहकर दोनों ने फिर से हँसना शुरू कर दिया ..


प्रियंका : "पर यार, सच में ..उस दिन जब वो उस लड़की को पार्क में चोद रहे थे न तो उनके लंड का साईज देखकर तो मेरे होश ही उढ़ गए थे ..इतना लम्बा और मोटा था न ..सच में ..अगर बद्री न होता वहां पर तो मैं जाकर उनके लंड को अपने अन्दर ले लेती ..''


उसकी बातें सुनकर हमेशा की तरह शिप्रा ने अपनी चूत के ऊपर अपनी उँगलियों को मसलना शुरू कर दिया ..उसने एक पतली सी टी शर्ट और लोअर पहना हुआ था ..अन्दर कुछ भी नहीं था ..उसकी उँगलियाँ लोअर के गीले कपडे पर फिसल रही थी ..


प्रियंका : "वो पीछे से उसकी चूत मार रहे थे ..और उनके हर झटके से वो लड़की ऊपर तक उछल रही थी ..''


शिप्रा ने अपनी आँखे बंद कर ली ...जैसे वो सब मूवी की तरह दिख रहा हो उसे ..


प्रियंका और पास आई और अपने हाथ को सीधा शिप्रा की चूत के ऊपर रख दिया ..और उसके हाथ को वहां से हटा कर अपनी चूत पर ले आई ..और दोनों एक दुसरे की चूतों को रगड़ने लगे ..और शिप्रा ने प्रियंका के होंठों को चूसना शुरू कर दिया



प्रियंका : "मुझे तो महसूस हो रहा था की वो मुझे चोद रहे हैं ...पार्क में ..और कोई नहीं है वहां ..मैं पड़ी हुई हूँ ...नंगी ...घांस पर ..और वो मुझे घोड़ी बना कर बुरी तरह से चोद रहे हैं ...अह्ह्ह्ह्ह्ह ''


बस इतना बहुत था शिप्रा के अन्दर के जानवर को जगाने के लिए ..


प्रियंका जानती थी की अपनी सहेली को कैसे उत्तेजित करना है ..और उसने वो कर दिया था

अगले ही पल शिप्रा ने पागलों की तरह से अपने सारे कपडे उतार फेंके ..और आनन् फानन में प्रियंका को भी नंगा कर दिया

शिप्रा ने प्रियंका के अपने सामने बिठाया और उसकी आँखों में देखते हुए अपनी पेनी जीभ निकाल कर उसकी उफान खा रही चूत के ऊपर लगाकर उसे चखने लगी ..

अपनी छूट पर जीभ लगते ही प्रियंका के पुरे शरीर में उत्तेजना की एक लहर उठती चली गयी ..


प्रियंका ने शिप्रा के बालों को पकड़कर अपनी चूत के ऊपर रगड़ना शुरू कर दिया ..उसके दिमाग में तो बस पंडित जी ही घूम रहे थे जो उसके साथ वो सब कर रहे थे जो उस दिन उसने पार्क में देखा था ...

...और उसे बेड पर फेंक कर सीधा उसकी टांगो को दोनों तरफ फेलाया और अपना मुंह उसकी रसीली चूत के अन्दर दे दिया ..




''अह्ह्ह्ह्ह्ह .....ओह पंडित जी .....धीरे करो ...''


प्रियंका ने एक जोरदार सिसकारी मारी ...


और ''पंडित'' बनी हुई शिप्रा को देखकर अपनी उँगलियाँ खुद चूसने लगी ..


पंडित के रोल में शिप्रा ने उसकी चूत को चूसते हुए पूरी तरह से सुखा दिया ...प्रियंका मचलती रह गयी ..और वो ''पंडित'' सारी मलाई खा गया ..


