Hindi Kahani बड़े घर की बहू - Printable Version

+- Sex Baba (//br.bestcarbest.ru)
+-- Forum: Indian Stories (//br.bestcarbest.ru/eroido/Forum-indian-stories)
+--- Forum: Hindi Sex Stories (//br.bestcarbest.ru/eroido/Forum-hindi-sex-stories)
+--- Thread: Hindi Kahani बड़े घर की बहू (/Thread-hindi-kahani-%E0%A4%AC%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A5%87-%E0%A4%98%E0%A4%B0-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%AC%E0%A4%B9%E0%A5%82)

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

पर दिल का एक कोना उसके अंदर एक उथल पुथल मचा रहा आता उसका शरीर का हर कोना जगा हुआ था और कुछ माँग रहा था कामेश नहीं भीमा नहीं लाखा नहीं शायद भोला नहीं अभी नहीं अभी तो कुछ नहीं हो सकता कामेश अगर घर में होता तो शायद कुछ होता पर वो तो खेर कोई बात नहीं किसी तरह से अपने आपको समझा कर कामया मम्मीजी के साथ लगी रही काम तो क्या बस मम्मीजी के साथ भर घूमती रही थी घर के हर कोने तक और जैसा मम्मीजी कह रही थी घर के नौकरो को वो सब होते हुए देखती रही 

खेर कोई ऐसी घटना नहीं हुई जो लिख सकूँ पर हाँ… एक बात साफ थी की कामया के अंदर का शैतान का कहिए कामया का शरीर जाग उठा था अपने आपको संभालती हुई वो किसी तरह से सिर्फ़ कामेश का इंतजार करती रही 

रात को बहुत देर से कामेश आया घर का हर कोना साफ था और सजा हुआ था गुरु जी के आने का संकेत दे रहा था पापाजी और कामेश के आने के बाद तो जैसे फिर से एक बार घर में जान आगई थीपूरा घर भरा-भरा सा लगने लगा था नौकर चाकर दौड़ दौड़ कर अब तक काम कर रहे थे भीमा को असिस्ट करने के लिए भी कुछ लोग आ गये थे किचेन से लेकर घर का हर कोना नौकरो से भरा हुआ था पर कामया का हर कोना खाली था और उसे जो चाहिए था वो उसे नहीं मिला था अब तक उसे वो चाहिए ही था कामेश के आते ही वो फिर से भड़क गया था एक तो पूरा दिन घर में फिर इस तरह के ख्याल उसके दिमाग में घर कर गये थे की वो पूरा दिन जलती रही थी 

पर कमरे में पहुँचते ही कामेश का नजरिया ही दूसरा था वो जल्दी-जल्दी सोने के मूड में था बातें करता हुआ जैसे तैसे बेड में घुस गया और गुड नाइट कहता हुआ बहुत ही जल्दी सो गया था कामया कुछ कह पाती या कुछ आगे बढ़ती वो सो चुका था कमरे में एक सन्नाटा था और वो सन्नाटा कामया को काटने दौड़ रहा था किसी तरह चेंज करते हुए वो भी सोने को बेड में घुसी थी की कामेश उसके पास सरक आया था एक उत्साह और ललक जाग गई थी कामया में मन में और शरीर में पर वो तो उसे पकड़कर खर्राटे भरने लगा था एक हथेली उसके चूचों पर थी और दूसरा कहाँ था कामया को नहीं पता शायद उस तरफ होगा पर कामेश के हाथों की गर्मी को वो महसूस कर रह थी एक ज्वाला जिसे उसने छुपा रखा था फिर से जागने लगी थी 



पर कामेश की ओर से कोई हरकत ना देखकर वो चुपचाप लेटी रही अपनी कमर को उसके लिंग के पास तक पहुँचा कर उसे उकसाने की कोशिश भी की पर सब बेकार कोई फरक नहीं दिखा था कामया को रात भर वो कोशिश करती रही पर नतीजा सिफर सुबह उठ-ते ही कामेश जल्दी में दिखा था कही जाना था उसे कामया को भी जल्दी से उठा दिया था उसने और बहुत सी बातें बताकर जल्दी से नीचे की ओर भगा था नीचे जब तक कामया पहुँची थी तब तक तो कामेश नाश्ते के टेबल पर अकेला ही नाश्ता कर रहा था पापाजी और मम्मीजी चाय पीते हुए उससे कुछ बातें कर रहे थे 
जो बातें उसे सुनाई दी थी 

मम्मीजी- अरे तो बहू को आज क्यों भेज रहा है उसे रहने दे घर में 

कामेश- मम्मी आ जाएगी वो दोपहर तक फिर कर लेना जो चाहे 

कामेश--सोनू तुम थोड़ा सा कॉंप्लेक्स हो आना कुछ वाउचर रखे है साइन कर देना और कुछ कैश भी निकाल कर अकाउंट्स में रख देना कल से नहीं जा पाओगी 

कामया- जी 

कामेश- और हाँ… उसे ऋषि को बोल देना कि रोज जाए कॉंप्लेक्स कुछ सीखा कि नहीं 

कामया- जी 

मम्मीजी - हाँ ऋषि भी तो है वो क्या करता है 

कामेश- फिल्म देखता है वो भी सलमान खान की हाँ… हाँ… हाँ… 

पापाजी और मम्मीजी के चहरे पर भी मुश्कान दौड़ गई थी कामेश का खाना हो गया था और वो जल्दी में बाहर निकला था कामया भी उसके साथ बाहर तक आई थी तीनों गाडिया लाइन से खड़ी थी कामेश की गाड़ी नहीं थी और पापाजी की 
कामेश---अरे भोला मेरी गाड़ी नहीं निकाली 

भोला की नजर एक बार कामेश और कामया पर पड़ी थी कुछ सोचता उससे पहले ही 
कामेश---तू सुन तू मेमसाहब को लेकर कॉंप्लेक्स जाना और जल्दी आ जाना मेरी गाड़ी निकाल दे और सुन दोपहर को शोरुम आ जाना 

भोला- नज़रें झुकाए जल्दी से गेराज में गया और कामेश की गाड़ी निकाल कर उसे सॉफ करने लगा था लाखा भी दौड़ा था पर कामेश की जल्दी के आगे वो सब रुक गये थे कामेश जल्दी से गाड़ी में बैठकर बाहर की ओर चला गया रह गये थे तो सिर्फ़ लाखा भोला और कमाया एक नजर लाखा और फिर भोला पर पड़ते ही कामया अंतर मन फिर से जाग उठा था भोला की नजर में कुछ था जो उसे हमेशा से ही बिचलित करता था वो एक गहरी सांस लेकर पलटी थी और अंदर आ गई थी अपने बेडरूम में पहुँचकर देखा था कि एक मिस कॉल था 

किसका है देखा तो ऋषि का था उसने ऋषि को डायल किया 

ऋषि- हेलो भाभी कैसी हो अरे यार तुम कल गई नहीं में बोर हो गया था आज जाओगी ना 

कामया- हो दोपहर तक हूँ लेने आती हूँ तैयार रहना आज कुछ जल्दी है ठीक है 

ऋषि- जी भाभी 
और फोन रखने के बाद कामया नहाने को चली नहाते वक़्त भी उसे कामेश का ध्यान आया था कैसे उसने कल रात पूरी गँवा दी कुछ नहीं किया और आज सुबह भी जल्दी चला गया था पर एक शान्ती थी आज वो फिर बाहर जा सकती है कल तो पूरा दिन ही खराब हो गया था 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

भोला की नजर जब उसपर पड़ी थी तो कयामत सी आ गई थी उसके शरीर में एक अजीब सी जुनझुनी और सिहरन ने उसके शरीर में निकालते समय सूट को छोड़ कर बार-बार साड़ी की ओर ही उसकी नजर जाती थी साड़ी क्यों पहनु कॉंप्लेक्स जाते समय तो हमेशा ही सूट पहनती है पर साड़ी क्यों नहीं साड़ी ही पहनती हूँ आज भोला को भी अच्छी लगती है छि भोला के लिए पहनु अब में तो क्या हुआ उसे चिडाने में मजा आएगा चलो वही काली वाली पहनु नहीं नहीं वो वाली नहीं क्या सोचेगा एक ही साड़ी है फिर यह पीली वाली पहन लेती हूँ हाँ… यह ठीक है प्लेन है और ज्यादा भड़काऊ नहीं है ब्लाउस तो स्लेवेलीस ही है ठीक है ना क्या हुआ 

बहुत सी बातें करती हुई जाने कब कामया ने अपने मन को साड़ी पहनाने को मना लिया था और येल्लो कलर की साड़ी निकाल कर बेड में रख दी थी उसके साथ वाइट कलर का अंदर गारमेंट्स पहनने को थी पर क्या सोचकर मुस्कुराती हुई उसने ब्लैक कलर का ब्रा और पैंटी निकाल ली थी येल्लो में अंदर का पहन लेती हूँ इसके ऊपर 
हां यह ठीक रहेगा चलो उस जानवर को एक बार फिर भड़का कर देखते है क्या करेगा अभी तो घर में है और फिर कॉंप्लेक्स ही तो जाना है वहाँ भी क्या कर लेगा यही सब सोचते हुए कामया एक के बाद एक करके अपने आपको संवारती हुई मिरर के सामने खड़ी अपने आपको निहारती जा रही थी और अपने शरीर के हर हिस्से को टटोल टटोल कर देखती हुई ब्रा से लेकर पैंटी फिर पेटीकोट और ब्लाउस पहनती हुई इठलाती हुई अपने आपको देखती हुई एक जहरीली सी 
मुश्कान बिखेरती हुई साड़ी उठाकर पहेन्ने लगी थी बहुत ही कसकर बाँधी थी उसने हर एक हिस्सा साड़ी के अंदर होते हुए भी खिल कर बाहर की और आ रहा था हर गोलाई और उभार को दिखाता हुआ उस साड़ी ने सब कुछ खोलकर रख दिया था लग रहा था की टाफी को पकिंग के साथ ही खा जाए नीचे की जाने से पहले उसने अपने ऊपर वो सम्मर कोट डाल भर लिया था जो की सिर्फ़ कंधे पर टिका हुआ था उसने हाथों में नहीं पहना था डालकर अपने आपको थोड़ा सा छुपा लिया था और कुछ नहीं 
नीचे को आते हुए उसने मम्मीजी को किचेन के बाहर एक चेयर पर बैठे देखा था जो की अंदर काम कर रहे लोगों को कुछ इनस्टरक्ट कर रही थी उसे जाते हुए एक बार देखा था 
कामया- मम्मीजी में आती हूँ 

मम्मीजी- हाँ बहू जल्दी आ जाना ज्यादा देर मत करना 

कामया- जी 
और कामया बाहर की ओर चल दी थी पोर्च की ओर बढ़ते हुए उसके कदम में गजब का विस्वास था और एक लचीलापन भी था बड़े ही मादक ढंग से चलती हुई वो मैंन डोर तक जब पहुँची थी तो भोला को वही सीढ़ियो में ही बैठा देखा था उसके हाइ हील की आवाज से वो पलटा था और दौड़ कर मर्क का डोर खोलकर खड़ा हो गया था उसकी नजर ऊपर एक बार जरूर उठी थी पर घर का मामला था इसलिए नीचे ही रही पर कामया की सुगंध से नहाया हुआ भोला एक बार फिर से पारी लोक की सैर करने को तैयार था क्या खसबू है मेमसाहब की हमम्म्ममम
और भोला को वापास करते ही एक महक जो कि कामया के अंदर तक उतरती चली गई थी वो थी गुटके की और पसीने की एक मर्दाना स्मेल था वो वो इस स्मेल को पहले भी सुंग चुकी थी सुंग चुकी थी टेस्ट भी किया था हाँ… यह वही स्मेल आई कामया अपनी सीट पर बैठी ही थी कि भोला ने एक नजर अंदर बैठी मेमसाहब पर डाली और डोर बंद करते हुए जल्दी से दौड़ कर ड्राइविंग सीट पर बैठ गया था 

गाड़ी धीरे से पोर्च से बाहर और फिर गेट से बाहर होती चली गई थी और फिर सड़क पर धीरे-धीरे दौड़ने लगी थी कामया बिल कुल शांत सी पीछे बैठी हुई बाहर की ओर देख रही थी कि उसे भोला की आवाज सुनाई दी 
भोला- उसे भी लेना है मेमसाहब 
कामया- हाँ… 
वो अच्छे समझ रही थी कि भोला ऋषि के बारे में ही कह रहा है उसकी नजर एक बार उसकी और उठी थी पर फिर से बाहर की ओर चली गई थी क्योंकी भोला उसे बक मिरर में एकटक देख रहा था 
भोला- आपके लिए फूल नहीं ला पाया 
कामया- जानवर कही का फूल क्यों नौकर है तू मेरा 

भोला- साड़ी में बहुत सुंदर लगती है आप 
कामया- 
साला जानवर, गुंडा एक झटके में बाहर निकाल दूँगी नौकरी से पता नहीं इतनी हिम्मत इसकी की जो मन में आए का रहा है 
भोला- पर यह कोट मत पहनिए अच्छा नहीं लग रहा 