और उसने प्रियंका की दोनों टांगो को खोलकर ऊपर लहराया ..और खुद उसके बीच आ गयी ..जैसे उसकी चूत में ''लंड'' डालने की तेयारी हो ..और उसने किया भी ऐसा ही ..नीचे झुक कर अपनी चूत के होंठ जैसे ही शिप्रा ने प्रियंका की चूत के होंठों से लगाए ..दोनों एक जोरदार सीत्कार मारकर चिल्लाने लगी ...


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......उम्म्म्म्म .......चोदो .....मुझे ...पंडित जी .....अह्ह्ह्ह .....येस्स .....डालो ....अन्दर ...तक ....मेरी चूत के .....अह्ह्ह्ह्ह ...''


पंडित बनी हुई शिप्रा भी फुफकारने लगी : "ले साली ......ले मेरा लंड ....अह्ह्ह्ह्ह ......आज तेरी चूत को फाड़ डालूँगा ...अह्ह्ह्ह ...ये ले ...''


अब तक दोनों की गीली चूत एक दुसरे से लिपटकर बुरी तरह से गीली हो चुकी थी ...और वो सारी चिकनाहट उनके धक्कों को और ज्यादा एनेर्जी दे रही थी ..शिप्रा ने अपनी चूत के दाने को प्रियंका के पुसी लिप्स से रगड़ना शुरू कर दिया ..उसकी क्लिट अब किसी छोटे लंड जैसी हो चुकी थी ..और वो उससे प्रियंका की चूत को रगड़ कर चोद रही थी ..


पुरे बेडरूम में दोनों की सिसकियाँ फेली हुई थी ...


और पांच मिनट तक रगड़ने के बाद अचानक शिप्रा ने प्रियंका को 69 के एंगल में लिया और दोनों एक दुसरे की कटोरियों से आइसक्रीम खाने लगे ..


शिप्रा की लम्बी क्लिट को प्रियंका ने लंड की तरह से चूसना और चबाना शुरू किया तो प्रियंका की चूत के अन्दर शिप्रा की लम्बी जीभ किसी लंड की तरह जाने लगी ..


दोनों ने एक जोरदार गर्जन के साथ अपनी -२ मलाई एक दुसरे के मुंह में निकाल दी ..


और गहरी साँसे लेते हुए दोनों बेड पर लेटे रहे ..


ये थी इन दोनों की कहानी, और अक्सर ये दोनों ऐसा करती थी ..ऐसा नहीं था की शिप्रा ने पहले चुदाई नहीं करवाई थी ..पर उसका कोई बॉयफ्रेंड नहीं था जो रोज उसकी चूत की सेवा कर सके ..इसलिए वो अक्सर रोल प्ले करते हुए कभी प्रियंका का बॉयफ्रेंड, कभी उसका भाई और कभी बाप बनकर उसकी इसी तरह से चुदाई करती थी ..और आज तो पंडित जी बनकर उसने प्रियंका को चोदा था ..


थोड़ी देर लेटने के बाद वो अपनी अगली योजना के बारे में बातें करने लगे ..
-  - 
Reply
01-07-2018, 02:08 PM,
#40
RE: Porn Kahani भोली-भाली शीला
पंडित & शीला पार्ट--39

***********
गतांक से आगे ......................

***********

अगले दिन प्रियंका और शिप्रा ने अपनी योजना के अनुसार पुलिस स्टेशन जाकर शादी का झांसा देकर शारीरिक सम्बन्ध बनाने के लिए बद्री के खिलाफ IPC-375/376 के अंडर FIR करवा दी ..जिसे कानून आजकल ''रेप'' का दर्जा देता है ..इस धारा का उचित और अनुचित प्रयोग आजकल बहुत ज्यादा हो रहा है ..