कामया- गाड़ी चलाओ और फालतू बातें मार करो 

एक गरजती हुई आवाज निकली थी उसके अंदर से समझता क्या है अपने आपको यह एक बार उसके साथ क्या कर लिया अपना हक़्क़ समझ लिया है जो मन में आया कह रहा है 

इतने में ऋषि का घर आ गया था ऋषि पोर्च में ही खड़ा हुआ इंतजार कर रहा था गाड़ी को देखकर ही वो खिल उठा था जल्दी से गाड़ी की ओर बढ़ा था पर गाड़ी के रुकते ही भोला जल्दी से बाहर की ओर निकला और सामने का डोर खोलकर खड़ा हो गया था ऋषि ने एक बार भोला को देखा था और फिर कुछ ना कहते हुए सामने ही बैठ गया था कामया को भी कुछ समझ नहीं आया की भोला ने ऐसा क्योंकिया पर हाँ… वो कुछ कहती इससे पहले ही ऋषि सामने की ओर बढ़ गया था वो जो डोर खोलकर ऋषि के लिए जगह बनाया था वो खाली रह गया 

पर एक बात जो कामया ने नोटीस नहीं की थी वो था उसका कोट जो कि सिर्फ़ उसके कंधो पर टिका हुआ था अब थोड़ा सा ढल गया था उसके कंधो पर से पीछे की ओर चला गया था एक गजब का नजारा था स्लीवलेशस ब्लाउसमें उसके दोनों चुचे खुलकर सामने की ओर देख रहे थे साड़ी का पल्ला कही भी था पर वहां नहीं था जहां होना चाहिए गोरा सा सपाट पेट येल्लो कलर की साड़ी से जो नजारा पेश कर रहा था जिसे देखकर कोई भी पागल हो सकता था और यह तो भोला था उस हुश्न का पुजारी एक पूरी रात उसने इस परी के साथ गुजारी थी पूरी रात 

ऋषि के बैठ ते ही भोला भी जल्दी से ड्राइविंग सीट की ओर लपका था 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

ऋषि-हाई भाभी हाई कितनी सुंदर लग रही हो आज साड़ी पहनी है सच में भाभी आप साड़ी में बहुत बहुत अच्छी लगती हो 
इतने में भोला अपनी सीट पर बैठ गया था उसकी नजर एक बार तो ऋषि की ओर पड़ी और फिर पीछे की ओर मेमसाहब पर और जो नजारा उसके सामने था वो वाकाई लाजबाब था एक मुश्कान उसके होंठों पर दौड़ गई थी वाह क्या नजारा है मेमसाहब और फिर ऋषि की ओर मुड़कर 
भोला- बड़े हैंडसम लग रहो भैया हाँ… 
ऋषि- 
भोला-क्या बात है बात नहीं करेंगा हमसे नाराज है क्या 

ऋषि- नहीं 
बड़े ही रूखे पन से जबाब दिया था उसने पर भोला को कोई फरक नहीं पड़ा था 

भोला- मर्क चलाई है कभी आपने भैया 

ऋषि और कामया की नजर एक साथ ही भोला की ओर उठी थी क्या कह रहा है यह भोला की नजर अब भी सामने की ओर ही थी पर नजर पीछे बैठी मेमसाहब पर भी थी 

कुछ कहते की भोला फिर कह उठा 
भोला- भैया चलाकर देखो कैसी चलती है 

ऋषि- क्यों आप क्या करेंगे 

भोला- अरे कुछ नहीं भैया बस हम तो सिर्फ़ पूछ रहे थे अगर चलाना हो तो बोलो आज के बाद मौका नहीं मिलेगा 

उसकी बातों में कुछ अर्थ था यह तो साफ था पर क्या यह ना तो ऋषि ही समझ पाया और नहीं कामया थोड़ा आगे बढ़ कर भोला ने गाड़ी एक पेड़ के नीचे रोक लिया और ऋषि की ओर देखने लगा 

कामया- गाड़ी क्यों रोकी 

भोला ने कोई जबाब नहीं दिया था बल्कि ऋषि की ओर देखते हुए 
भोला- आइए भैया मर्क भी चलाकर देख लो आज में थोड़ा सा पीछे बैठा हूँ 

और झट से डोर खोलकर पीछे की सीट की ओर बड़ा था ऋषि का चहरा सफेद हो गया था पर कुछ कहता इससे पहले ही भोला पीछे की सीट पर बैठा हुआ था कामया पास बिल्कुल बिना किसी ओपचारिकता के और नहीं किसी डर के 
ऋषि और कामया कुछ समझते 
भोला- अरे भैया चलो कोई देखेगा तो क्या सोचेगा 

ऋषि झट से ड्राइविंग सीट पर बैठ गया था और एक ही झटके में गाड़ी आगे की ओर बढ़ गई थी उसकी नजर पीछे की सीट पर थी भाभी बड़ी ही डरी हुई लग रही थी और वो गुंडा उसे तो कोई फरक ही नहीं पड़ रहा था कैसे पीछे सीट पर सिर टिकाए बैठा हुआ था चहरे पर कोई शिकन नहीं थी जानवर कही का लेकिन पीछे क्यों बैठा है वो 

और उधर कामया की हालत खराब थी पीछे जैसे भोला बैठा था वो कुछ बोल भी नहीं पाई थी जैसे उसकी आवाज उसके गले में ही अटक गई थी और उसने अपने कोट की ओर ध्यान क्यों नहीं दिया वो कब धलक गया था उसे पता ही नहीं चला था यह तो जैसे भोला को न्योता देने वाली बात हो गई थी पर उसने कभी नहीं सोचा था कि भोला गाड़ी में ही अटेक कर लेगा उसने तो कभी जिंदगी में इस बात का ध्यान नहीं किया था 

लेकिन अब क्या भोला तो उसके पास बैठा हुआ एकटक उसकी ओर ही देख रहा था और वो बिना कुछ कहे बिल्कुल सिमटी हुई सी बैठी हुई थी जैसे मालिक वो नहीं भोला हो गया था पर भोला के शरीर से उठ रही वो स्मेल अब धीरे धीरे उसके नथुनो को भेद कर उसके अंतर मन में उतरती जा रही थी उसने अपनी सांसें रोके और आखें बाहर की ओर करके चुपचाप बैठी हुई अगले पल का इंतजार कर रही थी जैसे उसके हाथों से सबकुछ निकल गया है 

इतने में भोला की हल्की सी आवाज उसे सुनाई दी 

भोला- भैया आराम से चलिए और थोड़ा सा घूमकर चलिए आपका मन भी भर जाएगा और थोड़ा घूम भी लेंगे 

कामया की नजर एक बार भोला की ओर उठी थी पर उस नजर में एक जादू सा था बड़ी ही खतरनाक सी दिखती थी उसकी आखें भूखी और सख़्त सी थी और एक जानवर सा दिख रहा था वो सांसें भी उसकी फूल रही थी पर कर कुछ नहीं रहा था 
कामया का शरीर अब धीरे-धीरे उसका साथ छोड़ रहा था पर वो बड़े ही , तरीके से बैठी हुई भोला को नजर अंदाज करने की कोशिश कर रही थी पर हल्के से एक उंगली ने उसके हाथ के उल्टे साइड को टच किया था चौंक कर उसने अपने हाथ को खींच लिया था वो एक नजर भोला की ओर ना देखती हुई सीट की ओर देखा था वहाँ उसकी हथेलिया थी मोटी-मोटी उंगलियां और गंदा सा हाथ था उसका मेल और काला पन लिए हुए वो फिर बाहर की ओर देखने लगी थी गाड़ी धीरे-धीरे चला रहा था ऋषि एसी के चलते हुए भी एक गरम सा महाल था अंदर 


कामया की नजर बाहर जरूर थी पर ध्यान पूरा अंदर था और भोला जो उसके पास बैठा था क्या करेगा आगे सोच रही थी तभी उसकी कमर के साइड में उसे भोला के हाथ का स्पर्श महसूस हुआ था वो सिहर उठी थी और अपने आपको हटाना चाहती थी उसके छूने से पर कहाँ वो बस थोड़ा सा हिल कर ही शांत हो जाना पड़ा था उसे क्योंकी भोला की उंगलियां उसके पेटीकोट के नाडे पर कस्स गई थी थोड़ी सी जगह पर से उसने अपनी उंगली को अंदर डालकर उसे फँसा लिया था वो कुछ ना कर सकी बल्कि सामने की ओर एक बार ऋषि की ओर देखा और फिर भोला की ओर 

पर भोला की पत्थर जैसी आखों में वो ज्यादा देर देख ना सकी सीट पर सिर टिकाए हुए वो कामया की ओर एक कामुक नजर से देख रहा था वही नजर थी वो जो उसने पहली बार और जाने कितनी बार देखा था उस नजर के आगे वो कुछ नहीं कर सकती थी चाहे वो कही भी हो वो क्या कर सकती है अब यह जानवर तो उससे गाड़ी में ही सबकुछ कर लेना चाहता है और ऋषि भी कुछ नहीं कह रहा है वो तो एक अबला सी नारी है वो कैसे इस जानवर से लड़ सकती है कैसे इस वहशी को बाँध सकती है पर उसकी हालत भी खराब थी उसके टच ने ही उसे इतना उत्तेजित कर दिया था कि वो अपने गीले पन को रोक नहीं पा रही थी ना चाहते हुए भी वो अपनी जाँघो को खींचकर आपस में जोड़ रखा था पर भोला को मना नहीं कर पाई थी और नहीं शायद वो मना करना चाहती थी उसे भी वो सब चाहिए था और वो अभी तो सिर्फ़ भोला ही दे सकता था और उसने भी अभी उसने हाथों को बढ़ाकर एक आखिरी ट्राइ करने की कोशिश की और उसके उंगलियों को अपने पेटीकोट के नाडे पर से निकालने की कोशिश की पर यह तो उल्टा पड़ गया था भोला ने उसकी हाथों को कस्स कर पकड़ लिया था और उसे अपनी ओर खींच लिया था एक ही झटके में वो भोला के ऊपर गिर सी पड़ी थी ऋषि जो कि गाड़ी कम चला रहा था पीछे नजर ज्यादा थी थोड़ा सा गाड़ी धीरे कर दी थी उसने पर जैसे ही भोला की आवाज उस तक पहुँची थी वो फिर से गाड़ी चलाने लगा था 

भोला- अरे यार इतना भी धीरे मत चलो थोड़ा घुमाते हुए चलो ना भैया और आगे देखो 

और भोला ने अपने मजबूत हाथों के सहारे कामया को उठाया था और दूसरे हाथों से उसकी कमर को पकड़कर अपने पास खींच लिया था बहुत ही पास लगभग अपनी गोद में और अपनी हाथों का कसाव को निरंतर बढ़ते हुए उसे और पास खींचते जा रहा था कामया जितना हो सके अपने आपको रोकती जा रही थी अपने कोहनी से वो भोला को अपने से दूर रखना चाहती थी पर भोला की ताकत उससे ज्यादा थी ऋषि भी कुछ नहीं कर रहा था 
कामया- प्लीज नहीं 

भोला कुछ ना कहते हुए उसे एक झटके से अपने ऊपर अपनी जाँघो पर सीने के बल लिटा लेता है कामया भी कुछ नहीं कर सकी उसकी जाँघो के सहारे लेट गई हाई भगवान उसने अपने लिंग को कब निकाला था अपने पैंट से आआह्ह अपने सीने पर उसके लिंग का गरम-गरम स्पर्श पाते ही कामया हर गई थी वो और भी उसके लिंग से लिपट जाना चाहती थी पर उसकी जरूरत नहीं थी भोला का लिंग इतना सख़्त था कि वो खुद ही उसके ब्लाउज के खुले हुए हिस्से को आराम से छू सकता था और वो कर भी यही रहा था भोला के हाथ उसकी पीठ पर घूम रहे थे और उसके अंदर के हर तार को छेड़ते हुए उसके हर अंग में एक उत्तेजना की लहर भर रहा था वो अपने आपको उसके सुपुर्द करने को तैयार थी वो भूल गई थी कि वो गाड़ी में है और सामने ऋषि गाड़ी चला रहा है 

वो अब अपने आप में नहीं थी एक सोते हुए शेर को भोला ने जगा दिया था और वो अब रुकना नहीं चाहती थी भोला उसकी पीठ के हर हिस्से को जो की खुला हुआ था अपने सख़्त हाथों से सहलाते हुए उसकी कमर तक जाता था और फिर उसके पीठ पर आ जाता था उसके हाथों का जोर इतना नहीं था कि वो उठ नहीं सकती थी पर वो उठी नहीं और भोला के लिंग का एहसास अपनी चुचियों के चारो ओर करती रही वो गरम-गरम और अजीब सा एहसास उसे और भी मदमस्त करता जा रहा था वो उठती क्या बल्कि उसकी हथेली धीरे-धीरे भोला के लिंग की ओर बढ़ने लगी थी एक भूख जो कि उसने दबाकर रखा था वो फिर जाग गया था और वो अब आगे ही बढ़ना चाहती थी उसका हाथ धीरे से भोला की जाँघो से होता हुआ उसके लिंग तक पहुँच चुका था और धीरे से अपनी गिरफ़्त में लेने को बेकरार था और उस गरम-गरम और सख़्त चीज को उसने अपने नरम और कोमल हाथों के सुपुर्द कर दिया 

भोला- आआआआह्ह ऐसे ही मेमसाहब वाह 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

कामया चुपचाप अपने काम में लग गई थी धीरे उसके लिंग को अपनी गिरफ़्त में सख्ती से पकड़कर मसलने लगी थी और खुद ही अपने सीने पर घिसने लगी थी और अब भी वैसी ही उसके जाँघ पर लेटी हुई थी और भोला को पूरी आ जादी दे रखी थी जो चाहे करे और भोला भी कोई चूक नहीं कर रहा था अपने हाथों को पूरी आ जादी के साथ कामया के शरीर पर फेर रहा था उसके नितंबों तक अपने हाथों को ले जाता था अब तो वो और धीरे से दबा भी देता था उसके लिंग को पूरा समर्थन मेमसाहब की ओर से मिल रहा था सो वो तो जन्नत की सैर कर रहा था पर कामया की भूख थी जो सिर्फ़ इससे ही मिटने वाली नहीं थी वो खुद थोड़ा सा आगे हो जाती थी ताकि भोला का हाथ उसके नितंबों के आगे भी बढ़ सके भोला एक खेला खाया खिलाड़ी था 


वो जानता था कि मेमसाहब को अब क्या चाहिए पर वो तो इस खेल को आराम से खेलता था और फिर बाद में जोर लगाता था पर अभी वो समय नहीं था उसे जल्दी करना था सो उसने अपने हाथों से मेमसाहब की साड़ी को 
पीछे से ऊपर की ओर खींचना शुरू किया कामया ने भी कोई विरोध नहीं किया बल्कि अपने नितंबो को उठाकर उसे और भी आसान कर दिया था उसके हाथों पर आए हुए लिंग को वो बुरी तरह से निचोड़े जा रही थी और जब, कुछ आगे का नहीं सूझा तो उसे अपने होंठों के बीच में लेकर चूसने लगी थी भोला अंदर ही अंदर खुश हो रहा था और मेमसाहब की पैंटी को थोड़ा सा नीचे की ओर खिसका कर अपनी उंगली को उसके योनि तक पहुँचाने की कोशिश करने लगा था कामया ने थोड़ा और आगे बढ़ते हुए उसे आसान कर दिया था 

और धीरे से वो उंगली उसकी योनि में समा गई थी ् गीली और तड़पती हुई वो जगह जहां भोला कई बार आचुका था फिर भी एक नया पन लिए हुए थी कामया के होंठों का स्पर्श इतना अग्रेसिव था कि भोला को लगा कि वो कही उसके मुख में ही ना झड जाए वो भी जल्दी में था सो उसने कामया को खींचकर बिठा लिया था और एक ही झटके में उसकी पैंटी को उसकी कमर से निकालने के लिए नीचे की ओर झुका था कामया बैठी हुई भोला को झुके हुए देख रही थी कि उसकी नजर सामने गाड़ी चला रहे ऋषि की ओर उठी थी ऋषि उसे ही बक मिरर में देख रहा था वो अपनी नजर झुकाती इससे पहले ही बंद हो गई थी 

भोला उसकी जाँघो को किस करता हुआ उसकी चूचियां दबाने लगा था उसकी ब्लाउसको उसने कंधे से गिरा लिया था ब्लाउस इतना खुला हुआ था कि उसे हुक खोलने की जरूरत ही नहीं थी वो कमर के ऊपर पूरी तरह से नंगी थी और कमर के चारो ओर उसकी साड़ी और पेटीकोट लपेटी हुई थी जांघे खाली थी और उसपर भोला की किस और जीब का आक्रमण था 

कामया की आखें बंद थी और सांसो की रफ़्तार लगातार बढ़ती जा रही थी कामया के शरीर का हर हिस्सा जीवित था और बस एक ही इच्छा थी कि भोला का लिंग उसे चीर दे और भोला के उठ-ते ही वो आसान दिखने लगा था पर भोला उठकर वापस बैठ गया था कामया का एक हाथ उसके कंधे पर था वो उसे किस करता हुआ एकटक मेमसाब की ओर देखता हुआ उसे सामने की ओर झुका कर उसे अपनी गोद में लेने की कोशिश करने लगा था कामया जानती थी कि वो क्या चाहता है उसने भी थोड़ा सा उठ कर उसे आसान बनाया था और वो खुद उसकी गोद में बैठ गई थी भोला का लिंग किसी बटर को छेदते हुए छुरी की तरह उसकी योनि में उतर गया था कामया के होंठों से एक मदमस्त सी आह निकली थी जो की ऋषि के बहुत ही पास उसके कानों तक गई थी कामया अपने दोनों हाथों को अगली सीट पर टिकाए हुए और दोनों सीट के बीच में बैठी हुई अपने आपको सहारा देने की कोशिश करती जा रही थी भोला के धक्के धीरे नहीं थे पर उसके होंठों से निकलने वाली हर सिसकी ऋषि को जरूर बैचेंन कर रही थी वो आगे बैठे हुए एक हथेली से धीरे से कामया के गालों को छुआ था 

कामया ने आखें खोल कर उसे देखा था और फिर उन झटको का मजा लेने लगी थी भोला का हर झटका उसे सीट से ऊँचा उठा देता था और फिर वापस उसके लिंग के ऊपर वही बिठा देता था उसके होंठों से निकलने वाली हर सिसकी कार के अंदर के वातावरण को और भी गरमा रही थी पर कामया को इस बात की कोई चिंता नहीं थी वो आराम से अपनी काम अग्नि को शांत करने की कोशिश में लगी थी भोला जो की अब शायद ज्यादा रुक नहीं पाएगा उसकी पकड़ कामया की कमर के चारो ओर कस्ती जा रही थी और उसके होंठों ने उसकी पीठ पर कब्जा जमा लिया था उसके हाथों ने उसकी चुचियों को पीछे से पकड़कर दबाना शुरू कर दिया था और कामया जो कि अब तक दोनों सीट का सहारा लिए हुए थी धीरे से पीछे की ओर गिर पड़ी थी और पूरी तरह से भोला के सहारे थी वो अपने हाथों को इधर-उधर करती हुई सहारे की तलाश में थी कि भोला के सिर को किसी तरह से पकड़ पाई थी पर ज्यादा देर नहीं 

कामया- रुकना नहीं और करो प्लीज 

भोला- बस मेमसाब थोड़ी देर और मजा आ गया आज तो मेमसाब 
कामया- करते रहो जोर-जोर से भोला एयाया आआआआआआआआअह्ह 
और एकदम निढाल होकर उसके ऊपर गिर गई थी कामया 
भोला- बस मेमसाहब थोड़ा सा और साथ देदो आगे हो जाओ 

कामया ने उसकी बात मान ली थी और आगे की ओर होती हुई फिर से दोनों सीट को कस्स कर पकड़ लिया था और ऋषि के बहुत करीब पहुँच गई थी हर एक सांस उसकी ऋषि के कानों में या फिर उसके गालों पर पड़ रही थी ऋषि का एक हाथ फिर से कामया के गालों को सहलाता जा रहा था पर हर धक्के पर वो अपने हाथों पर से कामया के गालों को खो देता था पर फिर उसके हाथों पर उसके गाल आ जाते थे भोला भी अपने मुकाम पर जल्दी ही पहुँच गया था 

भोला- हुआ मेमसाब वाह मजा आआआआआआआआआअ हमम्म्मममममममममममममममममममम 
और मेमसाहब की पीठ पर झुक गया था वो कामया भी थक कर अगली सीट पर झुकी हुई थी पर वो थकान एक सुख दाईं थकान थी हर अंग पुलकित सा था और हर वक़्त एक नया एहसास को जगा रहा था कामया की योनि अब भी सिकुड कर भोला के लिंग को अपने अंदर तक समेट कर रखना चाहती थी भोला का आखिरी बूँद भी नीचूड़ गया था और 
वो सांसों को कंट्रोल करते हुए वास्तविकता में लाट आया था और मेमसाब की कमर और जाँघो को एक बार अपने खुरदुरे और सख़्त हाथों से सहलाते हुए धीरे-धीरे अपने आपको शांत करने में लगा हुआ था कामया भी थोड़ा बहुत शांत हो गई थी और धीरे-धीरे सामानया होने लगी थी गाड़ी की रफ़्तार वैसे ही धीरे-धीरे थी एरपोर्ट रोड की ओर से लॉट रही थी गाड़ी भोला अपने आपसे ही धीरे से कामया को उठाकर अपने अलग किया था और 
भोला- भैया रोको कही अब अपनी औकात में आ जाए हम 

कामया कुछ कहती तब तक तो गाड़ी एक पेड़ के नीचे रुक गई थी गाड़ी के अंदर ही ऋषि अपनी जगह में चला गया था और भोला उतर कर वही पेड़ के नीचे ही पिशाब करने लगा था कामया और ऋषि ने अपना चहरा फेर लिया था कितना बेशर्म है यह कोई चिंता ही नहीं खेर भोला पिशाब करके वापस आया और गाड़ी अपने मुकाम की ओर दौड़ पड़ी थी 

कामया ने भी अपने आपको संभाल लिया था और कपड़े ठीक करते हुए कोट पहनकर बाहर की ओर देखती हुई चुपचाप बैठी रही थी ऋषि भी शांत था कोई कुछ नही कह रहा था कॉंप्लेक्स के अंदर जाकर गाड़ी रुक गई थी और कामया के साथ ऋषि भी आफिस में घुस गया था वहां भी कोई बात नहीं जैसे दोनों एक दूसरे से कट रहे हो या आपस में बात करने का कोई बहाना ढूँढ़ रहे हो पर बोला कोई नहीं जल्दी जल्दी काम खतम करते हुए कामया अभी उठी थी और ऋषि भी भोला बाहर ही था गाड़ी एक बार फिर घर की ओर दौड़ गई थी घर में घमासान मचा हुआ था घर भरकर लोग थे मम्मीजी भी काम में लगी थी 

खेर कोई ऐसी घटना नहीं हुई रात भी वैसी ही गुजर गई थी कामेश के थके होने की वजह 

सुबह जल्दी कामेश को गुरुजी को लेने जाना था सो कामया ने भी उसे डिस्टर्ब करना उचित नहीं समझा था चुपचाप अपने आप समझा कर सुला लिया था पर रात भर भोला की यादें उसे परेशान करती रही थी उसकी हर हरकत जैसे उसके सामने ही हो रही हो और वो अब भी उसके तन से खेल रहा था अपने पति के पास सोते हुए भी कामया किसी और की बाहों में थी ऐसा उसे लग रहा था सुबह जब कामेश तैयार होकर जा रहा था तब उसे उठाया था 

नींद से जागी कामया सिर्फ़ इतना ही कह पाई थी जल्दी आ जाना 

कामेश- हाँ… और तुम जल्दी से तैयार हो जाओ गुरु जी 9 00 बजे तक आ जाएँगे 

कामया- जी 
और कामया जल्दी-जल्दी नहा धो कर नीचे चली गई थी पापाजी मम्मीजी काम में लगे थे सभी के पास कुछ ना कुछ काम था नहीं था तो सिर्फ़ कामया के पास वो चुपचाप मम्मीजी के साथ घूमती रही और सबको काम करते देखती रही करीब 9 00 बजे के आस-पास घर के बाहर शंख और ढोल की आवाज से यह पता चल गया था कि गुरु जी आ गये है ् और सभी पापाजी मम्मीजी और बहुत से मेहमान जल्दी से दरवाजे की ओर दौड़े 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

करीब 9 00 बजे के आस-पास घर के बाहर शंख और ढोल की आवाज से यह पता चल गया था कि गुरु जी आ गये है और सभी पापाजी मम्मीजी और बहुत से मेहमान जल्दी से दरवाजे की ओर दौड़े 

कामया भी मम्मीजी के साथ थी एक हाथ में फूल भरी थाली थी और मम्मीजी के पास आरती करने वाली थाली थी और मिसेज़ धरमपाल भी थी उसकी शायद कोई लड़की भी और ना जाने कौन कौन था 

घर के दरवाजे पर जैसे ही गाड़ी रुकी थी पहले कामेश निकला था और फिर कुछ बहुत ही सुंदर दिखने वाले एक दो लोग और फिर पीछे का दरवाजा खोलकर गुरु जी बाहर आए थे वहाँ क्या गुरूर था उनके चहरे पर बिल्कुल चमक रहा था उनका चेहरा सफेद सिल्क का धोती और कुर्ता था रेड कार्पेट स्वागत था उनका फूलो से और खुशबू से पटा पड़ा था उनका घर कामया खड़ी-खड़ी गुरु जी को सिर्फ़ देख रही थी कुछ करने को नहीं था उसके पास मम्मीजी और मिसेज़ धरमपाल ही पूरा स्वागत का काम कर रही थी कामेश आके कामया के पास खड़ा हो गया था 
कामेश- देखा 
कामया- 
कामेश- गुरु जी रबाब क्या दिखते है ना बहुत रस था यार सड़क पर बाहर भी लोग खड़े है पोलीस भी लगी है बड़ी मुश्किल से पहुँचा हूँ 