खेर , पुलिस ने बद्री को स्टेशन में बुलाया पूछताछ के लिए, वो पहले तो प्रियंका के इस कदम से घबरा गया क्योंकि उसे इसकी बिलकुल भी उम्मीद नहीं थी, पर अपने दोस्तों से सलाह मशवरा करने के बाद अपने एक वकील को लेकर वो पुलिस स्टेशन गया , वहां प्रियंका और शिप्रा को भी बुलाया गया, दोनों पक्षों में काफी कहा सुनी हुई ..बद्री पहले तो साफ़ मुकरता रहा शादी की बात से, और जब प्रियंका ने कहा की उसके पास गवाह भी है और वो भी मंदिर के पंडित जी ..तो वो थोडा चोंक सा गया ..क्योंकि वो भी जानता था की वहां उस वक़्त कोई भी पंडित नहीं था ..उसने गवाह को सामने लाने को कहा , इंस्पेक्टर ने पंडित जी को पुलिस स्टेशन में बुलाया , जिन्हें देखकर बद्री को भी याद आ गया की ये तो वही पंडित है जो उस दिन खुद भी चुदाई कर रहा था और उन्हें भी चुदाई करते हुए देख रहा था, वो समझ गया की प्रियंका ने उन्हें झूटी गवाही देने के लिए राजी कर लिया है ..अब वो भी क्या कहता , अगर वो बोलता की इसने शादी तो नहीं करायी पर चुदाई करते हुए जरुर देखा है, तब भी वो ही फंसता ..काफी बहस बाजी हुई दोनों तरफ से ..


इंस्पेक्टर भी समझ चूका था की ये मामला बिना वजह खींचा जा रहा है, इसलिए दोनों को आपस में ही सलाह करके सेटलमेंट करने का सुझाव दिया गया ..


बद्री अपने वकील के साथ शिप्रा और प्रियंका को लेकर एक कमरे में गया ..और अन्दर जाते ही शिप्रा ने मुंह फाड़ कर एक ही बार में पचास लाख रूपए मांग लिए ..जिसे सुनकर बद्री और उसके वकील की गांड फट गयी ..काफी देर के नेगोसिएशन के बाद आखिर मामला 25 लाख पर आकर रुका ..और एक हफ्ते में पेमेंट करने की बात की गयी और उसके बाद FIR वापिस लेने की भी ..


प्रियंका और शिप्रा ने जितना सोचा था उससे ज्यादा ही मिला था उन्हें ..और इसलिए वो दोनों काफी खुश थी .


बाहर आकर उन्होंने पंडित जी को अपने साथ लिया और अपनी गाडी में बिठा कर अपने घर की तरफ चल दी ..


प्रियंका : "थेंक्स पंडित जी ..आपकी वजह से आज सब कुछ हो सका ...आपका बहुत -२ धन्यवाद ...''


पंडित जी को वैसे तो उनकी योजना का सार पता चल ही चूका था , क्योंकि जब आखिर में दोनों पक्ष अन्दर बाते कर रहे थे तो बाहर इंस्पेक्टर उनसे कह रहा था की 'पंडित जी ..देखना पैसे लेकर ये मामला यहीं रफा दफा हो जाएगा ...लड़की देखने में ही इतनी चालू लग रही है ..'


और अब उनकी ख़ुशी देखकर उन्हें यकीन हो चला था की इंस्पेक्टर की बात सही थी .


पंडित ने उनके मन की बात निकलवाने के लिए कहा : "यानी ..वो तुमसे शादी करने के लिए मान गया ..''


उनकी बात सुनकर प्रियंका और शिप्रा एक दुसरे की तरफ देखकर हंसने लगी ..


शिप्रा : "पंडित जी ..आप बहुत भोले हैं ..आपको क्या लगता है, ये सब इसने शादी के लिए किया था ..हम तो ये पहले से जानते थे की वो बड़े घर की औलाद इस जैसी छोटे घराने की लड़की से कभी शादी नहीं करेगा वो सिर्फ इसका यूज़ कर रहा था, इसके जिस्म से खेल रहा था ..इसलिए हमने उसे ऐसे केस में फंसा कर पैसे निकलवाने की योजना बनायीं थी ..और वो मान भी गया है .''