कामया- 
क्या बोलती वो चुपचाप खड़ी हुई गुरु जी के रुतबे को देख रही थी कैसे लोग झुक झुक कर उनका आशीष लेने को बेताब है और कैसे वो मुस्कुरा कर हर किसी के अभिनंदन का जबाब दे रहे थे कामया को यह देखकर बड़ा अलग सा ख्याल उसके दिमाग में घर करने लगा था इतना सम्मान और रुतबा तो सिर्फ़ मिनिस्टर्स का ही होता है और किसी का नहीं पर गुरुजी का तो जबाब ही नहीं वो और कामेश सभी के साथ चलते हुए अंदर आ गये थे अंदर आते ही भीड़ थोड़ी कम हुई और सांसें लेने की जगह बनी 

मंदिर के सामने एक दीवान पर उनका आसान बनाया गया था गुरु जी पहले मंदिर में प्रणाम करते हुए उस आसान में बैठ गये थे पापाजी मम्मीजी और सभी उनके पैर छूकर आशीर्वाद लेने लगे थे एक-एक कर सभी कामेश के साथ जब कामया उनके सामने आई तो 

मम्मीजी- यह कामेश है और यह हमारी बहू कामया 

गुरुजी की एक नजर कामया पर पड़ी कामया का पूरा शरीर एक बार ठंडा सा पड़ गया था कितनी गहरी नजर है उनकी तब तक कामेश उनके पैर छूकर उठ चुका था और जैसे ही कामया उनके पैरों पर झुकी गुरु जी ने अपने पैर खींच लिए थे 
सभी आचंभित थे और एकदम सन्नाटा छा गया था घर में 

गुरु जी- नहीं आप नहीं आप तो इस घर की लक्ष्मी है और इस घर की लक्ष्मी को किसी बाहरवाले के पैरों पर झुकना नहीं है 
पापाजी- पर गुरु जी आपका आशीर्वाद तो चाहिए ना हमारी बहू को 

कामया हाथ बाँधे और सिर झुकाए हुए खड़ी थी बड़ी ही असमंजस में थी क्या करे 

गुरु जी- हमारे आशीर्वाद की कोई जरूरत ही नहीं है ईश्वर (कामेश के पिता का नाम) यह तो खुद लक्ष्मी है और सिर्फ़ राज करने के लिए है 

पापाजी और पूरा घर शांत हो गया था कोई कुछ नहीं कह सका था सभी चुपचाप् कभी कामया की ओर तो कभी गुरु जी की ओर देख रहे थे कामया एक काटन साड़ी पहने हुए अपने आपको पूरा ढँक कर वही बीच में कामेश के साथ खड़ी थी नज़रें झुका कर 

गुरु जी- विद्या (कामेश की मा) और ईश्वर हमारा यहां आना कोई ऐसे ही नहीं है बहुत बड़ा काम और दायत्व से भरा हुआ है हमारा आगमन थोड़ा सा समय के बाद बताऊँगा पहले बैठो 

सभी बैठने लगे थे वही नीचे गद्दी में पर 

गुरु जी- नहीं नहीं आप नहीं आप नीचे नहीं बैठेंगी और किसी के पैरों के पास तो बिल्कुल भी नहीं यहां हमारे पास एक कुर्सी रखिए और यहां हमारी बराबरी में बैठिए 

उनका आदेश कामया के लिए था सभी फिर से चुप कुछ खुसुर फुसर भी हुई सभी कामया की ओर बड़े ही इज़्ज़त से देख रहे थे गुरु जी के पास और उनके बराबरी वाह बड़ी किश्मत वाली है कामया इतना मान तो आज तक गुरु जी ने किसी को नहीं दिया होगा जितना कामया को मिल रहा था 

कामया अपने आप में ही सिकुड़ रही थी उसे अभी-अभी जो इज़्ज़त मिल रही थी वो एक अजीब सा एहसास उसके दिल और पूरे शरीर में उथल पुथल मचा दे रहा था अभी-अभी जो इज़्ज़त गुरु जी से मिल रही थी उसे देखकर वो कितना विचलित थी पर जब उसे थोड़ा सा इज़्ज़त मिली तो वो कितना सहम गई थी कामया के लिए वही डाइनिंग चेयर को खींचकर गुरु जी के आसान के पास रख दिया गया था थोड़ा सा दूर थी वो कामया को बैठ-ते हुए शरम आ रही थी क्योंकी सभी नीचे बैठे थे और वो और गुरु जी बस ऊपर थे पापाजी मम्मीजी, कामेश और सभी सभी की नजर एक बार ना एक बार कामया की ओर जरूर उठ-ती थी पर गुरु जी की आवाज से उनका ध्यान उनकी तरफ हो जाता था 

बहुतो की समस्या और कुछ की निजी जिंदगी से जुड़े कुछ सवालों के बीच कब कितना टाइम निकल गया था कामया नहीं जान पाई थी सिमटी सी बैठी हुई कामया का ध्यान अचानक ही तब जागा जब कुछ लोग खड़े होने लगे थे और गुरु जी की आवाज उसके कानों में टकराई थी 

गुरु जी- अब बाद में हम आश्रम में मिलेंगे अभी हमें बहुत काम है और ईश्वर से और उसके परिवार से कुछ बातें करनी है तो हमें आगया दीजिए 

सभी उठकर धीरे-धीरे बाहर की ओर चल दिए कामया भी खड़ी हो गई थी जो बुजुर्ग थे अपना हाथ कामया के सिर पर रखते हुए बाहर चले गये थे रह गये थे धरम जी उनकी पत्नी और कामेश का परिवार हाल में सन्नाटा था 

गुरु जी- बहुत थक गया हूँ थोड़ा भी आराम नहीं मिलता 

पापाजी- हम पैर दबा दे गुरु जी 

गुरु जी- अरे नहीं ईश्वर पैर दबाने से क्या होगा हम तो दाइत्व से थक गये है चलो तुम थोड़ी मदद कर देना 

पापाजी- अरे गुरु जी में कहाँ 

गुरु जी- कहो ईश्वर कैसा चल रहा है तुम्हारा काम 

पापाजी- जी गुरु जी अच्छा चल रहा है 

गुरु जी कुछ उन्नती हुई कि नहीं 

पापाजी- हाँ… गुरु जी उन्नती तो हुई है 

गुरु जी- हमने कहा था ना हमारी पसंद की बहू लाओगे तो उन्नती ही करोगे हाँ तुम्हारे घर में लक्ष्मी आई है 
कामया एक बार फिर से गुरु जी की ओर तो कभी नीचे बैठे अपने परिवार की ओर देखने लगी थी 

मम्मीजी- जी गुरु जी उन्नती तो बहुत हुई है और अब तो बहू भी काम सभालने लगी है 

गुरु जी- अरे काम तो अब संभालना है तुम्हारी बहू को हम जो सोचकर आए है वो करना है बस तुम लोगों की सहमति बने तब 

पापाजी और मम्मीजी- अरे गुरु जी आप कैसी बातें करते है सब कुछ आपका ही दिया हुआ है 

गुरु जी- नहीं नहीं फिर भी 

कामेश- जो आप कहेंगे गुरु जी हमें मंजूर है 

गुरु जी---अरे यह बोलता भी है हाँ… बहुत बड़ा हो गया है पहले तो सिर्फ़ मुन्डी हिलाता था 

कामेश झेप गया था और 

मम्मीजी- आप तो हुकुम कीजिए गुरु जी 

गुरु जी- धरम पाल कैसा है 

धरम पल- जी गुरु जी ठीक हूँ सब आपका असिर्वाद है 

गुरु जी- एक काम कर तू ईश्वर की दुकान और उसका काम संभाल ले और उसका हिस्सा उसके पास पहुँचा देना ठीक है 

धरम पाल और कामेश और सभी एक बार चौंक गये थे यह क्या कह रहे है गुरु जी दुकान कॉंप्लेक्स और सभी कुछ धरम पाल जी के हाथों में फिर वो क्या करेंगे पर बोला कुछ नहीं 

गुरु जी- ईश्वर और विद्या तुम लोग आराम करो है ना बहुत काम कर लिया क्या कहते हो 

ईश्वर- जी जैसा आप कहे गुरु जी 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

करीब 9 00 बजे के आस-पास घर के बाहर शंख और ढोल की आवाज से यह पता चल गया था कि गुरु जी आ गये है और सभी पापाजी मम्मीजी और बहुत से मेहमान जल्दी से दरवाजे की ओर दौड़े 

कामया भी मम्मीजी के साथ थी एक हाथ में फूल भरी थाली थी और मम्मीजी के पास आरती करने वाली थाली थी और मिसेज़ धरमपाल भी थी उसकी शायद कोई लड़की भी और ना जाने कौन कौन था 

घर के दरवाजे पर जैसे ही गाड़ी रुकी थी पहले कामेश निकला था और फिर कुछ बहुत ही सुंदर दिखने वाले एक दो लोग और फिर पीछे का दरवाजा खोलकर गुरु जी बाहर आए थे वहाँ क्या गुरूर था उनके चहरे पर बिल्कुल चमक रहा था उनका चेहरा सफेद सिल्क का धोती और कुर्ता था रेड कार्पेट स्वागत था उनका फूलो से और खुशबू से पटा पड़ा था उनका घर कामया खड़ी-खड़ी गुरु जी को सिर्फ़ देख रही थी कुछ करने को नहीं था उसके पास मम्मीजी और मिसेज़ धरमपाल ही पूरा स्वागत का काम कर रही थी कामेश आके कामया के पास खड़ा हो गया था 
कामेश- देखा 
कामया- 
कामेश- गुरु जी रबाब क्या दिखते है ना बहुत रस था यार सड़क पर बाहर भी लोग खड़े है पोलीस भी लगी है बड़ी मुश्किल से पहुँचा हूँ 

कामया- 
क्या बोलती वो चुपचाप खड़ी हुई गुरु जी के रुतबे को देख रही थी कैसे लोग झुक झुक कर उनका आशीष लेने को बेताब है और कैसे वो मुस्कुरा कर हर किसी के अभिनंदन का जबाब दे रहे थे कामया को यह देखकर बड़ा अलग सा ख्याल उसके दिमाग में घर करने लगा था इतना सम्मान और रुतबा तो सिर्फ़ मिनिस्टर्स का ही होता है और किसी का नहीं पर गुरुजी का तो जबाब ही नहीं वो और कामेश सभी के साथ चलते हुए अंदर आ गये थे अंदर आते ही भीड़ थोड़ी कम हुई और सांसें लेने की जगह बनी 

मंदिर के सामने एक दीवान पर उनका आसान बनाया गया था गुरु जी पहले मंदिर में प्रणाम करते हुए उस आसान में बैठ गये थे पापाजी मम्मीजी और सभी उनके पैर छूकर आशीर्वाद लेने लगे थे एक-एक कर सभी कामेश के साथ जब कामया उनके सामने आई तो 

मम्मीजी- यह कामेश है और यह हमारी बहू कामया 

गुरुजी की एक नजर कामया पर पड़ी कामया का पूरा शरीर एक बार ठंडा सा पड़ गया था कितनी गहरी नजर है उनकी तब तक कामेश उनके पैर छूकर उठ चुका था और जैसे ही कामया उनके पैरों पर झुकी गुरु जी ने अपने पैर खींच लिए थे 
सभी आचंभित थे और एकदम सन्नाटा छा गया था घर में 

गुरु जी- नहीं आप नहीं आप तो इस घर की लक्ष्मी है और इस घर की लक्ष्मी को किसी बाहरवाले के पैरों पर झुकना नहीं है 
पापाजी- पर गुरु जी आपका आशीर्वाद तो चाहिए ना हमारी बहू को 

कामया हाथ बाँधे और सिर झुकाए हुए खड़ी थी बड़ी ही असमंजस में थी क्या करे 

गुरु जी- हमारे आशीर्वाद की कोई जरूरत ही नहीं है ईश्वर (कामेश के पिता का नाम) यह तो खुद लक्ष्मी है और सिर्फ़ राज करने के लिए है 

पापाजी और पूरा घर शांत हो गया था कोई कुछ नहीं कह सका था सभी चुपचाप् कभी कामया की ओर तो कभी गुरु जी की ओर देख रहे थे कामया एक काटन साड़ी पहने हुए अपने आपको पूरा ढँक कर वही बीच में कामेश के साथ खड़ी थी नज़रें झुका कर 

गुरु जी- विद्या (कामेश की मा) और ईश्वर हमारा यहां आना कोई ऐसे ही नहीं है बहुत बड़ा काम और दायत्व से भरा हुआ है हमारा आगमन थोड़ा सा समय के बाद बताऊँगा पहले बैठो 

सभी बैठने लगे थे वही नीचे गद्दी में पर 

गुरु जी- नहीं नहीं आप नहीं आप नीचे नहीं बैठेंगी और किसी के पैरों के पास तो बिल्कुल भी नहीं यहां हमारे पास एक कुर्सी रखिए और यहां हमारी बराबरी में बैठिए 

उनका आदेश कामया के लिए था सभी फिर से चुप कुछ खुसुर फुसर भी हुई सभी कामया की ओर बड़े ही इज़्ज़त से देख रहे थे गुरु जी के पास और उनके बराबरी वाह बड़ी किश्मत वाली है कामया इतना मान तो आज तक गुरु जी ने किसी को नहीं दिया होगा जितना कामया को मिल रहा था 

कामया अपने आप में ही सिकुड़ रही थी उसे अभी-अभी जो इज़्ज़त मिल रही थी वो एक अजीब सा एहसास उसके दिल और पूरे शरीर में उथल पुथल मचा दे रहा था अभी-अभी जो इज़्ज़त गुरु जी से मिल रही थी उसे देखकर वो कितना विचलित थी पर जब उसे थोड़ा सा इज़्ज़त मिली तो वो कितना सहम गई थी कामया के लिए वही डाइनिंग चेयर को खींचकर गुरु जी के आसान के पास रख दिया गया था थोड़ा सा दूर थी वो कामया को बैठ-ते हुए शरम आ रही थी क्योंकी सभी नीचे बैठे थे और वो और गुरु जी बस ऊपर थे पापाजी मम्मीजी, कामेश और सभी सभी की नजर एक बार ना एक बार कामया की ओर जरूर उठ-ती थी पर गुरु जी की आवाज से उनका ध्यान उनकी तरफ हो जाता था 

बहुतो की समस्या और कुछ की निजी जिंदगी से जुड़े कुछ सवालों के बीच कब कितना टाइम निकल गया था कामया नहीं जान पाई थी सिमटी सी बैठी हुई कामया का ध्यान अचानक ही तब जागा जब कुछ लोग खड़े होने लगे थे और गुरु जी की आवाज उसके कानों में टकराई थी 

गुरु जी- अब बाद में हम आश्रम में मिलेंगे अभी हमें बहुत काम है और ईश्वर से और उसके परिवार से कुछ बातें करनी है तो हमें आगया दीजिए 

सभी उठकर धीरे-धीरे बाहर की ओर चल दिए कामया भी खड़ी हो गई थी जो बुजुर्ग थे अपना हाथ कामया के सिर पर रखते हुए बाहर चले गये थे रह गये थे धरम जी उनकी पत्नी और कामेश का परिवार हाल में सन्नाटा था 

गुरु जी- बहुत थक गया हूँ थोड़ा भी आराम नहीं मिलता 

पापाजी- हम पैर दबा दे गुरु जी 

गुरु जी- अरे नहीं ईश्वर पैर दबाने से क्या होगा हम तो दाइत्व से थक गये है चलो तुम थोड़ी मदद कर देना 

पापाजी- अरे गुरु जी में कहाँ 

गुरु जी- कहो ईश्वर कैसा चल रहा है तुम्हारा काम 

पापाजी- जी गुरु जी अच्छा चल रहा है 

गुरु जी कुछ उन्नती हुई कि नहीं 

पापाजी- हाँ… गुरु जी उन्नती तो हुई है 

गुरु जी- हमने कहा था ना हमारी पसंद की बहू लाओगे तो उन्नती ही करोगे हाँ तुम्हारे घर में लक्ष्मी आई है 
कामया एक बार फिर से गुरु जी की ओर तो कभी नीचे बैठे अपने परिवार की ओर देखने लगी थी 

मम्मीजी- जी गुरु जी उन्नती तो बहुत हुई है और अब तो बहू भी काम सभालने लगी है 

गुरु जी- अरे काम तो अब संभालना है तुम्हारी बहू को हम जो सोचकर आए है वो करना है बस तुम लोगों की सहमति बने तब 

पापाजी और मम्मीजी- अरे गुरु जी आप कैसी बातें करते है सब कुछ आपका ही दिया हुआ है 

गुरु जी- नहीं नहीं फिर भी 

कामेश- जो आप कहेंगे गुरु जी हमें मंजूर है 

गुरु जी---अरे यह बोलता भी है हाँ… बहुत बड़ा हो गया है पहले तो सिर्फ़ मुन्डी हिलाता था 

कामेश झेप गया था और 

मम्मीजी- आप तो हुकुम कीजिए गुरु जी 

गुरु जी- धरम पाल कैसा है 

धरम पाल- जी गुरु जी ठीक हूँ सब आपका असिर्वाद है 

गुरु जी- एक काम कर तू ईश्वर की दुकान और उसका काम संभाल ले और उसका हिस्सा उसके पास पहुँचा देना ठीक है 

धरम पाल और कामेश और सभी एक बार चौंक गये थे यह क्या कह रहे है गुरु जी दुकान कॉंप्लेक्स और सभी कुछ धरम पाल जी के हाथों में फिर वो क्या करेंगे पर बोला कुछ नहीं 

गुरु जी- ईश्वर और विद्या तुम लोग आराम करो है ना बहुत काम कर लिया क्या कहते हो 

ईश्वर- जी जैसा आप कहे गुरु जी 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

पापाजी और मम्मीजी दोनों अपने हाथ जोड़ कर बस यही कह पाए थे पर कामया की चिंता वैसे ही थी इतना बड़ा काम सिर्फ़ गुरु जी के कहने पर किसी को देकर अलग हो जाना कहा की बुद्धिमानी है 

गुरु जी- एक काम करो ईश्वर तुम मेरे आश्रम का पूरा काम देखो पूरे भारत का उसका हिसाब किताब और डोनेशन सबका काम तुम ही सम्भालो अब में और नहीं कर सकता पवर आफ आट्रनी मैंने बना ली है आज से तुम ही मेरे सारे आश्रम और खेत खलिहान के मालिक हो जैसा चाहो करो क्यों करसकते हो ना इतना तो मेरे लिए 

पूरे कमरे में सन्नाटा छा गया था पूरे भरत में कम से कम 1000 करोड़ की प्रॉपर्टी और बैंक बलेन्स है उनका विदेशो से आने वाला फंड और यहां का फंड मिलाकर हर महीने कुछ नहीं तो 1000 करोड़ बनते हैं वो सब पापाजी के नाम 
वाह 

गुरु जी- और विद्या तुम एक काम करो यह मंदिर थोड़ा छोटा है आश्रम के मंदिर में तुम पूजा किया करो ठीक है 

मम्मीजी- जी ठीक है 

गुरु जी फिर रहना भी वही कर लो तुम लोग क्यों कामेश 

कामेश- जी 

गुरु जी- एक काम करो तुम्हारा परिवार वही आश्रम में नीचे का हिस्सा ले लो एक तरफ का और वही रहो तुम्हारे नाम कर देता हूँ कामेश तू पापाजी की मदद करदेना तेरा दिमाग अच्छा है तू संभाल लेगा ठीक है क्यों कोई आपत्ति तो नहीं 


सब क्या कहते यह सब तो उन्होंने तो कभी जीवन में नहीं सोचा था इतना बड़ा दायित्व और सबकुछ कुछ ही मिंटो में एकटक आँखे बिछाये वो सबके सब गुरु जी की ओर देखने लगे थे धरम पाल के चहरे पर खुशी टिक नहीं पा रही थी और पापाजी के और कामेश के और मम्मीजी के भी सभी बहुत खुश थे 

कामया चेयर पर बैठी हुई बैचन हो रही थी पर गुरु जी की आवाज से उसका ध्यान फिर से एक बार उनकी तरफ चला गया था गुरु जी- हाँ तो ठीक है बहुत बड़ा दायित्व निभा लिया है मैंने मुझे पूरा विस्वास था कि ईस्वर तू मना नहीं करेगा हमेशा से ही तू और तेरे परिवार ने मेरी बात मानी है कल से तुम लोग या चाहो तो कुछ दिनों बाद से आश्रम में दाखिल हो जाना ठीक है 

पापाजी- जी गुरु जी आपका ध्यनवाद हमें इसकाबिल समझा आपने 

गुरु जी- अरे पगले मेरा धन्यवाद क्यों करता है तेरे घर की लक्ष्मी है ना उसे धन्यवाद कर एक काम उसके लिए भी है क्यों करोगी 

कामया हड़बड़ा गई थी गुरु जी की आवाज से 

कामया- (बस सिर हिला दिया था ) 

मम्मीजी- हाँ… हाँ… गुरु जी क्यों नहीं हम सब तैयार है आप हुकुम कीजिए 

गुरु जी- नहीं नहीं हम तुम्हारी बहू को हुकुम नहीं दे सकते बस एक आग्रह कर सकते है और अगर वो मान जाए तो और तुम सबकी हामी भी जरूरी है 

पूरा परिवार एक साथ तैयार था कोई हामी की जरूरत भी नहीं थी 

पापाजी- आप तो कहिए गुरु जी बहू को क्या करना है 

गुरु जी- देख ईश्वर हमने बहुत कुछ सोचकर तुम्हारे घर इस लड़की को लाए थे सोचा था हमारा उद्धार करेगी यही सोचकर हम यहां भारत में भी आए है अगले हफ्ते हम बाहर चले जाएँगे हमेशा के लिए बूढ़ा हो गया है हमारा शरीर शायद ज्यादा दिन नहीं है हम इसलिए हमारा कुछ भार तो तुम लोगों ने कम कर दिया है पर एक भार और है वो हम तेरी बहू को देना चाहते है 

पापाजी- अरे गुरु जी ऐसा मत कहिए आप जो कहेंगे वो होगा 

गुरु जी- तुम्हारा क्या कहना है 

वो कामया की ओर देखकर कह रहे थे अभी तक उन्होंने उसे संबोधन नहीं किया था बस घर वालों की ओर इशारा करते हुए ही कुछ कहा था पर इस बार डाइरेक्ट था 

कामया ने एक बार कामेश की ओर देखा था वो खुश था घर के सभी लोग खुश थे इतना बड़ा काम और इतना सारा पैसा और दौलत और ना जाने क्या-क्या 

वो शायद कुछ कहना चाहती तो भी नहीं कह सकती थी 

गुरु जी- सुनो थोड़ा समय चाहिए तो लेलो पर हमें जल्दी बता दो नहीं तो यह शरीर छोड़ नहीं पाएँगे हम 

पापाजी- गुरु जी ऐसा नहीं कहिए प्लीज बहू को जो काम देंगे वो करेगी हम सब है ना 

गुरु जी- ठीक है चलो हम बताते है हम बहू को आज से सखी कहेंगे संगिनी ठीक है आज से बहू हमारी उतराधिकारी है हमारे आश्रम की हमारी पूरी प्रॉपर्टी की और पूरे भरत में फेले हमारे साम्राज्या की जिसका कि ध्यान आप लोगों को रखना है 
सभी लोग एकदम शांत हो गये थे कामया के पैरों के नीचे से जैसे जमीन हट गई थी अवाक सी कभी कामेश को और अपने परिवार को तो कभी गुरु जी को देख रही थी 

कमरे में बैठे सभी की नजर कभी गुरु जी पर तो कभी कामया पर 

गुरु जी- बोलो कामेश तुम्हें कोई आपत्ति है 

कामेश- जी में क्या 

गुरु जी- अरे तेरी बीवी है तेरी बीवी ही रहेगी पर हमारी उत्तराधिकारी है यह हमारी प्रॉपर्टी और हमारे, पूरे भारत में हर एक हिस्सा का अश्राम से इन्हे कामयानी देवी के नाम से लोग जाँएंगे बोलो क्या कहते हो 

मम्मीजी- पर इसकी उम्र अभी कहाँ है गुरु जी 

गुरु जी हाँ… हमें पता है लेकिन यही हमारे संस्था की उतराधिकारी है जहां तक उमर की बात है वो चलेगा यह हमेशा कामेश की पत्नी रहेगी हमारे आश्रम में ऐसा कोई नियम नहीं है कि बचलर ही होना होगा या बाल ब्रह्म चारी बोलो क्या कहते हो और तुम सब लोग भी तो हो सभी कुछ तुम लोगों के सामने है ईश्वार और कामेश है ही 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

कामया और कामेश कुछ ना कह सके पर एक लाल्शा साफ देखी जा सकती थी उसके चहरे पर पापाजी और मम्मीजी के भी इतनी बड़ी संस्था के मालिक हो जाएगे और सभी कुछ उनके हाथों में ही होगा इज़्ज़त और धन दौलत से पटा रहेगा सबकुछ 

पापाजी और मम्मीजी- जी गुरु जी जैसा आप उचित समझे 

गुरु जी- तो ठीक है सखी तुम तैयारी करो कुछ दिनों के लिए तुम्हें आश्रम में रहना होगा और वहां के नियम क़ायदे सीखना होगा एक सादा जीवन गुजारना होगा तुम्हें एक विलासिता पूर्णा जिंदगी से दूर आश्रम का जीवन बोलो मंजूर है 

कामया- 
अपनी नजर झुकाए हुए कामेश की ओर देखते हुए उसने हामी भर दी थी 

गुरु जी- ऐसा इसलिए कर रहा हूँ कि जब तुम्हें इस दुनियां की सामने पेश करूँगा तो तुम वाकाई में हमारी उत्तराधिकारी दिखो और कुछ नहीं वैसे हमें पूरा विस्वास है कि तुम संभाल लोगी तुम्हारी कुंडली मैंने देखी है एक बहुत बड़े साम्राज्य की मालकिन हो तुम आज भारत की कल पूरे विश्व की ठीक है 

कामया- 
सिर हिलाकर अपना समर्थन जारी रखा था उसने 

गुरु जी- तो ठीक है सखी आज से ही तुम हमारे साथ चलो और एक सदा जीवन की शुरुआत करो हाँ… आश्रम में वही के कपड़े पहनने होते है बाद में कुछ और ठीक है जब तुम्हारा अभिषेक होगा तब से तुम कामयानी देवी के नाम से जानी जाओगी और जीवन भर अपने और पूरे विश्व का उद्धार तुम्हारे हाथों से होगा कामया को कुछ समझ में नहीं आरहा था पर परिस्थिति ऐसी बन गई थी कि कोई कुछ नहीं बोल सका था बोलता भी कोंन इतना बड़ा फेसला एक झटके में गुरु जी ने कर लिया था 