पंडित ने उनको ज्ञान देना चाहा : "पर ये बात अगर प्रियंका जानती थी तो इसने अपनी तरफ से पहल क्यों की ..क्यों उसे अपने शरीर से खेलने दिया ..औरत का असली गहना उसकी इज्जत होती है, और वो इसने उसके सामने उतार दिया, और अब शादी के बदले उसके पैसों से उस इज्जत को ढकने की कोशिश कर रही हो ..ये तो गलत है ..''


पंडित की बात सुनकर वो दोनों चुप रहे , क्योंकि वो दोनों भी जानटी थी की पंडित जी की बात सही है ..पंडित ने आगे कहा : "तुम दोनों ने अपनी सहमति से एक दुसरे के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाये, तो इसमें रेप कहाँ से आ गया, जिस तरह से उसने तुम्हारे शरीर का इस्तेमाल किया है अपनी मस्ती के लिए, तुमने भी तो वही सब कुछ किया है ..फिर रेप सिर्फ उसने कहाँ किया, वो तो तुमने भी किया न उसके साथ ..''

शिप्रा ने उन्हें समझाया : "पंडित जी , आपकी बात सही है , पर कानून के सामने ये सब दलील बेकार है ..और क़ानून लड़की की बात सुनता है, लड़के की नहीं ..हमारे देश के कानून का सही के साथ-२ गलत लोग भी इस्तेमाल करते हैं ..जो अभी हम कर रहे हैं ..हमें पता था की वो इसके साथ शादी कभी नहीं कर सकता इसलिए हमने ये सब नाटक किया, पर जो भी है, आपका फायेदा भी तो पक्का है इन सबमे ...''


पंडित : "मेरा फायेदा ...कैसे ...?"


वो दोनों एक दुसरे की तरफ देखकर मुस्कुराये और बोले : "वो हम घर चलकर बताएँगे ...''


और थोड़ी देर में ही शिप्रा की शानदार कोठी के आगे कार रुकी और तीनो बाहर निकल कर उसके कमरे की तरफ चल दिए, शिप्रा के पापा एक बहुत बड़े वकील थे और ज्यादातर घर रात लेट ही आते थे , उसकी माँ का निधन हो चूका था, एक भाई था जो लन्दन में पढाई कर रहा था ..इसलिए घर पर अभी कोई नहीं था .


अपने बेडरूम में पहुँचते ही शिप्रा ने दोनों को सोफे पर बिठाया और बोली : "देखिये पंडित जी , ये सब आपकी हेल्प के बिना होना मुश्किल था, इसलिए हम आपको भी बीच में से हिस्सा देंगे ..पुरे 5 लाख रूपए ..और बाकी हम दोनों आपस में रखेंगे ..''


पंडित जी ने इतने पैसे एक साथ आज तक नहीं देखे थे ..वो जानते थे की ये गलत है, पर वो भी कौन सा दूध के धुले थे, उन्होंने भी अपनी लाईफ में काफी बुरे काम किये थे, और अभी भी उनकी झूठी गवाही के बल पर ही वो पैसे उन दोनों को मिल रहे थे, वो अगर इनकार करते तो उनका ही घाटा था, इसलिए उन्होंने उनकी बात मान ली, बिन बुलाये घर पर आती माया को इनकार करना हर किसी के बस की बात नहीं होती ..

शिप्रा अपने कपडे बदलने के लिए बाथरूम में चली गयी ..


उसके जाते ही प्रियंका खिसक कर पंडित जी के पास पहुँच गयी और बोली : "पंडित जी ..आपके लिए ये सब जो हम कर रहे हैं ये तो बस असल है ...असली बोनस तो और कुछ है ..''


उसका एक हाथ अपनी शर्ट के अन्दर जाकर अपने गले की स्किन को मसलने लगा ..पंडित को उसका इशारा समझ में आ गया, पर वो कुछ न बोला ..

सफ़ेद रंग की शर्ट के अन्दर उसकी पिंक कलर की ब्रा की झलक पंडित जी को साफ़ दिखाई दे रही थी ..और उसके निप्पल भी चमकने लगे थे अन्दर से ..