कामया के साथ-साथ पूरा परिवार गुरुजी का कायल था बाहर खड़े और साथ में आए लोगों को कानों कान भनक भी नहीं लगी की अंदर कितना बड़ा फेसला हो गया था पर गुरु जी के चहरे पर कोई शिकन या चिंता नहीं थी वो वैसे ही मुस्कुराते हुए सभी से बातें कर रहे थे कि अचानक ही उठ खड़े हुए और बोले
गुरु जी- चलो फिर आश्रम चलते है क्यों कामेश चलो ईश्वर विद्या चलो और खुद आगे की ओर यानी कि दरवाजे की ओर मुड़कर चल दिए पीछे-पीछे सभी उनके दौड़े और साथ बनाए रखने की कोशिश करने लगे थे पर गुरु जी की चाल बहुत तेज थी जल्दी ही बाहर पहुँच गये थे 
फिर पीछे पलटकर 

गुरु जी- हाँ ईश्वर हमारी सखी को भूलना नहीं और सबकुछ समझ लो जल्दी से कामेश तुम्हारी तो बहुत जरूरत है और सखी तुम तैयार हो ना 

कामेश और कामया क्या बोलते चुपचाप सिर हिला दिया और गुरु जी के पीछे-पीछे गाड़ी तक आ गये थे कामेश दौड़ कर अपनी गाड़ी में बैठ गया था और गुरु जी भी उसी गाड़ी में कामया पापाजी और मम्मीजी के साथ अलग गाड़ी में और भी बहुत सी गाडिया थी एक के बाद एक सभी पोर्च से बाहर निकलने लगी थी सामने हूटर बजाते हुए पोलीस की गाड़ी चल रही थी सड़क के दोनों ओर बहुत भीड़ थी और गुरु जी की जयजयकार सुनाई दे रहा था कामया और पूरा परिवार उन भीड़ के बीच से होते हुए अश्राम की ओर जा रहे थे सड़क की भीड़ को देखकर लग रहा था कि गुरु जी का क्या दबदबा है कैसे लोग उनकी पूजाकरते है और कितना मानते है कामया तो एक बार इस समय को भूलकर भी भूलना नहीं चाहती थी ऐसा लग रहा था कि बस यह चलता रहे बस चलता रहे वो अपने आप में ही सोच रही थी कि गुरु जी उसे उत्तराधिकारी बना रहे है क्या करना होगा उसे पापाजी और कामेश का काम तो समझ में आ गया था पर उसका काम क्या होगा क्या उसे भी गुरु जी की तरह हमेश पूजा पाठ में ही रहना होगा पर उसे तो कुछ भी नहीं आता और पूजा पाठ 


उसकी उमर क्या है अभी इस तरह की बातों का पर अब क्या गुरुजी ने तो कह दिया है और वो क्या घर का कोई भी कुछ नहीं कह पाया था धन दौलत के आगे सब झुक गये थे और वो भी इसी सोच में डूबी कामया अपनी गाड़ी को अश्राम के अंदर जाते हुए देख रही थी बाहर से कुछ हिस्सा ही दिखता था पर जितना उसने अब तक देखा था वो बस 1्10 आफ दा पार्ट था अंदर तो बहुत बड़ा था यह लगभग गेट से ही 5 मिनट लग गये थे मैंन डोर तक पहुँचने में और जैसे ही बाहर निकलकर एक बार उस आश्रम की ओर देखा था वो तो सन्न रह गई थी बाप रे यह आश्रम है अरे यह तो महल है महल ही क्या कोई बहुत बड़ा पलेस है और ना जाने क्या-क्या कामया आचंभित सी खड़ी खड़ी उस महल को देख रही थी कितना बड़ा और भव्य है 


मार्बल से बना हुआ कही कही स्टोन भी लगा था लाल और सफेद का क्या कॉंबिनेशन है वाह वो कुछ आगे देखती पर गुरु जी के पीछे का रेला उन्हें धकेलते हुए अंदर की ओर ले चला था आश्रम के अंदर आते ही वहां का माहॉल बिल्कुल चेंज था वैभवता का पूरा ध्यान रखा गया था कही भी कुछ भी नार्मल नहीं था एकदम क्लीन फ्लोर मार्बल का और ग्रेनाइट लगता था कि पैर फिसल जाएगा पर कोई नहीं फिसला था अंदर बड़े-बड़े गलियारे और बड़े-बड़े डोर थे और उनपर वैसे ही बड़े-बड़े पर्दे थे उनके घर का डोर तो शायद 7फ्ट का होगा पर यहां के डोर तो 10 या 11 फुट उचे है और उनपर पड़े पर्दे भी वैसे ही वाइट आंड गोलडेन रंग के थे वैसे ही वहां की हर चीज सलीके से और सुंदर थे डोर के अंदर आते ही बड़े-बड़े कमरे के बीच से गुजरते हुए गुरु जी एक बड़े से खुले हुए सतान पर आ गई थे और वहां पड़े हुए एक बड़े से आसन पर बैठ गये थे उसके साथ आए सभी लोग वहां नीचे बिछि गद्दी पर बैठने लगे थे पर कामेश का परिवार कुछ सोचता इससे पहले ही एक शिष्य ने आके पापाजी से कुछ कहा पापाजी कामेश और सभी को लेकर वहां से बाहर की ओर चल दिए कामया भी कामेश के साथ आगे बढ़ी थी मम्मीजी लंगड़ाते हुए चल रही थी गठिया का दर्द शायद बढ़ गया था पर यहां के वैभव के आगे जैसे वो सब भूल गई थी उस शिष्य के पीछे-पीछे जब वो लोग एक खुली जगह पर आके रुक गये थे एक बड़ा सा दरवाजे के अंदर एक सुंदर सा छोटा सा महल नुमा आकृति उसे दिखाई दी थी पापाजी के साथ सभी का ध्यान उस तरफ गया था आश्रम के अंदर भी कुछ ऐसा था इसका उन्हें पता नहीं था पर कामया के लिए यह तो बिल्कुल नया था इतना बड़ा और भव्य महल ना तो उसने कभी देखा था और नहीं कभी सोचा ही था वो कुछ आगे बढ़े तो दरवाजे के अंदर का दृश्य कुछ कुछ बदलने लगा था और गेट के अंदर का माहॉल ही अलग था पूरे अश्राम का निचोड़ था ये जगह बड़ा सा गार्डेन और गार्डेन में खरगोशो के साथ-साथ पेंग्विन और वो भी वाइट राज हँस पानी में तैरते हुए फाउंटन झूला वो भी वाइट कलर का कुछ लोग गार्डेन में काम कर रहे थे उसको देखते ही उठकर सिर झुका कर खड़े हो गये थे एक मध्यम उमर का इंसान जल्दी से उनके पास आया था 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

वो इंसान- नमस्कार गुरु भाई में यहां का खादिम हूँ यह जगह मेरे सुपुर्द है और में यहां का करता धर्ता हूँ यह जगह गुरु जी ने आप लोगों के लिए चुना है आइए एक नजर देख लीजिए अगर पसंद ना आए तो बदलाव किया जा सकता है या फिर कोई दूसरी जगह भी चुनी जा सकती है आइए 

उसके कहने का तरीका इतना शक्तिशाली था की सभी चुप थे पर आखें फटी पड़ी थी सबकी इतना बड़ा महल में क्या वो लोग रहेंगे बाप रे अंदर घुसते ही एक बड़ा सा हाल था बड़ेबड़े शांडाल लाइट से सजा हुआ और वाइट ग्रीन के साथ-साथ रेड कलर के कॉंबिनेशन का फ्लोर और वैसे ही पर्दे उसपर पड़े हुए गोल्डन कलर का रोप छत पर भी ग्लोड़ें कलर की नक्काशी थी बीच से सीढ़िया जो जा रही थी उसपर रेड कलर का कार्पेट था और सीढ़ियो के साइड में जो पिल्लर थे वो गोल्डन थे वाकई वो एक महल है 

वो इंसान- जी अब आपका निवास यह रहेगा गुरु भाई आप अपने परिवार के साथ यहां रहेंगे सभी यहां आपके खादिम है और आपकी आग्या के आनुसार चलने के लिए है बस हुकुम कीजिएगा आइए में आपको बाकी की जगह दिखा देता हूँ फिर क्या था लगभग दो घंटे कैसे निकल गये थे पता भी नहीं चला था एक-एक कमरा और एक-एक जगह दिखाने के बाद जब वो लोग नीचे वापस आए तो किसी के पास कुछ कहने को नहीं था पूरा घर अरे धत्त महल को देखने से लगता था की किसी ने बड़े ही जतन से बनवाया है और कही कोई त्रुटि निकाल कर दिखाने का खुला चेलेंज दिया है नीचे आते ही पीछे की ओर एक रास्ते से बाहर निकलकर वहां पर पड़े बड़े-बड़े चेयर नुमा सोफा पर बैठ गये थे सब मम्मीजी थक गई थी पर बोली कुछ नहीं 

वो इंसान- कहिए गुरु भाई कुछ कमी हो तो सब आपके हिसाब का होना चाहिए गुरु जी का आदेश है 

पापाजी- नहीं नहीं सब ठीक है 

कुछ कहते इससे पहले ही दो शिष्य हाथों में ट्रे लिए हुए उसके सामने हाजिर थी 30 35 साल की होंगी वो बड़े ही अजीब तरह के कपड़े थे एक सफेद कलर का कपड़ा डाल रखा था उन्होंने शायद ऊपर से काट कर गले में डाल लिया था और कमर के चारो ओर एक गोल्डन कलर के पत्ते से बँधा हुआ था और उसपर एक रेड तो कोई गोल्डन कलर का रोप से बाँध रखा था साइड से थोड़ा बहुत स्किन दिख रहा था पर ज्यादा नहीं वैसा ही पोशाक जेंट्स का भी था पोशाक घुटनों तक जाती थी पर कुछ लोग जो गुरु जी के साथ थे उनकी पोशाक तो पैरों तक थी और शायद सिल्क का कपड़ा था वो पर यहां जो लोग थे उनकी पोशाक शायद काटन की थी जो भी हो वो दोनों शिस्या उनलोगों के लिए ग्लास में कुछ ठंडा पेय डालकर उनके सामने रखकर साइड में खड़ी हो गई थी 

वो इंसान- यह पे पी लीजिए गुरु भाई आप लोगों की थकान दूर हो जाएगी 

सच में जाने क्या था उस शरबत में कि अंदर जाते ही सबकुछ एकदम तरो ताजा हो गये थे शरबत कुछ जड़ी बूटी वाला था यह तो साफ था पर था क्या नहीं मालूम 

पापाजी- आअह्ह अच्छा एक बात बताओ गुरु जी से मिलना है कहाँ जाए 

वो इंसान- जी बुला लेंगे आपको गुरु भाई आप चिंता ना करे हम यही खड़े है आप लोग थोड़ा सुस्ता ले कहिए तो कमरा ठीक कर दूं 

पापाजी- नहीं नहीं ठीक है यही 

वो इंसान थोड़ा सा पीछे जाकर खड़ा हो गया था सभी मंत्र मुग्ध से इधर उधर देख रहे थे की पापाजी बोले 
पापाजी- हाँ… अब क्या क्यों कामेश कामया 

कामेश- जी मुझे तो कुछ समझ में नही आ रहा पापा इतना इंतज़ाम कब कर लिया गुरु जी ने 

मम्मीजी- अरे गुरु जी है उनको सब पता है 

पापाजी- हाँ… पर बात सिर्फ़ इतना नहीं है कि यहां रहना है पर दायत्व बहुत बड़ा है और गुरु जी तो कामया को अपना उत्तरिधिकारी भी चुन चुके है तो फिर अब क्या करना है यह सोचो 

कामेश- हाँ… पापा गुरु जी से यह साफ कर लो कि कामया से पूजा पाठ जैसा कोई काम अभी से मत करवाएँ यह नहीं बनेगा इससे क्यों कामया 

कामया ......

मम्मीजी हाँ… और क्या अभी उमर ही क्या है इसकी यह सब बाद में 

पापाजी- पर बोलेंगे क्या यह सोचो इतना इंतज़ाम करके रखा है पूरा परिवार के लिए जगह बना दी है और पता नहीं क्या के सोचकर बैठे होंगे वो 

तभी वो इंसान उनके पास आया और पापाजी से कुछ बोला 

पापाजी- चलो गुरु जी ने बुलाया है 

वो सब उस इंसान के साथ उसे छोटे से महल के डोर तक आए फिर वही शिस्या उन्हे लेके एक अलग रास्ते से चल पड़ी थी एक बड़े से खुले हुए कमरे में कुछ लोग बैठे थे और कुछ खड़े थे गुरु जी का आसान यहां भी अलग सा था देखते ही बोले 
गुरु जी- क्यों ईश्वर पसंद आया क्या कहते हो विद्या कुछ बदलाव चाहिए 

पापाजी- नहीं गुरु जी सब ठीक है 

गुरु जी ..बैठो हाँ और यह पेपर्स है पढ़ लो और साइन करदो और कुछ बदलाव चाहिए तो बता दो वकील लोग यही खड़े है 
एक ब्लैक कोट पहेने हुए अधेड़ सा आदमी कुछ पेपर्स को देखते हुए आगे बढ़ा था कामेश और कामया एक सोफे में बैठे थे और पापाजी और मम्मीजी एक सोफे में बैठे ही अंदर तक धस्स गये थे पर था आराम दायक वो एक पेपर का सेट पापाजी के हाथों में, एक पापर का सेट कामेश के हाथों में और एक सेट कामया के हाथों में रखकर पीछे हट गया था कामया के हाथों में जो सेट था उसमें साफ-साफ लिखा था कि आज से कामया जो की कामेश की पत्नी है और ईश्वर के घर की बहू है को गुरु जी अपना उत्तराधिकारी बनाते हुए अपनी चल आचल संपत्ति का मालिकाना हक दे रहे है अब वो इस अश्राम के साथ-साथ बहुत से और भी अड्रेस्स और बहुत कुछ लिखा था की मालकिन है पढ़ते पढ़ते कामया की आखें फटी की फटी रह गई थी वो कामेश की ओर देख रह थी पर कामेश तो साइन कर रहा था 

कामया ने भी एक बार पलटा कर उस पेपर को देखा था पीछे गुरु जी के साइन के अलावा चार साइन भी थे और गुरु जी की फोटो के साथ उसका फोटो भी लगा था बस साइन करना बाकी था 

तब तक कामेश ने अपना पेन कामया की ओर कर दिया था कामया ने एक नजर कामेश और फिर पापाजी की ओर उठाई थी पर सभी चुपचाप थे कामेश ने एक बार उसे आखों से इशारा भर किया था कि साइन कर दे और कामया ने साइन कर दिया वो वकील वापस आके सभी से पेपर ले लिया और गुरु के सामने रख दिया 

गुरु जी- तो ईश्वार आज से तेरा परिवार यहां का हो गया ठीक है अब से तुम और कामेश मेरे अरे नहीं हमारी सखी की संपत्ति की देख भाल करोगे अब मेरा कुछ नहीं है यहां चाहो तो एक धक्का मारकर निकाल दो हाहहाहा 

पापाजी- अरे गुरु जी आपका ही दिया हुआ है सब हमारा क्या है 

गुरुजी- अरे नहीं ईश्वर यह सभी तो हमारी सखी का है और तुम लोग बस इसकी देख भाल करोगे बाकी का काम हमारी सखी करेगी अब से सखी जो करेगी वो तुम दोनों को सम्भालना है मेरी जो भी चल आचल संपत्ति थी आज से वो उसकी मालकिन है और तुम दोनों मेरे पूरे बैंक और रुपये पैसे का हिसाब रखोगे इसके बाद जो भी निर्णए लेना हो तुम दोनों के हाथों में है मेरा यहाँ किसी तरह का कोई हस्तक्षेप नहीं होगा फिर थोड़ा सा बातें और फिर खाने के लिए सभी एक साथ आगे बढ़े बाअप रे बाप इतना बड़ा डाइनिंग स्पेस उउउफफ्फ़ पूरा शहर समा जाए यहां तो खाने से टेबल पटा पड़ा था कितने लोग थे पता नहीं कुछ कोट पहने हुए थे तो कुछ पैंट शर्ट पहने हुए थे सभी के साथ साथ गुरु जी ने भी आसन ग्रहण किया और खाना शुरू हो गया था 

खाने के बाद गुरु जी ने एक बार फिर कामेश के परिवार को अपने पास बुला लिया था और एक आलीशान कमरे में बुलाकर बोले 
गुरु जी- हाँ तो ईश्वर क्या सोचा तुमने बोलो 

पापाजी- जी हमें क्या सोचना गुरु जी सब आपके ऊपर है जैसा आदेश होगा करेंगे 

गुरु जी- हाँ… एक काम करो तुम जल्दी से अपना बाहर का काम कब तक खतम कर लोगे यानी की दुकान शो रूम और सभी काम को किसी ना किसी को तो सोपना पड़ेगा ना 

पापाजी- जी कोई एक हफ़्ता तो लगेगा ही गुरु जी 

गुरु जी- हाँ… और कामेश तुम्हारा 

कामेश- लगभग इतना तो 

गुरु जी- तो ठीक है एक काम करो तुम सब लोग अपना काम खतम करके वापस यहां एक हफ्ते में चले आओ विद्या तुम भी और इसी जगह में शिफ्ट हो जाओ तुम लोग तो अपना काम ठीक से कर लोगे चिंता है तो सिर्फ़ हमें हमारी सखी की है क्यों सखी तुम्हारा कोई काम बचा है क्या 

कामया- जी 

गुरु जी- तुम्हारी जिम्मेदारी कुछ अलग सी है हमें तुम्हारी जरूरत ज्यादा है क्योंकी तुम्हारा अभिषेक करना है हमारे जाने से पहले इसके लिए तुम्हें तैयार होना या करना बहुत जरूरी है और हमारे पास ज्यादा टाइम नहीं है 

मम्मीजी- आप आदेश करे गुरु जी 

गुरु जी- हाँ… वैसे हमारी सखी का काम है क्या बाहर 

पापाजी- जी , कुछ खास नहीं गुरु जी वो तो कामेश देख लेगा और में हूँ थोड़ा बहुत ही है 

गुरु जी तो ठीक है एक काम करते है तुम लोग जब तक वापस आओगे तब तक हम हमारी सखी को देश के सामने कामयानी देवी बनाकर प्रस्तुत करदेंगे कहो कोई आपत्ति तो नहीं 

मम्मीजी- पर गुरु जी बहू की उम्र अभी कम है अभी से पूजा पाठ करेगी तो, 

गुरु जी- अरे विद्या तू तो अब तक भोली ही है में कौन सा इससे इसका जीवन छीन रहा हूँ में तो इसे इस अश्राम के हिसाब से ढाल रहा हूँ इसके लिए इसे यहां रहना पड़ेगा की नहीं 

पापाजी- जी गुरु जी 

गुरु जी- जैसे की हम इसे अपना उत्तराधिकारी बनाएगे तो इसे कुछ तो सिखाना पड़ेगा की नहीं काम से काम अश्राम के तौर तरीके तो समझना पड़ेगा और फिर जब यह संसार के सामने कामयानी देवी के रूप में आएगी तब देखना क्या वैभव और सम्मान मिलता है तुम्हारी बहू को क्यों सखी तैयार हो ना 

कामया- 
मम्मी और पापाजी- जी जैसा आप उचित समझे गुरु जी 

गुरु जी- क्यों कामेश- एक हफ्ते तक अपनी पत्नी से अलग रह पाओगे की नहीं 

कामेश- जी झेंपता हुआ सा जबाब दिया था 

गुरु जी- और तुम दोनों जिंदगी भर पति पत्नी रहोगे में तुम्हें अलग नहीं कर रहा हूँ बस एक दायित्व सोप रहा हूँ क्यों ईश्वर 

पापाजी- जी गुरु जी जैसा आप ठीक समझे 

गुरु जी- तो ठीक है आज से बल्कि अभी से सखी अश्राम में रहेगी और तुम लोग जितना जल्दी हो सके अपना काम खतम करके यहां लौट आओगे दो दिन बाद सखी एक बार घर आएगी और फिर अश्राम क्यों सखी कोई आपत्ति तो नहीं 

कामया- 
चुप क्या कहती वो चुपचाप सिर झुकाए हुए बैठी रही झुकी नजर से एक बार कामेश की और फिर पापाजी और मम्मीजी की ओर देखा सभी को सहमत देखकर वो भी चुप थी 

गुरु जी- मनसा 
एक सख्त पर धीमी आवाज उस कमरे में गूँज गई थी एक 30 35 साल की औरत वही वाइट कलर का ड्रेस पहने हुए जल्दी से आई और गुरु जी के सामने हाथ जोड़ कर खड़ी हो गई थी 

गुरु जी- आज से रानी साहिबा आपकी जिम्मेदारी है हमारी सखी का पूरा खयाल आपको रखना है और इस आश्रम के नियम क़ायदे भी इन्हें सिखाना है आज से आप पूरे समय 24 घंटे रानी साहिबा के साथ रहेंगी 

मनसा- जी जो हुकुम गुरु जी 

और कामया की ओर पलटकर 
मनसा- आइए रानी साहिबा 


RE: Hindi Kahani बड़े घर की बहू - sexstories - 06-10-2017

कामया ने एक बार कामेश और सभी की ओर देखा सबकी चेहरे पर एक ही भाव थे कि आओ सो कामया ने भी अपने कदम आगे बढ़ा दिए और धीरे से मनसा के साथ हो ली, मनसा कामया को लेकर जैसे ही उस कमरे के बाहर निकली वो एक बड़े से गलियारे में थे साइड में बहुत सी ऊँची पैंटिंग लगी थी और गमलों का तो अंबार था कुछ लोग भी थे जो शायद साफ सफाई कर रहे थे जैसे ही कामया को देखा सभी हाथ जोड़े खड़े हो गये थे सबके चहरे पर एक आदर का भाव था और एक इज़्ज़त थी 
कामया उन सबके बीच से होती हुई संकोच और लजाती हुई धीरे-धीरे मनसा के पीछे-पीछे चली जा रही थी चमकीले फर्श पर से उसे सामने का और ऊपर का हर दृश्य साफ दिख रहा था पर शरम का उसके ऊपर एक बोझ सा था कुछ भी ठीक से देख नहीं पाई थी वो एक तो डर था कि कामेश और घर वाले से दूर थी एक अंजान सी जगह पर 

मनसा के साथ चलते हुए वो एक घुमाव दार सीढ़ियो पर से होते हुए दूसरे माले पर पहुँची थी 

मनसा- आइए रानी साहिबा यहां आपका कमरा है 

बड़े-बड़े पर्दे के बीच से होते हुए नक्काशी किए हुए गमले और कुछ आंटीक प्फ्र के बीच से होते हुए कामया एक बहुत बड़े से कमरे में पहुँची थी कमरा नहीं हाल कहिए एक बड़ा सा बेड कमरे के बीचो बीच में था ग्राउंड लेवेल से ऊँचा था काफी ऊँचा था उसके चारो और नेट लगा था कमरे में कुछ नक्काशी दार चेयर्स और दीवान थे कालीन था और ना जाने क्या-क्या पर था बड़ा ही आलीशान 

मनसा- आज से यह कमरा आपका है रानी साहिबा 

कामया- यह मुझे रानी साहिबा क्यों कह रहे हो आप 

मनसा- यहां का उसूल है जो नाम गुरु जी देते है उससे ही बुलाया जाता है बस इसलिए आपको रानी साहिबा आपके पति को राजा साहब और आपकी मम्मीजी को रानी माँ और आपके पापाजी को बड़े राजा साहब 
बस यही नियम है 

कामया- एकटक उस कमरे की वैभवता को देख रही थी और मनसा की बातें भी सुन रही थी 

मनसा- अच्छा आप कपड़े बदल लीजिए 

और एक बड़ी सी अलमारी की ओर बढ़ ती वो पर उसे खोलते ही कामया का दिल बैठ गया था वहां तो सिर्फ़ एक ही लंबा सा वही सफेद कलर का कपड़ा टंगा हुआ था मनसा ने उस कपड़े को निकलकर कामया के सामने रख दिया था 

मनसा- आइए में चेंज कर दूं 

कामया- नहीं नहीं में कर लूँगी और यह क्या है क्या मुझे भी इस तरह का ड्रेस पहनना पड़ेगा 

मनसा- हाँ रानी साहिबा यह अश्राम का नियम है यहां कोई सिला हुआ कपड़ा नही पहनता सिर्फ़ गुरु जी और शायद बाद में आप 

कामया- पर यह तो क्या है सिर्फ़ एक लंबा सा कपड़ा ही तो है फिर 

मनसा- यह आश्रम है रानी साहिबा आपको भी आदत हो जाएगी आइए 

और मनसा कामया की ओर बढ़ी थी कामया थोड़ा सा पीछे की ओर हट गई थी 

कामया- कहा ना हम करलेंगे आप जाइए 

मनसा के होंठों पर एक मुश्कान थी 

मनसा- अब से आदत डाल लीजिए रानी साहिबा आपका काम करने के लिए पूरा अश्राम नत मस्तक है आपको कुछ नहीं करना है बस आराम और आराम बस 

कामया ने एक बार मनसा की ओर देखा था पर हिम्मत नहीं हुई थी सो वो वैसे ही खड़ी रही थी मनसा थोड़ा सा पीछे हटी थी और नमस्कार करते हुए बाहर की ओर जाने लगी थी 

मनसा- आप कपड़े बदल कर थोड़ा आराम कर लीजिए और कुछ जरूरत हो तो साइड टेबल पर रखी घंटी बजा दे में आजाउन्गी ठीक है रानी साहिबा 

कामया ने एक बार घूमकर उस टेबल पर रखी हुई घंटी को देखा और फिर सिर हिलाकर उसे विदा किया था मनसा के कमरे से बाहर जाते ही वो एक बार उस कपड़े को पलटकर देखने लगी थी वो सिर्फ़ बीच से थोड़ा सा कटा हुआ था ताकि सिर घुसा सके और कुछ कही नहीं था यानी कि उसे सिर से घुसाकर पहनना था और वही कमर के चारो और वो एक सुनहरी सी डोरी पड़ी थी उसे बाँधना है 