प्रियंका ने अपना एक हाथ उनकी जांघ पर रखा और बोली : "एक बात सच -२ कहना चाहूंगी पंडित जी ..आपको ढूँढने का मकसद सिर्फ आपसे गवाही दिलाना नहीं था ....जिस दिन से आपको उस लड़की के साथ पार्क में देखा है, मुझे तो उसके बाद की हर चुदाई में आपका ही लंड याद आता रहा ..आप जिस तरह से अपने लम्बे लंड से उसकी चुदाई कर रहे थे, बस वही सोचकर मैं कितनी बार झड चुकी हु ...और अब मुझसे नहीं रहा जाएगा ...''

कहते हुए उसने पंडित जी का घंटा पकड़ लिया , उनकी धोती के ऊपर से ही ..

पंडित जी को प्रियंका से इतनी जल्दी ऐसी उम्मीद नहीं थी ...वो तो सोच रहे थे की इसे चोदने में अभी कुछ टाइम लगेगा, पर वो ये नहीं जानते थे की आग उसकी तरफ से ज्यादा लगी हुई है ..

वो थोडा भाव खाना चाहते थे ...इसलिए उन्होंने उसका हाथ पीछे कर दिया. और बोले : "वो मेरा अपना निजी मामला है ..मैं उसके साथ चुदाई कर रहा था, इसका मतलब ये नहीं की मैं हर किसी के साथ शुरू हो जाऊंगा ..''

पंडित जी हर बार की तरह अपने शिकार को तडपाना चाहते थे ..

तभी पीछे से शिप्रा की आवाज आई : "अरे प्रियंका ...रहने दे न ..अगर इनका मन नहीं है तो क्यों जबरदस्ती कर रही है ..''

उन्होंने पलट कर देखा, वो एक साटन की बाथ रॉब पहन कर बाहर निकल रही थी , उसके शरीर पर उसके अलावा कुछ भी नहीं था, लम्बी और नंगी टाँगे साफ़ चमक रही थी ..

शिप्रा : "तुम मेरे पास आओ प्रियंका ...और हमेशा की तरह वही करो ..जो करती हो ..''

दोनों ने आँखों ही आँखों में इशारा किया और प्रियंका भी मस्ती भरी चाल के साथ उसकी तरफ चल दी ..

पंडित जी बेचारे हक्के - बक्के से होकर वहीँ खड़े रहे, जैसे कहना चाहते हो 'अरे ...मेरा ये मतलब नहीं था ...'

पर अब जैसे देर हो चुकी थी ..

प्रियंका और शिप्रा एक दुसरे के गले लगकर जोर से स्मूच कर रहे थे ..जिसे देखकर पंडित जी का लंड उनकी धोती में तम्बू बना रहा था ..उनकी उपस्थिति से उन दोनों को कोई फर्क नहीं पड़ रहा था ..वैसे भी वो ये सब उन्हें दिखाने के लिए ही तो कर रही थी ..

पंडित जी चाहते तो वहां से जा सकते थे ..पर वो नहीं गए , क्योंकि वो जानते थे की इस पुरे खेल का अंत चुदाई के साथ ही होगा .


प्रियंका ने अपनी शर्ट के बटन खोलकर उसे उतार दिया ,पिंक ब्रा और ब्लू जींस में वो किसी मॉडल की तरह लग रही थी , उसने धीरे से शिप्रा की बाथ रॉब की गाँठ भी खोल दी ..पर उसे उतारा नहीं ..शिप्रा के मोटे मुम्मों की झलक अब पंडित जी को साफ़ दिखाई दे रही थी ..पंडित जी किसी बुत्त की तरह, बिना पलकें झपकाए हुए उसके पुरे दर्शन की प्रतीक्षा कर रहे थे ..


इसी बीच प्रियंका ने अपनी ब्रा को खुद ही खोल कर पंडित जी की तरफ उछाल दिया , जिसका स्ट्रेप सीधा पंडित जी के कान में जाकर फंस गया और वो वहीँ लटक कर रह गयी ..पंडित जी ने लटकी हुई ब्रा को पकड़ा तो उन्हें उसकी गर्मी का एहसास हुआ , अन्दर की तरफ हाथ लगाते ही उनके हाथ पर गुदाज मुम्मो की गर्माहट महसूस हुई ..जिसे पाकर उनका रोम - २ खड़ा हो गया .


प्रियंका का गोरा जिस्म और मोटे मुम्मे देखकर पंडित जी के मुंह में पानी आ गया, और उसके ऊपर लगे हुए दोनों निप्पल मोटे किशमिश के दानो जैसे लग रहे थे, जिनके चारों तरफ के एरोहोल में बने छोटे -२ दाने उत्तेजना की वजह से उभर कर बड़े निप्पलों का साथ दे रहे थे ..


पंडित जी को अपनी तरफ देखता पाकर प्रियंका ने अपना सर शर्म से झुक लिया ..




प्रियंका शरारत भरी आँखों से पंडित जी को परख रही थी, और शिप्रा को अपनी ब्रेस्ट पर झुकाकर जैसे ही उसने अपना निप्पल उसके मुंह में ठुंसा , वो किसी घोड़ी की तरह हिनहिनाते हुए बेड पर जा गिरी ..


''आअग्ग्ग्घ्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......अह्ह्ह्ह्ह्ह .......शिप्पी ........अह्ह्ह्ह्ह्ह ..........उम्म्म्म्म ....सक बेबी ....सक मी हार्ड .....''


शिप्रा भी उसके ऊपर झुक कर उसकी ब्रेस्ट चूस रही थी, जिसकी वजह से उसकी गांड पंडित जी की तरफ थी, जो बाथ रॉब ऊपर खिसकने की वजह से बिलकुल नंगी हो चुकी थी ..


उसकी दिल की आकृति वाली गांड का दीदार पाकर पंडित जी तो जैसे बावले हो गए, इतनी मोटी और सेक्सी गांड तो उन्होंने आज तक नहीं मारी थी, नीचे उसकी चूत भी साफ़ चमक रही थी, जिसमे से रसीली चाशनी बहकर बाहर निकल रही थी .


शिप्रा के प्रियंका की जींस के बटन खोले और उसे नीचे खींच कर उतार दिया ..साथ ही उसकी पेंटी भी फंस कर उतर गयी .


अब वो बड़े से बेड पर पूरी नंगी थी,
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 75 84,045 Yesterday, 09:35 PM
Last Post: kw8890
Thumbs Up Gandi kahani कविता भार्गव की अजीब दास्ताँ sexstories 19 9,154 Yesterday, 12:08 PM
Last Post: sexstories
  Dost Ne Kiya Meri Behan ki Chudai ki desiaks 2 16,934 11-11-2019, 08:24 PM
Last Post: Didi ka chodu
Star Maa Sex Kahani माँ-बेटा:-एक सच्ची घटना sexstories 102 244,952 11-10-2019, 06:55 PM
Last Post: lovelylover
Star Adult kahani पाप पुण्य sexstories 205 434,423 11-10-2019, 04:59 PM
Last Post: Didi ka chodu
Shocked Antarvasna चुदने को बेताब पड़ोसन sexstories 24 24,353 11-09-2019, 11:56 AM
Last Post: sexstories
Thumbs Up bahan sex kahani बहन की कुँवारी चूत का उद्घाटन sexstories 45 180,113 11-07-2019, 09:08 PM
Last Post: Didi ka chodu
Star Antarvasna तूने मेरे जाना,कभी नही जाना sexstories 31 79,032 11-07-2019, 09:27 AM
Last Post: raj_jsr99
Star Bahu ki Chudai बहुरानी की प्रेम कहानी sexstories 82 330,548 11-05-2019, 09:33 PM
Last Post: lovelylover
Star Indian Porn Kahani शरीफ़ या कमीना sexstories 49 55,877 11-04-2019, 02:55 PM
Last Post: Didi ka chodu