कामया ने एक बार कमरे के चारो ओर देखा था एक डोर और था वो आगे बढ़ी थी और उसे खोला था बाथरूम था या हाल बाप रे बाप इतना बड़ा बाथरूम क्या नहीं था वहाँ चेयर भी था अरे बाथ टब पर सोने की नक्काशी किया हुआ था फ्लोर एकदम साफ चमकता हुआ सा और जैस दूध से नहाया हुआ था उसका बाथरूम पर्दे और ना जाने क्या-क्या कामया बाथरूम में घुसी और अपने कपड़े चेंज करने लगी थी मनसा ने बताया था कि सिले हुए कपड़े नहीं पहनना है तो क्या ब्रा और पैंटी भी नहीं फिर क्या ऐसे ही छि 

पर क्या कर सकती थी वो किसी तरह से अपने कपड़े उतार कर उसने वही रखे हुए टेबल पर रख दिए थे और जल्दी से वो कपड़ा ऊपर से डाल लिया था कमर में डोरी बाँध कर अपने आपको मिरर में देखा था वह कोई रोमन लेडी लग रही थी हाँ शायद रोमन लोग इस तरह का ड्रेस पहनते थे साइड से थोड़ा सा खुला हुआ था उसने किसी तरह से कपड़े को खींचकर अपने आपको ढका था और डोरी से बाँध कर अपने आपको व्यवस्थित किया था 

अब ठीक है वो मुँह हाथ धोकर वापस कमरे में आ गई थी और बेड की ओर बढ़ी थी एक छोटी सी तीन स्टेप की सीढ़ी थी जो कि बेड पर जाती थी उठकर वो बेड पर पहुँचि थी और बेड कवर को खींचकर हटाया था बेड वाइट और पिंक कलर के हल्के से प्रिंट का था शायद पूरा का पूरा ही सिल्क का था कामया थकि हुई थी इसलिए कुछ ज्यादा देख ना सकी और जानने की चाहत होते हुए भी उसने जल्दी से अपने आपको बिस्तर के सुपुर्द कर दिया था लेट-ते ही वो अंदर की ओर धँस गई थी शायद बहुत अंदर क्या गधा था वो नरम और इतना आराम दायक बाप रे किससे बना था यह 
पर बहुत जल्दी ही वो सो गई थी और शायद किसी के हिलाने से ही वो उठी थी 

मनसा- उठिए रानी साहिबा आपके स्नान का समय हो गया है 

कामया को समझ नहीं आया कि अभी नहाना है पर अभी क्या बजा है अरेक्या है यह क्या रिवाज है धात 

कामया- टाइम क्या हुआ है 

मनसा- जी गो धूलि बेला हो गई है 

कामया- क्या 

मनसा- जी शाम हो गई है शायद 7 बजे होंगे 

कामया- तो अभी नहाना पड़ेगा 

मनसा- जी रानी साहिबा असल में गुरु जी का आदेश है आपके काया कल्प का उसके लिए जरूरी है चलिए आपके लिए चाय लाई हूँ आपको चाय की आदत है ना, 

कामया ने एक बार मनसा की ओर देखा बहुत ही साफ रंग था मेच्यूर थी पर बड़ी ही गंभीर थी सुंदर थी नाक नक्स एकदम सटीक था कही कोई गलती नहीं अगर थोड़ा सा सज कर निकलेगी तो कयामत कर देगी पर 
मनसा ने उसे चाय का कप बढ़ाया था कामया जल्दी से चद्दर के नीचे से निकलकर बैठी थी वो कपड़ा ठीक ही था ढँका हुआ था पर चद्दर के अंदर वो उसके कमर तक आ गया था उसने अंदर हाथ डालकर एक बार उसे ठीक किया था और हाथ बढ़ा कर चाय का कप ले लिया था मनसा उसके पास खड़ी थी नीचे नज़रें किए हुए 

कामया सहज होने की पूरी कोशिश कर रही थी पर एक अलग सा वातावरण था वहां शांत सा और बहूत ही शांत इतने सारे लोगों होने के बाद भी इतनी शांति खेर चाय पीकर कामया ने खाली कप मनसा की ओर बढ़ा दिया था 

मनसा- अब चलिए स्नान का वक़्त हो गया है 

कामया- अभी स्नान 

मनसा- जी आज से आपका काया कल्प का दौर शुरू हो रहा है रानी साहिबा बाहर की दुनियां को कुछ दिनों के लिए भूल जाइए 
कामया- पर अभी शाम को स्नान कोई नियम है क्या 

मनसा- नहीं रानी साहिबा आपके लिए कोई नियम नहीं है पर गुरु जी का आदेश है 

इतने में साइड टेबल पर रखा इंटरकम बज उठा था मनसा ने दौड़ कर फोन रिसीव किया था 

मनसा- जी गुरु जी जी 

और फोन कामया की ओर बढ़ा दिया था 

कामया- जी 

गुरु जी- कैसी हो सखी अच्छे से नींद हुई 

कामया- जी 

गुरु जी- अच्छा मेरी बात ध्यान से सुनो और अगर मन ना हो तो मत करो ठीक है 

कामया- जी 

गुरु जी- जब तक तुम आश्रम में हो अपना तन मन और धन का मोह छोड़ दो और अपने आपको इस संसार के लिए तैयार करो आने वाले कल आपको हमारी जगह संभालनी है इसलिए तैयार हो जाओ और किसी चीज का ध्यान मत करो फिर देखो कैसे तुम्हारा तन और मन के साथ धन तुम्हारे पीछे-पीछे चलता है यह संसार तुम्हारे आगे कैसे घुटने टेके खड़ा रहता है और तुम हमारी सखी कैसे इस संसार पर राज करती है 

कामया- 

गुरु जी -- हमारी बात ध्यान से सुनना सखी कोई नहीं जानता कि कल तुम क्या करोगी पर हम यानी की में और आप ही यह बात जानते है इस अश्राम में रहने वाला हर इंसान तुम्हारा गुलाम है एक आवाज में वो अपनी जान तक दे सकता है और जान भी ले सकता है इसलिए तैयार हो जाओ और जो मनसा कह रही है करती जाओ कोई संकोच मत लाना दिमाग में नहीं तो जो कुछ तुम पाना चाहती हो वो थोड़ा सा पीछे टल जाएगा और कुछ दिनों के बाद तुम अपने पति सास ससुर के साथ आराम से इस अश्राम में रह सकती हो और राज कर सकती हो 

कामया- जी 

गुरु जी- हम तुम्हें दो दिन बाद मिलेंगे तब तक तुम्हारा काया कल्प हो जाएगा और तुम अपने घर से भी घूम आओगी ठीक है ना सखी 

कामया- जी 
और फोन कट गया था रिसीवर मनसा की ओर बढ़ा दिया था 

और अपने ऊपर से चद्दर खींचकर अलग कर दिया था जैसे ही अपने आपको देखा तो वो जल्दी से अपने आपको ढकने की कोशिस करने लगी थी 

मनसा- आइए रानी साहिबा 

और अपने हाथों से कामया की जाँघो को ढँक कर उसे सहारा देकर बेड से उतरने में सहायता की कामया ने भी अपने जाँघो को थोड़ा सा ढँका फिर कुछ ज्यादा ना सोचते हुए अपने पैर नीचे जमीन पर रख दिए पैरों में हल्की सी गुदगुदी मची तो नीचे देखने पर पाया कि सफेद सिल्क का बना हुआ एक स्लीपर रख हुआ था मनसा ने आगे बढ़ कर उसके पैरों में वो स्लीपर डाल दिया और आगे आगे चल दी कामया उस अजीब सी पोशाक पहने हुए मनसा के पीछे-पीछे चल दी चलते समय उसकी टाँगें बिल्कुल खाली हो जाती थी और उसके ऊपर से कपड़ा हट जाया करता था जिससे कि उसकी टाँगें जाँघो तक बिल कुल चमक उठ-ती थी 

कामया की चाल में एक लचक जो थी पता नहीं क्यों अब कुछ ज्यादा दिख रही थी वो जा तो मनसा के पीछे रही थी पर निगाहे हर जगह घूम रही थी कॉरिडोर से चलते हुए जो भी मिलता था अपनी नजर नीचे किए हुए था और एक आदर भाव से नतमस्तक हुए खड़ा था सफेद और गोल्डन कलर के बड़े-बड़े पर्दो के बीच से होते हुए कामया एक बड़े से कमरे में पहुँचि थी जहां बीचो बीच एक बड़ा सा तालाब बना हुआ था और पास में वैसे ही कुछ छोटे कुंड बने हुए थे शेर के मुख से पानी की निर्मल धार बहुत ही धीमे से बह रही थी एक कल कल की आवाज़ से वो कमरा भरा हुआ था कुंड के पानी में गुलाब की पंखुड़िया तैर रही थी 


This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


bhabhi ki Salwar kholte dekha aur doodh dabaya Preity zinta xxx ki kahani hindi me develama Bhabhi 90 sexy espiedलङकि रि चडि जालि कि Xnxxx hdHindi HD video dog TV halat mein Nashe ki SOI Xxxxxxsex toupick per baate hindi mePayal बुरी Xxxkanika kapoor HD wallpaper sex baba. nettumara badan kayamat hai sex ke liyechodobetamaaboor ka under muth chuate hua video hdBhabi nay sex ki bheekh mangiशबनम भुवा की गांड़ मारीSexbabaMarathi actress.netpapa ne braziar pehnaya sex storiesghar ki kachi kali ki chudai ki kahani sexbaba.commotde.bur.chudae.potoबडी झाँटो का सेकशि फोटोaaj randi jaisa mujhe chodoApni sagi badi api ki bra ka hookबहिणीला झवून पत्नी बनवले मराठी सेक्स कथा chudai me paseb ka aana mast chudaiSexbabaMarathi actress.netपुचीत फोटो टाकून बोट xnxx Imagemom aur tariq uncle se chudiआह आराम से चोद भाई चोद अपनी दीदी की बुर चोद अपनी माँ पेटीकोट में बुरashwriya.ki.sexy.hot.nangi.sexbaba.commushkan aur uski behin ritu antarvashnaनई लेटेस्ट हिंदी माँ बेटा थ्रेड सेक्स स्टोरीNude Diwya datta sex baba picsaapsi sahmati se ma bete ki chusex baba sexy stori xxxSexbaba Sapna Choudhary nude collectionburi aorat and baca bf videomaa beta sex baba. .comदोनों बेटी की नथ उतरी हिंदी सेक्सी स्टोरीBFXXX JAGGA LAWrajalaskmi singer fakes sex fuck imagescar chalana kikhai bhanji ko antrvasnadever ne bedroom me soi hui bhabi ko bad par choda vidio bf badsexbaba ಚಿತ್ರಗಳನ್ನುsocata.hu ketni.masum rekotonXxx indien byabhi ko paise dekr hotel mai chodaeesha rebba nude puku fakesbarat me soye me gand maraBholi bhali bahu ki chalaki se Chudai - Sex Story.जेठ जी ने दोरानी की चुदाई रेल मे कीबडे लंड से जानलेवा चुत चुदाईCudakd babhi ko cudvate dekhaxnxxxxx.jiwan.sathe.com.ladake.ka.foto.pata.naam.sangharsh.sex.kathachin ke purane jamane ke ayashi raja ki sexy kahani hindi mesexbaba.com/katrina kaif page 26Indian old moti aunty Kachche khol de Punjabiबेरहमी से चोद रहा थाxxxbp pelke Jo Teen Char log ko nikalte HainNude ass hole ananya panday sex babaMummy chudai sexbaba.comझवलो सुनेलाHindi video Savita Bhabhi Tera lund Chus Le Maza haiantrbasna maxxx video hd chadi karke. batumesouth actress fake gifs sexbaba netSasur bahu nanand antarvasnaballiwood herion xxx hindikahaniabahean me cuddi sexbaba.netnahane ke bahane boys opan ling sexi hindi kahanibholi maa chud gayiबहिणीच्या पुच्चीची मसाजMai Pehli chudai mai dard Se bilbila uthinewsexstory com hindi sex stories e0 a4 85 e0 a4 ae e0 a4 bf e0 a4 a4 e0 a4 94 e0 a4 b0 e0 a4 86 e0Biruska sixe nngi photosaas ne lund ko thuk se nehlayaxnxx gf ji chat per bulaker gand maribabitaji suck babuji dick with Daya bhabhi storyHindi sexstories by raj sharma sexbabasavita bhabhi my didi of sexbaba.nethawsh kilin karte huve malik dekh or muth mara xxxwvideo.inkamsin jawani nude selfie pic or khaniyamom di fudi tel moti sexbaba.netमराठा सेxxxx girlMaa ne bete ko moot pilakar chudai karwane ki kahaniyaचोदा के बता आइयीsex baba net chut ka bhosda photoजाम हुई टाँग को खोलने के उपाये बतायेपी आई सी एस साउथ ईडिया की भाभी चेची की हाँट वोपन सेक्स फोटोxnxgand video hot mom amekan.com