Forum Jump:


Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Penti fadi ass sex.Sex Baba ಅಮ್ಮ-ಮಗgundo ne choda jabarjasti antarvasana .com pornjosili hostel girl hindi fuk 2019chiranjeevi fucked meenakshi fakesxxx hinde vedio ammi abbunud nangi pic Sara Ali Khan and anker mayatibete ki patni bani chudae printablekajol porn xxx pics fuck sexbabarandi la zavalo marathi sex kathatoral rasputra nudegaand khilke khdi pornma ko chudte dekh beti ko chofeane ka dilमेरी माँ को चोद चोद कर मूत करवा दिया मादरचोदों नेhot kahani pent ko janbhuj kar fad diyaSexBabanetcomSamantha sexbabaraveena tandan sex nude images sexbaba.comfast chodate samay penish se pani nikal Jay xxx sexमूतने बेठी लंड मुह मे डाल दीया कहानीAnderi raat ko aurat ki gand bedardi se Mari sexy story www.kannada sex storeiswww.89 xxx hit video bij gir jaye chodta me.combehan or uski collage ki frnd ko jbardsti rep krke chod diya sex storyथूक लगा के गुंड में लैंड डालनाsex videos s b f jadrdastsex Chaska chalega sex Hindi bhashaमेरी बॅकलेस सारी और बेटाNude Dipsika nagpal sex baba picsxxnx.कदकेJavni nasha 2yum sex stories anjane me boobs dabaye kahaniAnita ke saath bus me ched chad फैमैली के साथ चुदाई एन्जोयजोरो से गांढ मारो आवाज करके xnxxkhandar m choda bhayya ne chudai storiestv actress bobita xxx lmages sexbabaPariwaar Ka namkeen peshab sex kahanisexbaba chut ki mahakमुठ मारने सफेद सफेद क्या गीरताChachi ko choda sexbaba.hindeedevar xxx anti videodeepshikha nude sex babamaa ne bete ko bra panty ma chut darshan diye sex kahaniyaKanada acters sexbaba photoApna Ladla GonguPhar do mri chut ko chotu.comअपने ससुराल मे बहन ने सुहारात मनाई भाई सेxxnxnxx ladki ke Ek Ladka padta hai uskoDesi indian HD chut chudaeu.comxxx full movie mom ki chut Ma passab kiya jethani ki pregnancy ke chalte jeth ji ne mere maje liye sex story jism ki jarurat rajsharamaLauren_Gottlieb sexbabachuchi dudha pelate xxx video dawnlod मुसल मानी वियफ तगड़े मे बड़ी बडी़ चूचीma beti asshole ungli storymoot pikar ma ki chudai ki kahaniabheed me aunty ne chipk gaya sex stotyviedocxxx dfxxxvido the the best waबिबि कि गाड मारी सुहागरात को तेल लगाकर सेक्स विडीयोनितंम्ब मोटे केसै करेMadira kshi sita sex photosPorn sex sarmo hayasadha sex baba.comAnty jabajast xxx rep video lal ghulda ka land chuttren k bhidme bhatijese chudwaya.chudai sto.with nangi fotos.Xxx xvedio anti telgu panti me dard ho raha hi nikalo आदमी लेता है औरत उसके ऊपर अपने पाटे उठाये man चाट रहा हो hot photosex man and woman ke chut aro land pohtos com.saxxxx isukUla waliAyesha takia xxx photo baba.nettuje sab k shamne ganda kaam karaugi xxopicमेरे मन की शादी में मां ने मुझे बड़ी मौसी जी मज़े दिलवायेpramguru ki chudai ki kahaniXxx hinde holley store xxx bababhabhi ka chut choda sexbaba.net in hindiहरामी बेटा छिनाल माँ राज शर्मा कहानियातपती हुई चुत से निकलता हुआ पानीhavili porn saxbaba